Friday 28 October 2011

कब छपेगी टॉप-टेन गरीबों की सूची ?


          भारत के सबसे अमीर दस व्यक्तियों की सूची आज के अखबारों में छपी है .एक अमरीकी पत्रिका की रिपोर्ट के हवाले से ऐसी सूची हर साल दीपावली के बाद दो-तीन बार  देश भर के अखबारों में पढ़ने को मिलती रहती है, जिसे पढकर दिल में सवाल उठने लगता है   कि देवी लक्ष्मी की कृपा केवल ऐसे ही लोगों पर क्यों बरसती है ? वह किसी झुग्गीवासी इंसान पर अपनी कृपा दृष्टि क्यों नही डालती ? आज प्रकाशित टॉप -टेन  की सूची में वह अमीर आदमी सबसे टॉप पर है ,जिसने मुंबई में अपने लिए २७ मंजिलों की एक विशाल इमारत हाल ही में बनवाई है.सूची में शामिल सभी धन कुबेर किसी न किसी विशाल उद्योग-धंधे  के मालिक हैं .
    .सवाल यह है कि इन अमीरों ने अपना यह लम्बा चौड़ा आर्थिक साम्राज्य क्या कहीं किसी खेत में पसीना बहा कर खड़ा किया है ? क्या इन लोगों ने कहीं पत्थर तोड़ कर या शहरों की सड़कों पर रिक्शा खींच कर , या किसी ईंट -भट्ठे में बंधुआ मज़दूरी करके ,या  गाँवों में रोजगार गारंटी योजना के निर्माण कार्यों में काम करके यह दौलत हासिल की है  ?  क्या इन अमीरों को किसी अलादीन का चिराग मिल गया है ? क्या इन लोगों को कोई जादू की छड़ी मिल गयी है? देश की १२१ करोड़ की आबादी में अगर सिर्फ दस लोग सबसे ज्यादा अमीर है, तो इससे भारत की खौफनाक आर्थिक हालत की कल्पना की जा सकती है . क्या इससे यह साबित नहीं होता कि  देश की अधिकाँश आबादी गरीब है और केवल इने-गिने लोग ही आपस में सबसे अमीर होने की प्रतियोगिता में शामिल है ?  जिन लोगों के नाम धन-कुबेरों की कथित मेरिट-लिस्ट में शामिल हैं, क्या उन्होंने  यह धन -दौलत अपने  निजी प्रयास या परिश्रम से प्राप्त किया है ?
           क्या यह सही नहीं है कि इनकी तमाम कम्पनियां देश भर में अपने शेयर जारी करती हैं, आम नागरिक अमीर बनने की मृग-तृष्णा में इनके शेयर खरीदते हैं और उन्हीं शेयरों के दम पर ये लोग देश और दुनिया के सर्वाधिक अमीर बनने की होड़ में शामिल होकर इतराते रहते हैं ? अगर आपने इनकी किसी कम्पनी का शेयर खरीदा है , तो यकीन मानिए , इनको धन-कुबेर बनाने में आपका भी बहुमूल्य योगदान है . शेयर यानी हिस्सा . अर्थात आप अगर इनकी कम्पनी के   शेयर होल्डर हैं तो सच मानिए ,इनकी धन-दौलत के आप भी हिस्सेदार हैं लेकिन क्या ये धन-कुबेर इस दौलत का उतना हिस्सा आपको देंगे , जिसे लेकर आप भी  देश के शीर्षस्थ अमीरों की  सूची में आ सकें ?  बहरहाल , आज के अखबारों में देश के सबसे ज्यादा दस अमीरों के नाम पढ़ कर मैं सोच रहा हूँ -किसी देशी  या विदेशी पत्रिका में हमारे देश के दस सबसे ज्यादा गरीब लोगों की 'टॉप-टेन' सूची कब प्रकाशित होगी ?
                                                                                                            -  स्वराज्य करुण 

Wednesday 26 October 2011

(ग़ज़ल ) इन दीपों की आँखों से देखिए !

                                                     

                                                  फूलों सी  नाज़ुक छुअन  हो  पत्थर के लिए,
                                                  रौशनी हो  गाँव  -गली ,  शहर के लिए  !

                                                   जलते हुए  इन दीपों  की आँखों से देखिए ,
                                                   बेचैन हैं  जो प्यार भरी  नज़र के लिए !

                                                   सुबह-शाम यही चाहत मिल जाए कोई अपना,
                                                   दो पल की हो फुरसत  कभी दोपहर के लिए !
                         
                                                   मिटने लगी जमीन  कारखानों की आग में  ,
                                                   तरसते हैं मेहनतकश  अपने घर के लिए !
                                
                                                   पसीने  से उगाई जो  फसल , ले गया कोई ,
                                                   कयामत का  सैलाब था  उस  लहर के लिए !
                           
                                                   अमृत भी सूख गया  कहर  से महंगाई के ,
                                                   लगी है  लाइन सस्ते किसी ज़हर के लिए !

                                                   आओ  मिलकर बदलें यह बेदर्द नज़ारा  ,
                                                   बनाएँ इक दुनिया हसीन मंज़र के लिए !
                                                                                       
                                                                                               --  स्वराज्य करुण





चित्र  :  google image से साभार                                                                           

Tuesday 25 October 2011

(गीत ) तुम बिन दीप जलाऊँ कैसे ?

                                                                                     
      
                                       
                                        तुम बिन  दीप जलाऊँ कैसे , कह दो मेरे प्रियतम कह दो !
                                                  
                                                       मुश्किल है सच  दर्द भरे
                                                       अहसासों का वर्णन करना ,
                                                       ज्यों  पूनम की चाँदनी को
                                                       प्रेम-गीत का अर्पण करना !
                                   
                                      इस जीवन को नील गगन में बिन बादल का मौसम कह दो !          
                                                    
                                                       बिन तुम्हारे मुझे हर सपना
                                                        घर से हरदम बेघर लगता है ,
                                                        तुम बिन मेरा चित्र अधूरा ,
                                                        इसीलिए तो डर लगता है !
                                 
                                 चाहत के अधूरे चाँद को भी तुम चाहो तो पूनम कह दो  !  
                                                     
                                                       और कितना इंतज़ार  यहाँ                         
                                                       धीरज ही जब ऊब गया ,
                                                       सांझ सिंदूरी का क्या होगा ,
                                                        सूरज ही जब डूब गया !
                                
                                     स्याह रात में झींगुरों की आवाजों को  सरगम कह दो !
                                                   
                                                      किरण सुबह की बिना तुम्हारे 
                                                      जाने क्यों नहीं भाती है
                                                      उजियारे से निष्कासित यह
                                                      जीवन दिया बाती है  !
                              
                               मुझे तो लगता हर पल शोला  ,तुम चाहो तो शबनम कह दो !
                                                                                         
                                                                                         -  स्वराज्य करुण
                                                         

  ( चित्र  : google से साभार )                                                                                     

Monday 24 October 2011

हम सबकी यही सिफारिश !

