Friday 30 September 2011

सबको मिलाकर होती है मिलावट ?

               
                    मिलावट पर  हाय-तौबा क्यों मचाते हो भाई !  क्या तुम्हें नहीं मालूम कि भारतीय मान्यता के अनुसार हमारा यह  शरीर भी तो पंच महाभूतों से मिलकर बना है और इसे एक दिन पंचतत्व में लीन  होना ही पड़ता है ? क्षिति, जल , पावक ,गगन ,समीरा से मिलकर बने मानव शरीर को देखकर क्या  ऐसा नहीं लगता कि खाने-पीने की वस्तुओं में मिलावट की शिकायत को लेकर 'अरण्य -रोदन'  से कोई फायदा नहीं ! मिश्रीलाल का सीधा -सीधा सवाल था  कि जब हमारा  मानव शरीर पंच-महाभूतों की मिलावट है तो दूसरी तमाम चीजों में मिलावट से क्या होना जाना है ? मिश्रीलाल के गहरे दार्शनिक अंदाज वाले इस 'सारगर्भित' वक्तव्य से मिठाईलाल की अज्ञानता पल भर में दूर हो गयी . उन्हें अपने मिष्ठान भंडार की मिठाइयों में मिलावट का एक कुतर्क संगत बुनियादी सिद्धांत मिल गया था . वह दोगुने उत्साह से अपनी दुकान की तरफ चल पड़े .

   इधर  सुखीराम के टपरेनुमा रेस्टोरेंट में हाफ चाय की चुस्कियों के साथ  मोहल्ले के   कुछ लोग आपस में चर्चा कर रहे थे . चाय ऑक्सीटोसिन के इंजेक्शन के ज़रिये किसी गाय के बढे हुए दूध से बनी थी ,लेकिन न तो सुखीराम को और न ही  पीने वालों को इससे कोई मतलब था . खयालीराम ने कहा --  गणपति बप्पा को अगले बरस जल्दी आने के लिए कह कर हमने उन्हें ससम्मान बिदाई दे दी और तत्काल बाद शारदीय नवरात्रि के आगमन के साथ महिषासुर मर्दिनी माँ दुर्गा का आत्मीय स्वागत किया . इन दिनों देश में हर कहीं दुर्गोत्सव की धूम मची है .विजयादशमी भी ज़ल्द आने को है . यानी गणेशोत्सव के बाद दुर्गोत्सव ,फिर विजयादशमी यानी दशहरा और उसके बाद आएगी दीवाली . चाहे देश और समाज का वातावरण कैसा भी क्यों न हो, तीज-त्यौहार हमारे जीवन को हर हाल में कुछ देर और  कुछ दिनों के लिए खुशनुमा  ज़रूर बना देते हैं .तब मिठाइयां हमारे दिलों में भी मिठास घोलने लगती हैं .   रामभरोसे ने कहा - यही तो मानव-जीवन है और यही तो है हमारी संस्कृति. लेकिन यह कोई सतयुग तो है नहीं इसलिए हमारे इस खुशनुमा अहसास में ज़हर घोलने की कोशिश करने वालों की भी आज  कहीं कोई कमी नहीं है . वो हर जगह पाए जाते हैं. त्यौहारों के इस मौसम में मिलावटखोरों की बन आयी है.  मिष्ठान्न के बिना त्यौहार कैसा ? पूजा  के मंडपों में विराजते  देवी-देवताओं से लेकर घर आए  मेहमानों के स्वागत में भी मिठाई  का होना ज़रूरी है .
          किशनलाल कहने लगे -  चाहे अल्प-वेतनभोगी ईमानदार  कर्मचारी हो, या हेराफेरी की कमाई से करोड़पति बना कोई बेईमान अधिकारी या व्यापारी , तीज-त्योहारों में मिठाई सबके लिए ज़रूरी हो जाती है. सब अपनी-अपनी हैसियत से अपने-अपने घरों में मिठाई का बंदोबस्त ज़रूर करते हैं. यह सामाजिकता भी है और व्यावहारिकता भी ,लेकिन हमारे मानव-समाज में ही कुछ ऐसे भी लोग हैं जो हमारी इस सामाजिकता का बेजा फायदा उठा रहे हैं , जिनका चेहरा तो मानव का है,जबकि काम है हत्यारों की तरह . हत्यारा तो किसी का भी काम एक ही बार में तमाम कर देता ही लेकिन मानव-समाज में मानवों सा मुखौटा लगाए  ये ह्त्यारे तो अपने  कुकर्मों से  किसी भी  मानव को धीमी गति की मौत देकर मन ही मन खुश होते हैं . उन्हें मौत की सजा तो मिलती नहीं , इसलिए बेशर्म लोग  बेख़ौफ़ होकर मिलावट का  धंधा जारी रखते हैं . दो नंबर के इस  धंधे में कोई धांधली नहीं होती . ऐसे लोग  'ऊपर से नीचे तक'  सबसे मिलकर और सबको मिलाकर ही मिलावट करते हैं.   मिलावटी दवाई और मिलावटी मिठाई बनाना और बेचना इनके लिए शर्म की नहीं बल्कि गर्व की बात होती है.
        टपरेनुमा होटल की इस राष्ट्रीय बहस को आगे बढाते हुए भगतराम ने अपनी बात रखी --   मिलावट के  काले और ज़हरीले कारोबार से मालामाल होकर कुछ लोग देश और समाज के भाग्य-विधाता भी बन जाते है. ये ऐसे हत्यारे हैं ,जो इंसानों को स्वादिष्ट व्यंजनों के नाम पर धीमा ज़हर देकर अपनी जेब और तिजोरी को निःसंकोच लबालब करते जा रहे हैं .जो मिलावट रोकने के तमाम कानूनों को अपनी जेब में रख कर चलने का दावा करते हैं . हाथ कंगन को आरसी क्या ? उनके फलते-फूलते कारोबार को देखकर सहज ही उनके दावों की पुष्टि हो जाती है . देश की गाड़ी हांक रहे अर्थ-शास्त्रियों की मनमोहनी अदा और कृपा से महंगाई थमने का नाम ही नहीं ले रही है . मिलावटी होने के बावजूद मिठाइयों के दाम भी डीजल और पेट्रोल के दामों  की तरह आकाश छू रहे हैं.लेकिन  तीज-त्यौहार के सीजन में इंसान हर कीमत पर मिठाइयां खरीदने को तत्पर है,चाहे वह मिलावटी क्यों न हो ? मिलावट  के अर्थ शास्त्र को समझना हो तो खोवे के बाज़ार को देखो ! एक अखबार में छपी खबर का हवाला देकर मथुराप्रसाद ने कहा -  असली दूध का उत्पादन कम होने और प्रति लीटर कीमत बढने के बाद भी होटलों में खोवे की मिठाइयों की कोई कमी नहीं है . सूजी और अरारोट के पावडर में एसेंस मिलाओ और खोवा तैयार !गायों  और भैंसों में दूध बढाने के लिए उन्हें ऑक्सीटोसिन का घातक इंजेक्शन दिया जाने लगा है . उसी दूध से चाय बनती है और उसी में कुछ और अगड़म-बगड़म मिलाकर खोवा भी बना लिया जाता है .
   त्यौहारी  खरीददारी के लिए  रास्ते से निकल रहे सज्जन लाल  भी दोस्तों को गंभीर बहस में मशगूल देखकर कुछ देर के लिए वहाँ ठहर गए . उन्होंने भी अपनी बात रखी -  नकली और मिलावटी दूध .नकली खोवा , नकली  और मिलावटी  घी ,  ह्ल्दी और मिर्च के मिलावटी पावडर  नकली तेल और  नकली बर्फी  के इस बाज़ार में असली खोजें भी तो खोजें कहाँ ? हम तो उन्हें भी खोज रहे हैं, जिन्हें मिलावट रोकने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है ! मिलावटखोर तो नज़राना और शुक्राना के तौर पर उन्हें भी मिलावटी मिठाई का आकर्षक पैकेट  थमा देते हैं  - 'ले जाओ साब जी ! घर की बात है ! '  या नहीं तो साहब के दफ्तर में आकर दे जाते हैं- ' भाभी जी को और बच्चों को हमारी तरफ से त्यौहार का तोहफा है.' साब जी भी खुश और दुकानदार भी प्रसन्न ! तभी तो मिलावट जांचने वालों के घरों में जब छापा डलता है ,तो करोड़ो  रूपयों की चल-अचल संपत्ति का खुलासा होने लगता है . इसके बावजूद  उनके मुखौटों पर ज़रा भी सलवटें नहीं उभरतीं! शायद मुखौटों में भी मिलावट होने लगी है  !
               खयालीराम ने याद दिलाया -    ''अच्छा तो अब चलें ! त्यौहार के लिए कुछ न कुछ तो खरीदना ही पड़ेगा .वक्त भी काफी हो चला है. ''  सब लोग मिलावटी सामान खरीदने चल पड़े और सुखीराम के टपरेनुमा रेस्टोरेंट में   राष्ट्रीय महत्व की यह स्थानीय बहस बगैर किसी निष्कर्ष के खत्म हो गयी
                                                                                                         - स्वराज्य करुण
                                                       
