Saturday 11 February 2017

नहीं आती हमें शब्दों की बाजीगरी !

                                बाजीगरों की
                                 इस मायावी दुनिया में
                                नहीं आती हमें शब्दों की बाजीगरी   !
                                इसीलिए तो  बार-बार
                                मान लेते हैं  हम  अपनी  हार !
                                बाजीगरों को मालूम है
                                शब्दों की कलाबाजी ,
                                कैसे भरी जाती है
                                छल-कपट के पंखों से
                                कामयाबी की ऊंची उड़ान ,
                                हसीन सपने दिखाकर
                                कैसे हथियाए जाते हैं
                                किसी भोले इंसान के
                                घरौन्दे, खेत और खलिहान !
                                देखते ही देखते जहां
                                गायब हो जाती है हरियाली
                                और  शान से खड़े हो जाते हैं
                                कांक्रीट के बेजान जंगल
                                सितारा होटलों और
                               शॉपिंग मॉलों के पहाड़ !
                                कल तक अपने खेतों में
                                स्वाभिमान के साथ
                               हल चलाने वाला किसान
                               आज उस शॉपिंग माल 
                               या किसी  पांच सितारा होटल की
                               चिकनी - चुपड़ी  फर्श पर
                               दो वक्त की रोटी के लिए
                              लगाता है झाडू-पोंछा
                              क्योंकि वह शब्दों का
                              नहीं है कोई छलिया बाजीगर !
                               कोई माने या न माने ,
                               किसी को भले ही न हो विश्वास 
                               बाजीगर अपने मायावी शब्दों से 
                               साबित कर देते हैं
                               यही तो  है देश का विकास !
\                                                         -स्वराज करुण
                          
                                


                                  
                                  
                                

                              
                              

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (12-02-2017) को
    "हँसते हुए पलों को रक्खो सँभाल कर" (चर्चा अंक-2592)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  2. बहुत-बहुत धन्यवाद आदरणीय रूपचंद शास्त्री जी !

    ReplyDelete