Saturday 30 April 2011

(कविता ) नाम-गुमनाम !

                                        जीवन के इस बेजान
                                        जंगल में खोज रहा हूँ -
                                        जाने-अनजाने जड़-विहीन
                                        दरख्तों  के
                                        चेहरों पर बचपन का वह
                                        प्यारा सा नाम ,
                                        माता -पिता की आँखों का
                                        तारा -सा नाम ,
                                        दोस्तों की दुनिया में
                                        सितारा -सा नाम  !
                                        है वही ज़मीन ,
                                        जिस पर गड़ी है दरख्तों की  नाल ,
                                        है वही आकाश ,जिसकी छाया में
                                        गुज़रे हैं कई साल-दर -साल !
                                

                                         फिर भी न जाने क्यों
                                         भूल गए सारे दरख्त
                                         अपने -अपने बचपन का नाम !
                                         पथरीले रास्ते पर
                                         मंजिल की
                                         तलाश में इस भागते-दौड़ते
                                         संसार में जो हो गया गुमनाम !
                                  
                                         आँखों से ओझल है -हर तरफ
                                         यहाँ   फूलों की बस्तियां ,
                                         दूर तक गायब है चिड़ियों की और
                                         तितलियों की मस्तियाँ  !

                                         भीड़ तो है , कोई भाव नहीं है
                                         साथ-साथ हैं  पर  संवेदना नहीं है !
                                         पुकारते हैं लोग एक-दूसरे को
                                          बस यूं ही औपचारिक हो कर
                                          कुछ इस तरह  जैसे 
                                          कोई नाम था ही नहीं
                                         उनके बचपन का यहाँ -वहाँ कभी !
                                         
                                          मतलब-परस्तों की महफ़िल में
                                          फिर भी तुम  देखना  गौर से -                                             
                                          बचपन आज भी छुपा है
                                          हर इंसान के चेहरे की सलवटों में,
                                          जैसे उड़ती है पतंग कभी-कभार
                                          सीमेंट-कांक्रीट  की छतों में,
                                          जैसे छुपी होती हैं यादें
                                          पुरानी किताब  के पन्नों में
                                          सहेज कर रखे गए  पुराने खतों में !

                                                                                          स्वराज्य करुण
                                       

1 comment: