Saturday 11 February 2017

जंगलों का हत्यारा सम्मानित सिकन्दर है !

                                              आधुनिकता की दौड़ में
                                              सब लगे हुए हैं 
                                              एक अंतहीन ,दिशाहीन होड़ में !
                                              धकिया कर एक-दूजे को ,
                                              सब चाहते हैं एक-दूजे से आगे
                                              निकल जाना ,
                                              ईमानदारी को सूखी रोटी के बजाय
                                              बेईमानी की मलाई  खाना !
                                              दो नम्बर की कमाई को ही
                                              मानते हैं सब कामयाबी का पैमाना !
                                              पनघट भी  सिमट गए
                                              सबके सब नलों में
                                              घाट का पत्थर भी
                                              गायब हुआ पलों में !
                                              नदियों के नसीब में
                                              अब रेत का ही समंदर है ,
                                              सारा का सारा पानी
                                              उसकी  आँखों के अन्दर है
                                              क्योंकि ,झरनों का
                                             जंगलों का और नदियों का
                                            हत्यारा सम्मानित सिकन्दर है !
                                                         ---  स्वराज करुण                             
                                              
                                              
                                              
                                             

नहीं आती हमें शब्दों की बाजीगरी !

                                बाजीगरों की
                                 इस मायावी दुनिया में
                                नहीं आती हमें शब्दों की बाजीगरी   !
                                इसीलिए तो  बार-बार
                                मान लेते हैं  हम  अपनी  हार !
                                बाजीगरों को मालूम है
                                शब्दों की कलाबाजी ,
                                कैसे भरी जाती है
                                छल-कपट के पंखों से
                                कामयाबी की ऊंची उड़ान ,
                                हसीन सपने दिखाकर
                                कैसे हथियाए जाते हैं
                                किसी भोले इंसान के
                                घरौन्दे, खेत और खलिहान !
                                देखते ही देखते जहां
                                गायब हो जाती है हरियाली
                                और  शान से खड़े हो जाते हैं
                                कांक्रीट के बेजान जंगल
                                सितारा होटलों और
                               शॉपिंग मॉलों के पहाड़ !
                                कल तक अपने खेतों में
                                स्वाभिमान के साथ
                               हल चलाने वाला किसान
                               आज उस शॉपिंग माल 
                               या किसी  पांच सितारा होटल की
                               चिकनी - चुपड़ी  फर्श पर
                               दो वक्त की रोटी के लिए
                              लगाता है झाडू-पोंछा
                              क्योंकि वह शब्दों का
                              नहीं है कोई छलिया बाजीगर !
                               कोई माने या न माने ,
                               किसी को भले ही न हो विश्वास 
                               बाजीगर अपने मायावी शब्दों से 
                               साबित कर देते हैं
                               यही तो  है देश का विकास !
\                                                         -स्वराज करुण
                          
                                


                                  
                                  
                                

                              
                              

Friday 2 September 2016

भारत माता की लाश !

                                
                               




                                 
                                                    हर तरफ बह रहा
                                                    सिर्फ बेगुनाहों का रक्त ,
                                                    देशभक्ति और देशद्रोह की
                                                    परिभाषा  नये सिरे से
                                                    तय करने  का आ गया है वक्त !
                                                    लगता है इस गरीब के काँधे पर
                                                    उसकी पत्नी नहीं ,
                                                    भारत माता की लाश है ,
                                                    हर तरफ आज मरी हुई
                                                     मानवता की तलाश है !
                                                                          -- स्वराज करुण

Tuesday 23 February 2016

असली देशभक्त कौन ?

     शब्दों के तीर एक-दूसरे पर खूब चल रहे हैं . आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है . टेलीविजन चैनलों और अखबारों के पन्नों पर शब्दों की बाजीगरी और लांछन -प्रतिलांछनों का शोर इतना है कि सही-गलत की पहचान करना बहुत कठिन होता जा रहा है ,लेकिन थोड़ी कोशिश करें तो 'देशभक्तों ' और देशद्रोहियों की पहचान आसानी  से की जा सकती है. असली देशभक्त कौन ? पहचानने के लिए मैंने  २२  बिंदु तय किए हैं, जो इस प्रकार हैं --
(१ ) जिन्होंने देश की आज़ादी के लिए अपने प्राणों की बाजी लगा दी !
(२ ) वह सैनिक जो देश की सरहदों पर कठिन से कठिन परिस्थतियों में भी मातृभूमि की रक्षा के लिए सदैव तत्पर रहते हैं ,जिनकी सजगता और सतर्कता की वजह से हम देशवासी चैन की नींद सोते हैं ,लोकतंत्र की खुली हवा में सांस लेते है .
(३ ) वह किसान जो खेतों को अपने पसीने से सींच कर देशवासियों के लिए अनाज उपजाता है .
(४ ) वह मजदूर जिस के पसीने की बुनियाद पर सडक, पुल-पुलिया और बड़ी-बड़ी इमारतें बनती हैं ,जो खेतों के साथ-साथ कारखानों में भी पसीना बहाता है !
(५ ) ऐसे लोग जो किसानों और मजदूरों की जमीन हड़पने का घटिया काम नहीं करते !
(६ ) ऐसे अधिकारी और कर्मचारी ,जो कभी रिश्वत नहीं लेते और भ्रष्टाचार नहीं करते और पूरी ईमानदारी  से अपने सरकारी कर्त्तव्यों का निर्वहन करते हैं .
(७ ) ऐसे वकील जो पेशे और पेशी के नाम पर अपने गरीब मुवक्किलों को अपनी चालबाजी का शिकार नहीं बनाते और उनसे मनमाना रुपया नहीं ऐंठते !

