Wednesday 9 October 2013

(गज़ल ) कौन किसे दे रहा इन्साफ आज-कल !

                                        सब कुछ है तेरे सामने साफ़ आज-कल ,
                                        कौन किसे दे रहा इन्साफ आज-कल  !
                               
                                        उजड़ी  थी   ये बस्ती  यहाँ जिसके  ज़ुल्म  से,
                                        उसके सौ गुनाह भी हैं माफ आज- कल  !
    
                                       सुबूत कैसे आएं नज़र  कातिलों के शहर में  ,
                                       ओढ़ कर जो  मस्त सो रहे लिहाफ आज-कल !

                                       खरबों में बनी इमारत है  इन्साफ  का मंदिर ,
                                       होता है जहां रूपयों का ही जाप आज-कल !

                                        पुण्य की गठरी भी  उधर कोने में पड़ी  है ,
                                        बेख़ौफ़  घूम रहा है मस्त  पाप आज-कल !
                                        
                                         रग-रग में  उनके देखिये लूट की दौलत
                                         डरने लगे हैं उनसे   कई सांप आज-कल !
                                      
                                         गरीबों के दिल की हाय सुन हँसता है दरिंदा 
                                         बेअसर है अमीरों पर अभिशाप आज-कल !
                                                                               --स्वराज्य करुण


8 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (10-10-2013) "दोस्ती" (चर्चा मंचःअंक-1394) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय शास्त्री जी !बहुत-बहुत धन्यवाद .विजयादशमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं .

      Delete
  2. बढ़िया ग़ज़ल...
    बेहद अर्थपूर्ण!!

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनु जी ! बहुत-बहुत आभार .दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं .

      Delete
  3. पुण्य की गठरी भी उधर कोने में पड़ी है ,
    बेख़ौफ़ घूम रहा है मस्त पाप आज-कल !

    दिल के पन्ने खोलती ग़ज़ल

    ReplyDelete
    Replies
    1. रमाकांत जी ! आभार .विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं .

      Delete
  4. बे असर है अमीरों पर अभिशाप आजकल
    अमीर और दरिंदों की ही चल रही आजकल।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशाजी ! धन्यवाद ! दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं.

      Delete