                                                चाहे विदेशी  बैंकों में हों ,
                                                चाहे देश के भीतर ,
                                                 काले धन के धंधेबाज
                                                कब होंगे तितर-बितर ?

                                               धनतेरस में धन के  देवता,
                                               तुमसे यही गुजारिश ,
                                               काला धन वापस आ जाए ,
                                               हम सबकी यही  सिफारिश  !

                                               दो नम्बर की दौलत बोलो 
                                               कैसे नम्बर एक बने ,
                                               नीयत कैसे बदले उनकी
                                               कैसे ये सब नेक बनें ?
                       
                                               उजाड़ कर गरीबों का घर
                                               जो बनाएँ अपनी हवेली ,
                                               कुछ न बिगड़ता उनका ,
                                               जाने ये कैसी है पहेली ?

                                               लूट रहे जो यहाँ देश को  
                                               मान के घर की खेती ,
                                               समझाओ उनको जो  भरते
                                               हर दिन अपनी पेटी !

                                               धनतेरस में धन के  देवता
                                               दे दो उनको सदबुद्धि ,
                                               देश हित में काम करें
                                              आचरण में आए शुद्धि !
                                                    
                                                                     - स्वराज्य करुण

Sunday 23 October 2011

पल भर में सब कुछ स्वाहा !

                                         गाँवों में तो कम, लेकिन शहरों में एक साल बाद फिर हम देखने वाले हैं एक ऐसे युद्ध का नज़ारा , जिसमें कहीं बारूद के शोले  बरसेंगे तो कहीं बमों के धमाकेदार गोले .  रात के स्याह आसमान पर  कहीं मिसाइल दागे जाएंगे ,तो कहीं सड़कों पर रायफलों  और पिस्तौलों  से लैस लड़ाके हवा में गोलियों की बौछार करेंगे और  कहीं ज़मीन पर दूर तक बारूदी पट्टियां बिछाकर  कई-कई मिनटों तक विस्फोटों का नजारा पेश किया जाएगा .  आपके मकान की दीवारें थर्राने लगेंगी .घर में अगर नवजात शिशु या कमज़ोर दिल का कोई बुजुर्ग हो तो उनकी नींद हराम हो जाएगी .इस युद्ध में हालांकि लापरवाही की वज़ह से  जन-हानि तो कम होगी लेकिन धन-हानि बेहिसाब  ! देखते जाइए !  इंतज़ार की घड़ियाँ खत्म होने को है !
  आप तैयार हैं न  इस युद्ध को झेलने के लिए ?  घबराइए नहीं ! मैं किसी असली युद्ध की भविष्यवाणी नहीं कर रहा हूँ . मेरा इशारा तो  आने वाली दीपावली की ओर है,जो हमारी संस्कृति में है तो वाकई प्रकाश पर्व ,लेकिन मुनाफाखोरों  की बेरहम और बेहिसाब महत्वाकांक्षा ने इसे सिर्फ और सिर्फ बारूद और बमों का त्यौहार बना दिया है. सुप्रीम कोर्ट और सरकार  पर्यावरण बचाने और ध्वनि प्रदूषण रोकने के लिए  ऐसे हानिकारक पटाखों पर चाहे कितनी ही कानूनी बंदिशें लगाती रहें , लोगों को इनसे बचने और सावधानी बरतने और मरीजों की तकलीफों को ध्यान में  रख कर  अस्पतालों के आस-पास पटाखे नहीं फोड़ने की  हज़ारों बार अपील करती रहें , लोग ऐसी चिकनी मिट्टी के बने हैं कि उन  पर इन अपीलों का कोई असर नहीं होने वाला !  आप सायकल या मोटरसायकल से कहीं जा रहे हों या आ रहे हों, आपके सामने सड़क पर दो-चार सड़क छाप लोग एटम बम पर बड़ी बेफिक्री से पलीता सुलगाते रहेंगे , आपको बचना है तो अपनी हिफाजत  खुद कर लीजिए ,वरना आपका तो खुदा ही मालिक है .
               दीपावली ज्योति पर्व है , रौशनी का त्यौहार है , लक्ष्मी जी के पूजन का एक पवित्र अनुष्ठान है, किसानों के लिए देवी अन्नपूर्णा के रूप में नई  फसल के स्वागत का महोत्सव है , अहंकारी रावण को पराजित कर मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम की  अयोध्या वापसी पर उनके स्वागत में  प्रज्ज्वलित दीपमालिकाओं के  अभिनन्दन का पारिवारिक और सार्वजनिक समारोह है, सामाजिक समरसता और मेल-मिलाप का प्यार भरा आयोजन है , लेकिन  हज़ारो वर्षों की हमारी इस खूबसूरत भारतीय परम्परा में उमंगों के फूलों की भीनी महक के बीच कब ,कहाँ और किसने  बारूदी गंध बिखेरना शुरू कर दिया , यह गहन शोध   का विषय है.अब तो  दीपावली में सिर्फ फुलझड़ियों से रौशनी बिखेरना , हल्के-फुल्के टिकली पटाखा फोड़ना केवल बच्चों का खेल माना जाता है , बड़ी उम्र के लोगों को  दीवाली मनाने के लिए सौ-सौ रूपए वाले एटम-बम चाहिए ,पचास-पचास रूपए वाले रॉकेट चाहिए . भले ही इसमें उनके माँ-बाप की जेब खाली क्यों न हो जाए ?  ऐसे एटम बम चलाने में किसी की आँखें क्यों न चली जाएँ और हाथ-पैर क्यों न झुलस जाएँ चाहे जान भी क्यों न गंवानी पड़े ! पटाखों के दीवानों  को थोड़ा भी  फर्क नहीं पड़ता !