                                                                                                                

Wednesday 28 September 2011

(बाल-गीत ) फेरी वाला !

                                           



                                                  कहो तो  खोल दूँ  मैं  बिन चाबी का ताला
                                                 फेरी वाला ,फेरी वाला , मै हूँ  फेरी वाला !
                                                           
                                                          दूर गाँव और शहर मैं  जाता ,
                                                          सुबह-शाम दोपहर मैं  जाता ,
                                                          घूमा करता बस्ती-बस्ती ,
                                                          चीजें ले लो सस्ती-सस्ती !

                                                  मेरा हर सामान देखो  सुंदर  और निराला  !
                                                  फेरी वाला ,फेरी वाला ,मै हूँ फेरी वाला !!

                                                         रखता हूँ रंगों की पुड़िया,
                                                         प्यारा गुड्डा ,प्यारी गुड़िया ,
                                                         बिंदिया  रंग-बिरंगी रखता ,
                                                         चूनर भी सतरंगी रखता !
                                    
                                                पास मेरे है मोतियों की इन्द्रधनुषी माला  !
                                                 फेरी वाला  , फेरी वाला ,मै हूँ फेरी वाला !!

                                                         तीरथ हो या   मेले में,
                                                         लिए खिलौने ठेले में ,
                                                         तुम सबको मै रोज बुलाता ,
                                                         रोतों को भी सदा हँसाता !
                                           
                                                कोई खरीदे नथनी और कोई कान का बाला !      
                                                फेरी वाला  , फेरी वाला ,मैं  हूँ फेरी वाला !!                                                  
                                                       मैं संकट में कभी न रोता  ,                 
                                                       भारी-भरकम बोझ ढोता,
                                                       मै हूँ एक ऐसा इंसान ,
                                                      जिसे कभी न लगे थकान !

                                             अंधियारे में जग वालों को देता मैं उजियाला !
                                             फेरी वाला, फेरी वाला , मैं  हूँ फेरी वाला !!
                                                                                          -  स्वराज्य करुण
                                                            

Tuesday 27 September 2011

कौन बनेगा भगत सिंह ?

                                  
 
                                        

                         (आज़ादी के महान योद्धा भगत सिंह की जयंती 27 सितम्बर पर विशेष  )

                                       कौन बनेगा
                                       अमर शहीद  भगत सिंह ,
                                       कौन बनेगा
                                       वीर चंद्रशेखर आज़ाद ,
                                       करोड़पति बनने के चक्कर में
                                       पीढियां हो रही बर्बाद !
                                       शायद अधूरे ही रह जाएंगे
                                       देशभक्तों के ख्वाब ,
                                       पता नहीं फिर
                                       कब आएगा इन्कलाब  ?

                                       अब कोई नहीं  पूछता -कौन बनेगा
                                       वीर शिवाजी , कौन बनेगा
                                       महाराणा प्रताप ,
                                        हर कोई  कर रहा -
                                       नगद नारायण का मंत्र जाप !
                                       कुछ कहो तो कहते हैं -
                                       वतन की आज़ादी के लिए
                                       इन्कलाब की राह पर हो गए
                                       वो कुर्बान तो हम क्या करें ?
                                       हमने तो नहीं कहा था उन्हें
                                       कि वो शहीदों की मौत मरें !
                                       हमें यह मालूम था कि
                                       एक दिन वक्त ऐसा भी आएगा
                                       सियासत का शातिर सिपाही
                                       आज़ादी के दीवानों का
                                       नाम-ओ-निशान मिटाएगा !
                                       हम क्यों पहनें
                                       फाँसी का फंदा ,
                                       सलामत रहे हमारा धंधा !

                                       तिजारत के लिए
                                       वतन को बेच कर
                                       दौलत के लिए
                                       चमन को बेच कर
                                       वो  कभी  नहीं पूछेंगे
                                       कौन बनेगा भगत सिंह ?
                                       उन्हें नहीं लगता कि
                                       देश की हो रही है दुर्गति
                                       इसीलिए तो बार-बार वो
                                       पूछते हैं जनता से -
                                       'कौन बनेगा करोड़पति ?
                                   
                                       हर कोई सोचता है  -
                                       देश जाए भाड़ में ,
                                       हम तो मशगूल रहें
                                       काले-सफ़ेद के
                                       अपने कारोबार में !
                                       लगता है हम सबका ज़मीर
                                       कहीं खो गया है,
                                       हमारे लिए ज्ञान का पैमाना
                                       टेलीविजन के परदे पर
                                      अमिताभ बच्चन का 
                                       एक अदद कम्प्यूटर हो गया है !
                                 
                                       जो हमें सपने दिखाता है
                                       और सिखाता है -
                                       हो अगर तुम्हें जरा भी ज्ञान
                                       कोई बात नहीं अरे ओ नादान,
                                       क्या हुआ जो न बन सको इंसान ,
                                       हॉट सीट पर बैठते ही कम्प्यूटर
                                       तुम्हें बना देगा  धनवान !
                                       फिर क्या करोगे -
                                       महंगाई और बेरोजगारी के
                                       बारे में सोच कर ,
                                       देश के हालात पर
                                       अपना सिर नोच कर  ?
                                   
