Thursday 14 April 2011

(कविता ) लूट-मार जनरल स्टोर !

                                      मोहल्ले में मच गया शोर ,
                                      खुल गया ! खुल गया ! ! खुल गया !!!
                                      लूट-मार जनरल स्टोर !

                                     लांचिंग के बाद सबसे पहले
                                     आया है हमारी दुकान पर
                                     रिश्वत छाप वाशिंग पावडर,
                                     कीजिए   इस्तेमाल और                  
                                     लीजिए हर काम का
                                     कमीशन होकर निडर /
                                     इसका सनसनाता हुआ झाग ,
                                     धो देगा आपके कपड़ों पर लगा
                                     बदनामी का हर दाग  /
                                     इससे धुले कपड़े पहनकर
                                     आप बन जाएंगे विशेष
                                     घूम सकेंगे  शान से देश-विदेश /

                                      हम लेकर आए हैं   -
                                      बेईमानी ब्रांड नहाने और हाथ
                                      धोने का साबुन ,
                                      इसमें भी हैं कई तरह के गुण /
                                      इससे नहाओ और हाथ धोकर जाओ 
                                      अपने दफ्तर ,
                                      रिश्वत लेते कभी नहीं
                                      आओगे रंगे हाथ पकड़ में
                                      रहोगे शान से अपनी अकड़ में /

                                       घोटाला छाप हेयर ऑयल
                                       आप हमसे ले जाइए ,
                                       अगर हैं आप पेशेवर घोटालेबाज
                                       तो मत शरमाइए ,
                                        एक पर एक फ्री हमसे पाइए /
                                         
                                        मक्कारी का मुरब्बा और
                                        मतलबपरस्ती का अचार ,
                                        ले जाइए ,खाइये  -खिलाइये  .
                                        खूब चलेगा आपका हर कारोबार /

                                        ठेका ,परमिट प्रमोशन
                                        और  पोस्टिंग
                                         के कागजात
                                         समर्थन-मूल्य पर थोक भाव में
                                         मिल जाएंगे इफरात /

                                        लोकतंत्र का दर्पण भी
                                         हमारी दुकान पर आपको  मिल जाएगा
                                        चाहे नेता हो या अफसर ,
                                         न्याय-मंदिर का  पुजारी
                                         या  चौथे खम्भे का  मालिक ,
                                         यह चारों के  काम आएगा /
                                         चारों  एक-दूसरे को
                                         आइना दिखाएंगे ,
                                         साझा धंधे  की कमाई
                                         मिल-बाँट कर खाएंगे /
                                  

                                        लूट-मार जनरल स्टोर में
                                        विधायिका ,न्यायपालिका ,
                                        कार्यपालिका और मीडिया के
                                        हर माल का रेट पहले से तय है ,
                                        जो खरीद सके जितना ,
                                        उसकी उतनी विजय है /
                                                                     स्वराज्य करुण

4 comments:

  1. करूण जी, कितना आक्रोश भरा है आपकी रचनाओं में, रक्‍त-चाप बढ़ जाता है मुझ जैसे कमजोर दिल वाले का.

    ReplyDelete
  2. बहुत जबरदस्त लगा लूट-मार जनरल स्टोर| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  3. Karun ji sixer maar diya hai .ball bhi nahi mil rahi .badhiya vyangy .badhai .

    ReplyDelete
  4. उद्घोषात्मक पंक्तियाँ। मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete