Wednesday 30 November 2011

बंद करो दस साल के लिए वाहन उद्योग

 आए  दिनों  सड़क हादसों की ऐसी खौफनाक और दर्दनाक खबरें पढकर दिल घबराने लगता है. ईश्वर न करे ,ऐसा कोई हादसा किसी के साथ हो .सभी सुरक्षित रहें ,सुखी रहें ,लेकिन ऐसा तभी संभव होगा ,जब इस देश में मोटर चलित    वाहनों की बेतहाशा वृद्धि पर कोई लगाम लगाया जाए . भारी वाहनों की रफ्तार तो और भी ज्यादा जानलेवा साबित हो रही है. महानगरों और तेजी से फैलते बड़े शहरों के आस-पास ऐसे हादसे लगभग रोज हो रहे हैं . हर इंसान की जिंदगी अनमोल होती है . उसकी रक्षा करना हर इंसान का फ़र्ज़ है.वाहन चलाने वाले भी इंसान होते हैं ,लेकिन क्या गाड़ी ड्राइव करते वक्त उन्हें अपना यह फ़र्ज़ याद रहता है ?
 खास तौर पर भारी वाहन चालकों को तो हरगिज़ याद नहीं रहता . तभी तो वे राष्ट्रीय राजमार्गों पर खूनी रफ्तार से गाड़ी ड्राइव करते हैं .रातों में तो उनकी रफ्तार और भी ज्यादा बढ़ जाती है.आँखों को चौंधियाने वाली हेडलाईट से सामने वाली गाड़ी के चालक की आँखों में कुछ देर के लिए अन्धेरा छा जाता है और वह वाहन पर अपना नियंत्रण  खो बैठता है और इस तरह हो जाती है एक सड़क-दुर्घटना .इसके अलावा अप्रशिक्षित ड्राईवर  भी दुर्घटना का कारण बनते हैं .
       विदेशी सड़कों , खास तौर पर विकसित देशों की अच्छी  और सुरक्षित सड़कों के हिसाब से  निर्मित चौपहिया वाहनों के साथ-साथ तेज दौड़ने वाली मोटरसायकलों की संख्या भी हमारे देश में तेजी से बढ़ रही है .कई मोटरचालित चौपहिया और दो पहिया गाड़ियों की  स्टार्टिंग में ही पचास - साठ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार हो जाती है.कई गाडियां तो इससे कम रफ़्तार में पिक-अप ही नहीं ले पातीं . शहरों  की सड़कें ऐसे वाहनों से भर गयी हैं . सड़कें आखिर  इन गाड़ियों का  कितना वजन सह पाएंगी ? लिहाजा रास्ते भी खराब हो रहे  हैं और दुर्घटनाओं में   भारी  इजाफा हो रहा है . मेरे ख़याल से भारत में सड़क दुर्घटनाएं  आज देश की दूसरी   किसी भी समस्या की तुलना में सबसे गम्भीर राष्ट्रीय समस्या  बन चुकी हैं .
 

  लेकिन लगातार बढते सड़क हादसों के बावजूद भारत में वाहनों की बेरहम रफ्तार में कोई कमी नज़र नहीं आ रही है. कई घरों के चिराग बुझ रहे हैं और कई माताओं-बहनों के सुहाग उजड़ रहे हैं ,पिछले छत्तीस घंटों में तीन  दर्दनाक हादसों के समाचारों ने मेरे जैसे कई लोगों को गहरा सदमा पहुंचाया है. इन सभी शोकाकुल परिवारों के दुःख हम भी  सहभागी हैं , लेकिन यह देख कर आश्चर्य होता है कि लगातार हो रहे सड़क हादसों के बावजूद न  तो चौपहिया -दो पहिया ऑटो मोबाईल वाहनों की बिक्री में कमी आयी है और न ही उन्हें खरीदने वालों की संख्या में . इतना ही नहीं ,बल्कि तेज रफ्तार वाली गाड़ियों के नए-नए मॉडल भी रोज शो रूमों में आ रहे हैं और बिक रहे हैं. बैंक फायनेंस भी आसानी से हो रहा है. नतीज़ा यह कि गाँवों-कस्बों में भी ऐसे वाहनों की भरमार है, जिन्हें इनके निर्माता अपने विज्ञापनों में देश की तरक्की का प्रतीक बता कर  लोगों को आकर्षित  करने की कोशिश करते रहते हैं.  मोटरचालित वाहनों से हादसों का खतरा गाँवों में भी बढ़ रहा है .मेरे विचार से तो बढ़ते सड़क हादसों को ध्यान में रख कर  वाहन उद्योग यानी ऑटो-मोबाईल उद्योग को अगले कम से कम दस साल के लिए बंद कर देना चाहिए .इनकी बैंक फायनेंसिंग पर भी प्रतिबंध लगा देना चाहिए . जान है तो ज़हान है.                                               
                                                                                                             -- स्वराज्य करुण

Tuesday 29 November 2011

(लघु-कथा) फिर आने लगे फिरंगी !

 पति- ''अजी सुनते हो ! अपने पड़ोस की दुकान में अण्डे और सी एफ एल बल्ब नहीं मिल रहे हैं !''  पत्नी ---''पिछले हफ्ते ही तो मुन्नू को भेज कर मंगवाए थे .आज क्या हो गया ?''
पति - ''होगा क्या ? देश की गाड़ी हांक रहे महान अर्थ शास्त्रियों की कृपा से और इटली वाली माताजी के आशीर्वाद से हमारे शहर जयपुर में भी एक फ्रांसीसी सेठ जी पेरिस से आकर रिटेल स्टोर खोलकर अपनी दुकान में बेचने के लिए शहर के सारे पोल्ट्री फार्मों के अण्डे थोक भाव से खरीदे जा रहे हैं . बल्ब वालों से भी थोक भाव में सारे के सारे सी.एफ. एल. बल्ब उन्होंने खरीद लिए हैं .शहर की किसी भी स्वदेशी दुकान में ये दोनों चीजें नहीं मिल रही हैं ''. 
पति महोदय कहते  जा रहे थे - ''छोटे दुकानदारों के होश उड़ गए हैं .उनमें चर्चा है कि यह सब भारत में ५१ प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के आने के पहले का नज़ारा है. अब तो एक बार फिर दूर देश  के फिरंगी हमारे यहाँ आकर हमारे ही देश की साग-भाजी ,मिर्च-मसाला ,हमारे ही देश के दूध-फल और कपडे भी हम ही को बेचा करेंगे ! तब हमारे पड़ोस के किराना दुकानदार क्या करेंगे ?'' पत्नी को कुछ भी जवाब नहीं सूझा .कमरे में एक गहरी खामोशी छा गयी .
                                                                  - स्वराज्य करुण
 

Monday 28 November 2011

(गीत) कोहरे की खिड़की से !