                                       सामान्य ज्ञान का यह खेल 
                                       देश को भले ही
                                       बना रहा  हो  जुआरी,
                                       कौरवों की इस सभा में
                                       यहाँ तो हैं कई बड़े-बड़े खिलाड़ी !
                                       हर किसी को मिलेगा
                                       दाँव लगाने का मौक़ा बारी-बारी !
                                       वतन की माटी पर
                                       मर मिटने वाले
                                       रह जाएंगे इस भीड़ में अकेले ,
                                       शहीदों की याद में
                                       अब नहीं जुडेंगे
                                       भारत भूमि पर सपूतों के मेले  !
                                                          
                                                                --  स्वराज्य करुण



Monday 26 September 2011

हिन्दी के लिए स्वागत योग्य पहल

भारत में सितम्बर माह का दूसरा पखवाडा राज भाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार पर केन्द्रित रहता है . हिन्दी दिवस के दिन १४ सितम्बर से इसकी शुरुआत हो जाती है . केन्द्रीय कार्यालयों सहित बैंकों में भी कहीं राज-भाषा सप्ताह ,तो कहीं राज भाषा पखवाडा मनाया जाता है. देश में व्यापक रूप से प्रचलित  हिन्दी हमारी राष्ट्रभाषा भी है. इस पर हमें गर्व होना चाहिए .यह राष्ट्रीय एकता की भाषा है . हिन्दी पखवाड़े के इस मौके पर कई पत्र-पत्रिकाओं ने विशेष सामग्री का प्रकाशन किया है .इनमें लखनऊ  से प्रकाशित 'राष्ट्रधर्म' मासिक भी शामिल है ,जो  देश की सर्वाधिक पुरानी और प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में से एक है. महान चिंतक और एकात्म-मानवतावाद के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय इसके संस्थापक रहे ,जबकि देश के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटलविहारी वाजपेयी  भी किसी जमाने में इसके सम्पादक रह चुके हैं. अटलजी भारत के प्रथम राज-नेता हैं ,जिन्होनें लगभग तीन दशक पहले तत्कालीन विदेशमंत्री के रूप में संयुक्त राष्ट्र संघ के अंतर्राष्ट्रीय मंच को भारत की राष्ट्र भाषा  में संबोधित कर पूरी दुनिया में हिन्दी का गौरव बढाया था . आज हमारे कितने राज-नेता हैं ,जो देश के मान-सम्मान के लिए ऐसी हिम्मत दिखा पाएंगे ? यहाँ तो कई ऐसे लोग भी हैं ,जिन्हें  हिन्दी जानते हुए भी अपने ही देश की संसद में अंग्रेजी में भाषण देकर अपनी अंग्रेज-परस्त गुलाम मानसिकता का परिचय देने में संकोच नहीं होता . कई ऐसे फ़िल्मी कलाकार हैं ,जिनकी पहचान हिन्दी फिल्मों के कारण है, लेकिन आम जिंदगी में उन्हें हिन्दी बोलने में शर्म आती है और वे टेलीविजन के परदे पर किसी साक्षात्कार में हिन्दी सवालों के जवाब भी अंग्रेजी में देते नज़र आते हैं. यानी खाना हिन्दी में और गाना अंग्रेजी में ! भारतीय जन-जीवन में अंग्रेजी को थोपने की कोशिश आज हर कहीं महसूस की जा सकती है .  अंग्रेजी माध्यम के विद्यालयों को बढ़ावा कौन दे रहा है ,यह भी हम लोग देख रहे हैं .हिन्दी अखबारों की भाषा में ज़बरन अंग्रेजी शब्दों के कांटें कौन उगा रहा है ,इसे भी सब देख रहे हैं . ऐसे हालात पर चिंतन के लिए  'राष्ट्रधर्म 'ने अपने मुखपृष्ठ पर हिन्दी भाषा और देवनागरी  लिपि का जयकारा लगाते हुए अपने सितम्बर के अंक में विद्वानों के विशेष आलेख आदि प्रकाशित कर निश्चित रूप से एक स्वागत योग्य और अनुकरणीय उदाहरण पेश किया है . उम्मीद की जानी चाहिए कि 'राष्ट्रधर्म' की यह पहल हमारे उन अंग्रेजी परस्त राज-नेताओं को उनके 'राजधर्म' की भी याद दिलाएगी ,जो आज़ाद भारत में हिन्दी सहित तमाम  भारतीय भाषाओं को पीछे धकेलने की कोशिशों को ही जाने-अनजाने आगे बढाने में लगे हुए हैं .  भगवान उन्हें सदबुद्धि दे !                                                                                                                                                                    स्वराज्य करुण 

Sunday 25 September 2011

लौट रहे अपने घर बादल !

                                   


                                                          कहीं रिमझिम तो
                                                          कहीं घनघोर,
                                                          बुझा कर धरती की प्यास
                                                          लौट रहे अपने
                                                          घर की ओर -
                                                          यादों को साथ लिए
                                                          भादो के साथ -
                                                          मानसून के बादल !
                                      
                                                         देख कर' भूमि ' का 
                                                         हरा-भरा आंचल
                                                         लगा कि  सार्थक हुई
                                                        अब उनकी भूमिका  ,
                                                         मेहनत के रंगों में
                                                         तल्लीन हुई  तूलिका !
                               
                                                        पंछियों की चहक से
                                                        झरने लगा संगीत 
                                                        हवाएं देने लगीं
                                                        ताल में तालियाँ
                                                        धान के पौधों में
                                                        आने लगी बालियाँ  !

                                                       आकाश की आँखों में
                                                       आँज कर काजल
                                                       चौमास में बरसाया
                                                       खूब अमृत जल ,
                                                       आएगी सुनहली
                                                       जब नई फसल ,
                                                       मानसून को लगेगा
                                                       मेहनत हुई सफल !

                                                                          -  स्वराज्य करुण 


(छाया चित्र : google के सौजन्य से )
                                     

Saturday 24 September 2011

काश ! भस्म हो जाए सोने की लंका !