(८ ) ऐसे लोग जो आरक्षण या किसी और मुद्दे पर अपने आन्दोलनों मेंहिंसा का सहारा नहीं लेते और  ट्रेनों ,बसों और दूसरी सार्वजनिक सम्पत्तियों को नुकसान नहीं पहुंचाते .
(९  ) ऐसे साहित्यकार और पत्रकार जो हर हालत में सिर्फ और सिर्फ सच्चाई लिखते हैं ! हालांकि साहित्य और पत्रकारिता में अब ऐसी प्रजाति विलुप्त होती जा रही है .
(१०  ) ऐसे प्राध्यापक ,जो अपने कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में विद्यार्थियों को सिर्फ और सिर्फ शिक्षा देने का कार्य करते हैं और उन्हें घटिया राजनीति नहीं सिखाते !

(११  ) ) ऐसे डॉक्टर जो मरीजों की गरीबी का बेजा फायदा नहीं उठाते और सेवा भावना से उनका इलाज करते हैं !
(१२  ) ऐसे मेडिकल उद्योग और उनके संचालक ,जो नकली दवाई नहीं बनाते और नहीं बिकवाते और असली दवाइयों की मनमानी कीमत नहीं वसूलते !
(१३  ) ऐसे नागरिक जो सार्वजनिक स्थानों पर गंदगी नहीं फैलाते ,जो नालियों में कचरा नहीं फेंकते !
(१४  ) ऐसे फैक्ट्री मालिक जो पर्यावरण से खिलवाड़ नहीं करते !
(१५  ) ऐसे लोग जो पर्यावरण और हरियाली की रक्षा के लिए हमेशा चिंतित रहते हैं और इसके लिए तत्पर रहते हैं !
(१६  ) ऐसे मालिक ,जो अपने नौकरों को उनकी उचित रोजी-मजदूरी देने में कंजूसी नहीं करते !
( १७  ) ऐसे व्यापारी जो शराब का कारोबार नहीं करते !
(१८  ) ऐसे दुकानदार जो अपने ग्राहकों से कभी बेईमानी नहीं करते !
(१९  ) ऐसे नेता जो जनता से झूठे वादे नहीं करते और उसे झूठे सपने नहीं दिखाते !
(२०  ) ऐसे माता-पिता और ऐसे परिवार जो अपने बच्चों को अंग्रेजी नहीं ,बल्कि अपनी राष्ट्रभाषा हिन्दी और अपनी प्रादेशिक भाषाओं की पढाई के लिए प्रेरित करते हैं और जो उन्हें ऐसे विद्यालयों में भर्ती करते हैं ,जहां हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं में पढाई होती है !
(२१  ) ऐसे फ़िल्मी कलाकार जो कला-संस्कृति के नाम पर समाज में अश्लीलता नहीं फैलाते !
(२२  ) ऐसे लोग जो कृषि-प्रधान इस देश में गोवंश की रक्षा को अपना कर्त्तव्य मानते हैं !
यह सूची और भी लम्बी हो सकती है .जितना मुझे ख्याल आया , मैंने लिख दिया .अगर आप चाहें तो इसमें अपनी ओर से भी कुछ बिंदु जोड़कर सूची की लम्बाई बढ़ा सकते हैं . इससे देशभक्तों की पहचान तय  करना और भी ज्यादा आसान हो जाएगा  !
--स्वराज करुण

Thursday 21 January 2016

क्या झूठ और सच के भी होते हैं कई रंग ?



हे राजन ! क्या झूठ और सच के भी कई रंग होते हैं ? किसी बात को झूठलाने के लिए ऐसा क्यों बोला जाता है कि यह सरासर 'सफेद झूठ' है ?  झूठ के लिए सिर्फ सफेद रंग का इस्तेमाल क्यों होता है ? क्या 'सफेद झूठ' के अलावा लाल,पीला ,नीला ,हरा या गुलाबी झूठ भी होता है ? अगर झूठ रंग-बिरंगा होता है तो 'सच' के भी कई रंग होते होंगे ? जैसे सफेद झूठ की तर्ज पर सफेद सच ?
                                           -स्वराज्य करुण

Sunday 17 January 2016

थर-थर काँपे भारत माई ..!

                                                    समरथ को नहीं दोष गोसाईं ,
                                                    देश की दौलत मिलकर खाई !
                                                    सबका हिस्सा आधा -आधा
                                                    सबके सब मौसेरे भाई !
                                                     उनका हर आयोजन रंगीला,
                                                     शादी हो या कोई सगाई ।
                                                    शान-शौकत देख के उनकी
                                                     थर -थर काँपे भारत माई ।

                                                     लूट रहे जो देश की धरती ,
                                                     उनके घर में दूध -मलाई ।
                                                    गाँव -शहर सब दूर मची है ,
                                                     मारा-मारी और नंगाई ।
                                                     निर्धन -निर्बल हुए निराश 
                                                     अब  देख -देख उनकी परछाई !

                                                                           -- स्वराज्य करुण

Tuesday 12 January 2016

प्रश्न-गीत !

                                       
                                                  एक अनबूझी पहेली,
                                                  कैसे बनती है हवेली!

                                                  झोपड़ी की आँखों में
                                                  प्रश्न ही प्रश्न हैं
                                                  महलों में उनके बस 
                                                  जश्न ही जश्न है !

                                                 लूट की दौलत ही
                                                 उनकी है सहेली !

                                                 तरक्की में उनकी तो
                                                 रिश्वत की ताकत है !
                                                 कहता है कौन  कहो
                                                 किसकी हिमाकत है !

                                                 सवालों की अनुगूंज
                                                  रह गयी अकेली !
                                                                     -स्वराज्य  करुण