                                            

                                              
                                                   कोहरे की खिड़की से झाँक रहा सूरज !
                                               
                                                            काँप रहे हैं शहर ,
                                                            काँप रहा गाँव ,
                                                            काँप रही पानी में
                                                             मौसम की नाव  !
                                    
                                                देखो तो किस कदर काँप रहा सूरज   !

                                                          कम्पन के जाल में
                                                          कैद हुए हाथ-पैर ,
                                                          ऐसे में कौन करे
                                                         रोज सुबह की सैर !
      
                                                  रजाई के नीचे से झाँक रहा सूरज !

                                                           अलसाया दिन लगे ,
                                                            रात सिहरन भरी ,
                                                           गाँवों की दुनिया भी
                                                           अलावों के पास खड़ी !

                                                 अंजुरी भर गर्माहट मांग रहा सूरज !

                                                              हवाओं ने पहने हैं
                                                              बर्फीले परिधान ,
                                                              साफ़ कैनवास की
                                                              तरह लगे  आसमान !

                                                चित्र आस-पास के आँक   रहा सूरज !

                                                                                 -   स्वराज्य करुण






(छाया चित्र  google से साभार )

Tuesday 22 November 2011

बिलखती तस्वीर : छलकते आँसू !


           इस बिलखती तस्वीर से  छलक रहे आँसू  उन भोले  चेहरों के  हैं , जो हम भारतीयों के घरों में संतान जन्म की खुशी के मौकों पर बच्चों को आशीर्वाद देने आते हैं , ढोलक के साथ नाच-गा कर आपसे या हमसे कुछ बख्शीश की चाहत रखते हैं और मिलने पर आशीष देकर खुशी-खुशी लौट जाते हैं . कौन उन्हें बताता होगा -किसके घर बेटे या बेटी का जन्म हुआ है ? वे किसी भी शहर में कहाँ रहते हैं और किस हाल में रहते हैं  ,  अधिकाँश शहरवासियों को पता ही नहीं चलता. सामान्य जीवन जीने वाले हमारे इस समाज ने कभी उनमें से किसी की मौत  के बारे में नहीं सुना होगा, उनकी शव यात्रा  नहीं देखी होगी .हमारी दुनिया में रहकर भी वे अपनी  किसी और ही दुनिया में मगन रहते है.
      कब आते हैं , कहाँ से आते हैं और कब हमारी इस खुदगर्ज़ दुनिया को अलविदा कह जाते हैं , बहुतों को मालूम ही नहीं हो पाता . उन्हें इस आधुनिक मानव समाज और विशेष रूप से इक्कीसवीं सदी के भारतीय समाज का सबसे तिरस्कृत और बहिष्कृत वर्ग माना जा सकता है. इसके बावजूद हम उन्हें  इस दुनिया का  सबसे खुशमिजाज़ प्राणी कह सकते हैं.  अपने आप में मस्त रहने वाले ,  लेकिन किन्नरों की इन  खुशियों में रविवार  शाम उस वक्त ग्रहण लग गया , जब पूर्वी दिल्ली की नन्द नगरी में एक सामुदायिक भवन में आयोजित उनके तीन दिवसीय समारोह के आख़िरी दिन  अचानक आग लग गयी और उनमें से कम से कम १४ लोग मौत का शिकार हो गए . कई लोग घायल भी हुए.  हादसा क्यों हुआ,  कैसे हुआ ,किसकी गलती से हुआ ,यह जांच का विषय हो सकता है , लेकिन दिल दहला देने वाले इस हादसे से सदमे और दहशत में आये किन्नरों के आंसुओं से भरे  बिलखते फोटो अखबारों में देख कर किसी भी  सहृदय  इंसान का दिल दहल सकता है.    
            मेरे शहर के अधिकाँश दैनिक अखबारों में अगले दिन सोमवार को   इस भयानक अग्नि  दुर्घटना के    समाचार तो छपे ,लेकिन पहली या दूसरी हेड लाइन में नहीं . शायद इसका एक कारण किन्नरों के प्रति आम इंसान के ज़ेहन में उपेक्षापूर्ण  एक नकारात्मक छवि भी  हैं,लेकिन अब इनके संगठित होने पर और इन्हें सहयोग देने के लिए आगे आ रहे कुछ सामाजिक संगठनों की मदद से यह प्रतिकूल छवि दूर हो रही है. ऐसा होना भी चाहिए . आखिर वे  भी तो इंसान हैं . अगर किसी कारणवश  उनमें कुदरती तौर पर कोई जैविक कमी रह गयी  हो ,या किसी को किसी ने ज़बरन किन्नर बना दिया हो , तो इसमें उनका  क्या कुसूर  ?  ये बात तो साफ़ है कि उनमें भी एक इंसानी दिल धडकता है. मानवीय संवेदनाएं उनमें भी होती हैं . खुशी और गम का अहसास उन्हें भी होता है . पूर्वी दिल्ली का  अग्नि हादसा उनके भी दिलों को गहरे ज़ख्म देकर चला गया .उनके इस दर्द को दिल की गहराइयों से महसूस करने की ज़रूरत है .वे कहीं से भी  हमारे घरों का पता लगाकर हमारी खुशियों में शरीक होने बिन बुलाए भी चले आते हैं . क्या हमें भी किन्नरों के  गम के इन लम्हों में उनके साथ शरीक नहीं होना चाहिए ?                                                                              स्वराज्य करुण                                                                                                                                         

   

(फोटो : google से साभार )                                                                                                

Sunday 20 November 2011

(गीत) हिल मिल सब करते हैं झिलमिल !

