Sunday 19 December 2010

(कविता ) फर्क और तर्क !

                                        सूर्योदय से भी पहले
                                        सुबह के धुंधलके में 
                                        कडाके की ठंड में .
                                        सायकल पर सरपट भागता
                                        कॉलोनियों के हर मकान तक 
                                        पहुंचा रहा है एक लड़का  
                                        दुनिया-जहान के दुःख-सुख की
                                        छोटी-बड़ी हर खबर,
                                        अपने दुखों से बेखबर ,
                                        पहुंचा रहा है लोगों के  द्वार-द्वार
                                        तरह-तरह के विचार ,
                                        बाँट रहा है वह आज का ताजा अखबार /
                                       मिल जाएंगे कुछ रूपए
                                       माँ -बाप को सहारा देने ,
                                       बहन के इलाज और भाई के स्कूल
                                       की फीस  के लिए ,
                                      शायद हो जाएगा इंतजाम अपनी
                                      भी परीक्षा-फीस के लिए /
                                      जाड़े की सुबह के धुंधलके में
                                      लिहाफ की गरमाहट में दुबका
                                      एक लड़का
                                      मम्मी-पापा का लाडला बेटा
                                      सोया है अभी मीठी नींद में ,
                                      खोया है सपनों की रंगीन दुनिया में /
                                      मैं सोचता हूँ -
                                      दोनों में क्यों इतना फर्क है ,
                                      सबके अपने-अपने तर्क हैं  /
                                                                    स्वराज्य करुण
                                            

6 comments:

  1. बहुत खूबसूरत और संवेदन शील रचना .

    ReplyDelete
  2. सोया सो खोया, जागा सो पाया.

    ReplyDelete
  3. पैरों में खड़े और पड़े रहने की कोशिश आगे काम आयेगी शायद !

    ReplyDelete
  4. दुनिया-जहान के दुःख-सुख की छोटी-बड़ी हर खबर, अपने दुखों से बेखबर , पहुंचा रहा है लोगों के द्वार-द्वार

    .
    pasand aaya aap ka yeh andaaz

    ReplyDelete
  5. सबसे पहले आपसे क्षमा चाहूंगी इतनी देरी से आने के लिए ......व्यस्तता बनी हुई थी इसीलिए नियमित न हो पाई .
    आर्थिक विषमताओं के परिणामतः जो परिस्थिथितियाँ जन्म लेती है इसके एक बेहद ही भावनात्मक पहलू का मर्मस्पर्शी वर्णन किया है आपने इस रचना में ...!!!

    ReplyDelete
  6. परिस्थितियां या प्रारब्ध...
    सच इस फर्क के कई तर्क हैं!
    संवेदनशील रचना!

    ReplyDelete