Monday 26 January 2015

लघु कथा : उसकी रखैल है क़ानून की किताब !

                                                                                                                   --स्वराज्य करुण
गरीबों के रेस्टोरेंट यानी गोपाल के चाय ठेले के सामने कुछ लोग एक  कथित बड़े आदमी के बारे में चर्चा कर रहे थे .राम सिंह कह रहा था- सब लोग उस आदमी को क़ानून का रखवाला कहते हैं ,लेकिन वह क़ानून की किताब को अपनी रखैल मानकर चल रहा है और बड़े ही आराम से सरकारी अफसरी के साथ-साथ उसका लंदी -फंदी वाला कारोबार भी फल-फूल रहा है .नियम कहता है कि अगर शहर में आपका निजी मकान है तो आप सरकारी मकान में नहीं रह सकते ,लेकिन इस शहर में उस आद...मी के एक से बढ़कर एक आलीशान मकान हैं, कुछ नामी और कुछ बेनामी मकानों का वह एकमेव मालिक है .इसके बाद भी उसने अफसर होने के नाते अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके एक अच्छा सा सरकारी बंगला भी अपने नाम पर एलाट करवा लिया है .निजी मकानों को हजारों-लाखों रूपए के मासिक किराए पर उठा दिया है . हैरानी की बात है कि इनमे से एक मकान को उसने अपने मित्र अधिकारी के सरकारी दफ्तर के लिए किराए पर दे रखा है हर साल लाखों रूपए किराया भी ले रहा है . दोनों बच्चे एक ऐसे प्रायवेट अंगरेजी स्कूल में पढ़ते हैं ,जिसकी मासिक फीस कई हजार रूपए है और सामान्य व्यक्ति अपने बच्चों को इतने महंगे स्कूल में भर्ती करवाने की तो सपने में भी नहीं सोच सकता .हर छह-आठ महीने में वह एक चमचमाती और बेशकीमती कार खरीदता है . हर साल मौज-मस्ती के लिए विदेशों की सैर करता है .राम सिंह की बातें सुनकर दुकालूराम ने कहा - अब छोडो भी इन बातों को . क़ानून की किताब जिसकी रखैल हो , उसका भला कौन क्या बिगाड़ लेगा ? अब चलो भी अपने-अपने काम पर ,वरना आज की मजदूरी नहीं मिली तो घर में बीबी- बच्चों के साथ महाभारत मच जाएगा .और सब लोग चाय पीकर काम पर निकल पड़े
                                                                  ------------