                                       

                                                          
                                            उन्हें लड़ाने की कोशिश में  शैतान भी  हिम्मत हारे ,
                                            हिल मिल सब करते हैं झिलमिल दूर गगन के तारे !
                                                           
                                                         रोज धरा पर आकर सूरज
                                                          देता सबको उजियारा ,
                                                          और चाँद भी कर देता है
                                                          जगमग -जगमग जग सारा !

                                             अम्बर की बगिया में खिलते फूल हैं कितने प्यारे,
                                            हिल मिल सब करते हैं झिलमिल दूर गगन के  तारे !
                                                         
                                                           सोचो तो कुदरत का कैसा
                                                           प्यारा यह अनुशासन है ,
                                                           अंतरिक्ष के आँगन सबके
                                                           अपने-अपने आसन हैं !
                         
                                             कभी न होती छीना-झपटी ,न ही नफरत के नारे,                  
                                             हिल मिल सब करते हैं झिलमिल दूर गगन के तारे !
                                                       
                                                            धरती अपनी होगी सुंदर  ,
                                                            कब होगी ऐसी दुनिया ,
                                                            दंगे न होंगे ,घर न जलेंगे
                                                            बेघर न होगी मुनिया !

                                           आओ मिटाएं हम-तुम सब   आपस के झगड़े सारे,
                                           हिल मिल सब करते हैं झिलमिल दूर गगन के तारे !

                                                                                            --  स्वराज्य करुण

(छाया चित्र google से साभार )

Friday 18 November 2011

मरीज़ कंगाल : मेडिकल मार्केट के मालिक मालामाल !

आज सुबह के अखबारों में छपे एक समाचार के अनुसार देश की सबसे बड़ी अदालत ने दवाइयों की बढ़ती कीमतों पर चिन्ता व्यक्त की है और केन्द्र सरकार से  कहा है कि  आसमान छू रही इनकी कीमतों को देखते हुए इनमें और ज्यादा वृद्धि नहीं की जानी चाहिए . सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति जी. एस .सिंघवी और न्यायमूर्ति एस जे. मुखोपाध्याय की खंडपीठ ने केन्द्र सरकार की प्रस्तावित औषधि मूल्य निर्धारण नीति को चुनौती देने वाली एक याचिका की सुनवाई के दौरान केन्द्र को यह सलाह दी .
सर्वोच्च अदालत ने कहा कि केन्द्र सरकार की नई औषधि नीति आने के बाद भारत में दवाओं की कीमतों में वृद्धि की आशंका व्यक्त की जा रही है .इसलिए सरकार यह सुनिश्चित करे कि इनके दाम अब और ज्यादा न बढ़े .यह याचिका समाजसेवी संगठनों के एक समूह - ऑल इंडिया ड्रग एक्शन नेट वर्क द्वारा दायर की गयी है . खंडपीठ ने सुनवाई करते हुए कहा कि दवाइयों की कीमतें पहले से ही बहुत ज्यादा है और इसे अब और ज्यादा नहीं बढाया जाना चाहिए .  सुप्रीम कोर्ट का यह सुझाव स्वागत योग्य है ,जिसे दिशा -निर्देश के रूप में देखा जाना चाहिए .
 अब यह तो समय ही बताएगा कि जन-हित की दृष्टि से देश की सर्वोच्च अदालत की इस महत्वपूर्ण सलाह को कितनी गंभीरता से लिया जाएगा . मेरे विचार से अदालत में एक याचिका यह भी दायर होनी चाहिए ,जिसमें दवाइयों पर प्रिंट रेट के साथ-साथ उनकी निर्माण लागत भी अनिवार्य रूप से अंकित करवाने की मांग की जाए ,ताकि जनता को यह मालूम हो सके कि लागत मूल्य और विक्रय मूल्य के बीच कितना मुनाफ़ा लिया जा रहा है ! अगर ऐसा हुआ तो उत्पादन लागत और विक्रय मूल्य के बीच एक संतुलन रखना ज़रूरी हो जाएगा .मुझे लगता है  कि तब दवाइयों की कीमतें वर्तमान के मुकाबले कम से कम पचास प्रतिशत कम हो जाएँगी .
आज तो मेडिकल मार्केट में एक ही बीमारी की अलग-अलग दवाइयां अलग-अलग नामों से और अलग-अलग मनमानी कीमतों पर बिक रही हैं . प्रिंट रेट छापकर निर्माता शाबाशी बटोरने की कोशिश करते हैं जबकि लागत मूल्य को छिपाकर रखते हैं .इनके लागत मूल्य और विक्रय मूल्य में भारी अंतर होने के कारण ही आज दवाइयों के कारोबार में निर्माता से लेकर डॉक्टर और मेडिकल स्टोर वाले भारी मुनाफ़ा लूट रहे हैं . मेडिकल मार्केट  के ये तमाम मालिक मालामाल हो रहे हैं ,जबकि मरीज़ और उसके घर के लोग कंगाल होते जा  रहे हैं . मेरे ख़याल से दवाइयों के साथ-साथ दूसरी ज़रूरी उपभोक्ता वस्तुओं के लागत मूल्य  जानने के लिए भी अदालतों में जन-हित याचिका दायर की जा सकती है,क्योंकि इनमें से अधिकाँश के  दाम भी सरकारी नियंत्रण से बाहर हैं . जनता को राहत दिलाने के लिए वकील चाहें तो इस दिशा में कानूनी पहल कर सकते हैं .अदालतों से यह अनुरोध किया जा सकता है कि वह उत्पादकों अथवा निर्माताओं को आदेश दे कि  फैक्टरियों में बनने वाली प्रत्येक वस्तु पर विक्रय मूल्य के साथ लागत भी अनिवार्य रूप से मुद्रित किया जाए . हर जिले में उपभोक्ता अदालत (उपभोक्ता फोरम ) है .शुरुआत वहाँ से भी हो सकती है. वकील बेहतर बता सकते हैं .
 हर  नागरिक किसी न किसी रूप में एक उपभोक्ता है और बाज़ार में हर कोई एक ग्राहक की भूमिका में भी होता है .चाहे वह दुकानदार ही क्यों न हो !  इसलिए प्रत्येक ग्राहक को  बाज़ार की हर उस वस्तु के विक्रय मूल्य के साथ लागत मूल्य भी जानने का अधिकार होना चाहिए ,जिसे वह इस्तेमाल के लिए खरीदता है .               
                                                                    --  स्वराज्य करुण 

