Thursday 21 January 2016

क्या झूठ और सच के भी होते हैं कई रंग ?



हे राजन ! क्या झूठ और सच के भी कई रंग होते हैं ? किसी बात को झूठलाने के लिए ऐसा क्यों बोला जाता है कि यह सरासर 'सफेद झूठ' है ?  झूठ के लिए सिर्फ सफेद रंग का इस्तेमाल क्यों होता है ? क्या 'सफेद झूठ' के अलावा लाल,पीला ,नीला ,हरा या गुलाबी झूठ भी होता है ? अगर झूठ रंग-बिरंगा होता है तो 'सच' के भी कई रंग होते होंगे ? जैसे सफेद झूठ की तर्ज पर सफेद सच ?
                                           -स्वराज्य करुण

Sunday 17 January 2016

थर-थर काँपे भारत माई ..!

                                                    समरथ को नहीं दोष गोसाईं ,
                                                    देश की दौलत मिलकर खाई !
                                                    सबका हिस्सा आधा -आधा
                                                    सबके सब मौसेरे भाई !
                                                     उनका हर आयोजन रंगीला,
                                                     शादी हो या कोई सगाई ।
                                                    शान-शौकत देख के उनकी
                                                     थर -थर काँपे भारत माई ।

                                                     लूट रहे जो देश की धरती ,
                                                     उनके घर में दूध -मलाई ।
                                                    गाँव -शहर सब दूर मची है ,
                                                     मारा-मारी और नंगाई ।
                                                     निर्धन -निर्बल हुए निराश 
                                                     अब  देख -देख उनकी परछाई !

                                                                           -- स्वराज्य करुण

Tuesday 12 January 2016

प्रश्न-गीत !

                                       
                                                  एक अनबूझी पहेली,
                                                  कैसे बनती है हवेली!

                                                  झोपड़ी की आँखों में
                                                  प्रश्न ही प्रश्न हैं
                                                  महलों में उनके बस 
                                                  जश्न ही जश्न है !

                                                 लूट की दौलत ही
                                                 उनकी है सहेली !

                                                 तरक्की में उनकी तो
                                                 रिश्वत की ताकत है !
                                                 कहता है कौन  कहो
                                                 किसकी हिमाकत है !

                                                 सवालों की अनुगूंज
                                                  रह गयी अकेली !
                                                                     -स्वराज्य  करुण


Thursday 7 January 2016

(ग़ज़ल ) तुमने क्या कर डाला है !

हाय मेरे वतन के लोगों  , तुमने क्या कर डाला है ,
कदम-कदम पर आज हर तरफ उनका बोलबाला है !
चालें उनकी समझ न आयी हमको भी और तुमको भी
इसीलिए तो गले में उनके फूलों की हर दिन माला है !
पहले तो समझा था हमने प्यार का वो महासागर हैं ,
हमें क्या पता दिल में उनके नफरत का परनाला है !
हर आफिस के हर कमरे में महफ़िल सौदेबाजों की ,
हर सौदागर सिंहासनों का रिश्ते में लगता साला है !
नीलाम वतन को कर देंगे ,ये ठान के आकर बैठे हैं ,
फिर भी क्यों आँखों में हमारे भ्रम का छाया जाला है !
मिठलबरों की भीड़ है उनके आगे-पीछे ,आजू-बाजू ,
इस मायावी दुनिया में उनका हर कोई हमप्याला है !
उनकी बातों से लगता था जैसे कोई फरिश्ता हो,
अब लगता है जैसे उनके दिल में भी धन काला है !
कारगुजारी उनकी फिर भी खुल्लमखुल्ला जारी है ,
कुछ कहने वालों के मुंह पर सोने का लटका ताला है  !
                                                  --- स्वराज्य करुण

Wednesday 6 January 2016

(गीत) उत्तर है लापता !