                                              
    भले ही इसमें जन-धन की हानि होती रहे, पर वह तो तन-मन और धन से भी इसके लिए बावले हो चुके हैं  इसलिए उन्हें यह कैसे दिखाई देगा कि देश के सबसे बड़े पटाखा उद्योग केन्द्र कहे जाने वाले  शहर  शिवाकाशी में जिस  बारूदी अनारदाना और फुलझड़ी को बनाने में सिर्फ दस रूपए या उससे भी कम लागत आती है, उसकी कीमत तमिलनाडु के इस शहर से भोपाल तक आते-आते एक सौ  रूपए से भी ज्यादा हो जाती है .यानी हम दस रूपए के  सामान के लिए  दस गुना ज्यादा कीमत चुकाकर दीवाली मनाते हैं और खुशी-खुशी अपना दीवाला भी  निकलवाते हैं .एक समाचार के अनुसार  शिवाकाशी के भारतीय पटाखा निर्माता संघ के अध्यक्ष जे .तमिल सिल्वन ने एक अखबार से  चर्चा में स्वयं यह स्वीकार किया है कि दस रूपए की लागत वाले पटाखे की पैकिंग पर एक सौ दस रूपये कीमत लिखकर व्यापारियों को पचास प्रतिशत की खास रियायत दी जाती है और व्यापारी को यह आज़ादी होती है कि वह  बाज़ार में  इस पर अपनी मर्जी से कुछ भी रेट लिखकर बेचे . देखा आपने ! मुनाफे की संकीर्ण मनोवृत्ति कहाँ तक पहुँच गयी है ? इसीलिये तो मैं पहले भी कई बार अखबारों में पाठकीय पत्रों वाले कॉलमों में यह मांग कर चुका हूँ कि हर पैक्ड वास्तु पर विक्रय मूल्य के साथ-साथ लागत मूल्य भी अनिवार्य रूप से प्रिंट होना चाहिए . इसके लिए अलग से क़ानून बनाया जाना चाहिए  देश में सूचना का अधिकार क़ानून लागू हो चुका है . केन्द्रीय उपभोक्ता संरक्षण मंत्रालय अगर चाहे तो  पैक्ड चीजों के लागत मूल्य को भी वह इस क़ानून के दायरे में लाने के लिए स्वप्रेरणा से पहल कर सकता है .इससे यह स्पष्ट हो जाएगा कि  पटाखों के साथ-साथ साबुन,खाद्य तेल , टूथपेस्ट , तरह तरह की जीवन रक्षक दवाइयां और अन्य कई ऐसी पैक्ड उपभोक्ता वस्तुएँ  हैं ,जो अपनी वास्तविक लागत से कई गुना ज्यादा कीमत पर बिक रही हैं और निर्माता और विक्रेता मनमाना मुनाफ़ा बटोर रहे हैं . अगर लागत मूल्य की गोपनीयता खत्म हो जाए, तो देश में कई ज़रूरी उपभोक्ता सामानों की कीमतें गिर जाएँगी ,जिससे महंगाई की आग काफी हद तक  ठंडी हो सकती है.  बहरहाल हम बात कर रहे थे दीवाली में पटाखों के नाम पर स्वाहा किये जाने वाले  रूपयों के बारे में और इस  हानिकारक बारूदी   मनोरंजन के बारे में . क्या आप जानते हैं कि दिल को लुभाने वाली रंगीन रौशनी की  फुलझड़ियों , अनारदानों  और धमाकेदार आवाज़ करने वाले पटाखों   में किस तरह के घातक रसायन होते हैं ?  विशेषज्ञों के अनुसार इन्हें बनाने में  लीथियम , कैडमियम , सोडियम लेड  मैटल नाइट्रेट , पोटेशियम डाईक्रोमेट  जैसे  रसायनों का इस्तेमाल किया जाता है.
      कम संख्या में ही सही लेकिन हर साल  शहर में दीवाली के आस-पास कुछ बाल-श्रमिकों की रैली निकलती है , जिसमें ये मासूम बच्चे हाथों में तख्तियां लेकर जनता से अपील करते नज़र आते हैं कि घातक पटाखे मत जलाइए ,क्योंकि उनके निर्माण में नादान बच्चों की मजबूरियों का पसीना लगा हुआ है !  लेकिन वाह रे वाह  हमारा बेरहम समाज !  किसी पर कोई असर नहीं होता ,बल्कि दीवाली पर तो सारी रात शहरों में धमाके होते रहते हैं ,लगता है कि कहीं कोई युद्ध  चल रहा है . एक एटम बम फूटा यानी कम से कम बीस रूपए स्वाहा ! देश के सभी शहरों में दीवाली में रात भर फूटने वाले ऐसे लाखों-करोड़ों एटम बमों का हिसाब लगाया जाए तो वह आंकड़ा  हजारों करोड़ भी पार कर जाता होगा  ! क्या यह राष्ट्रीय धन की बर्बादी नहीं है ?  कोई  चाहे तो कह सकता है कि दीवाली मनाने के लिए हर व्यक्ति अपने हिसाब से पटाखों पर खर्च करता है  . इसमें आपको क्यों तकलीफ हो रही है ? लेकिन यह देख कर  तकलीफ तो होगी  कि एक तरफ तो हम देश में गरीबी और महंगाई का रोना रोते हैं ,वहीं दूसरी तरफ कुछ देर के मौज-मजे के लिए महंगे पटाखों के रूप में अपनी मेहनत की कमाई के सैकड़ों रूपए आग में झोंक देते हैं .पल भर में सब कुछ  भस्म हो जाता  है ! कई पटाखों की पैकिंग पर  देवी-देवताओं की तस्वीरें भी छपी होती हैं ,पटाखों के फूटते ही उन चित्रों के भी परखच्चे उड़ जाते हैं. क्या धन की बर्बादी के साथ -साथ यह धर्म का भी अपमान नहीं है ?  ऐसा करके आखिर हम क्या बताना और क्या जताना चाहते हैं ? क्या पटाखों पर स्वाहा कर दी जाने वाली इस बेहिसाब दौलत का इस्तेमाल मानवता की सेवा और जन-कल्याण के कामों में नहीं हो सकता ?क्या खुशियाँ मनाने का  कोई दूसरा तरीका नहीं हो सकता ? आखिर कौन सी पुस्तक में लिखा है कि दीवाली में पटाखों के नाम पर रूपए -पैसों का हवन करना चाहिए ? 
                                                                                                   --   स्वराज्य करुण
                                                                                                     
                                               
 

Saturday 15 October 2011

कलाम साहब को सलाम !