Thursday 17 November 2011

अधर्मी निकला धरम सिंह !

  •  नाम है उसका धरम सिंह ,लेकिन वह तो  घोर अधर्मी निकला !  सरकार ने उसे बहुत भरोसे के साथ  उत्तराखंड  के बाज़ार में असली-नकली दवाइयों की जांच करने की जिम्मेदारी सौंपी थी ,ताकि जनता को नकली दवाओं के प्रकोप से बचाया जा सके ,लेकिन उसने सबका भरोसा तोड़ दिया . टी. व्ही. चैनल 'आज तक ' में कल  रात प्रसारित यह खबर देख कर देश का हर आम नागरिक हक्का-बक्का रह गया . धरम सिंह के बैंक लॉकरों  की जांच में विजिलेंस वाले भी भौचक रह गए  .लॉकर  खुलने पर दो करोड़  11 लाख रूपए से ज्यादा नगदी काली कमाई के रूप में पायी गयी . उसके घर में करोड़ों की संपत्ति , सोने की मूर्तियां , सोने-चाँदी के बर्तन मिले , कई शहरों में उसके  करोड़ों के बंगले होने की जानकारी मिली. धरम सिंह ने कोई धरम-करम करके तो यह सब हासिल नहीं किया . उसने असली के नाम पर नकली दवा बेचने वाले मौत के सौदागरों को काले कारोबार की छूट देकर रिश्वत की बुनियाद पर अपना यह काला आर्थिक साम्राज्य खड़ा किया.इतनी अथाह काली कमाई से भी उसका दिल नहीं भरा तो वह अपनी आदत के मुताबिक़ एक एक दवा व्यापारी से रिश्वत मांग बैठा,जिसने विजिलेंस वालों से शिकायत कर दी और वह रंगे हाथों पकड़ा गया ,तब उसकी काली करतूत उजागर हो पायी . 
         मैं जब टी.व्ही के परदे पर धरम सिंह के बैंक लाकर से ज़ब्त करोड़ों रूपयों के बंडल देख रहा था तो मुझे मध्यप्रदेश के एक बड़े अफसर दम्पत्ति के घर कुछ बरस पहले हुए इसी तरह के एक छापे की याद आ रही थी. इस अफसर दम्पत्ति के घर तो लगभग ढाई सौ करोड़ रूपए की अनुपातहीन संपत्ति उजागर हुई थी . धरम सिंह से तो ढाई करोड़ रूपए से भी कम नोट बरामद हुए .काली कमाई के लिहाज़ से यह रकम भी कम नहीं है , यह भी सच है कि धरम सिंह ने कोई धरम-करम करके तो यह सब हासिल नहीं किया .उसने भी एक प्रकार की डकैती करके जनता को लूटकर धन-संपत्ति बनायी .देश में ऐसे धरम सिंहों की कोई कमी नहीं है,जिनका धर्म ही सरकारी ओहदों के ज़रिये जनता के धन पर डाका डालना है. कलमाडी ,कनीमोझी ,ए, राजा और भी कितने ही घोषित-अघोषित डाकूओं के हैरतंगेज़ कारनामे विगत महज़ एक-दो साल में हम देख चुके है. शर्मनाक बात यह है कि इन डाकूओं के घरों -बैंक लॉकरों  से निकलने वाले अनुपातहीन चोरी -डकैती के नोटों में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की तस्वीर छपी होती है , जो सत्य और अहिंसा के महान पुजारी थे . अगर उनके सामने यह सब हुआ होता ,तो शायद वह आत्महत्या कर लेते .
          बाबा रामदेव ने इलाहाबाद में परसों मंगलवार को  ठीक ही तो कहा है कि .भ्रष्टाचारियों के कारण ही देश की दुर्गति हो  रही है .भ्रष्टाचार कर्नल गद्दाफी का प्रतीक  है .हमारे यहाँ के भ्रष्टाचारियों का अंजाम भी लीबिया के तानाशाह कर्नल गद्दाफी जैसा होना चाहिए .  अब आगे-आगे देखिए ,होता है क्या ? भ्रष्टाचारियों की काली कमाई से निर्मित बाग-बगीचों और आलीशान विशाल बंगलों को ज़ब्त कर उन्हें राष्ट्रीय संपत्ति घोषित क्यों नहीं किया जाता ? ऐसे ज़ब्तशुदा बंगलों में गरीबों के लिए धर्मशाला ,पाठशाला , और अस्पताल क्यों नहीं खोला जाना चाहिए ?
                                                                                       स्वराज्य करुण

Tuesday 15 November 2011

महंगाई और मुनाफे का असली रहस्य !

