Sunday 31 July 2011

बुझने लगे खुशहाली के ख्वाब

                                         घोटालों का घी और
                                         असत्य का अमृत पी कर
                                         अँधेरे की रजाई ओढ़
                                          चैन की नींद  सो रही  है
                                          मेरे देश की प्रगति /
                                        
                                           जिन हाथों में उसे
                                           झकझोर कर जगाने की
                                           ताकत है, वो भी ऊंघ रहे हैं
                                           थकान के बोझ से /
                                           गुलामी की भयानक यादों  में
                                           दब कर दिल ही दिल में  घुट रही है 
                                           मेरे वतन की आज़ादी /
                                         
                                           बिखरने लगे हैं सपने विकास के ,
                                           जैसे बिखरते हैं महल ताश के  /
                                           बिक रहे हैं खेत जिनमें
                                           बन रही है कॉलोनियां ,
                                           लिख रहे हैं फिर भी कुछ लोग 
                                            तरक्की और समृद्धि  की
                                            नकली कहानियां /

                                            सब जानते हैं  लोहे-लक्कड़ के
                                            कारखाने में पैदा नहीं होते चावल- गेहूं ,
                                            सरसों, ज्वार-बाजरा ,
                                            अनाज के लिए ज़रुरी होता है
                                            धरती माँ का आँचल ,
                                             जिसे फाड़ कर फेंकने को
                                             तत्पर हैं कुछ धन-पशु पागल /
                                             
                                              खेतों में हर दिन खड़ी हो रही 
                                              धुंआ उगलती चिमनियां
                                              मिट रहे हैं नदी -नाले ,
                                               जैसे मिट रही  जिस्म से धमनियां
                                               कट रहे जंगल बेहिसाब
                                               टिमटिमाते दिए की तरह
                                                बुझने लगे हैं खुशहाली के ख्वाब ?

                                                                                         स्वराज्य करुण