    
         अगर देश और समाज चिंतन करना चाहे तो पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए. पी.जे. अब्दुल कलाम ने एक मार्के की बात कही है . मिली खबरों के अनुसार  उन्होंने कल कोयम्बटूर में छात्र-छात्राओं से चर्चा करते हुए कहा कि  हमारे देश के बच्चे अगर अपने माता -पिता से उनकी आमदनी के स्रोत के बारे में पूछने लगें और अपने अभिभावकों की उन गाड़ियों में यात्रा करने से इंकार कर दें, जो अवैध कमाई के डीजल-पेट्रोल से चलती हैं  , तो भ्रष्टाचार खत्म  करने का यह एक अच्छा जरिया हो सकता है. मिसाईल मेन के नाम से लोकप्रिय  रक्षा -वैज्ञानिक और देश के सर्वोच्च पद पर पहुंचकर भी अपनी सादगी और सहजता के लिए  प्रसिद्ध डॉ.कलाम का यह भी कहना था कि एक सर्वेक्षण में पता चला है कि देश के बीस करोड़ मकानों में से लगभग तीस प्रतिशत मकान भ्रष्ट साधनों के ज़रिये अर्जित किये गए हैं .
        निश्चित रूप से डॉ.कलाम का इशारा ऐसे माता-पिताओं की ओर  है, जो सरकारी नौकरियों में ऊंचे ओहदों पर कार्यरत हैं , जिनके पास आलीशान सरकारी बंगले अथवा बेशकीमती हवेलीनुमा निजी मकान हैं ,जिनके बच्चे तो बच्चे ,  बिल्ली और कुत्ते भी सरकारी कारों में या माता-पिता की काली कमाई से खरीदी गयी कीमती कारों में  आना-जाना करते हैं, जिनके घरों में सरकारी तनख्वाहों से पलने वाले नौकर-चाकरों की हाजिरी हमेशा बनी  रहती है ,जो सेवा अथवा बेगारी तो इन साहबों के घरों में करते हैं  ,लेकिन उन्हें तनख्वाह सरकारी खजाने से मिलती है. ऐसे घरों की  मेम साहिबाएं घर आए मेहमानों को अपने हाथों से चाय-नाश्ता और भोजन परोसने में शर्माती हैं और इन्हीं सरकारी चपरासियों से अपने अतिथियों  को हाई-टी या ब्रेकफास्ट ,या लंच-डीनर सर्व करवाने में गर्व महसूस करती हैं .ऐसे घरों के बच्चे भला अपने माता -पिता की  आमदनी का स्रोत कैसे पूछ पाएंगे , जिनके स्कूली बस्ते भी बंगला-ड्यूटी करने वाले सरकारी चपरासी उठाते हों , जिनके घरों की साग-भाजी भी बाज़ार से ये चपरासी खरीद कर लाते हों और जहां रसोई कक्ष  में परिवार की गृहणी नहीं ,बल्कि चपरासी खाना बनाता हो .,साहब और मेम साहब के सुबह उठने के बाद जहां उनके बेडरूम का बिस्तर भी चपरासी ही घड़ी करके रखता हो .!
        सरकारी अफसरों के अलावा निजी क्षेत्र के अमीरों के ठाट-बाट भी देश में बढ़ते भ्रष्टाचार का साफ़ तौर पर संकेत दे  रहे हैं . मुंबई में सत्ताईस मंजिला महल बनवाकर और उसमे हर महीने तीस लाख रूपए की बिजली जलवा कर धन-दौलत का फूहड़ प्रदर्शन करने वाले सेठ जी के बच्चे क्या उनसे आमदनी का स्रोत पूछ सकेंगे ?  सबको यह मालूम होना चाहिए कि यह इमारत सेठजी की बपौती नहीं है ,यह तो उन्होंने अपनी कंपनियों के लाखों शेयर होल्डरों के शेयरों  की राशि से बनवाया है ,लेकिन खुद अकेले मालिक बन बैठे हैं.कुछ  अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ियों और फ़िल्मी कलाकारों के भी महलनुमा मकानों और उनकी ऐश-ओ-आराम से भरी जिंदगी से भी  उनके भ्रष्टाचार का खुला सबूत मिलता है.  क्या ऐसे लोग अपने बच्चों को किसी प्रकार की नैतिकता की शिक्षा दे सकेंगे ?  नेताओं के परिवारों के बच्चे अपने माँ-बाप से क्या पूछ पाएंगे कि चुनाव से पहले 'ठनठन गोपाल  रोडपति'  महाशय चुनाव जीतने के कुछ ही महीनों या कुछ ही वर्षों में करोड़पति और अरबपति कैसे बन जाते हैं  ? ऐसे बच्चे अपने माता-पिता से आमदनी का ज़रिया भला कैसे पूछ सकते हैं , जिनकी मेडिकल या इंजीनियरिंग  की पढ़ाई के  लिए माँ-बाप कम वेतन के बावजूद लाखों-करोड़ों रूपयों का डोनेशन देने को तत्पर रहते हों ? जिन घरों में तनख्वाह को महज जेब-खर्च और रिश्वत या 'ऊपरी आमदनी' को ही असली कमाई समझा जाता हो, उन परिवारों के बच्चों में भला कौन से संस्कार विकसित होंगे ? यह सोचने वाली बात है
       दरअसल   कलाम साहब सीधे-सच्चे और नेक इरादों  वाले एक भले इंसान हैं . उन्होंने बचपन में गरीबी का दर्द झेला है और कुछ आमदनी के लिए अखबार बाँटने का भी काम किया है . इसलिए देश के आम जन-जीवन के दिलों की धड़कन उनके सीने में आज भी कायम है. शायद  यही वजह है कि देश में बेहद भद्दे तरीके से मुट्ठी भर लोगों की बढती अमीरी और हरामखोरी और करोड़ों लोगों की बढ़ती गरीबी उन्हें विचलित करती है . वह किसी भी संवेदनशील इंसान को विचलित कर सकती है .बहरहाल पूर्व राष्ट्रपति महोदय ने एक ऐसा गंभीर सुझाव दिया है ,जिस पर अगर देश के बच्चे अमल करना शुरू कर दें तो भ्रष्टाचार की आग में झुलस रहे भारत को वाकई कुछ राहत ज़रूर मिलेगी ,जो शायद देश की तकदीर और तस्वीर बदलने में सहायक होगी. कलाम साहब को और उनके सहज-सरल  नेक इरादे को सलाम !
                                                                                                    -  स्वराज्य करुण
                                                                 

(फ़ाइल फोटो : google से साभार )

Thursday 13 October 2011

असली भारत में नकली महाभारत !

                                        जैसे फिल्मों की शूटिंग के बाद
                                        हीरो ,हीरोइन और विलेन ,
                                        मिल बैठ कर  बेहद
                                        चैन से पीते हैं शैम्पेन ,
                                        उसी तरह राजनीति में
                                        चलता है पक्ष-विपक्ष का कैम्पेन !
                                      
                                        सदन में ,सभाओं में
                                        एक-दूजे को खूब गरियाते हैं और
                                        बाद में एक-दूजे के लिए
                                        बन जाते हैं जेन्टिलमैन !
                                    
                                        राजनीति भी जैसे आज
                                        किसी फिल्म की शूटिंग है ,
                                        हीरो और विलेन की एक-दूजे के लिए
                                        दिखावटी हूटिंग है !
                                      
                                        जनता है दर्शक ,दोनों के लिए
                                        बजाती है तालियाँ ,
                                        जीतने वाले का लगाती है जयकारा
                                        और हारने वाले को
                                        देती है शानदार गालियाँ !
                                        जीतने या हारने वाले को
                                        इससे कोई मतलब नहीं ,
                                        एक पक्ष बन जाता है दूल्हा
                                        दूसरा पक्ष जैसे दूल्हे की सालियाँ !
                                       
                                        देश बन गया  फ़ुटबॉल और
                                        सियासत उनके लिए
                                        कमाने-खाने का खेल है ,
                                        खेल के बाद पक्ष-विपक्ष में
                                        क्या  खूब ताल-मेल है  !

                                    
                                        कुछ इसी तरह से हो रहा है
                                        हमारे असली भारत में
                                        एक  नकली महाभारत ,
                                        असली जिंदगी के नकली पात्रों को
                                        हो गयी है इसकी आदत !
                                     
                                        नकली कौरव -नकली पांडव
                                        एक-दूजे पर कर रहे
                                        नकली अस्त्रों का प्रहार ,
                                        नकली युद्ध के बाद
                                        आपस में मिल बाँट कर
                                        खूब करेंगे  देश में
                                        कुर्सियों  का असली कारोबार !
                                     