         अगर आपका या मेरा चार सदस्यों वाला परिवार शहर में रहकर रोज बत्तीस रूपए और गाँव में रहकर रोज छब्बीस रूपए में अपने दो वक्त के भरपेट भोजन का इंतजाम कर सकता है , तो यकीन मानिए कि आप और मै कतई  गरीब नहीं है. यह हम नहीं कह रहे हैं ,बल्कि हमारे देश का  योजना आयोग कह रहा है , जिसने  इक्कीस सितम्बर को देश की सबसे बड़ी अदालत में हलफनामा दायर कर यह दलील दी है. मेरे विचार से अगर यह राशि  किसी परिवार के दो वक्त के भर पेट भोजन के लिए काफी हैं, तो ऐसा कहने वाले सबसे पहले खुद इतने ही रूपए  में अपना परिवार पाल कर दिखाएँ .तभी तो जनता को मालूम होगा कि हमारे मुखिया कहलाने वालों की कथनी और करनी में कोई फर्क नहीं है .
       गरीबी रेखा निर्धारण के लिए  जब छब्बीस और बत्तीस रूपए भोजन खर्च की यह  दलील अदालत में पेश की गयी , ठीक उसी दिन एक बड़े शहर में लोक निर्माण विभाग के एक मुख्य अभियंता के घर पर सतर्कता विभाग वालों ने छापा मार कर साढ़े छह करोड़ रूपए की अनुपातहीन चल-अचल सम्पत्ति  का खुलासा किया था क्या मजाक है ? एक तरफ तो हमारे देश के लिए विकास योजनाओं का स्वरुप तय करने वाला सबसे बड़ा आयोग कह रहा है कि एक परिवार महज छब्बीस या बत्तीस रूपए रोज के हिसाब से भोजन कर ले, यानी महीने में हज़ार रूपए से भी कम खर्च में जीवन चला ले ,तो वह गरीबी के अभिशाप से मुक्त माना जाएगा ,वहीं दूसरी तरफ एक सरकारी अफसर साढ़े छह करोड़ की बेहिसाब सम्पत्ति के ढेर पर बैठा हुआ है .कुछ माह पहले मध्यप्रदेश के एक अफसर दम्पत्ति के घर छापे में सैकड़ों करोड़ रूपए की बेहिसाब दौलत का पता चला  था. इधर हसन अली जैसे डाकू  तो आठ सौ करोड़ रूपयों के मालिक बनकर बैठे हैं,जबकि देश की आबादी महज़ एक सौ इक्कीस करोड़ है .मुबई में अम्बानी सेठ अपनी शान-शौकत के प्रदर्शन के लिए सत्ताईस मंजिला बिल्डिंग तान लेता है और कोई उसे कुछ भी नहीं कहता ! इसके जैसे कई सेठों ने देश के नागरिकों के शेयर के रूपयों को अपनी सम्पत्ति मान कर फैक्ट्री और महल, क्या -क्या नहीं खड़े कर लिए हैं ?
           बहरहाल, अमीरों के वैभव-प्रदर्शन के बीच  निर्धनता  की एक अनोखी परिभाषा  देकर शायद योजना आयोग भारत में गरीबी के आंकड़ों को कम दिखाने की कोशिश कर रहा है ,ताकि दुनिया को बताया जा सके कि भारत अब एक अमीर देश है.आयोग का यह हलफनामा  ऐसे समय में आया है , जब देश में डीजल-पेट्रोल से लेकर चावल, गेहूं, शक्कर ,दाल,तेल जैसी हर ज़रूरी चीज की कीमत रोज आसमान छू रही हैं .अभी पिछले हफ्ते १६ सितम्बर के एक सांध्य दैनिक 'छत्तीसगढ़'  में 'टाइम्स ऑफ इंडिया' के हवाले से छपी एक रिपोर्ट के अनुसार केन्द्र सरकार के अधिकाँश यानी सतहत्तर प्रतिशत मंत्री करोड़पति हैं और उनमें से कई मंत्रियों की संपत्ति सिर्फ दो साल में चार गुना ,आठ गुना और बारह गुना तक बढ़ गयी है . क्या ये लोग गाँव में छब्बीस रूपए और शहर में बत्तीस रूपए में अपने परिवार का पेट पाल सकते है.दैनिक 'लोकमत समाचार ' के पन्द्रह सितम्बर के अंक में छपी एक खबर के अनुसार विदेशों में जमा भारतीयों के काले धन की वापसी के लिए हमारी भारत सरकार प्रोत्साहन के रूप में आम-माफी की एक  आकर्षक योजना ला सकती है. केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड इस पर गंभीरता से विचार कर रहा है कि विदेशी बैंकों में छुपाए अपने काले धन की स्वयम घोषणा कर दे ,तो उसे माफ कर देना चाहिए !  यानी सफेदपोश डाकुओं को मिल सकती है माफी और गरीबों के  दो टाईम के भोजन के लिए  सिर्फ छब्बीस और बत्तीस रूपए ही काफी ? क्या  महंगे पांच सितारा और सात सितारा होटलों में भी सिर्फ इतने ही रूपयों में भोजन मिल सकता है ? क्या जनता के शेयर के अरबों रूपयों से मुंबई में अपने लिए सत्ताईस मंजिला महल खड़ा करवाने वाले सेठ जी भी सिर्फ छब्बीस रूपए या बत्तीस रूपए रोज के हिसाब से अपने परिवार का पालन-पोषण कर पाएंगे ? देश में ऐसे कई आलीशान महल हैं ,जहां रहने वालों के वैभव-विलासिता का जीवन देख कर लगता है कि रामायण में वर्णित  स्वर्ण-लंका भी कुछ ऐसी ही रही होगी !
           कुछ दिनों पहले सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल की कीमत में  प्रति लीटर तीन रूपए का इजाफा करके महंगाई की आग में घी डालने का काम किया और अब योजना आयोग निर्धनता की नई परिभाषा बना कर गरीबों  के दिल में लगी आग में पेट्रोल डालने का प्रयास कर रहा है . हे भगवान ! काश ! गरीबों के दिल की ये आग आज के किसी रावण के सोने की लंका को भस्म कर पाती !  रामायण की कहानी से भी  यह साबित हो जाता है कि राम राज तभी आया ,जब लंका भस्म हो गयी   !
                                                                                                                   स्वराज्य करुण


                                                                                                      

Wednesday 21 September 2011

प्याज से आएँगे खून के आँसू !


देश के हर घर की रसोई में सलाद और सब्जियों के लिए ज़रूरी आयटम है प्याज ,लेकिन क्या अब वह भी हमें रुलाएगा खून के आंसू? आज के अखबारों की सुर्खियाँ देख कर तो दिल में यही सवाल कौंध रहा है.नई  दिल्ली से खबर  छपी है कि भारत से विदेशों के लिए प्याज भेजने पर इसी महीने की आठ तारीख को अ जो पाबंदी लगी हुई थी ,उसे सिर्फ बारह दिनों के भीतर यानी  कल  से हटा लिया गया है .यानी अब प्याज निर्यात किया जा सकेगा. क्या इससे हमारे देश में प्याज की मांग के मुकाबले आपूर्ति कम नहीं होगी और क्या इसके फलस्वरूप देश के खुले बाज़ारों में इसकी कीमत और भी ज्यादा नहीं बढ़ जाएगी ? कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र और कर्नाटक के किसानों ने प्याज निर्यात पर लगे प्रतिबंध का भारी विरोध किया था , इसलिए उनकी मांग स्वीकार करते हुए केन्द्र ने निर्यात पर लगी रोक हटाने का निर्णय लिया है. क्या इन दोनों राज्यों के किसान देश के अन्य राज्यों की जनता के हितैषी नहीं हैं ?क्या महाराष्ट्र और कर्नाटक के किसानों को महंगाई से परेशान देश की कोई फ़िक्र नहीं है ? ऐसा तो सोचा भी नहीं जा सकता .समाचारों में यह स्पष्ट नहीं है कि इन दोनों राज्यों के कितने किसानों ने कब और कहाँ प्याज निर्यात पर पाबंदी का विरोध किया था ? दरअसल यह सारा खेल और कुचक्र कुछ मुट्ठी भर ऐसे लोगों का है ,जो देश के बाज़ारों में अनाज और दूसरी खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति में इसी तरह का खलल डालकर महंगाई बढाने में लगे रहते. हैं ! क्या हमारे किसानों को देशी बाजारों में प्याज की बेहतर कीमत नहीं मिल सकती ? क्या महाराष्ट्र और कर्नाटक के किसान आम भारतीयों से अलग है?वास्तव में ऐसा कुछ भी नही है ,लेकिन यह मात्र मुट्ठी भर मुनाफाखोर व्यापारियों की साजिश है, जो भोलेभाले किसानों के नाम पर ऐसा घटिया खेल खेल रहे हैं ,जिससे देश की जनता महंगाई के कुचक्र में फँसी रहे और मुनाफाखोरों के महलों में दौलत की बारिश होती रहे !
                                                                                                              स्वराज्य करुण

Tuesday 20 September 2011

(गीत ) मेरे गाँव का पनघट !

                                             
                                                            
                                                     तूफानों से तहस-नहस
                                                     गाँवों के देश में ,
                                                     रोटी के लिए दौड़ते
                                                     पांवों के देश में !
                                                         
                                                       मदमस्त मचलती विष-कन्याओं का जमघट ,                                                                                           ये देख के घबराया  मेरे गाँव का पनघट !
                                              
                                                  बाढ़ से बेघर , बेहाल 
                                                  किसानों  के देश में ,
                                                  चिथड़ों को तरसते
                                                  इंसानों के देश में !
                                                    
                                                        शौक से निर्वसन  औरतों की खिलखिलाहट ,
                                                        ये देख के घबराया  मेरे गाँव  का पनघट !

                                                रुपयों के खुले खेल में
                                                मांसल मुस्कान लिए
                                                उतरी हैं आसमान से
                                                देह की दुकान लिए !

                                                            दूर कहीं फेंक आयीं  रिश्तों का घूंघट ,
                                                            ये देख के घबराया मेरे गाँव का पनघट  !

