Thursday 23 May 2013

जहाँ भी देखो बैनर -पोस्टर !

                         दूर -दूर तक नज़र न आए  मंज़र क्यों बहारों के 
                         जहाँ भी देखो बैनर -पोस्टर केवल ठेकेदारों के !
        
                        रंग-बिरंगे चैनल भी अब हाल चाल क्या बतलाएं 
                        नारों में रंगी दीवार से  लगते चेहरे हैं अखबारों के !
                        
                        अदालतों से बरी हो रहे दौलत के भूखे कातिल भी 
                        नीति,नीयत निर्णय सब कुछ हाथों में हत्यारों के !
                       
                        अपना दर्द किसे बतलाएं ,सभी व्यस्त हैं अपनों में 
                        इंतज़ार में सदियों से हम पीछे लम्बी कतारों के  !
        
                       नेताओं के अभिनय से हैं भौचक सारे अभिनेता 
                       गद्दारों की सेवा में लगे  सब प्रहरी पहरेदारों के !
                                                                          -स्वराज्य करुण