                                        लोकतंत्र के रंगमंच पर 
                                        बरस-दर-बरस  चल रहा है
                                        एक जैसा नाटक ,
                                        देख-देख कर
                                        होने लगी  है  बोरियत ,
                                        जाने कब खुलेगा इस
                                        प्रेक्षागृह का फाटक !
                                                              - स्वराज्य करुण



                                                                      

Tuesday 11 October 2011

राम के दीवाने : छत्तीसगढ़ के रामनामी

                    
         
                वैसे तो मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम सम्पूर्ण भारत भूमि के प्यारे,दुलारे अनमोल रत्न हैं लेकिन  छत्तीसगढ़ के साथ  मामा-भांजे का नाता होने के कारण यहाँ के जन-जन में उनके प्रति गहरा आत्मीय जुड़ाव है. इतिहास में छत्तीसगढ़ दक्षिण कोशल के नाम से प्रसिद्ध है.  पौराणिक इतिहासकारों के अनुसार भानुमंत दक्षिण कोशल के राजा थे और कौशल्या  उनकी बेटी , जिनका ब्याह अयोध्या के राजा दशरथ से हुआ था. माता कौशल्या ने तेजस्वी और यशस्वी पुत्र श्रीराम को जन्म दिया ,जो आगे चलकर मर्यादा पुरुषोत्तम के नाम से सम्पूर्ण भारत वर्ष के आराध्य बने . माता कौशल्या का मायका दक्षिण कोशल यानी छत्तीसगढ़ था ,इसलिए छत्तीसगढ़ के लोग उन्हें आत्मीय स्नेह से एक बहिन  मानते आ रहे हैं.इस नाते उनके सुपुत्र भगवान श्रीराम छत्तीसगढ़ वासियों के भांजे हुए .तभी तो यहाँ आज भी अधिकाँश इलाकों में लोग अपने भाँजों के चरण छूकर उनका आशीष प्राप्त करने में गर्व महसूस करते हैं. भांजे का चरण स्पर्श भगवान श्रीराम को प्रणाम करने जैसा है. कई विद्वानों ने अपने कई वर्षों के गहरे अध्ययन और अनुसंधान से  श्रीराम का वन-गमन पथ भी छत्तीसगढ़ में चिन्हांकित किया है.
                    राज्य के जांजगीर-चाम्पा , रायगढ़ , रायपुर और बिलासपुर जिलों के परस्पर जुड़ते सरहदी अंचल में महानदी के तटवर्ती कई गाँवों में रामनामी समुदाय के लोग निवास करते हैं .मर्यादा पुरुषोत्तम  के महान करिश्माई व्यक्तित्व का अमिट प्रभाव इनकी जीवन-शैली में साफ़ देखा जा सकता है. सिर से पाँव तक अमिट अक्षरों में  'राम-राम' इनके पूरे बदन में लिखा हुआ या कह लें कि छपा हुआ मिलता है.  राम के ऐसे दीवाने भक्त और कहाँ मिलेंगे ,जो शरीर में गोदना गोदवाने की  कष्टदायक प्रक्रिया को भी  प्रसन्नता के साथ सहकर अपने पूरे शरीर में राम का नाम अंकित करवाते हैं . जब मन में राम बसा हो ,तो फिर अपने  तन  को तकलीफ कैसी और जब श्रीराम का नाम अंकित हो रहा है ,तो शरीर को आखिर कष्ट कैसा ? इनके परम्परागत कपड़ों में भी राम का ही नाम छपा हुआ मिलेगा .इसके लिए ये लोग गाँव में ही वृक्षों की छाल को उबाल कर प्राकृतिक रंग तैयार कर कपड़ों में राम नाम का की छपाई कर लेते हैं .जितना सहज, सरल और शांत जीवन है इनका , उतना ही सौम्य स्वभाव .  भगवान श्रीराम की भक्ति और ग्रामीण भारत की कृषि-प्रधान जीवन शैली के सम्मिश्रण से बना है इनका सम्पूर्ण व्यक्तित्व . भारत की विविधतापूर्ण इन्द्रधनुषी संस्कृति की तरह उसके नये राज्य छत्तीसगढ़ की संस्कृति भी वाकई बहुरंगी है.  'कोस-कोस में पानी बदले ,तीन कोस में बानी ' की प्रसिद्ध कहावत यहाँ भी लागू होती है . ऐसे रंग-बिरंगे सांस्कृतिक परिदृश्य में रामनामी समुदाय की सामाजिक-सांस्कृतिक विशेषताओं के रंग भी अपनी पूरी आभा के साथ खिलते नजर आते हैं ,जो वास्तव में यह भी साबित करते हैं कि छत्तीसगढ़ वाकई राम के सीधे-सच्चे  भक्तों का गढ़ है. सामाजिक समरसता पर आधारित रामनामी परम्परा छत्तीसगढ़ को देश और दुनिया में एक अलग पहचान दिलाती है.

 
                                                                   
          यह सचमुच  स्वागत योग्य है  कि राज्य की  पहचान के इस आकर्षक रंग को और भी चमकदार बनाने की दिशा में भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय के फिल्म प्रभाग ने ५१ मिनट के एक वृत्त-चित्र का निर्माण किया है. फिल्म के निर्देशक हैं श्री सुनील शुक्ला , पट-कथा है श्री कमल तिवारी की . रामनामी समुदाय के अभ्युदय से लेकर वर्तमान में भी जारी उसकी  जीवन-यात्रा का वर्णन 'रामराम 'शीर्षक वाले इस फिल्म के प्रारंभ से आखिर तक दर्शकों को बाँध कर रखता है .इसमें अखिल भारतीय रामनामी महासभा के अध्यक्ष फिरत राम महिलांगे समेत इस समुदाय के अनेक सदस्यों के वक्तव्यों से उनके रीति-रिवाज और रहन-सहन की सटीक जानकारी मिलती है.  वृत्त चित्र में इतिहास और पुरातत्व विशेषज्ञ और हिन्दी ब्लॉग जगत में अपने 'सिंहावलोकन 'ब्लॉग के लिए चहुँ ओर चर्चित श्री राहुल सिंह और बिलासपुर के  वरिष्ठ पत्रकार श्री सतीश जायसवाल के वक्तव्यों से  भी  इस समुदाय की अनेकानेक विशेषताएं प्रकट होती हैं .  उस दिन छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर  में जारी शारदीय नवरात्रि के भक्तिमय माहौल में श्री  राहुल सिंह के निवास पर अचानक ही कुछ ब्लॉग-लेखक  मित्रों की बैठक हो गयी,जहां  नितांत घरेलू वातावरण में  यह डी.व्ही.डी . अनौपचारिक रूप से जारी कर दी गयी . कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष और बहु-प्रशंसित ब्लॉग 'ग्राम चौपाल ' के  श्री  अशोक बजाज  सहित  भिलाई नगर के  ब्लॉगर श्री  बी .एस.पाबला (जिंदगी के मेले ) और श्री संजीव तिवारी ( आरम्भ) ,अभनपुर के श्री ललित शर्मा (ललित डॉट कॉम )   और रायपुर के श्री जी.के.अवधिया (धान के देश में ) भी मौजूद थे . छत्तीसगढ़ी फिल्मों के जाने-माने अभिनेता श्री अनुज शर्मा और इंदौर से छत्तीसगढ़ प्रवास पर आयीं ब्लॉग-लेखिका सुश्री अर्चना चावजी ने इस मौके पर अपनी पसंद के गीत सुनाकर वातावरण को और भी रोचक बना दिया . यह मेरा सौभाग्य था कि  ब्लॉगर मित्रों के आमंत्रण पर  इस बेहद सादगीपूर्ण घरेलू ब्लॉगर सम्मेलन  का मै भी साक्षी बना.  .
                                                                                                                   -  स्वराज्य करुण

                                                                                                             


Sunday 9 October 2011

हो गया काम तमाम !

