Thursday, October 11, 2012

शानदार व्यवसाय !

                                          
                                              लोकतंत्र में राजनीति अब शानदार व्यवसाय !
                                              कोई छुप कर खाय यहाँ तो कोई खुल कर खाय !!
                                                          
                                               कोई कहता खुद को इसका पहला , दूजा पाया !
                                               तीजे और चौथे पायों के दिल को भी यह भाया !!
                                                            
                                                माल मुफ्त का बेरहमी से सबने खूब कमाया !
                                                नेताओं ने पीढ़ी-दर-पीढ़ी आसान यहाँ जमाया !!
                                                            
                                                सरकारी बंगले में जिसने अपना बोर्ड लगाया !
                                                उसे वहाँ से कोई माई का लाल हटा न पाया !!
                                                             
                                                कह करुण कविराय यह तो  लक्ष्मी जी की माया !
                                                नेता बनते ही मिल जाए धन- दौलत की छाया !!
                                                             
                                                दूर गरीबी को करने की क्यों हो इतनी चिन्ता  !
                                                हर गरीब जब नेता बनकर पाए अमीर सी काया !!
                                                                                                               -स्वराज्य करुण

4 comments:

  1. सरकारी बंगले में जिसने अपना बोर्ड लगाया !
    उसे वहाँ से कोई माई का लाल हटा न पाया !!
    दुनियां का दस्तूर है . सच को बयां कराती पोस्ट

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया...
    कटाक्ष करती रचना...

    अनु

    ReplyDelete