Thursday 23 May 2013

जहाँ भी देखो बैनर -पोस्टर !

                         दूर -दूर तक नज़र न आए  मंज़र क्यों बहारों के 
                         जहाँ भी देखो बैनर -पोस्टर केवल ठेकेदारों के !
        
                        रंग-बिरंगे चैनल भी अब हाल चाल क्या बतलाएं 
                        नारों में रंगी दीवार से  लगते चेहरे हैं अखबारों के !
                        
                        अदालतों से बरी हो रहे दौलत के भूखे कातिल भी 
                        नीति,नीयत निर्णय सब कुछ हाथों में हत्यारों के !
                       
                        अपना दर्द किसे बतलाएं ,सभी व्यस्त हैं अपनों में 
                        इंतज़ार में सदियों से हम पीछे लम्बी कतारों के  !
        
                       नेताओं के अभिनय से हैं भौचक सारे अभिनेता 
                       गद्दारों की सेवा में लगे  सब प्रहरी पहरेदारों के !
                                                                          -स्वराज्य करुण

8 comments:

  1. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और भी पढ़ें;
    इसलिए आज 23/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर (यशोदा अग्रवाल जी की प्रस्तुति में)
    आप भी देख लीजिए एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद यशवंत जी .

    ReplyDelete
  3. गद्दारों की सेवा में लगे सब प्रहरी पहरेदारों के !एकदम सही लि‍खा है आपने....

    ReplyDelete
  4. बढ़िया....
    अपना दर्द किसे बतलाएं ,सभी व्यस्त हैं अपनों में
    इंतज़ार में सदियों से हम पीछे लम्बी कतारों के !
    कभी तो नंबर आएगा...उम्मीद अभी बाकी है!!

    अनु

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (24-05-2013) के गर्मी अपने पूरे यौवन पर है...चर्चा मंच-अंकः१२५४ पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. आज के राजनेताओं की सच्ची तस्वीर
    बहुत खूब
    साभार !

    ReplyDelete
  7. गद्दारों की सेवा में लगे सब प्रहरी पहरेदारों के !-
    सही तस्वीर खींचा है आपने !
    latest post: बादल तू जल्दी आना रे!
    latest postअनुभूति : विविधा

    ReplyDelete
  8. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete