Monday 7 October 2013

(गीत) जाने कितने बेघर हो गए !

                                          
                                                          जाने कितने बेघर हो गए ,कितने ही बेजान ,
                                                            फिर भी  सबक नहीं ले रहा  आज का इंसान !

                                                                     मिट गए सारे जंगल - पर्वत  
                                    ,                                क़त्ल हो गए झरने
                                                                     खेतों में  धुंए की बारिश ,
                                                                     फसल लगी है मरने !

                                                        खून का प्यासा युद्धखोर अब यह मानव बेईमान ,   
                                                        हिंसा-प्रतिहिंसा में जल कर  जग बनता श्मशान !

                                                                    समझे खुद को धरती और
                                                                    समन्दर का स्वामी ,
                                                                     इसीलिए तो धमका जाए
                                                                     बार-बार सुनामी !
                           
                                                      मिट जाएगा देख लेना सबका नाम-ओ-निशान
  ,                                                   कुछ लोगों की करनी से है यह दुनिया परेशान  !
                                                        
                                                                गंगा -जमुना मैली हो गयी
                                                                खुल  कर पापी मुस्काएं  ,     
                                                                पाप नहीं  मिट  पाएगा
                                                                 चाहे बार-बार   धुलवाए !

                                                  झूठ-फरेब की आदत औ एक झूठा अभिमान  ,
                                                  महासागर के रौद्र रूप से  मटियामेट  मकान  !

                                                            नदियों के  मीठे पानी को 
                                                            बना  दिया   ज़हरीला ,
                                                            सहज-सलोना गाँव मिटाया    
                                                            शहर बसा रंगीला !
                                                
                                                  महंगाई का खूनी मंज़र  रोज  निकाले प्राण ,
                                                  फिर भी सबक नहीं ले रहा आज का इंसान  !

                                                                                               --  स्वराज्य  करुण
                                                                                   

5 comments:

  1. खूबसूरत गीत, शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद . आपको भी सपरिवार शारदीय नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं.

      Delete
  2. विचारणीय...मर्मस्पर्शी पंक्तियाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतिक्रिया के लिए आभार. शारदीय नवरात्रि की आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएं.

      Delete
  3. सुंदर रचना... सुन्दर प्रवाह ..

    ReplyDelete