Sunday 3 January 2016

चोर-चोर मौसेरे भाई !

                                            चोर-चोर  सब  मौसेरे भाई
                                            भ्रष्टाचार की  खूब कमाई .!
                                            गज़ब एकता उनमे होती ,
                                            मिलकर खाते खीर मलाई !
                                            खिलाफ उनके जो कोई बोले,
                                            सब मिल उस पर करें चढाई !
                                            कमाऊ पूत -सा भ्रष्टाचारी
                                            अफसर, नेता घर जंवाई !
                                            चोरों के इस चक्रव्यूह में
                                            अभिमन्यु ने जान गंवाई !
                                                            -- स्वराज्य करुण
                                        

7 comments:

  1. वाह, बहुत सटीक रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ओंकार जी ।

      Delete
  2. जय मां हाटेशवरी...
    आपने लिखा...
    कुछ लोगों ने ही पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...

    इस लिये दिनांक 04/01/2016 को आप की इस रचना का लिंक होगा...
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर...
    आप भी आयेगा....
    धन्यवाद...

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुलदीपजी आपको बहुत -बहुत धन्यवाद ।

      Delete
    2. कुलदीपजी ,धन्यवाद ।

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 04 जनवरी 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर व सार्थक रचना...
    नववर्ष मंगलमय हो।
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

    ReplyDelete