Saturday 12 April 2014

मौसमी यारों का मौसम !

                                                                                       -स्वराज्य करुण 

                                        भीड़-भाड़ , शोरगुल , नारों का मौसम,
                                        आ गया फिर चुनावी बहारों का मौसम !
                                        मंचों में थिरक रहे सिंहासन के सपने  ,
                                        आ गया  लो मौसमी यारों का मौसम !
                                        मोहक मुस्कान लिये चेहरों का सैलाब है  ,
                                        वादों की नदियों के किनारों का मौसम !
                                        कातिल भी आज  हमदर्द नज़र आ रहे ,
                                        मुखौटों से सजी -धजी  दीवारों का मौसम !
                                        दिन में हर कोई अपने को सूरज कहता है ,
                                        हर रात यहाँ चुनावी सितारों का मौसम !
                                        कहते हैं अपने आप को हम हैं देश-रक्षक ,
                                       लगता है ये  नकली पहरेदारों का मौसम !
                                       चैनलों के नलों से  बयानों की बौछार है ,
                                       भाषणों की थाल सजे अखबारों का मौसम !
                                                                                   -स्वराज्य करुण

5 comments:

  1. आपकी लिखी रचना रविवार 13 अप्रेल 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  3. चैनलों के नलों से बयानों की बौछार है ,
    भाषणों की थाल सजे अखबारों का मौसम !
    very right.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete