Monday 28 November 2011

(गीत) कोहरे की खिड़की से !

                                            

                                              
                                                   कोहरे की खिड़की से झाँक रहा सूरज !
                                               
                                                            काँप रहे हैं शहर ,
                                                            काँप रहा गाँव ,
                                                            काँप रही पानी में
                                                             मौसम की नाव  !
                                    
                                                देखो तो किस कदर काँप रहा सूरज   !

                                                          कम्पन के जाल में
                                                          कैद हुए हाथ-पैर ,
                                                          ऐसे में कौन करे
                                                         रोज सुबह की सैर !
      
                                                  रजाई के नीचे से झाँक रहा सूरज !

                                                           अलसाया दिन लगे ,
                                                            रात सिहरन भरी ,
                                                           गाँवों की दुनिया भी
                                                           अलावों के पास खड़ी !

                                                 अंजुरी भर गर्माहट मांग रहा सूरज !

                                                              हवाओं ने पहने हैं
                                                              बर्फीले परिधान ,
                                                              साफ़ कैनवास की
                                                              तरह लगे  आसमान !

                                                चित्र आस-पास के आँक   रहा सूरज !

                                                                                 -   स्वराज्य करुण






(छाया चित्र  google से साभार )

3 comments:

  1. हाँ जी!
    अब तो कुहरा ही कुहरा है!
    --
    ठीक है हम भी कुछ दिन कुहरे को ही कुछ दिनों तक गायेंगे ज़नाब!

    ReplyDelete
  2. अंजुरी भर गर्माहट मांग रहा सूरज !
    कोहरे के प्रभाव क सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  3. हवाओं ने पहने हैं
    बर्फीले परिधान ,
    साफ़ कैनवास की
    तरह लगे आसमान!
    चित्र आस-पास के आँक रहा सूरज !
    अब तो सभी जगह यही मौसम है। इसी का मज़ा लीजिये... और समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/.

    ReplyDelete