Monday, October 13, 2014

( ग़ज़ल ) भोली आँखों से दुनिया को ...!

                                देख रहे भोली आँखों से दुनिया को सीधे-सादे लोग,
                                समझ न पाएं इस फरेबी महफ़िल के इरादे लोग !

                                 नकाबपोशों के नगर में नक्कालों का  स्वागत खूब ,
                                 दहशत में जाने कहाँ गए इस बस्ती के आधे लोग !
                                
                                सच्चाई की बात भी करना पागलपन कहलाता है ,
                                झूठी कसमों के संग करते सौ-सौ झूठे वादे लोग !
                                
                                उल्टी- सीधी  चालें चलती चालबाज की माया है ,
                                नासमझी में बन जाते हैं सियासतों के प्यादे लोग !
                               
                                हीरे-मोती के चक्कर में चीर रहे धरती का सीना .
                                खेती के रिवाज़ को चाहे पल भर में  गिरा  दें लोग !
                                
                                उनकी पुस्तक में न जाने दिल वालों का देश कहाँ ,
                                शायद असली के बदले दिल नकली दिलवा दें लोग ! 
                                
                                 वक्त आ गया अब चलने  का इस मुसाफिरखाने से ,
                                 आने  वाले हैं यहाँ  भी हुक्कामों  के शहजादे  लोग !
                                                                         -- स्वराज्य करुण

9 comments:

  1. आपकी लिखी रचना मंगलवार 14 अक्टूबर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशोदा जी ! आपको बहुत-बहुत धन्यवाद .

      Delete
  2. सच्चाई की बात भी करना पागलपन कहलाता है ,
    झूठी कसमों के संग करते सौ-सौ झूठे वादे लोग !..
    बहुत ही उम्दा लाजवाब शेर इस ग़ज़ल का ...

    ReplyDelete
  3. लोगों का क्या ठिकाना कब क्या करें !

    ReplyDelete
  4. दिगम्बर जी ,नीरज जी ,सुमन जी और प्रतिभा जी ! आप सबकी उत्साहजनक प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  5. अति सुंदर रचना---- बधाई
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete