Friday 1 January 2016

उल्टा चोर कोतवाल को डांटे !

                                      
                                           उल्टा चोर कोतवाल को डांटे
                                           चीन्ह -चीन्ह के रेवड़ी बांटे !
                                           इस युग का दस्तूर है देखो ,
                                           हम कितने मजबूर हैं देखो !
                                           फूलों को घेरे कांटे ही कांटे,
                                            ऐसे में पुष्प  हम कैसे छांटे !
                                            एक से एक है उनकी करनी 
                                            फिर भी शान से आते-जाते !
                                            जितना हमारा मासिक वेतन 
                                             हर रोज वो उतना पीते-खाते
                                             उल्टा चोर कोतवाल को डांटे
                                             चीन्ह - चीन्ह के रेवड़ी बांटे !
                                                              -स्वराज्य करुण
                                             

2 comments:

  1. आपने लिखा...
    और हमने पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 03/01/2016 को...
    पांच लिंकों का आनंद पर लिंक की जा रही है...
    आप भी आयीेगा...

    ReplyDelete
  2. बहुत -बहुत धन्यवाद कुलदीपजी । नए वर्ष ईस्वी सन् 2016 की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete