Monday 14 October 2013

(कविता ) दिखावे का दंगल !

                           शरद में भी आ गया
                           गरजता बरसता  सावन
                           कैसे जलेगा और मरेगा
                           दशहरे का  रावण ?
                           समुद्री चक्रवात ने बिगाड़ा
                           त्यौहार का मजा ,
                           इंसान को शायद  मिल रही है
                           कुदरत पर हो रहे
                           अत्याचारों की सजा !
                           धन-पशु चबा रहे पूरा का पूरा
                           हरा-भरा जंगल ,
                           जनता के सामने 
                           एक-दूजे के साथ
                           करते हैं सिर्फ दिखावे का दंगल !
                           हम निरीह मानव हमें  तो
                           अध-बीच इन्हीं के रहना है ,
                           पानी में रह  क्यों बैर करें
                           इनका ही सब कुछ सहना है !
                                                        -स्वराज्य करुण

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (15-10-2013) "रावण जिंदा रह गया..!" (मंगलवासरीय चर्चाःअंक1399) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete