Saturday 11 February 2017

जंगलों का हत्यारा सम्मानित सिकन्दर है !

                                              आधुनिकता की दौड़ में
                                              सब लगे हुए हैं 
                                              एक अंतहीन ,दिशाहीन होड़ में !
                                              धकिया कर एक-दूजे को ,
                                              सब चाहते हैं एक-दूजे से आगे
                                              निकल जाना ,
                                              ईमानदारी को सूखी रोटी के बजाय
                                              बेईमानी की मलाई  खाना !
                                              दो नम्बर की कमाई को ही
                                              मानते हैं सब कामयाबी का पैमाना !
                                              पनघट भी  सिमट गए
                                              सबके सब नलों में
                                              घाट का पत्थर भी
                                              गायब हुआ पलों में !
                                              नदियों के नसीब में
                                              अब रेत का ही समंदर है ,
                                              सारा का सारा पानी
                                              उसकी  आँखों के अन्दर है
                                              क्योंकि ,झरनों का
                                             जंगलों का और नदियों का
                                            हत्यारा सम्मानित सिकन्दर है !
                                                         ---  स्वराज करुण                             
                                              
                                              
                                              
                                             

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  2. आपकी रचना बहुत सुन्दर है। हम चाहते हैं की आपकी इस पोस्ट को ओर भी लोग पढे । इसलिए आपकी पोस्ट को "पाँच लिंको का आनंद पर लिंक कर रहे है आप भी कल रविवार 12 फरवरी 2017 को ब्लाग पर जरूर पधारे ।

    ReplyDelete