Thursday 5 January 2012

(गीत ) मानव कितना विवश है !

                                   
                                     नये साल में  इस आँगन में  कुछ भी  नया नहीं है ,
                                     लगता है जैसे  साल पुराना  अब तक गया नहीं है !
                                      
                                                  काले धन का  यह काला
                                                  व्यापार जस का तस है,
                                                  धन -पशुओं के आगे आज 
                                                  मानव कितना विवश है !
                                 
                                        बंदी  बन कर बेगुनाह को अंधियारे की कैद मिली 
                                        यह बेदर्द  क़ानून है जिसके दिल में दया नहीं है  !
                                        
                                                    पढ़-लिख बेरोजगार घूमते 
                                                    इस नये   भारत को  देखो,
                                                    लोकतंत्र की मंडी में हर दिन
                                                    सपनों  की तिजारत को देखो !
                                 
                                         लूटकर जनता के धन को इतराते हैं जो खूब यहाँ ,
                                         उन शैतानी आँखों में कुछ  भी शर्म-ओ -हया नहीं है !

                                                                                            ---  स्वराज्य करुण
                                      
                                        

                                       

7 comments:

  1. आपके विचारों से सहमत हूँ ...

    ReplyDelete
  2. वाकई नए साल में कुछ भी नया नहीं है सार्थक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. सच्चाई बयां करती अच्छी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  4. सच्ची एवं अच्छी रचना.....
    निःसंदेह सराहनीय रचना......
    क्या यही गणतंत्र है

    ReplyDelete