 प्रत्येक पैक्ड वस्तु पर विक्रय मूल्य के साथ उसका लागत मूल्य छापना भी अनिवार्य कर दिया जाए,फिर देखें , उत्पादन लागत और विक्रय मूल्य के बीच कितनी गहरी खाई है .फैक्टरी में जिस सामान के बनने में दस रूपए की लागत आती है, बाज़ार में पहुँचते-पहुँचते उसकी कीमत कैसे कई गुना ज्यादा हो जाती है . विक्रय मूल्य तो कुछ भी प्रिंट कर दिया जाता है ,जबकि लागत मूल्य रहस्य के ...आवरण में जान-बूझकर छुपाया जाता है .महंगाई और मुनाफे का असली रहस्य लागत मूल्य में छुपा हुआ है .जीवन रक्षक दवाइयों की कीमतें आसमान छू रही हैं , जबकि उत्पादक के अलावा कोई नहीं जानता कि उन्हें बनाने में कितनी लागत आयी है ? लागत मूल्य को गोपनीय रखकर करोड़ों ग्राहकों को धोखा दिया जा रहा है . हमें मांग करनी चाहिए कि पारदर्शिता के इस युग में वस्तुओं के विक्रय मूल्य के साथ लागत मूल्य प्रिंट करने का क़ानून बनाया जाए ,इसके अंतर्गत वस्तुओं पर कीमत के साथ लागत राशि का उल्लेख नहीं करने वाले उत्पादकों को दण्डित करने का प्रावधान किया जाए. इस बारे में आप क्या कहना चाहेंगे ?                                                                                       स्वराज्य करुण

Saturday 12 November 2011

पत्रकारिता में भी आ गए मुन्ना भाई !

  परीक्षाओं  में मुन्ना भाईयों द्वारा नकल किए जाने की खबरें अक्सर अखबारों में देखने-पढ़ने को मिल जाती है. चिन्ता की बात यह है कि अब ये मुन्ना भाई पत्रकारिता में भी घुसपैठ करने लगे हैं. नकल की बीमारी स्कूल-कॉलेजों की परीक्षाओं से  शुरू   हो कर  पत्रकारिता में भी प्रवेश करती जा रही है.  यह तो जग ज़ाहिर है कि किसी भी अखबार का  सम्पादकीय उस अखबार के विचारों का ,  उसकी रीति-नीति का  आईना होता है. यह भी ज़ाहिर है कि वह सम्पादक की अपनी कलम से लिखा जाना चाहिए और अधिकाँश अख़बारों में लिखा भी जाता है . कुछ अखबारों की पहचान तो उनके सम्पादकीय यानी अग्रलेखों  के कारण होती है ,लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि कुछ अखबारों में सम्पादकीय  तक दूसरे अखबारों से नकल उतार कर  चोरी-चोरी  चुपके-चुपके  चिपकाया जा रहा है . आप स्वयं देख लीजिए --

               यह भी देखने में आ रहा है कि किसी एक अखबार में किसी लेखक के नाम से छपा कोई आलेख   दूसरे अखबार में  सम्पादकीय कॉलम में अग्रलेख के रूप में छप रहा है ,जिसमे ज़ाहिर है कि लेखक  का नाम छपने से रहा ,क्योंकि वह तो सम्पादक का लिखा माना जाएगा . मैंने  कल ग्यारह तारीख  को हिन्दी के एक अखबार में 'शिक्षा की राह में मनुवादी रोड़े ' शीर्षक से प्रकाशित श्री ओ.पी सोनिक का लेख पढ़ा .मुझे यह देख कर आश्चर्य हुआ कि यह लेख उसी शीर्षक से शब्दशः दो  अन्य दैनिकों में सम्पादकीय के रूप में छपा है .इसी तरह हरिद्वार में गायत्री शक्तिपीठ के धार्मिक आयोजन में भगदड़ से हुए हादसे  के बारे में 'इस आस्था का क्या करें ' शीर्षक से कल  एक ही सम्पादकीय कई अखबारों में एक साथ जस का तस छपा है.अगर कोई इस बारे में भारत के समाचार पत्रों के पंजीयक से शिकायत कर दे ,तो जांच में यह नकल चोरी आसानी से साबित हो जाएगी .तब ऐसे अखबारों का पंजीयन भी निरस्त हो सकता है .सरकारी विज्ञापन भी बंद हो सकते हैं, क्योंकि केन्द्र सहित अनेक राज्य सरकारों की विज्ञापन नीति में कहा गया है कि अखबारों का  प्रकाशन आल्टर पद्धति से नहीं किया जाना चाहिए  ,लेकिन सवाल ये है कि बिल्ली के गले में कौन बंधे घंटी और कौन  झंझट में पड़े ?    इससे भी बड़ा सवाल यह है कि भाई लोगों को अगर सम्पादकीय लिखना नहीं आता, तो काहे सम्पादक बने बैठे हैं ? जीवन-यापन के लिए   कोई  दूसरा  आमदनी मूलक  काम क्यों नहीं करते ? . चाहें तो करने के लिए हज़ारों काम हैं . पत्रकारिता जैसे बौद्धिक पेशे को तो बख्श दें , लेकिन   आज के माहौल में आसानी से पैसा और पहुँच बनाने का कोई  तो  ऐसा आकर्षण  है ,जो उन्हें मुन्नाभाई  बना कर इस पवित्र पेशे में खींचकर ले आया है. आज-कल इंटरनेट का जमाना है .उस पर आधारित वेबसाईटों और ब्लॉगों में सैकड़ों -हजारों लेखक कुछ  न कुछ नियमित रूप से लिखते रहते हैं अगर पासवर्ड जैसी कोई तकनीकी सुरक्षा नहीं ली गयी है ,  तो किसी भी लेखक की कौन सी सामग्री कहाँ किस रूप में उसके नाम के बिना भी छप रही है , पता लगाना बहुत मुश्किल है 




