Wednesday, December 22, 2010

(गज़ल ) दिन भी वैसे नहीं रहे !

                                                                                                  - स्वराज्य करुण
                                                
                                              हमसफ़र के हाथों में  हमसफर का हाथ नहीं है , 
                                              दिन भी वैसे नहीं रहे , वैसी कोई रात नहीं है  ! 

                                              आपा-धापी की दुनिया में सबको कितनी जल्दी है  ,
                                              एक राह के सभी मुसाफिर, कोई किसी के साथ नहीं है !

                                               इक-दूजे  का दर्द न समझे, इक-दूजे की  धड़कन भी ,
                                               दौलत का ही सपना दिल में  , इंसानी ज़ज्बात नहीं है ! 

                                               रंग-बिरंगी दुनिया बिखरी मौसम की बेरहमी से  ,
                                               इस चमन के बादलों से फूलों की बरसात नही है !

                                              हम भी जी-भर  जी लेते जिनगानी लेकिन मुश्किल  है ,
                                              अपनी किस्मत में सुबह के सूरज की सौगात  नही है !

                                              चार दिनों के  मेले में  यारों  कैसे-कैसे झमेले हैं ,
                                              मिलना-जुलना सब कुछ है ,पहले जैसी बात नही है !                                                                                                                                         
                                                                                                    -  स्वराज्य करुण
                                                                                                  

11 comments:

  1. दौलत का ही सपना दिल में , इंसानी ज़ज्बात नहीं है ! thik kaha aapne. par ye bhi sahi hai ki चार दिनों के मेले में यारों कैसे-कैसे झमेले हैं ,lagta hai kuch logo ke type ab mujhe bhi hona padega door raho aur maje lo .bahut badiya gajal hai

    ReplyDelete
  2. एक राह के सभी मुसाफिर, कोई किसी के साथ नहीं है !
    कितना बड़ा सच है ये और विडम्बना भी...
    बहुत सुन्दर गज़ल कही है , सत्य से रूबरू कराती हुई!!!
    सादर!

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (23/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  4. बड़ी सकारात्मक सोच है आपकी ! अच्छी रचना !

    ReplyDelete
  5. बात पहले जैसी न हो, लेकिन कुछ तो बात है.

    ReplyDelete
  6. इक-दूजे का दर्द न समझे, इक-दूजे की धड़कन भी ,

    दौलत का ही सपना दिल में , इंसानी ज़ज्बात नहीं है !

    सच्चाई से लबरेज़, सुन्दर शेर

    ReplyDelete
  7. सटीक बात कहती अच्छी गज़ल

    ReplyDelete
  8. इक-दूजे का दर्द न समझे, इक-दूजे की धड़कन भी ,
    दौलत का ही सपना दिल में , इंसानी ज़ज्बात नहीं है !

    बहुत सुन्दर, बेहतरीन रचना !

    ReplyDelete
  9. सभी शेर दिल को बाँधने वाले...

    लाजवाब ग़ज़ल ...वाह !!!!

    ReplyDelete
  10. sach me na jane aisa kyu hota hai kuchh din me hi sab badal jata hai.

    sunder gazal.

    ReplyDelete
  11. badhiyaa baat hai,aur sochein to sach bhee.

    jaam rahe par ham-pyaale wo nahee rahe,
    shaam tumhaaree khoob rahee merey bhaee.

    ReplyDelete