Tuesday 17 August 2010

हमारा समय

    कहीं दम तोड़ रही हो   जब तन ,मन और वतन की आबरू ,
   किसी गुनहगार के हाथों
   ज़िंदा जल रहा हो जब कोई बेगुनाह,
   सब कुछ जानकर और देख कर भी                                                                              
   तब नहीं पिघलता हमारा ह्रदय ,
   सचमुच कितना खौफनाक
   हो गया है हमारा समय !
   सच्चाई की आँखों में आँखें डाल कर
   बतियाने से भी घबराता है हमारा समय .
   रास्ते में देख कर इंसानों का खून
   और इंसानियत की लावारिस लाश,
    हमारा समय करने लगता है
   किसी सुरक्षित रास्ते की तलाश .                                                            
   सचमुच कितनी बदहवासी में है हमारा समय ,
    दोस्तों ! क्या हर मौसम में अब 
    ऐसा ही रहेगा हमारा समय ?
                              स्वराज्य करुण

1 comment:

  1. ummid pe duniya kayam hai. aur vaise bhi samay k baare me to kaha hi jata hai ki wo sadaiv ek sa nahi rahta. hamare samay me kuchh achhaiyan hain, to bahut kuchh buraiyan bhi. par kya nirash hua jaaye ? phool k sath kaante hain , kanton k sath phool bhi. aur mujhe lagta hai ki aadmi puri duniya ko chamde se madh nahi sakta, isliye juta pahan lena jyada uchit hai. IK THOS HAKIKAT HAI DUNIYA, KOI SUNAHRA KHWAB NAHI. THOS HAKIKAT ki duniya me SHAKTIMEV JAYTE hi satya hai,SATYAMEV JAYTE to SUNAHRE KHWABON KI DUNIYA ka vishay hai. - aadar sahit BALMUKUND TAMBOLI

    ReplyDelete