Tuesday 1 November 2011

(ग़ज़ल ) प्यार की जलधारा !

                                  
                                     (आज  छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस  पर विशेष )

                                                                 
                                               नये भारत के  नक्शे  पर चमका  एक सितारा
                                               नदियों ,पर्वत , मैदानों का छत्तीसगढ़  हमारा !
                           
                                               मायूसी के मेघ छँट गये ,आलोकित आकाश ,
                                               जिसकी किरणों से रौशन  घर आंगन सारा !
                           
                                               सफर है लम्बा , दूर है मंजिल, कोई बात नहीं ,
                                               निकल पड़े हैं तो चलना है , थका  कभी  न हारा !
                            
                                                पलक झपकते साल ग्यारह ऐसे निकल गये ,
                                                बचपन के दिन पल में जैसे  होते  नौ दो ग्यारा !
                             
                                                महानदी ,शिवनाथ , पैरी ,इन्द्रावती और शबरी
                                                उत्तर -दक्षिण,पूरब-पश्चिम ,प्यार की जलधारा !
                           
                                                धान की धरती ,ज्ञान की धरती है  देश की शान
                                                भोली  सूरत ,प्रेम की मूरत, इक-दूजे का सहारा !
                          
                                                दूर-दूर तक अनुगूंज है  खेतों खलिहानों में,
                                                मेहनत,मेहनत ,मेहनत और मेहनत का ही नारा !
                          
                                               अपने खून-पसीने से जो सींच रहे हैं बगिया  को  ,
                                                उन्हें भूल कर कैसे लगाएं विकास  का जयकारा  !
                          
                                                सबको साथ लेकर चलना हो सबका एक  मकसद ,
                                                सबके सुख-दुःख का सबके संग हो हरदम बंटवारा !
                          
                                                सब मिल करें खूब तरक्की , कोई रहे न पीछे ,
                                                सब मिल खाएं खूब प्यार से जमकर मीठा-खारा !
                                                                                                         -  स्वराज्य करुण





छाया चित्र : google से साभार
                                                                                      

8 comments:

  1. छतीसगढ़ के स्थापना दिवस की शुभकामनायें ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. सब मिल करें खूब तरक्की , कोई रहे न पीछे ,

    राज्य स्थापना दिवस की अनेक बधाई.. धान की धरती ,ज्ञान की धरती है देश की शान
    भोली सूरत ,प्रेम की मूरत, इक-दूजे का सहारा !

    दूर-दूर तक अनुगूंज है खेतों खलिहानों में,
    मेहनत,मेहनत ,मेहनत और मेहनत का ही नारा !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    छठपूजा की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  4. हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  5. छतीसगढ़ के स्थापना दिवस की शुभकामनायें ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. सुंदर छत्तीसगढ गीत
    स्थापना दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. अति-सुन्दर गजल .
    छत्तीसगढ़ निर्माण की 11 वी वर्षगांठ की हार्दिक बधाई .

    ReplyDelete