कई  छोटे अखबारों के लिए तो वेबसाईट और ब्लॉग-जगत मानो मुफ्त का खजाना बन गए हैं .डाउनलोड करो और फिर सम्पादकीय कॉलम में कॉपी-पेस्ट कर दो . सामान्य पाठक यह समझेगा कि सम्पादक महोदय ने क्या खूब लिखा है !जबकि ऐसे स्वनामधन्य सम्पादकों का तो लेखन से दूर -दूर तक कोई नाता-रिश्ता होता ही नहीं .कई बड़े अखबारों की वेबसाईटों से भी इस प्रकार के  कुछ    अखबार सम्पादकीय चोरी करके छापते देखे गये हैं . इन दिनों कई अखबारों में आलेख तो कई प्रकार के छपते रहते हैं ,लेकिन दुःख और अचरज की बात है कि उनमें लेखकों  का नाम तक नहीं दिया जाता . ये आलेख भी इंटरनेट से डाउनलोड कर कॉपी-पेस्ट किए जाते हैं .ब्लॉग-लेखकों को सावधान हो जाना चाहिए .
               उपरोक्त कतरनों पर चटका लगाकर आप इन प्रतिभावान सम्पादकों की कलम का कमाल देख सकते हैं . मेरी तरह शायद आप भी सोचने लगेंगे कि इन महान सम्पादकों के विचार और शब्द न केवल मिलते-जुलते हैं, बल्कि एकदम एक समान हैं . कहीं  ये लोग जुड़वां भाई या जुड़वां बहन तो नहीं ? कुछ लिहाज करते हुए यहाँ  इन  अखबारों नाम  नहीं दिए जा रहे हैं ,लेकिन पत्रकारिता के नाम पर बौद्धिक सम्पदा की चोरी का यह सिलसिला अगर   नहीं थमा तो  उनके नामों का उल्लेख करते हुए अभिनन्दन-पत्र   लिखने का सिलसिला शुरू किया जाएगा . ब्लॉग-लेखकों से भी मेरा आग्रह है कि वे ऐसे अखबारों पर बारीकी से निगाह रखें और देखें कि उनके मौलिक आलेखों को  उनके नाम के बिना , किसी अखबार के  सम्पादकीय  के रूप में तो नहीं छापा जा रहा है ?
                                                                   - स्वराज्य करुण

                                                                                                              
        


                                                                              

Thursday 10 November 2011

(गीत ) इन्द्रधनुष के टुकड़े

                                       
                                                         

                                                   चाहे सौ टुकड़े कर डालो तुम इन्द्रधनुष के ,
                                                   मिट न सकेगा इन्द्रधनुषी प्यार हमारा !
                                            
                                                     हर टुकड़े पर  होगी  आंसुओं की निशानी ,
                                                     हर टुकड़े की होगी अपनी करुण कहानी !
                                                     हर टुकड़े के अधरों पर   इक दर्द की भाषा
                                                     थिरक उठेगी शब्दों में  हृदय  की वाणी !

                                                 दिल का  दर्पण चाहे बँट जाए हजार टुकड़ों में,
                                                 मिट न सकेगा  उसमे झलकता श्रृंगार हमारा !

                                                     हृदय से हृदय   का चिर  अनुबंध प्यार है
                                                     जलप्रपात के यौवन सा स्वच्छंद प्यार है  !
                                                     युग-युग से  है शिलालेख की तरह अमिट
                                                     जीवन के इस महाकाव्य का छन्द प्यार है !

                                                   हृदय से हृदय का बंधन  तोड़ नहीं पाओगे ,
                                                   इस बंधन में जीने का है अधिकार हमारा  !
  
                                                                                                -  स्वराज्य करुण




छाया चित्र :  google से  साभार                                                                                  

Wednesday 9 November 2011

मेहनत की मुस्कान

                                              
                                                        धरती माँ ने पहन लिया  
                                                        फिर धानी परिधान ,
                                                        खेतों में   सजने लगी
                                                        मेहनत  की मुस्कान !

                                                         माटी के हर कण में समाया
                                                         जीवन का संगीत 
                                                         आज हवाओं की बंशी से 
                                                         निकल रही है  तान !
                                            
                                                         सुबह-शाम हर दिन होती  
                                                         किरणों की बौछार
                                                         सोनाली आँगन  में झूमता
                                                         सोने जैसा धान !
                                             
                                                         इंतज़ार की घड़ियाँ बीती
                                                         बीते दुःख के पल ,
                                                         गूँज उठे  हैं   गीतों से फिर
                                                         गली-गाँव ,खलिहान ! 

                                                         लगे है कितना खूबसूरत
                                                         महीना फसल कटाई का ,
                                                         कदम-कदम पर गुनगुनाए
                                                         माटी का जय गान  !

                                                         सपनों के साकार होने का 
                                                         आया मौसम ,
                                                         दरवाजे पर इंतज़ार में 
                                                         देखो  नया विहान !
                                                                                           --  स्वराज्य करुण 
                                                  


                                             
                                            

Tuesday 8 November 2011

दिल को देखो : चेहरा न देखो !

                                                     