                                               इन्हें नहीं  कुछ लेना-देना
                                               चट्टान तोड़ती राधा से ,
                                               दुधमुँहे  के  दूध के लिए
                                               हाथ जोड़ती राधा से !
                     
                                                       इन आँखों से कहाँ दिखेगी उसकी  घबराहट ,
                                                       ये देख के घबराया मेरे गाँव का पनघट !
                                                                                                --- स्वराज्य करुण  


(  सन्दर्भ -  बेंगलुरु में सन 1996 में आयोजित विश्व सुन्दरी प्रतियोगिता  )
  प्रतीक फोटो google से साभार

Monday 19 September 2011

बिन भूकम्प यहाँ डोले धरती !

             फैक्ट्री की सुबह  की पाली शुरू  होने से पहले  सुखीराम   के टपरे में  कुछ मजदूर चाय-भजिये  के साथ आज का  अखबार देख रहे थे. सुर्ख़ियों में देश के कुछ राज्यों में आए भूकम्प की खबरों के साथ वहाँ जान-माल को हुए नुकसान की तस्वीरें भी छपी थीं. बड़े-बड़े गड्ढों और दरारों वाली एक क्षतिग्रस्त सड़क की तस्वीर देख कर बनमाली कहने लगा- अरे ! ये तो अपने शहर की सड़क लग रही है .हमारे यहाँ तो भूकम्प आया नहीं था ! फिर ये इस सड़क की फोटो उधर की  भूकम्प पीड़ित सड़क के नाम पर तो नहीं छप गयी ?  इस गंभीर सवाल पर सुखीराम के इस  टपरेनुमा रेस्टोरेंट में एक छोटा लेकिन महत्वपूर्ण 'गोल-मेज सम्मेलन ' बिना किसी ताम-झाम के शुरू  हो गया .
               दयालू   ने बनमाली की शंका का समाधान किया-भाई ! फोटो  असली है और कुदरती भूकम्प से नष्ट हो चुकी सड़क की ही है .बनमाली को समझाने के बाद वह  कहने  लगा -वाकई  असली भूकम्प से टूटी- फूटी सड़क और बगैर भूकम्प के उखड़ी सड़क में आज कोई फर्क नज़र नहीं आता . इसलिए तुम्हारा चकित होना स्वाभाविक ही था .अब तो भारत  में ऐसे कई शहर हैं ,जहां बिना भूकम्प के भी सडकें भूकम्पग्रस्त  लगने लगी हैं .धरती के डोले बिना ही  उनमें  गड्ढे बन जाते हैं ,जिनमें बारिश के मौसम में लोग  बड़े आराम से मछली पालन भी कर सकते हैं ,   हम-तुम  ऐसी खंडहरनुमा  सडकें तो हमारे शहर में चारों तरफ  रोज देखते हैं, उन पर मजबूरी में चलते भी हैं. दुपहिया , तिपहिया और  चौपहिया गाड़ियों में हिचकोले खाते हुए हम लोग तो इन सड़कों पर रोज आते-जाते हैं.गनीमत है कि इन हिचकोलों से अब तक किसी ह्रदय-रोगी का ह्रदय नहीं हिला  और   न ही किसी गर्भवती माता का प्रसव सड़क पर हुआ .लेकिन  रिक्टर पैमाने पर आशंकाओं की तीव्रता तो महसूस की ही जा सकती है .कुछ सड़कों पर कल बिछाई गयी डामर की परतें आज  उखड़ जाती हैं .पता नहीं , कौन कब उनमें बिछी हुई बजरी और गिट्टियों को  बाहर निकाल देता है और वह बिखर कर भूकम्प का नजारा पेश करने लगती है.
            आधी कप चाय की बची हुई बूंदों को सुड़कने के बाद रामगोपाल ने कहा -- हाँ यार !   किसी भी निर्माण कार्य को देखो, इंजीनियरों का तो कहीं दूर-दूर तक पता ही नहीं चलता . सारा जिम्मा मजदूरों के भरोसे छोड़ पता नहीं, कहाँ घूमते  रहते हैं ? कहीं टेलीफोन कम्पनियों के मजदूर केबल बिछाने के नाम पर गड्ढे खोद जाते हैं , तो कहीं जल-आपूर्ति की पाइप  -लाइन  मरम्मत के नाम पर सड़क की खोदाई हो जाती है ,खोदने वाले खोद कर चले जाते हैं और उन्हें खोजने वाले खोजते रहते हैं . कहीं चौड़ीकरण के नाम पर तोड़-फोड़ दस्ते  सड़कों से लगी निजी और सरकारी दोनों तरह की दीवारें ढहा कर चले जाते हैं और मलबा सफाई के लिए मुड़कर भी नहीं देखते ! मलबे का ढेर वहाँ कई-कई दिनों तक लगा रहता है  बिना सोचे-समझे वर्षों पुराने हरे-भरे पेड़  बेरहमी से काट दिए जाते हैं  .गर्मियों में राहगीर छाया के लिए तरसते रहते हैं . कई शहरों में ओवर -ब्रिजों का निर्माण अधूरा पड़ा है , उन पर हम जैसे राहगीर हर दिन बेतरतीब यातायात की यातना झेलते रहते हैं .उधर भूकम्प की वजह से  भवनों में  दरारें  पड़ जाती हैं, जबकि इधर भूकम्प आए बिना ही कल की  बनी  इमारतों  में  भी आज   क्रेक  आ जाती हैं . फिर भी हम लोग आराम से जी रहे हैं .धरमू ने टोका - आराम से जी नहीं ,बल्कि लाचारी में जी रहे हैं . करें भी तो क्या करें ? कौन सुनने वाला है ?
       बनमाली ने कहा -  हाँ भाई ! हम हर तरह का भूकम्प आराम से झेल लेते हैं  .हमारी झेलन-शक्ति गज़ब की है .लेकिन अपनी  उन सड़कों और इमारतों का क्या कहें ,जो  भ्रष्टाचार के भयानक भूकम्प से भयभीत होकर भसकने की हालत में आ चुकी हैं. ? लगता है ,यहाँ धरती बिना किसी भूकम्प के डोल  रही है . क्या कोई बता सकता है -  रिक्टर स्केल पर इस गैर कुदरती भूकम्प की तीव्रता कितनी होगी ? उसके  इस सवाल का किसी के पास कोई ज़वाब नहीं था !  तभी उधर पाली शुरू होने का सायरन बजा और इधर सुखीराम के टपरे में मजदूरों का 'गोल मेज सम्मेलन ' खत्म हुआ और  वे चल पड़े फैक्ट्री के भीतर . 
                                                                                                      -  स्वराज्य करुण 

  ( फोटो : google  से साभार )

Saturday 17 September 2011

पेट्रोल बम का धमाका !

                                     दाम बढाकर पहले ही
                                     छीन लिया है दम ,         
                                     आज फिर से फोड़ दिया                                       
                                     उसने पेट्रोल बम /
                                     पूछो  तो सही कौन है वो
                                     चीख रही है  जनता
                                     और मौन है वो ?
                                 
