Sunday 17 January 2016

थर-थर काँपे भारत माई ..!

                                                    समरथ को नहीं दोष गोसाईं ,
                                                    देश की दौलत मिलकर खाई !
                                                    सबका हिस्सा आधा -आधा
                                                    सबके सब मौसेरे भाई !
                                                     उनका हर आयोजन रंगीला,
                                                     शादी हो या कोई सगाई ।
                                                    शान-शौकत देख के उनकी
                                                     थर -थर काँपे भारत माई ।

                                                     लूट रहे जो देश की धरती ,
                                                     उनके घर में दूध -मलाई ।
                                                    गाँव -शहर सब दूर मची है ,
                                                     मारा-मारी और नंगाई ।
                                                     निर्धन -निर्बल हुए निराश 
                                                     अब  देख -देख उनकी परछाई !

                                                                           -- स्वराज्य करुण

6 comments:

  1. भाई कुलदीप जी ने कल लिं लेकर सूचना दी थी सभी को पर प्रस्तुति यहा नहीं थी सो यह आकस्मिक प्रस्तुति,, "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 17 जनवरी 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशोदाजी और कुलदीपजी को बहुत-बहुत धन्यवाद .

      Delete
  2. यथार्थपूर्ण रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. ओंकार जी ! बहुत-बहुत आभार .

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (18-01-2016) को "देश की दौलत मिलकर खाई, सबके सब मौसेरे भाई" (चर्चा अंक-2225) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय शास्त्रीजी को बहुत-बहुत धन्यवाद .

      Delete