                                             
                                                    किसी देश की सरकार
                                                    चलाने वाले 
                                                    एक नेताजी ने
                                                    किया  देश की  जनता का आव्हान -
                                                    "तांडव मचाते
                                                    भ्रष्टाचार के दानव से
                                                    हम सब हैं परेशान ,
                                                    भ्रष्टाचार के रावण का ,
                                                    भ्रष्टाचार के कंस का ,
                                                    भ्रष्टाचार के दुर्योधन का
                                                    आओ सब मिल  कर
                                                    करें काम तमाम  ! ''
                                                    नेताजी के आव्हान पर
                                                    देखते ही देखते 
                                                    सड़क से संसद तक 
                                                    मच गया संग्राम  !
                                                    देशवासियों ने अपने नेता सहित
                                                    एक -दूसरे को मार गिराया ,
                                                    देश भर में छा गया 
                                                    सन्नाटे का साया !
                                                                    -  स्वराज्य करुण






(व्यंग्य रेखा चित्र   google से साभार )                                                         

Thursday 6 October 2011

(कविता ) कब मरेगा कलियुगी रावण ?


                                              छीन रहे जो बेरहमी से
                                              खेतों -खलिहानों को  ,
                                              हरे-भरे वन , पहाड़ और
                                              हरियर मैदानों को ,
                                              हे राम ! बताओ क्या कहें
                                              हम ऐसे इंसानों को   ?
                                        
                                              कल तक भटका  करते थे 
                                              जो हाथों में लिए कटोरे , 
                                              मिली नौकरी तो जी भर 
                                              दौलत  खूब बटोरे   !
                                         
                                              कुर्सी खातिर घर-घर घूमें
                                              हाथ जोड़े-जोड़े ,
                                              कुर्सी मिली तो खूब खाए 
                                              फोकट के  चाट-पकौड़े ,
                                              लोकतंत्र को  चट कर जाए
                                              रिश्वतखोर  चटोरे  !

                                             जिनके घर -आंगन लहराता
                                             काले धन का सागर  ,
                                             असली -नकली नोटों से 
                                             बनते वोटों के  सौदागर !
                                        
                                             जिनके ऊंचे भवन देख कर ,
                                             दिल में उठती शंका
                                             आश्रम है समाज-सेवक का ,
                                             या सोने की लंका ?

                                             कहीं सजी है जुए-शराब की,
                                             कहीं नाच की महफ़िल ,
                                             कहीं जश्न है आतंकियों का ,
                                             मौज मनाते कातिल  !
                                        
                                             इस  मनहूस  मंज़र को देख
                                             मानवता शर्मिन्दा है ,
                                             मरने के हजारों साल बाद भी ,
                                             दशानन अब तक ज़िंदा है !

                                             सीता जैसी भारत माता 
                                             बंधक इसके  आँगन ,
                                             जाने कब मारा  जाएगा  
                                             इस कलियुग का  रावण !

                                                                  - स्वराज्य करुण

 

Sunday 2 October 2011

(लघु कथा) गांधी जी का फोन आया था !

                  

         गहराती  रात में अचानक बजते सेलफोन के रिंगटोन से उसकी गहरी नींद खुल गयी . स्क्रीन पर देखा तो कोई अज्ञात नंबर था. पहले तो लगा कि रहने दिया जाए ,फिर अंदाज लगाने लगा- पता नहीं कौन होगा ? उत्सुकतावश कॉल-बेक करते ही उधर से 'वैष्णव जन तो तेने कहिये जे पीर पराई जाने रे' की स्वरलहरी कानों में गूंजने  लगी .उसने अंदाज लगाया -शायद कोई महात्मा गांधी का भक्त होगा , लेकिन यह क्या ?उस तरफ से आयी आवाज़ सुनकर तो भौचक ही रह गया - हैलो भाई भारतवासी  ! मैं मोहनदास करमचंद गांधी बोल रहा हूँ . भारतवासी ने अपनी कांपती हुई आवाज़ में कहा -'प्रणाम बापू !  लेकिन इस वक्त आधी रात के सन्नाटे में आपने  कैसे याद किया मुझे ? मेरे लायक कोई सेवा ?
        गांधी जी ने कहा - बस यूं ही ! परलोक में रहते बहुत साल हो गए .मैं तो तुम लोगों को हमेशा याद करता रहता हूँ , लेकिन  तुम मृत्यु-लोक के नागरिक मुझे साल में सिर्फ दो बार याद करते हो -  मेरे जन्म दिन  पर  दो अक्टूबर को और मृत्यु-दिवस तीस जनवरी को . इन दो खास मौकों पर हर कोई मेरी सादगी की प्रशंसा कर मेरी राह पर चलने का संकल्प लेता है, पर चलता  कोई नहीं !  बाकी साल के तीन सौ तिरेसठ  दिन   ये नागरिक क्या करते है , इधर स्वर्ग  लोक में  किसी से छुपा नहीं है .कहीं हत्यारे नेता बन रहे हैं, तो कहीं नेता संभाल रहे हैं हत्यारों और हथियारों की कमान  ! गाँधी उपनाम धारी कई लोग आज  मेरे नाम की  आड़ में जनता को छलने और लूटने में लगे हुए हैं. मैंने कहा था कि असली सुराज और असली सुशासन महलों से नहीं , गरीबों की झोपड़ी से ,सच्चाई और सादगी से संचालित होगा ,लेकिन जनता के टैक्स से बने  तुम्हारे आलीशान महलों ने मेरे इस सपने को कुचल कर रख दिया . मैंने कहा था कि समाज को शराब से बचाओ . तुम लोगों ने  गंगा ,यमुना के इस देश में मदिरा की नदिया बहा दी . मैंने गाँवों के विकास का सपना देखा था , तुम लोगों ने मासूम गाँवों को शहरी दानवों के हाथों सौंप दिया .मैंने जनता को आत्म-निर्भर बनाने के लिए  कुटीर उद्योगों की ज़रूरत बतायी थी , तुम लोगों ने किसानों की हरी-भरी ज़मीन छीनकर धुंआ उगलती दैत्याकार फैक्टरियां खड़ी कर दी और धरती को बंजर बना दिया .
         कह रहे थे गांधी जी -  मुझे लगा कि तुमको ये भी याद दिलाया जाए कि मृत्युलोक के भारत वर्ष में कातिलों  , चोरों ,डकैतों ,रिश्वतखोरों और लफ्फाजों का ही बोलबाला है . काले धन के धंधे वालों की इज्जत दिन दूनी -रात  चौगुनी रफ्तार से बढ़ रही है मुझे यह देख कर  काफी बेचैनी होती है कि इन तथाकथित महान विभूतियों की  अरबों-खरबों रूपयों की इस विशाल दौलत में करोड़ों रूपयों के ऐसे नोट भी है, जिन पर मेरी तस्वीर  भी छपी हुई है .तुम लोगों ने क्यों मुझे ज़बरन नोटों पर चिपका दिया ?  ये नोट न जाने कितने हत्यारों,पाकिटमारों , घूसखोरों ,  काले धन और  शराब के  कारोबारियों के हाथों से होकर बैंकों तक पहुँचते है . यह सब देखकर मुझे लगता है कि अगर मैं इस वक्त धरती पर होता ,तो शायद ऐसे  दृश्य देखकर ज्यादा दिनों तक ज़िंदा नही रह पाता और आत्महत्या कर लेता ! अच्छा हुआ ,जो  मेरी हत्या कर दी गयी और मुझे तुम्हारी  धरती से वापस भेज दिया गया .
      भारतवासी के पास बापू से कहने के लिए कोई विषय नहीं था . सो, उसने  उनको शुभरात्रि  कहकर बिदा माँगी और जैसे ही नींद खुली ,वह  खुद को अपने घर के बिस्तर पर पाया .
                                                                                                    -   स्वराज्य करुण

