Sunday 5 December 2010

(गीत) शिकारी की नज़र !

  
                                                                                         स्वराज्य करुण
                              
                                             अब नज़र आती नहीं कोई चिड़िया डाल पर ,
                                             शिकारी की नज़र है बिछे हुए जाल पर  !

                                                       जाने कहाँ चली गयी
                                                       आंगन की गौरैया ,
                                                        बेहद मायूस है
                                                       जीवन की गौरैया !

                                            नाविक के गीत नहीं झील, नदी , ताल पर ,
                                            शिकारी की नज़र है बिछे हुए  जाल पर !
                                            

                                                  जाने क्यों रुक गया
                                                  पेड़ों का हिलना  ,
                                                 हवाओं का बहना और
                                                 कलियों का खिलना !
                                
                                       वक्त के तमाचे हैं तितलियों  के गाल पर ,
                                       शिकारी की नज़र है बिछे हुए जाल पर !
                                             
                                                इस भरी महफ़िल में
                                                सरगम की खामोशी 
                                                बेचैन  कर रही है क्यों
                                                 मौसम की खामोशी  !

                                      सन्नाटा कायम है यहाँ इस सवाल पर
                                     शिकारी की नज़र है बिछे हुए जाल पर !
                                                 
                                                                               स्वराज्य करुण 

3 comments:

  1. shayad yah shikari bhi hum hi hai .humne paryavaran ko aisa chhoda hi kanha hai ki ye nanhe jeev jeevan dharan kar sake.bhavon se bhari sundar abhivayakti .

    ReplyDelete
  2. बाऊ जी,
    नमस्ते!
    'यथा नाम तथा गुण' को चरितार्थ कर रही है कविता.
    आशीष
    ---
    नौकरी इज़ नौकरी!

    ReplyDelete