                                     रोज-रोज के धमाके
                                     और ये सितम
                                     लोग मरें या डरें,
                                     उनको नहीं गम  /
                                     जनता की जेब
                                     हो रही खाली  ठंडी
                                      पर उनकी तिजोरी
                                      दिनों-दिन गरम /

                                      जनतन्त्र  के मैदान में 
                                      जोड़ कर हाथ ,
                                      जीत कर लड़ाई  
                                      जनता   से करे  घात /
                                      पूछो तो सही कौन है वो ,
                                      चीख रही जनता
                                      और मौन है वो /


                                      कहाँ गया सौ दिन में
                                      कीमत कम करने  का वादा,
                                      अब तो है केवल
                                      लूट-खसोट का इरादा /
                                      नेता और अफसर का 
                                      गोपनीय समझौता  ,
                                      बाँट लेंगे आपस में
                                      आधा -आधा  /
                                      देखते ही देखते
                                      हो गए  दोनों  करोड़पति
                                      साधू के वेश में
                                      न  जाने किसको साधा /


                                     न्याय और अन्याय के 
                                     महाभारत में
                                     खामोश हैं जो मजबूरी में ,
                                     शायद  आचार्य द्रोण  हैं वो /  
                                     चीख रही जनता 
                                     और  मौन हैं वो  /

                                                               -   स्वराज्य करुण

Friday 16 September 2011

आग में घी बना पेट्रोल !

                                    बोल जमूरे बोल.
                                    अब क्या होगा बोल ,
                                    महंगाई की आग में
                                    घी बना पेट्रोल  !
                                    इधर तीन रूपए लीटर
                                    बढ़ गया दाम,
                                    उधर सरकारी लोगों का
                                    बन गया काम  /
                                    उडाएंगे खूब धुंए के छल्ले ,
                                    हो गई उनकी बल्ले-बल्ले ,
                                    पेट्रोल की कीमतों के साथ
                                    बढा उनका महंगाई भत्ता ,
                                    उनकी तो हमेशा रहेगी सत्ता ,
                                     पम्प मालिकों की भी
                                     हो गयी चाँदी,
                                     इसी तरह चलती रहेगी
                                     महंगाई की आँधी
                                     जय हो सोनिया -राहुल गांधी  /
                                     गरीब की रसोई पर भी
                                     होने वाला है हमला ,
                                     आटे-दाल के साथ जब
                                     बढ़ेगी रसोई गैस की कीमत ,
                                     तब क्या करेगी कमला  ?
                                                 
                                                              -  स्वराज्य करुण                            
                         

Thursday 15 September 2011

अकल-कर्मी और सकल-कर्मी !


          देश में इन दिनों दो तरह के कर्मी साफ़ नज़र आ रहे हैं - अकल कर्मी और सकल कर्मी . वैसे शिक्षा -कर्मी और पंचायत कर्मी भी यहाँ पाए जाते हैं , लेकिन आबादी में  अकल कर्मियों और सकल कर्मियों की  संख्या ज्यादा है.  अकल-कर्मी केवल अकल से काम लेता है और लोगों से काम निकलवा भी लेता है . वह समुद्र न सही अपनी बस्ती में अवैध कब्जे की भेंट चढ़ रहे तालाब की लहरें गिन कर भी कमाई कर लेने की अकल रखता है . दूसरी तरफ 'सकल कर्मी है , जो काला बाजारी ,मुनाफाखोरी और रिश्वतखोरी समेत हर तरह के काम आसानी से  करता रहता  है , लेकिन ऐसा कोई भी काम वह अकल-कर्मी से अकल उधार लेकर ही करता है, भले ही  उधार चुकता कर पाए या न भी कर पाए.  सकल-कर्मी तो बाबा तुलसीदास की इन पंक्तियों को अपना आदर्श मान कर चलता है-
                                    सकल पदारथ है जग माही 
                                     करमहीन नर पावत नाही !

 इसलिए सकल पदारथ पाने के लिए ही सकल-कर्मियों की जमात अकल-कर्मियों को साध कर चलती है. अकल-कर्मी उन्हें नोटिंग से लेकर वोटिंग तक हर जगह 'अकल-दान 'करते रहते हैं और उन्हीं के सहयोग से सकल-कर्मी सकल करम करने से नहीं घबराते. साल में दो-तीन बार सकल-कर्मी और अकल-कर्मी  एक साथ पर्यटन के लिए भी निकल पड़ते हैं.  सकल-कर्मियों   और अकल-कर्मियों के रिश्ते ग्राहक और दुकानदार जैसे होते तो हैं,लेकिन दोनों एक दूसरे के पूरक होने के कारण इस रिश्ते में खटास नहीं होती .हमेशा मिठास बनी रहती है क्योंकि लक्ष्य दोनों का एक ही होता है .सच तो यह है कि दुकानदार और ग्राहक के बीच अच्छे संबंध हों  तो कारोबार में  कोई रुकावट नहीं आती. इसलिए तीर्थ यात्राएं भी बिना किसी रुकावट के, चलती रहती हैं. रिश्ता   बिगड जाने पर एक बार एक अकल-कर्मी ने एक सकल-कर्मी  के घर छापे डलवा दिए . बिस्तर  के नीचे से , बाथरूम की दीवारों से , बैंक-खातों से , न जाने कहाँ -कहाँ से कम  से कम ढाई सौ करोड रूपए नगद निकले. .छापा डालने वालों को नोट गिनने की मशीन मंगवानी पड़ी. बेचारा सकल कर्मी बहुत परेशान हुआ . अकल-कर्मी से रिश्ता अच्छा बनाने के लिए पंडित जी की सलाह पर उसने 'रिश्वत-यज्ञ ' किया. दोनों की दोस्ती फिर बहाल  हो गयी . तब से लेकर अब तक यह दोस्ती बदस्तूर कायम है. अब सारे अकल-कर्मी और सकल-कर्मी एक साथ ,एक ही थाली में खाते हैं . देश के अनेक नामी-गिरामी अकल-कर्मी और सकल-कर्मी आज-कल   'तिहाड़ '   की तीर्थ-यात्रा पर हैं.
    साथियों ! कोयले की दलाली और  ज़मीन-दलाली समेत सकल करम करने के बाद जब करने के लिए और कुछ बाकी नहीं रह जाता  तो सारे सकल-कर्मी अपने-अपने साथी अकल-कर्मियों को साथ लेकर तीर्थ -यात्रा पर निकल पड़ते हैं . स्विस-बैंकों की गंगोत्री से इंटरनेट की सूक्ष्म तरंगों के ज़रिये प्रवाहित  गुप्त-गंगा के किनारे इन दिनों तीर्थ यात्रियों के रूप में सकल-कर्मी और अकल -कर्मी ,  दोनों ही तरह के कर्मियों की भारी भीड़ है. दोनों इस बहती गंगा में जमकर हाथ धो रहे हैं.  .  अकल-कर्मी और सकल -कर्मी के बीच एक अघोषित समझौता है . उनकी स्विस-बैंक वाली तीर्थ-यात्रा में विघ्न-संतोषी किसी प्रकार का विघ्न मत डाले, इसके लिए दोनों हमेशा सचेत रहते हैं. कबीरदास जी ने करीब छह सौ साल पहले एक दोहा इन पुण्यात्माओं को सादर समर्पित किया था  -
                                             तीरथ चले दोई जन, चित चंचल मन चोर ,
                                             एकौ पाप ना उतरया , दस मन लाए और !