Saturday 1 October 2011

घोड़े और घास की दोस्ती का अनोखा प्रयोग !

                        



                      अमिताभ बच्चन ,धर्मेन्द्र और हेमामालिनी की सदाबहार फिल्म 'शोले ' में तांगेवाली वसंती का किरदार निभाती हेमा का वह  सदाबहार डायलॉग आज भी  बहुतों को याद होगा , जो उन्होंने रामपुर जाने के लिए आए  जय और बीरू को यानी अमिताभ और धर्मेन्द्र को  तांगे पर बैठाने से पहले कहा था  - यूं कि हम आपको रामपुर तो  मुफ्त में पहुंचा दें ,लेकिन  घोड़ा अगर घास से दोस्ती कर ले ,तो वह खायेगा क्या ? घोड़े और घास की दोस्ती वाली यह कहावत हमारे भारतीय समाज में  दुकानदार और ग्राहक के व्यावहारिक रिश्तों को लेकर प्रचलित  है . कई दुकानदारों ने तो  इस कहावत को  किसी अनमोल वचन की तरह  स्टिकर बनवाकर शो-केस  पर भी चिपका रखा है . मतलब यह कि कोई भी कारोबार कमाने के लिए  ही किया जाता है,   खोने या गंवाने के लिए  नहीं  !
            कारोबार चाहे छोटा हो या बड़ा , कोई भी कारोबारी अपने कारोबार में घोड़े से  घास की दोस्ती करवाने का जोखिम नहीं लेना चाहेगा , लेकिन भारत के नए-नवेले राज्य छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की सरकार  प्रदेश के करोड़ों लोगों के हित में पोस्टर ,बैनर , होर्डिंग आदि के माध्यम से शराब की बुराई के खिलाफ जन-जागरण अभियान चलाकर यह जोखिम निःसंकोच उठा रही है .सबको मालूम है कि राज्यों की आमदनी का एक प्रमुख स्रोत है शराब ,लेकिन यह भी सबको मालूम है कि यही शराब एक दिन अपने पीने वाले को भी खुद पी जाती है . मानव-जीवन अनमोल है . इसलिए छत्तीसगढ़ सरकार लोगों को शराब से बचने की सीख देने के साथ-साथ  महिलाओं को एकजुट कर 'भारत माता वाहिनियों का भी गठन करवा रही है  यह अभियान छत्तीसगढ़ को शराब के व्यसन से मुक्त एक स्वस्थ और सशक्त राज्य के रूप में विकसित करने की भावना  पर केन्द्रित है . भारत माता वाहिनियों के होर्डिंग आज शहरों में भी लोगों को नशा मुक्ति के लिए आकर्षित और जाग्रत कर रहे हैं .शराब व्यसन मुक्ति अभियान के रूप में यह एक अनोखा प्रयोग है . इसमें भारत माता का नाम जुड़ने की वजह से इस रचनात्मक और भावनात्मक प्रयोग का सन्देश सम्पूर्ण भारत में जा रहा है .उसकी प्रासंगिकता राष्ट्रव्यापी हो गयी है.
               हर साल दो अक्टूबर को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती के मौके पर हमे याद आता है कि अहिंसा के  पुजारी और आज़ादी के अहिंसक आंदोलन के   इस  महान नेता  ने शराब को व्यक्ति, समाज और राष्ट्र के विकास में सबसे बड़ा व्यवधान माना था .अपने सामाजिक आंदोलनों में उन्होंने छुआछूत और शराब के खिलाफ जन-जागृति का भी शंखनाद किया था .हम केवल याद करके रह जाते हैं कि छत्तीसगढ़ में सतनाम पन्थ के प्रवर्तक गिरौदपुरी धाम के गुरु बाबा घासीदास ,सनातन संत समाज के संस्थापक रायगढ़-जशपुर अंचल के गहिरा गुरु और सरगुजा की राजमोहिनी देवी जैसे महान समाज सुधारकों ने  अपने लाखों भक्तों और ग्रामीणों को शराब से दूर रहने की प्रेरणा देकर उन्हें धर्म और आध्यात्म के ज़रिये नेकी के रास्ते पर चलना सिखाया. आज भी राज्य में भारी संख्या में लोग उनके बताए मार्ग पर चलकर  सुखी जीवन जी रहे हैं , मगर यह भी सच है कि इसके बावजूद इस दिशा में अभी बहुत कुछ करना बाकी है .
      राज्य के मुख्यमंत्री  पेशे से  एक आयुर्वेदिक चिकित्सक हैं और इस नाते मरीजों की नब्ज पर उनकी अच्छी पकड़ है . लोकप्रिय ,लोकहितैषी लोक-नेता के रूप में उभरे डॉ .रमन सिंह ने अपने वर्षों के अनुभवों से जनता की नब्ज पर हाथ रखकर यहाँ की सामाजिक बीमारियों को भी बखूबी पहचाना है और मरीज यानी जनता को विश्वास में लेकर उनका इलाज भी शुरू कर दिया  है . यहाँ गरीबी और भूख दो बड़ी बीमारियाँ थीं, जिनके इलाज के लिए महंगाई के इस दौर में भी   एक और दो रूपए किलो में प्रत्येक गरीब परिवार को हर महीने पैंतीस किलो चावल देने की योजना शुरू की गयी . उन्हें दो किलो आयोडीन नमक निःशुल्क दिया जा रहा है . इस प्रकार अब यहाँ कोई भी मेहनतकश गरीब भूखे पेट सोने को विवश नहीं है . सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दस हजार से ज्यादा राशन दुकानों के ज़रिये बत्तीस लाख से ज्यादा गरीब परिवारों को  इस योजना का लाभ  मिल रहा है .लेकिन देश के अन्य  कई  राज्यों की तरह शराब का व्यसन आज छत्तीसगढ़ में भी आज एक गम्भीर सामाजिक बीमारी है .कोई भी व्यसन किसी से भी जोर-जबरदस्ती नहीं छुडाया जा सकता , इसके लिए व्यसनी को बेहतर समझाइश की ज़रूरत होती है और बात नहीं बनने पर क़ानून की कड़वी दवा भी उसे देनी पड़ती है. दरअसल इसके पीछे  सामाजिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का एक  पवित्र उद्देश्य होता है .छत्तीसगढ़ को शराब की बीमारी से मुक्त करने के लिए  डॉ रमन के हाथों इसका इलाज भी शुरू हो गया है. ब्रेवरेज कार्पोरेशन राज्य सरकार का वह उपक्रम है जो लायसेंसी शराब  का उत्पादन और उसका व्यापार भी करता है .लेकिन अगर यही कम्पनी  ब्रोशर आदि छपवाकर जनता को शराब के खतरों से आगाह करते हुए दारू नही पीने  की नसीहत दे ,तो इससे घोड़े और घास की दोस्ती वाली कहावत साकार होती नज़र नहीं आती ? बुजुर्गों ने एकदम सच कहा है  कि नशा नाश की जड़ है. नशे की इस बीमारी ने कई  घरों को जहां आर्थिक रूप से बर्बाद कर दिया है, वहीं युवाओं में बढती इसकी लत से कई घरों के कुल-दीपक हमेशा के लिए बुझ गए हैं .गाँवों में और शहरी मोहल्लों में भी  इस घातक नशे की वज़ह से सामाजिक पर्यावरण भी बिगड़ने लगा है . राजधानी रायपुर में एक निजी अस्पताल के संस्थापक और संचालक ,अस्थि-रोग विशेषज्ञ डॉ. धीरेन्द्र साव अपने  अस्पताल में आने वाले प्रकरणों के  आधार पर कहते हैं - अधिकाँश सड़क हादसे शराब पीकर वाहन चलाने वालों की वजह से होते हैं . शराबी वाहन चालक  दूसरों के लिए जानलेवा साबित होने के अलावा  स्वयं घायल होकर मौत का भी शिकार हो रहे हैं. इनमे भी ज्यादातर मौतें युवाओं की हो रही है . शराब के आदी हो चुके नौजवानों में आत्महत्या की प्रवृत्ति चिन्ताजनक रूप  से बढ़ रही है.   शराबियों को लीवर -सिरोसिस की घातक बीमारी आसानी से जकड़ लेती है .इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के ह्रदय रोग  विशेषज्ञ डॉ. गिरीश रमोले के अनुसार शराब पीने वालों में ह्रदय रोग की आशंका दूसरों से कई गुना ज्यादा होती है .

