Saturday 29 September 2012

( कविता ) आठ हजार की थाली !

                                      जनता के पैसों से खाते आठ हजार की थाली !
                                      अखबारों में पढकर यह सब जनता देती गाली !!
                                      बेशरम हँसते हैं लेकिन जाम से जाम टकराकर !
                                      जनता के हर आंसू पर वो खूब बजाएं ताली !!
                                      राजनीति व्यापार है उनका भरते रोज तिजोरी ! 
                                      कुर्सी उनके लिए सुरक्षित ,साला हो या साली !!
                                      आज़ादी और लोकतंत्र भी उनके चरण पखारें !
                                      जिनके आगे माथ नवाए क़ानून वृक्ष की डाली !!
                                      पढ़ लिख कर बेकार घूमती बेकारों की पलटन !
                                      फिर भी कहते नहीं रहेगा कोई हाथ अब खाली !!
                                      सदा-सदा के लिए सलामत उनके छत्र-सिंहासन !
                                      भले चमन को खा जाए उसका ही कोई माली !!
                                       प्लेटफार्म से सड़कों तक दूध को तरसे बचपन !
                                       लेकिन उनके गालों में हर दिन खिलती लाली !!
                                       राज इसका रह जाएगा  राज बन कर हरदम !
                                       राजनीति में आते ही कैसे दूर हुई कंगाली !!
                                       हर चुनाव में साड़ी- कम्बल -दारू का बोलबाला !
                                      असल नोट नेता की जेब में ,जनता को दे जाली !!
                                       हुक्कामों के जश्न  से जगमग पांच सितारा होटल !
                                       ड्रिंक-डिनर -डिप्लोमेसी छलकाएं खूब प्याली !!
                                                                                           -स्वराज्य करु
                             

3 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. आज देश की यही त्रासदी है ... आम जनता ही पिसती है ।

    ReplyDelete
  3. सच्ची बात कहने के लिए बधाई

    ReplyDelete