भावार्थ यह कि चंचल मन के साथ तीर्थ यात्रा पर गए थे अपना पाप धोने ,पर एक भी पाप नहीं उतरा ,बल्कि दस मन पाप और भी लादकर लौट आए . इसे पढकर तो लगता है कि जो छह सौ साल पहले होता था , वही आज भी हो रहा है. चंचल और चोर ह्रदय के साथ तीर्थ यात्रा करने वालों का ही आज हर जगह बहुमत है. इस दोहे से यह भी मालूम होता है कि हर तीर्थ यात्री में कम से कम दस मन पाप का बोझ खुद पर लादकर चलने की ताकत होनी चाहिए . ज्यादा से ज्यादा आप चाहे  जितना लाद सकें,यह आपकी हैसियत और हौसले पर निर्भर है. तीर्थ यात्रा के लिए यह भी ज़रूरी है कि यात्री का चित्त चंचल हो, यानी वह सरकारी ,गैर-सरकारी , हर तरह के तौर-तरीकों के अनुसार इधर-उधर मुँह मारने की कला में दक्ष हो. यात्रा के आयोजक और प्रायोजक यानी अकल-कर्मी और सकल-कर्मी उसे हर जगह मिल जाएंगे .मिल क्या जाएंगे, आपसे मिलने वह खुद आपके पास दौड़े चले आएँगे.
                                                                                                       --  स्वराज्य करुण
 

Wednesday 14 September 2011

हिन्दी और उर्दू के सेतुबंध

                                                                     
       उस छोटे शहर के एक छोटे से मोहल्ले में ड्रायक्लीनिंग की एक  छोटी सी दुकान थी ,जहां सफ़ेद बनियाइन और सफ़ेद पायजामा पहने सुबह से शाम तक ग्राहकों के कपड़ों पर लोहा चलाते शेख मोहम्मद 'गनी आमीपुरी को  जगदलपुर की उस बस्तरिया बस्ती के सभी लोग 'गनी भाई ' के नाम से जानते और मानते थे .साधारण चेहरे और साधारण सी पोशाक में एक असाधारण और अत्यधिक संवेदनशील काव्य-प्रतिभा को संजोया हुआ यह शख्स जहां दिन में अपनी रोजी-रोटी के लिए लोगों के कपड़ों की सलवटों को सपाट करने की कोशिश में इलेक्ट्रिक  आयरन से जूझता , वहीं देश और दुनिया के बारे में अपने  दिल की बात दिल वालों तक पहुंचाने की लिए रात के सन्नाटे में कागज और कलम से हो जाती थी उसकी दोस्ती .
                 उर्दू में 'गनी ' का आशय आर्थिक दृष्टि से संपन्न  एक ऐसे व्यक्ति से है ,जो सहृदय , दयालु और दानी है. आर्थिक सम्पन्नता के नाम पर गनी भाई के पास किराए के  छोटे से एक कमरे वाले मकान के अलावा कुछ भी नहीं था ,लेकिन वह मानवीय संवेदनाओं से परिपूर्ण एक सहृदय कवि थे ,जिन्होंने सहज-सरल शब्दों से सजी अपनी रचनाओं के ज़रिये मानव समाज को हमेशा मानवता का पैगाम बाँटा .इसलिए 'गनी' नाम उन पर सार्थक बैठता है.   उनकी छोटी सी दुकान पर लगभग हर शाम हिन्दी ,उर्दू  , छत्तीसगढ़ी और बस्तरिया बोली हल्बी के कवियों की बैठक जमती और चाय की चुस्कियों के साथ साहित्यिक गप्पबाजी और कविताओं का भी दौर चलता .   
              आज  हिन्दी दिवस   के प्रसंग में गनी भाई को याद करना  इसलिए भी ज़रूरी है  क्योंकि हिन्दी भाषा की  जैसी सेवा उन्होंने की ,  शायद  कम ही लोग कर पाते होंगें . गनी जी की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि हिन्दी वाले उनको हिन्दी का कवि मानते और उर्दू वाले उन्हें  उर्दू का शायर . दरअसल वह आजीवन  उर्दू लिपि में हिन्दी की सेवा करते रहे. हिन्दी साहित्य को गनी भाई ने उर्दू लिपि में कई सशक्त रचनाएँ दी. इस तरह देश की दो प्रमुख भाषाओं के बीच उन्होंने एक पुल का काम किया . इसलिए अगर उन्हें 'हिन्दी और उर्दू का सेतुबंध ' कहा जाए ,तो गलत नहीं होगा . उन्होंने हिन्दुस्तान की गंगा-जमुनी तहजीब  को अपने जीवन में साक्षात उतारा  देश और दुनिया के हालात से परिचित और प्रभावित कवियों की रचनाओं  में इंसानी ज़ज्बात दिल की गहराइयों से उभर कर आते हैं .गनी जी की रचनाओं में भी यह बात साफ़ नज़र आती है .उनकी एक ग़ज़ल की इन पंक्तियों में इसे आप भी महसूस कीजिये-
                       
                            बेकार है, ख्वाहिश है उजालों की जो मन में ,
                            सूरज तो अभी कैद है दौलत के भवन में !
                            इस पार है चिथड़ों से लदी जिंदगी उस पार ,
                            इक लाश है लिपटी हुई रेशम के कफ़न में !
                            पूछो तो भला उनसे अमल  करते हैं कितना ,
                            क़ानून बनाते हैं जो दिल्ली के भवन में !
                            है परचम-ए-नफरत को उठाए हुए हर शख्स ,
                            मोहताज़ मोहब्बत है 'गनी 'अपने वतन में !

       उर्दू अक्षरों  में हिन्दी सेवा वाकई गनी जी की एक बड़ी  विशेषता थी ,लेकिन यह उनकी सीधी -सच्ची विनम्रता का ही एक उदाहरण था कि ऐसा कोई ज़िक्र आने पर वह अक्सर कहा करते थे- ''आप भले ही इसे मेरी विशेषता कह लें, पर मै तो इसे अपनी कमजोरी मानता हूँ .काश !  हिन्दी यानी देवनागरी लिपि के मेरे अक्षर सुडौल बन पाते .... लेकिन क्या करूँ ? पढाई -लिखाई मेरी कुल छह  ज़मात तक हो पाई और वह भी केवल उर्दू माध्यम से . यह तो साहित्यिक मित्रों का बड़ा सहारा है ,जो उर्दू लिपि की मेरी रचनाओं को देवनागरी में लिख कर प्रकाशन के लिए पत्र-पत्रिकाओं को भेज भी देते हैं .''
                       गनी जी का कहना था - लिपि चाहे कुछ भी हो , मै जनता की भाषा में लिखता हूँ . मेरे लिए आम बोलचाल की भाषा में हिन्दी और उर्दू का फर्क कर पाना बहुत मुश्किल है. मेरी धारणा है कि जो आम बोलचाल की हिन्दी है,  वही आम बोलचाल की उर्दू भी  है. गनी भाई वास्तव में भाषाई एकता के प्रतीक थे .उनका जन्म नवंबर १९३२ में उत्तरप्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के ग्राम आमीपुर में हुआ था. जीवन के कठिन संघर्षों ने उन्हें मुंबई महानगर  की सड़कों पर आठ साल तक भटकाया . वह सन १९५६ से १९६४ तक वहाँ चेम्बूर में एक ड्रायक्लीनिंग की दुकान पर नौकरी करते रहे . फिर १९६४ के आस-पास बस्तर जिले के मुख्यालय शहर  जगदलपुर आ गए और करीब सत्ताईस बरस तक ,यानी वर्ष १९९१ में अपने जीवन के अंतिम क्षण तक वहीं के होकर रह गए . छत्तीसगढ़ के बस्तर अंचल की धरती के आंचल में समा गए गनी भाई. एक मुलाक़ात में उन्होंने मुझे बताया था - '' यहाँ जगदलपुर आने के बाद शुरुआती कुछ अरसा तो जिंदगी को व्यवस्थित करने में बीत गया .सन १९६८ में उदगम साहित्य समिति के सदस्यों से संपर्क हुआ और मै भी समिति का सदस्य बन गया . एक स्वस्थ और सुरुचिपूर्ण माहौल मिला और लिखना मेरी आदतों में शुमार हो गया .''
                                   गनी भाई को पहली बार प्रकाशन मिला सन १९७१ में ,जब वहाँ युवा साहित्यकार प्रकाशन द्वारा अपनी सायक्लोस्टाइल्ड पत्रिका 'सृजन' के प्रवेशांक में उनकी एक ग़ज़ल और एक रुबाई छापी गयी . उनकी इस पहली प्रकाशित ग़ज़ल का  मतला कुछ यूं था -
                                  
                                      चमन वालों से फूलों की हँसी देखी नहीं जाती
                                      कभी इनसे गरीबों की खुशी देखी नहीं जाती !