                 वास्तव में शराब मानव-जीवन की सामाजिक -आर्थिक और शारीरिक तबाही  का एक बड़ा कारण है .  शराब से अगर किसी  को सबसे ज्यादा परेशानी होती है तो वे हैं महिलाएं, क्योंकि गृहलक्ष्मी होने के नाते चूल्हे-चौके से लेकर घर के भीतर की सारी जवाबदारी उन्हीं पर टिकी होती है .शराब के नशे में चूर होकर देर रात घर आने और लड़ने-झगड़ने वाले पतियों को झेलना उनकी मजबूरी हो जाती है . डॉ.रमन सिंह को गाँवों के दौरे में कई बार महिलाओं से उनकी इन  तकलीफों  के बारे में काफी कुछ सुनने और समझने को मिला .उन्होंने महिलाओं का हौसला बढाया और नारी -शक्ति को 'भारत माता वाहिनी ' के रूप में संगठित करने की एक नई शुरुआत की . भारत माता वाहिनी की सदस्य महिलाएं स्थानीय स्तर पर अवैध शराब की बिक्री रोकने की ठोस पहल कर रही हैं और शराबियों को नशा छोड़ने की नसीहत भी दे रही हैं . इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पन्द्रह अगस्त से भारत माता वाहिनियों के गठन का सिलसिला शुरू हो गया है .रायपुर,राजनांदगांव , जांजगीर-चाम्पा ,महासमुंद ,कबीरधाम .रायगढ़ और बिलासपुर जिलों में लगभग नब्बे गाँवों में महिलाओं ने इन  वाहिनियों का गठन कर लिया है .
  शराब-मुक्ति के अपने लक्षित अभियान के  पहले दौर में राज्य सरकार ने नई आबकारी नीति बना कर अवैध शराब के जहरीले कारोबार पर कठोरता से अंकुश लगाया और एक ऐतिहासिक निर्णय लेकर इस वित्तीय वर्ष की शुरुआत होते ही विगत एक अप्रेल से  दो हजार तक आबादी वाले लगभग ढाई सौ गाँवों में शराब के सरकारी ठेके बंद कर दिए गए , यानी इन देशी-विदेशी मदिरा दुकानों के दरवाजे अब हमेशा के लिए बंद हो गए हैं .भले ही यह आंशिक शराबबंदी है .लेकिन .राजस्व की परवाह न करते हुए सीमित संख्या में क्यों न हो , शराब दुकानों को बंद करने का यह सरकारी फैसला भी समाज के हित में 'घोड़े और घास की दोस्ती ' वाली कहावत को चरितार्थ कर रहा है . नई आबकारी नीति से छत्तीसगढ़  में जहां शराब के अवैध कारोबार पर काफी हद तक अंकुश लग चुका है, वहीं अब कोई भी व्यक्ति किसी सार्वजनिक जगह पर बैठ कर शराब पीने की हिमाकत नहीं कर पा रहा है.  नहीं तो इसके पहले कहीं पर भी ढाबों और चाट-पकौड़े और अण्डे बेचने वालों के ठेलों के आस-पास शराबियों का जमावड़ा  आसानी से देखा जा सकता था . बोझिल सा लगने वाला वह अप्रिय दृश्य अब ओझल हो गया है.  इस वित्तीय वर्ष के प्रथम तीन माह में यानी अप्रेल २०११ से जून २०११ तक अवैध शराब बेचने वाले २७० कोचियों को गैर-जमानती धारा में गिरफ्तार  किया गया और सार्वजनिक जगहों पर शराब पीने वाले दो हजार से ज्यादा लोगों को पकड़ कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की गयी.
                            लोकतंत्र में  सरकारी पहल अपनी जगह है और निश्चित रूप से उसका अपना महत्व भी है लेकिन जन-हित में हो रहा कोई भी सरकारी प्रयास अकेले सरकार के भरोसे सफल नहीं हो सकता . उसमें जनता की भागीदारी भी ज़रूरी है . लोकतंत्र में  तो यह और भी ज़रूरी हो जाता है ,क्योंकि इसमें सरकार जनता की ,जनता के लिए और जनता के द्वारा बनायी जाती है. बहरहाल शराबबंदी की दिशा में योजनाबद्ध और चरणबद्ध तरीके से सकारात्मक पहल कर रही छत्तीसगढ़ सरकार की प्रारम्भिक कामयाबी एक आस जगाती है  उम्मीद की इस पहली किरण से नई सुबह के आने का संकेत मिल रहा है .
                                                                                                    स्वराज्य करुण