Thursday 9 December 2010

(गज़ल) भले इंसान पर सितम की बारिश

                                                                                     स्वराज्य करुण
                         
                                   खुशियों के खिले आंगन में गम की बारिश          
                                   आज फिर हो गयी बेमौसम की बारिश  !
                               
                                  अगहन में  दिख रहा है आषाढ़ का माहौल ,
                                   सावन में अब  होती नहीं झमा-झम की बारिश !
                                   
                                   सैलाब में बह जाएगी  ख़्वाबों की ये फसल
                                    दे गयी है किसान के घर आ धमकी बारिश ! 
                               
                                    दस्तूर ज़माने का कुछ कहता है आज ऐसा
                                    होती है भले इंसान पर सितम की बारिश  !
                                
                                   कहीं शराब की महफ़िल ,कहीं जुए की बैठकी ,
                                    कहीं बरसात  गोलियों की, कहीं बम की बारिश !
                                
                                    कहीं बिजलियाँ गिराए ,कहीं बस्तियां उजाड़े ,
                                    पूनम की चांदनी में खूब चमकी बारिश !                                   

                                     दुनिया के मेले में दिखे कुदरत के हज़ार रंग ,
                                     कहीं शोलों की बौछार ,कहीं शबनम की बारिश !

                                                                                  स्वराज्य करुण
                                                                                    

7 comments:

  1. दस्तूर ज़माने का कुछ कहता है आज ऐसा
    होती है भले इंसान पर सितम की बारिश !
    बिलकुल सही कहा। उमदा गज़ल के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  2. कहीं शराब की महफ़िल ,कहीं जुए की बैठकी ,

    कहीं बरसात गोलियों की, कहीं बम की बारिश !

    यक़ीनन यही हो रहा है.... सच्चे और अच्छे भाव....

    ReplyDelete
  3. रेनी डे मनाने को मजबूर करती बारिश.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ...अलग अलग अंदाज़ की बारिश

    ReplyDelete
  5. कहीं शराब की महफ़िल ,कहीं जुए की बैठकी ,
    कहीं बरसात गोलियों की, कहीं बम की बारिश !

    युगबोध कराता हुआ ये शेर अच्छा है

    ReplyDelete
  6. दुनिया के मेले में दिखे कुदरत के हज़ार रंग ,
    कहीं शोलों की बौछार ,कहीं शबनम की बारिश !
    bahut sateek!!!

    ReplyDelete