Sunday 19 February 2012

(गज़ल ) रिश्ते सारे सिमट गए !

                                     
                                                    शहरी जीवन हाय तुम्हारी यही कहानी !
                                                    साँसों में है ज़हर-धुंआ ,आँखों में पानी !!
                                        
                                                     रिश्ते सारे सिमट गए 'अंकल-आंटी' में !
                                                     भूल गए हम काका-काकी ,नाना-नानी !!
                                       
                                                     देखो -देखो चमक-दमक से भरी दुकानें !
                                                     मोल-भाव में बदल गयी प्यार की वाणी !!
                                        
                                                     फूलों की महक ,पंछी की चहक मिले कहाँ !
                                                     हो रही गायब हरियाली जानी-पहचानी !!                                     
                                                   
                                                     यादों के धुंधले परदे पर तस्वीर गाँव की !
                                                     देख-देख कर दिल बहलाए जिन्दगानी  !!
                                                      
                                                                                        -  स्वराज्य करुण


 


(चित्र : google के सौजन्य से )

3 comments:

  1. संवेदनशील रचना अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  2. रिश्ते सारे सिमट गए 'अंकल-आंटी' में !
    भूल गए हम काका-काकी ,नाना-नानी !!

    खूबसूरत गज़ल आदरणीय स्वराज्य भईया...
    सादर बधाई.

    ReplyDelete
  3. खो गये रिश्ते मिट गयी संवेदनाये हमारा शहर राजधानी न बनता तो ही अच्छा था

    ReplyDelete