      वेनेजुएला की इवियाना नामक महिला को लन्दन में आयोजित प्रतियोगिता में कल विश्व सुन्दरी घोषित किया गया .आज के अखबारों में यह समाचार पढ़ कर दिल में कई सवाल उठने लगे,जिन्हें आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ .
      क्या कोई बता सकता है कि  इवियाना को मिलाकर इस प्रतियोगिता के आज तक के इतिहास में विश्व सुन्दरी घोषित हो चुकी महिलाओं की सुंदरता का मापदंड क्या था ?  क्या इन महिलाओं ने कभी  खेतों-खलिहानों में पसीना बहाया ? क्या इन औरतों ने कहीं किसी ऊंची इमारत के निर्माण में लगी दूसरी महिला श्रमिकों की तरह ईंट-गारा ढोने का काम किया ? क्या इन तथाकथित सुंदरियों ने मदर टेरेसा की तरह कोलकाता जैसे किसी महानगर में अनाथ बच्चों और कुष्ठ पीड़ितों के जख्मों पर प्यार का मरहम लगाकर उनके पुनर्वास की कोई कोशिश की ? क्या  परियों जैसी वेश-भूषा वाली इन औरतों ने भारत की झांसी वाली रानी और म्यांमार की 'आंग  सांग सूची' की तरह कहीं किसी देश की आज़ादीऔर लोकतंत्र  की  लड़ाई  में अपना कोई योगदान दिया ? क्या इन महिलाओं ने इराक और अफगानिस्तान के युद्ध -पीड़ित लाखों मासूम इंसानों की सहायता के लिए कोई पहल अपनी ओर से की ? क्या इन महिलाओं ने  सोमालिया और इथोपिया के अकाल- पीड़ित भूखे-नंगें बच्चों ,और उनके गरीब माता -पिताओं की मदद के लिए अपने हाथ बढ़ाए ? क्या इन पढ़ी-लिखी औरतों  ने ऐसा कोई वैज्ञानिक आविष्कार किया ,जिससे सम्पूर्ण मानवता की भलाई हो सके ? क्या अपने चिकने-चुपड़े अर्धनग्न शरीर का प्रदर्शन करने वाली इन फैशनेबल औरतों ने  दुनिया के  करोड़ों  निरक्षरों - बेघरों-बेबसों को सहारा देने का कोई निजी अथवा सामूहिक प्रयास किया ?  अगर नहीं ,तो फिर काहे की विश्व-सुन्दरी ? क्या देह दिखाकर विश्व-सुन्दरी का खिताब लेना और उसके एवज में बेशुमार दौलत बटोरना देह-व्यापार जैसा घिनौना व्यवसाय  नहीं है ? सुंदरता का मूल्यांकन  चेहरे से नहीं ,बल्कि इंसान के अच्छे कार्यों से होना चाहिए .  एक हिंदी फिल्म का सदाबहार गीत याद आ रहा है--
                                   दिल को देखो ,चेहरा न देखो ,
                                   चेहरे ने लाखों को लूटा ,
                                   दिल सच्चा और चेहरा झूठा !
 
    दोस्तों ! वेनेजुएला की इवियाना को तथाकथित विश्व-सुन्दरी का ताज पहनाए जाने पर मेरे इन सवालों के जवाब में आप क्या कहना चाहेंगे ?
                                                                                             स्वराज्य करुण

Thursday 3 November 2011

नकली चेहरा : असली सूरत !

                               भारत में बोलती फिल्मों का इतिहास फिलहाल  एक सौ साल का भी नहीं हो पाया है. हमारे यहाँ पहली बोलती फिल्म 'आलम-आरा ' सन  1931 में रिलीज हुई थी . उसके बाद तो जैसे आजादी के आंदोलन के समानांतर देश में सिनेमा की भी एक लहर चल पड़ी ,जिसने हिन्दी सहित  कई भारतीय  भाषाओं में सामाजिक जीवन मूल्यों पर आधारित फिल्मों के ज़रिए   जन-जीवन पर गहरा प्रभाव डाला.  देश की अन्य भाषाओं  की फिल्मों  में  भी ज़रूर होते होंगे ,लेकिन  मैं सिर्फ हिन्दी फिल्मों की बात करना चाहता हूँ ,जिनके कई गाने आज भी दिल को छू जाते हैं .  कई फ़िल्मी गीतकारों ने इंसान के दोहरे आचरण और सामाजिक विसंगतियों पर तीखे प्रहार करने वाले गीतों से फिल्मों को लोकप्रिय बनाया .

                                                     महान पार्श्व गायक  मोहम्मद रफी 
   पता नहीं क्यों  सार्वजनिक सभा-समारोहों में लाऊडस्पीकरों पर  आज-कल  ऐसे फ़िल्मी गीत  नहीं  गूंजते , जिनमें देश और समाज की दशा-दिशा के साथ इंसान के दुःख-दर्द को वाणी मिला करती थी और ऐसे   गाने अक्सर  आकाशवाणी के विविध भारती कार्यक्रम और श्रीलंका ब्रॉड-कास्टिंग कार्पोरेशन यानी रेडियो सीलोन से भी सुनाए जाते थे . हिन्दी सिनेमा के इतिहास और  रेडियो में दिलचस्पी रखने वालों को ज़रूर याद होगा कि हमारे यहाँ देशभक्ति पूर्ण फ़िल्में बनती थी . दो-ढाई-तीन या  चार  दशक पहले तक बनती रहीं  .याद कीजिये - उपकार ,  रोटी कपड़ा और मकान , अंधा क़ानून , समाज को बदल डालो .जैसी फिल्मों को , जिनके शीर्षकों से ही फिल्म के उद्देश्य का पता चल  जाता है. साहित्य की तरह फिल्मों को भी  समाज का दर्पण  कहा जा सकता है ,जिनमें अपने समय के समाज और मनुष्य की अच्छी-बुरी प्रवृत्तियों को प्रभावशाली संवादों और गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करने की ताकत  होती है. लेकिन आज की फिल्मों को देख कर और आज के अधिकाँश फ़िल्मी गानों को सुनकर लगता है कि भारतीय सिनेमा अपनी यह ताकत खो चुका  है . अब  शायद न तो वैसे निर्माता -निर्देशक  हैं ,और न ही वैसे संवाद लेखक ,वैसे गीतकार और वैसे गायक कलाकार , जिनके दिलों में सिनेमा के माध्यम से  समाज को कोई बेहतर सन्देश देने की भावना हुआ करती थी .
                     मिसाल के तौर पर सन 1968 में रिलीज हिन्दी फिल्म 'इज्जत ' का उल्लेख किया जा सकता है . इसमें बतौर नायक  धर्मेन्द्र और नायिका  जयललिता  ने अभिनय किया था ,जी हाँ ,वही जयललिता , जो आज तमिलनाडु की  मुख्यमंत्री हैं, उनके साथ बलराज सहानी और तनुजा जैसे कलाकारों ने भी इसमें काम किया था .  इस फिल्म में साहिर लुधियानवी का लिखा और  लक्ष्मीकांत प्यारेलाल के  संगीत से सुसज्जित  एक ऐसा गीत भी है ,जिसमें आज के इंसान के दोगले चरित्र को उजागर करते हुए उस पर व्यंग्य प्रहार भी किये गये हैं .उस दिन इंटरनेट पर पुराने हिन्दी फ़िल्मी गानों की खोज  करते हुए हाथ लगी एक लंबी सूची में मुझे यह गीत   महान पार्श्व गायक मोहम्मद रफी  की दिलकश आवाज़ में सुरक्षित मिला, जिसकी हर एक पंक्ति को सुनकर लगता है कि गीतकार ने इसे दिल की जितनी गहराइयों में डूब कर लिखा ,संगीतकार ने भी उतनी ही गहराई में और उसी भावधारा में डूबकर इसमें संगीत की संवेदनाएं घोलीं . तकनीकी कारणों से मैं आपको यह गीत रफी साहब  की आवाज़ में तो नहीं सुनवा पाऊंगा , लेकिन यह ज़रूर चाहूँगा कि आप इसे यूं ही पढ़ लें ताकि इसके एक-एक लफ्ज़ में आप मरहूम शायर साहिर लुधियानवी साहब के दिल की धड़कनों को भी महसूस कर सकें -
                                     क्या मिलिए ऐसे  लोगों से ,जिनकी फितरत छुपी रहे ,
                                     नकली चेहरा सामने आये ,असली सूरत छुपी रहे !
                                     खुद से भी जो खुद को छुपाएँ  ,क्या उनसे पहचान करें ,
                                     क्या उनके दामन से लिपटें, क्या उनका अरमान करें !
                                      जिनकी आधी नीयत उभरे ,आधी नीयत छुपी रहे ,
                                      नकली चेहरा सामने आये ,असली सूरत छुपी रहे !
                                      दिलदारी का ढोंग रचा कर जाल बिछाए बातों का ,
                                      जीते जी का रिश्ता कहकर, सुख ढूंढे कुछ रातों का !
                                      रूह की हसरत सामने आए , जिस्म की हसरत छुपी रहे ,
                                       नकली चेहरा सामने आए ,असली सूरत छुपी रहे !
                                       जिनके ज़ुल्म से दुखी है जनता , हर बस्ती ,हर गाँव में ,
                                       दया - धरम की बात करें वो , बैठ के भरी सभाओं में !
                                       दान का चर्चा घर-घर पहुंचे , लूट की दौलत छुपी रहे ,
                                       नकली चेहरा सामने आए , असली सूरत छुपी रहे !
                                       देखें,इन नकली चेहरों की कब तक जय-जयकार चले ,
                                       उजले कपड़ों की तह में , कब तक काला संसार चले !
                                       कब तक लोगों की नज़रों से छुपी हकीकत छुपी रहे ,
                                       नकली चेहरा सामने आए , असली सूरत छुपी रहे !

