Saturday 11 December 2010

(गजल ) मधुवन में आग लगा गए !

                                                                                                  स्वराज्य करुण
                                            जीवन के जलने से पहले धड़कन में आग लगा गए ,
                                            हँसते-गाते मदमाते मधुवन में आग लगा गए !

                                            बाहर -बाहर प्यार की बातें , दिल में नफरत का प्याला,
                                            होठों पर ले प्रेम तराने गुंजन में आग लगा गए ! 

                                            अभी -अभी देखा था उनको इस जंगल में मौज मनाते ,
                                            आए थे वन-भोज मनाने , वन में आग लगा गए !

                                             मस्ती में दिन काट रहे हैं ,अब वे बस्ती से जाकर  ,
                                             खेल-खेल में बस्ती के आंगन में आग लगा गए !

                                             दिखा एक प्रतिबिम्ब दानवी  कल जब उनने देखा दर्पण ,
                                             तभी तो अपनी खीज मिटाने दर्पण में आग लगा गए !

                                             हिम्मत नहीं किसी में इतनी  रोक उन्हें  सवाल उछाले ,
                                             क्यों वे मेहनतकश लोगों के जीवन में आग लगा गए !

                                             बूँद-बूँद जो पानी बेचें , तिनकों की भी करें तिजारत ,
                                             कुछ ऐसे ही लोग यहाँ चंदन में आग लगा गए !

                                             वह माँ जिसने नौ जन्मों तक झेल दुखों को उन्हें उगाया
                                             झोंक उसे भी हाय आग में वतन में आग लगा गए !
                                                                                        
                                                                                                            स्वराज्य करुण
                                           

                                      

7 comments:

  1. बूँद-बूँद जो पानी बेचें , तिनकों की भी करें तिजारत ,
    छ ऐसे ही लोग यहाँ चंदन में आग लगा गए !
    sundar abhivyakti

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरती से अपनी बात कही है

    ReplyDelete
  3. बहुत सच्‍ची और अच्‍छी अभिव्‍यक्ति !!

    ReplyDelete
  4. जबरदस्‍त आग है, शब्‍दों में और चित्र में भी.

    ReplyDelete
  5. bahut sundar hai aap ki kriti ,shubhakamna

    ReplyDelete
  6. हर व्यक्ति एक हाथ में माचिस और दूसरे हाथ में पेट्रोल लेकर घूम रहा है . किसी न किसी को फायर ब्रिगेड बनना ही पड़ेगा , सुन्दर रचना .

    ReplyDelete
  7. टिप्पणियों के लिए आप सभी को बहुत-बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete