Friday 24 December 2010

(गीत) लहरों वाले झील-देश में !

   
                                                        नयनों में मुस्कान देख कर
                                                        कहने लगा मुझसे मन  मेरा
                                                        लहरों वाले झील-देश में
                                                        आज हुआ है  नया सवेरा !

                                                       दिल  ही दिल  उसने  न जाने 
                                                       उस दिन क्या कहना चाहा ,
                                                       मैंने अपने सपनों को तब
                                                       बार-बार सौ बार सराहा  !

                                                      होठ हिले और फूल खिल गए ,
                                                      भौंरों ने भी चमन को घेरा ,
                                                      लहरों वाले झील -देश में
                                                       आज हुआ है  नया सवेरा !

                                     
                                                      मैंने कहा था जाकर कह दो
                                                      उस पार नदी की लहरों से ,
                                                      हमें तो कदम-कदम पर साथी  
                                                      लड़ना है पर्वत-पहरों से !

                                                      हम जीतेंगे संघर्षों में 
                                                      मन में उम्मीदों का बसेरा ,
                                                      लहरों वाले झील-देश में
                                                      आज हुआ है नया सवेरा !
                                                                     स्वराज्य करुण
                                                                         

                                       

14 comments:

  1. हम जीतेंगे संघर्षों में
    मन में उम्मीदों का बसेरा।

    मन मे हो विश्वास तो कामयाबी तय है।

    सुंदर गीत के लिए आभार

    ReplyDelete
  2. मन प्रफुल्लित कर देने वाली, उत्‍साह भर देने वाली पंक्तियां.

    ReplyDelete
  3. हम जीतेंगे संघर्षों में
    मन में उम्मीदों का बसेरा ,
    लहरों वाले झील-देश में
    आज हुआ है नया सवेरा !
    बहुत सुन्दर प्रेरणा देता सकारात्मक सोच। बधाई ।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर उत्साहवर्धक गीत!!!

    ReplyDelete
  5. "मेर्री क्रिसमस" की बहुत बहुत शुभकामनाये !

    मेरी नई पोस्ट "जानिए पासपोर्ट बनवाने के लिए हर जरूरी बात" पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  6. हम जीतेंगे संघर्षों में
    मन में उम्मीदों का बसेरा ,
    लहरों वाले झील-देश में
    आज हुआ है नया सवेरा !

    स्वराज्य करुण जी वैसे तो पूरा गीत ही बेहद ख़ूबसुरत है।

    लेकिन ये पंक्तिया बहुत पसंद आई।

    ReplyDelete
  7. आपको क्रिसमस और नये वर्ष की ढेरों शुभकामनाएँ और मंगलकामनाएँ।

    ReplyDelete
  8. जोश भरते इस प्यारे गीत के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर रचना .मन प्रफुल्ल हुआ .

    ReplyDelete
  10. क्रिसमस की शांति उल्लास और मेलप्रेम के
    आशीषमय उजास से
    आलोकित हो जीवन की हर दिशा
    क्रिसमस के आनंद से सुवासित हो
    जीवन का हर पथ.

    आपको सपरिवार क्रिसमस की ढेरों शुभ कामनाएं

    सादर
    डोरोथी

    ReplyDelete