दोस्तों  ! ऐसा कोई फ़िल्मी गीत पिछले चार-पांच वर्षों में भी आपने अगर कहीं सुना हो ,तो याद करके मुझे भी ज़रूर याद दिलाइएगा ! क्या आपने कभी गंभीरता से सोचा है कि ऐसे फ़िल्मी गाने आज हमारे समाज से , हमारे जेहन से और हमारी ज़ुबान से आखिर कहाँ और क्यों गायब होते जा रहे  हैं ?  
     अब होने भी दीजिए गायब , क्योंकि समाज के जिन नकली चेहरों  और असली सूरतों  की चर्चा इस गाने में है,   वही लोग तो आज इस देश  और समाज  के कर्णधार बने हुए हैं . उन्हें ऐसे गानों से तकलीफ होती होगी. इसलिए  ऐसे व्यंग्य प्रहार वाले गाने जितनी जल्दी  चलन से बाहर हो जाएँ  उनके लिए उतना ही अच्छा . इससे उनका लम्बा -चौड़ा काला कारोबार , विशाल आर्थिक साम्राज्य और उनके ऊंचे-ऊंचे महल  सुरक्षित तो रहेंगे  ! इसी में उनकी भलाई  है !
                                                                                               -  स्वराज्य करुण
                                                                                                                         

Tuesday 1 November 2011

(ग़ज़ल ) प्यार की जलधारा !

                                  
                                     (आज  छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस  पर विशेष )

                                                                 
                                               नये भारत के  नक्शे  पर चमका  एक सितारा
                                               नदियों ,पर्वत , मैदानों का छत्तीसगढ़  हमारा !
                           
                                               मायूसी के मेघ छँट गये ,आलोकित आकाश ,
                                               जिसकी किरणों से रौशन  घर आंगन सारा !
                           
                                               सफर है लम्बा , दूर है मंजिल, कोई बात नहीं ,
                                               निकल पड़े हैं तो चलना है , थका  कभी  न हारा !
                            
                                                पलक झपकते साल ग्यारह ऐसे निकल गये ,
                                                बचपन के दिन पल में जैसे  होते  नौ दो ग्यारा !
                             
                                                महानदी ,शिवनाथ , पैरी ,इन्द्रावती और शबरी
                                                उत्तर -दक्षिण,पूरब-पश्चिम ,प्यार की जलधारा !
                           
                                                धान की धरती ,ज्ञान की धरती है  देश की शान
                                                भोली  सूरत ,प्रेम की मूरत, इक-दूजे का सहारा !
                          
                                                दूर-दूर तक अनुगूंज है  खेतों खलिहानों में,
                                                मेहनत,मेहनत ,मेहनत और मेहनत का ही नारा !
                          
                                               अपने खून-पसीने से जो सींच रहे हैं बगिया  को  ,
                                                उन्हें भूल कर कैसे लगाएं विकास  का जयकारा  !
                          
                                                सबको साथ लेकर चलना हो सबका एक  मकसद ,
                                                सबके सुख-दुःख का सबके संग हो हरदम बंटवारा !
                          
                                                सब मिल करें खूब तरक्की , कोई रहे न पीछे ,
                                                सब मिल खाएं खूब प्यार से जमकर मीठा-खारा !
                                                                                                         -  स्वराज्य करुण





छाया चित्र : google से साभार