सृजन में ही अपनी प्रथम प्रकाशित रुबाई में उन्होंने लिखा -
                                   
                                       ये दुनिया ख़ाक दुनिया है , जहां इंसान बिकते है,
                                       तबाही ,बेबसी के खौफ से ईमान बिकते हैं ,
                                       सुकून मिलता नहीं दिल को कभी नफरत की आंधी से,
                                       जिधर देखो उधर ही मौत के सामान बिकते हैं !

दुनिया से लगातार गायब होती जा रही इंसानियत को लेकर गनी भाई काफी बेचैन रहा करते थे ,क्योंकि वह इंसानियत के कवि थे . उनको पक्का  यकीन था-
                                      
                                          जब तलक न आएगी इंसानियत इंसान में ,
                                          ज़ुल्म होते ही रहेंगे मेरे हिन्दुस्तान में !

उनकी  यह ग़ज़ल सागर (मध्यप्रदेश ) के साप्ताहिक  'गौर-दर्शन ' के दीपावली विशेषांक में सन १९८३  में छपी थी . इस साप्ताहिक में उन दिनों उनकी रचनाएँ नियमित रूप से प्रकाशित होती थी . अपनी बात कहने के लिए गनी भाई प्रतीकों का सहारा तो लेते ही थे ,लेकिन प्रतीकों की तलाश में अपनी ज़मीन को छोड़ चाँद -तारों तक छलांग लगाने की कोशिश उन्होंने कभी नहीं की .अपने आस-पास की दुनिया में बिखरी चीजों के बीच से ही वह प्रतीक निकाल लिया करते थे . पटना (बिहार ) के साप्ताहिक 'समर क्षेत्र ' में २१ अगस्त १९८२ को छपी उनकी एक ग़ज़ल की बानगी देखिये --
                                                   जलती है जैसे जिंदगी ,जलता है लाईटर ,
                                                   मेरा वजूद आज फलसफा है लाईटर !
                                                   जैसे किसी के दिल में शोला छुपा हुआ ,
                                                   वैसे ही बंद आग का गोला है लाईटर !
                                                   अंधे कुएं में मुझको धकेला है ऐ गनी ,
                                                    कब कौन और किसको दिखाता है लाईटर !

      जीवन की निराशा को गनी भाई ने अपने एक गीत में कुछ इस तरह व्यक्त किया है -
                                            
                                                 पथ मिले अनेको जीवन में ,पर 
                                                 स्वर्ण विहान मिला न  मुझको ,
                                                 इस जग के चौराहे पर भी 
                                                 कोई मीत मिला न मुझको ,
                                                  खोज-खोज आँखें पथराई  ,   
                                                 हर कोशिश नाकाम हो गयी !

उनका यह गीत १९७३ में दुर्ग के हिन्दी दैनिक 'चिंतक' में प्रकाशित हुआ था . चाहे लखनऊ (उत्तरप्रदेश)  की मासिक पत्रिका 'युवा-रश्मि ' हो , या छत्तीसगढ़ के रायपुर से छपने वाले दैनिक नव-भारत ,युगधर्म, महाकोशल , महासमुंद का साप्ताहिक 'बांगो-टाईम्स ' हो, या जगदलपुर के  ' दण्डकारण्य समाचार ',कांकेर बन्धु,   अंगारा ,
लगभग हर पत्र-पत्रिका ने उनकी रचनाओं को हाथों-हाथ प्रकाशित किया . आकाशवाणी के जगदलपुर केन्द्र से काव्य-पाठ के अलावा समय-समय पर गनी जी के गीतों का संगीतमय प्रसारण भी हुआ . सन १९७८ में प्रयास प्रकाशन ,बिलासपुर से श्री उत्तम गोसाईं द्वारा संपादित सहयोगी काव्य संग्रह 'छत्तीसगढ़ के नए हस्ताक्षर ' में गनी जी को भी शामिल किया गया था . संकलन में गनी जी का परिचय कुछ यूं दिया गया है- '' गनी भाई जंगल के महकते फूल हैं. जीवन पथ के अविरल संघर्षों में सुरभित आपके गीत और ग़ज़ल दिल-दिमाग पर असरकारक होते हैं .  छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ कवि लाला जगदलपुरी द्वारा सम्पादित और सन १९८६ में प्रकाशित चार कवियों के सहयोगी काव्य-संग्रह 'हमसफर ' में गनी आमीपुरी की भी दस रचनाएँ शामिल हैं . इनमें से एक गीत में उन्होंने आज के विचित्र सामाजिक परिवेश का जैसा चित्र खींचा है, वह दिल की आँखों से ही देखा और महसूस किया जा सकता है. इस गीत में उनकी भावनाएं कुछ इस तरह उतरी हैं-
                            
                              भूख ने बदले यहाँ पर जीने वालों के चलन
                             अब नहीं भाते तुलसी और मीरा के भजन !
                             रोटियों  की फ़िक्र ने ही घर से बेघर कर दिया ,
                              आफतों की भीड़ को ला सर पे मेरे धर दिया !
                              बेबसों के घर जलाते शोषकों के आचरण !

वास्तव में  जीवन के चक्रव्यूह में घिरे गनी भाई ने तमाम संघर्षों के बीच अपना जीवन गुज़ारा ,लेकिन समाज को समस्याओं के चक्रव्यूह से हमेशा जूझने की प्रेरणा देते रहे . उनके एक गीत की बानगी देखें -
                          
                          आंसू की धाराओं पर बाँध बनेगा पक्का लेकिन,
                          संघर्षों का सच्चा जीवन फिर से तुम्हें बनाना होगा .
                          आज़ादी का श्रृंगार करो तुम नए सिरे से लेकिन 
                          पहले धरती के बेटों का सोया भाग जगाना होगा !

    गनी भाई जैसे समर्पित हिन्दी सेवकों को अगर हम  याद न करें तो मेरे ख़याल से 'हिन्दी दिवस ' निरर्थक हो जाएगा . राष्ट्र भाषा हिन्दी आज गहरे संकट में है . उस पर अंग्रेजी भाषा और अंग्रेजी मानसिकता वालों का लगातार हमला हो रहा है . हिन्दी की गंगा-जमुनी ज़ुबान को अंग्रेजी मीडिया के ज़रिये 'हिंगलिश ' में तब्दील करने की साज़िश चल रही है,तब  ऐसे निराशाजनक माहौल में हिन्दी के विकास के लिए गनी जी जैसे समर्पित हिन्दी सेवकों द्वारा निःस्वार्थ भाव से  कलम के माध्यम से किए  जाने वाले  छोटे-छोटे प्रयास  अँधेरे में जलते उन नन्हें दीपकों की मानिंद हैं ,जो एक साथ मिलकर हिन्दी जगत को अपनी रौशनी से जगमग कर सकते  हैं . गनी भाई तो लगभग बाईस बरस पहले हमें छोड़ कर दुनिया से चले गए हैं ,पर अपनी रचनाशीलता से समाज को हिन्दी के विकास का एक रास्ता  भी  दिखा गए हैं .
                                                                                                                  -स्वराज्य करुण