Tuesday 6 September 2011

हेलीकॉप्टर वाले डाकू !

                                                महंगाई से परेशान 
                                                कोई किराने की दुकान पर 
                                                तो कोई आटे की चक्की पर है ,
                                                फिर भी उनका कहना है कि
                                                देश तरक्की पर है  !

                                                कभी -कभी लगता है कि
                                                उनकी बातों में दम है ,
                                                तरक्की के रास्ते पर
                                                उनके ही बढते कदम हैं !
                                                इसीलिए उन्हें लगता है कि
                                                देश तरक्की  पर है ,
                                                कोई माने या न माने ,
                                                उन्हें किस बात का डर है  ?
                                           
                                               पहले लूटमार के लिए
                                               एक चाकू काफी था
                                               घोड़े पर बैठा डाकू काफी था  /
                                               अब डाकुओं के घरों में
                                               घोड़ों की जगह 
                                               मिलने लगे हैं हेलीकॉप्टर ,
                                               वह भी एक नहीं ,चार-चार ,
                                               विश्वास न हो तो
                                               देख लो आज का अखबार !
                                           
                                               महंगाई के चलते 
                                               भले ही भर न पाए हमारा झोला ,
                                               हमारे देश के डाकू
                                               रखने लगे हैं
                                               आधुनिक उड़न खटोला !

                                               फिर क्यों न कहें 
                                               देश तरक्की पर है आज ,
                                               अभी तो वे हेलीकॉप्टर से
                                               जाते हैं डाका डालने,
                                               कल उसकी जगह होगा
                                               तेज-रफ्तार हवाई जहाज !

                                               डाकू जी आएँगे फ्लाईट से,
                                               जाएंगे भी फ्लाईट से
                                               डालकर डाका ,
                                               कोई नहीं कर पाएगा
                                               उनका बाल बांका !
                                               आज तो वे लूट रहे हैं खेत
                                               और  खदान ,
                                               कल लूट कर ले जाएंगे
                                               पूरा हिन्दुस्तान !
                                                                          -स्वराज्य करुण
                                         

4 comments:

  1. आज के अखबार में तो यह भी खबर है कि एक मुख्यमंत्री ने अपनी मनपसंद सैंडिल मांगने के लिए अपना खाली विमान मुम्बई भेजा .. यह काम भी किसी डाके से कम नहीं है ... आखिर पैसा तो जनता का ही लगता है ..

    अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति बधाई|

    ReplyDelete
  3. bahut sahi kah rahe hain aap aur ye bhi ki ye lootenge hame daka dalenge hamare ghar me aur ham baithayenge inhe apne sir par par

    ReplyDelete
  4. Daku to akhir Daku hi hai..... chahe ghode par ho ya gadhe par :)

    ReplyDelete