Tuesday 27 September 2011

कौन बनेगा भगत सिंह ?

                                  
 
                                        

                         (आज़ादी के महान योद्धा भगत सिंह की जयंती 27 सितम्बर पर विशेष  )

                                       कौन बनेगा
                                       अमर शहीद  भगत सिंह ,
                                       कौन बनेगा
                                       वीर चंद्रशेखर आज़ाद ,
                                       करोड़पति बनने के चक्कर में
                                       पीढियां हो रही बर्बाद !
                                       शायद अधूरे ही रह जाएंगे
                                       देशभक्तों के ख्वाब ,
                                       पता नहीं फिर
                                       कब आएगा इन्कलाब  ?

                                       अब कोई नहीं  पूछता -कौन बनेगा
                                       वीर शिवाजी , कौन बनेगा
                                       महाराणा प्रताप ,
                                        हर कोई  कर रहा -
                                       नगद नारायण का मंत्र जाप !
                                       कुछ कहो तो कहते हैं -
                                       वतन की आज़ादी के लिए
                                       इन्कलाब की राह पर हो गए
                                       वो कुर्बान तो हम क्या करें ?
                                       हमने तो नहीं कहा था उन्हें
                                       कि वो शहीदों की मौत मरें !
                                       हमें यह मालूम था कि
                                       एक दिन वक्त ऐसा भी आएगा
                                       सियासत का शातिर सिपाही
                                       आज़ादी के दीवानों का
                                       नाम-ओ-निशान मिटाएगा !
                                       हम क्यों पहनें
                                       फाँसी का फंदा ,
                                       सलामत रहे हमारा धंधा !

                                       तिजारत के लिए
                                       वतन को बेच कर
                                       दौलत के लिए
                                       चमन को बेच कर
                                       वो  कभी  नहीं पूछेंगे
                                       कौन बनेगा भगत सिंह ?
                                       उन्हें नहीं लगता कि
                                       देश की हो रही है दुर्गति
                                       इसीलिए तो बार-बार वो
                                       पूछते हैं जनता से -
                                       'कौन बनेगा करोड़पति ?
                                   
                                       हर कोई सोचता है  -
                                       देश जाए भाड़ में ,
                                       हम तो मशगूल रहें
                                       काले-सफ़ेद के
                                       अपने कारोबार में !
                                       लगता है हम सबका ज़मीर
                                       कहीं खो गया है,
                                       हमारे लिए ज्ञान का पैमाना
                                       टेलीविजन के परदे पर
                                      अमिताभ बच्चन का 
                                       एक अदद कम्प्यूटर हो गया है !
                                 
                                       जो हमें सपने दिखाता है
                                       और सिखाता है -
                                       हो अगर तुम्हें जरा भी ज्ञान
                                       कोई बात नहीं अरे ओ नादान,
                                       क्या हुआ जो न बन सको इंसान ,
                                       हॉट सीट पर बैठते ही कम्प्यूटर
                                       तुम्हें बना देगा  धनवान !
                                       फिर क्या करोगे -
                                       महंगाई और बेरोजगारी के
                                       बारे में सोच कर ,
                                       देश के हालात पर
                                       अपना सिर नोच कर  ?
                                   
                                       सामान्य ज्ञान का यह खेल 
                                       देश को भले ही
                                       बना रहा  हो  जुआरी,
                                       कौरवों की इस सभा में
                                       यहाँ तो हैं कई बड़े-बड़े खिलाड़ी !
                                       हर किसी को मिलेगा
                                       दाँव लगाने का मौक़ा बारी-बारी !
                                       वतन की माटी पर
                                       मर मिटने वाले
                                       रह जाएंगे इस भीड़ में अकेले ,
                                       शहीदों की याद में
                                       अब नहीं जुडेंगे
                                       भारत भूमि पर सपूतों के मेले  !
                                                          
                                                                --  स्वराज्य करुण



8 comments:

  1. अच्छी प्रस्तुति ... शहीद भगत सिंह को नमन

    ReplyDelete
  2. Achchi kataksh karti hui behtreen prastuti.

    ReplyDelete
  3. सार्थक प्रस्तुति ....शहीद भगत सिंह को शत -शत नमन

    ReplyDelete
  4. शहीदे आज़म के जन्म दिन पर बढ़िया प्रस्तुति....
    सादर नमन....

    ReplyDelete
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  6. इस रचना में आपने ज्वलंत सवाल खड़ा किया है .
    महान शहीद वीर भगत सिंह को शत -शत नमन .

    ReplyDelete




  7. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete