Monday, October 5, 2020

(कविता )सिर्फ़ रह जाएंगे अवशेष

जिस  तरह से 

चल रहा है देश ,

लगता है कुछ दिनों में 

लोकतंत्र के सिर्फ़ 

रह जाएंगे अवशेष !

जीतेगा और जिएगा वही 

जिसके हाथों में होगा 

नोटों से भरा सूटकेस !

जब चारों दिशाओं में छा जाएंगे कार्पोरेट,

उन्हीं के हाथों में होंगे 

तुम्हारे खलिहान और खेत !

ये नये ज़माने के राजे -महाराजे 

बजवाएंगे तुमसे अपनी  तारीफ़ों के बाजे ! 

धर्म ,जाति और सम्प्रदाय के नाम पर 

वो जनता को आपस में लड़वाएँगे ,

देशभक्ति की नकली परिभाषाओं से 

बेगुनाहों को सूली पर चढ़वाएंगे।

मांगोगे रोजगार तो तुम्हें

नकली राष्ट्रवाद का बेसुरा गाना सुनवाएँगे ,

मांगोगे न्याय तो तुम्हें 

फ़र्ज़ी देशभक्तों से धुनवाएंगे !

सुनो बटोही ! उठाओगे आवाज़ 

अगर अन्याय के।ख़िलाफ़ ,

तुम ठहरा दिए जाओगे देशद्रोही !

जहाँ रात के अंधेरे में

चोरी छिपे जला दी जाएगी 

भारत माता की ,

बलात्कार पीड़ित बेटियों की लाश ,

उस देश में आख़िर कब तक करोगे 

इंसानियत और इंसाफ़ की तलाश ?

           -स्वराज करुण

1 comment:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (07-10-2020) को   "जीवन है बस पाना-खोना "    (चर्चा अंक - 3847)    पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    ReplyDelete