                                               कहाँ है क्या पता , उत्तर है लापता !
                                                        प्रश्नों के जंगल में
                                                        खामोशी फैली है ,
                                                        गंगा की तरह
                                                       हर नदी आज मैली है !
                                                कौन है जो लूट रहा नदी को बता !
                                                        सपनों की आँखों में
                                                        टूटन ही टूटन है ,
                                                        कसमों की थाली में
                                                        वादों की जूठन है !
                                             झुलस गयी आंगन में प्यार  की लता !
                                                        सीने पर कितने ही
                                                        जख्मों के हुए निशान,
                                                        माटी का आंचल भी
                                                        हो गया लहुलुहान !
                                            आँखों से आकाश की , बरस रही घटा !
                                                                                 -स्वराज्य करुण

मायावी शिकारी फेंक रहे जाल !

कभी नज़र आता था
नीला आकाश ,
अब नज़र आते है खूंखार चेहरे !
न जाने किसकी लगी नज़र
झील के शांत स्वच्छ पानी को ,
गुनगुनाती लहरों को ,
हरे-भरे किनारों को ,
वसंत की बहारों को !
अब न पंछियों के गीत हैं ,
न भौरों का संगीत ,
बागों की तितलियाँ
झील की मछलियाँ
काँप रही भयभीत !
मायावी शिकारी फेंक रहे जाल
तितलियों और मछलियों को
को पता नहीं उनकी चाल
इंसानियत की झीलों को
भला कौन बचाएगा ,
जो भी यहाँ आएगा ,
बटोरकर सब कुछ ले जाएगा !

                       -- स्वराज्य करुण

Tuesday 5 January 2016

क्या फर्क पड़ता है ?

समय की स्याही से लिखे
इतिहास के पन्ने
सूखकर पीले पड़ जाते हैं
और पतझर के पत्तों -सा झर जाते हैं !
टेप काण्ड हो या रेप काण्ड .
उनका भी हमेशा यही हश्र हुआ है
और आगे भी होना है
जनता की किस्मत में रोना ही रोना है .
बयानवीरों के शोर में
डूबकर खो जाती है
दरिंदों के पंजों में दबे कुचले
परिंदों की आवाज ,
बेजुबान तितलियाँ किसे सुनाएं अपना दर्द ,
दुनिया तो देखती है
सिर्फ उनके पंखों के रंग !
उसे पसंद नहीं देखना उनके
ज़िंदा रहने की जद्दोज़हद का जंग !
टेप हो या रेप ,क्या फर्क पड़ता है ,
गुनहगारों की आँखों में मुस्कुराहट है,
सिर्फ और सिर्फ जनता के चेहरे पर
बेचैनी और घबराहट है !
                                       -स्वराज्य करुण

Sunday 3 January 2016

चोर-चोर मौसेरे भाई !

                                            चोर-चोर  सब  मौसेरे भाई
                                            भ्रष्टाचार की  खूब कमाई .!
                                            गज़ब एकता उनमे होती ,
                                            मिलकर खाते खीर मलाई !
                                            खिलाफ उनके जो कोई बोले,
                                            सब मिल उस पर करें चढाई !
                                            कमाऊ पूत -सा भ्रष्टाचारी
                                            अफसर, नेता घर जंवाई !
                                            चोरों के इस चक्रव्यूह में
                                            अभिमन्यु ने जान गंवाई !
                                                            -- स्वराज्य करुण
                                        

Friday 1 January 2016

उल्टा चोर कोतवाल को डांटे !

                                      
                                           उल्टा चोर कोतवाल को डांटे
                                           चीन्ह -चीन्ह के रेवड़ी बांटे !
                                           इस युग का दस्तूर है देखो ,
                                           हम कितने मजबूर हैं देखो !
                                           फूलों को घेरे कांटे ही कांटे,
                                            ऐसे में पुष्प  हम कैसे छांटे !
                                            एक से एक है उनकी करनी 
                                            फिर भी शान से आते-जाते !
                                            जितना हमारा मासिक वेतन 
                                             हर रोज वो उतना पीते-खाते
                                             उल्टा चोर कोतवाल को डांटे
                                             चीन्ह - चीन्ह के रेवड़ी बांटे !
                                                              -स्वराज्य करुण