Saturday 25 June 2011

(गीत ) बूंदों की झंकार हुई !

                                
                     

                                                                          
                          
                                               आसमान में बजे ढोल और बूंदों की झंकार हुई !

                                                            कुदरत का संगीत  सुनाते
                                                            काले-काले बादल ,
                                                            इस धरती से उस अम्बर तक
                                                            उड़ने वाले बादल !

                                               खेत-खेत और  पर्वत-जंगल ,बारिश की बौछार हुई !

                                                              दूर कहीं छुप गयी जाकर
                                                              उमस भरी वह गर्मी ,
                                                              बैसाख-जेठ के सूरज ने
                                                              छोड़ी अपनी हठधर्मी !

                                              मेहनत के मौसम की फिर से आज मधुर पुकार हुई !

                                                                हँसते-झूमते मस्ती में
                                                                निकल पड़े खेतों की ओर ,
                                                                ये किसान हैं श्रम -सिंचन से
                                                                जोडेंगे नव-युग की  डोर  !

                                              हल और बैलों की अब देखो , फिर तेज रफ़्तार हुई !   

                                                                                                 -  स्वराज्य करुण



छाया चित्र google  से साभार
.
                                                                       

Friday 24 June 2011

(ग़ज़ल ) ये किसकी रात है ?

                                                                                              
  कुछ हसरतें हैं दिल में ,कुछ ख्वाहिश की रात है
तुमको भला बताएं क्या ,  बारिश की रात है !

मेरी नहीं,तेरी भी  नहीं , इसकी नहीं, न उसकी
  सितारों से  झिलमिल चूनर में  किसकी रात है !
                                     
                          कुछ दीवानगी  में कट रहे , कुछ वीरानगी में पल   ,                
    कहीं  दिन हैं दीवानों के ,   लावारिस की रात है !

     रौशन हो किसी की जिंदगी भी यहाँ  किस तरह ,
 हाथों में अपने   भीगी हुई माचिस की रात है !

        दो वक्त की रोटी के लिए बेस्वाद गुजरता  मौसम ,
         नमकीन ,कहीं  काजू ,कहीं किशमिश की रात है  !
                                          
        हमसफ़र न जाओ छोड़ के   सपनों  को अधूरा  ,
      आज तुम्हारे दर पे सुनो , गुजारिश की रात है !
                                         
                                                                               - स्वराज्य करुण
  

Wednesday 22 June 2011

(गीत) शिल्पकार-से बादल

                                                  
 

                                                        घूम रहे हैं बाल बिखेरे 
                                                        अपनी धुन में, मस्ती में ,
                                                         नए-नए आकार बनाते 
                                                         शिल्पकार -से बादल !

                                                         सफर शुरू होता है इनका 
                                                         सागर की फ़ैली बांहों से ,
                                                         कितने मोडों से हैं गुजरते ,
                                                         जाने कितनी राहों से !

                                                          दिल में सबके भले की चाहत ,
                                                          देते सब प्यासों को राहत ,
                                                          सारे जग को नीर बाँटते ,
                                                          बड़े प्यार से बादल  !

                                                           ठहर-ठहर कर गाँव-शहर ,
                                                           जंगल-जंगल ,घाटी-घाटी ,
                                                           धरती के आंचल को भिगोए ,
                                                           चूमें हर एक खेत की माटी !

                                                            अपना हलधर खुश हो जाता ,
                                                            मेघों  का जब रंग गहराता ,
                                                            मेहनतकश इंसान को 
                                                            लगते पुरस्कार-से बादल !

                                                                           --  स्वराज्य करुण


छाया चित्र google साभार

Tuesday 21 June 2011

अब तो चवन्नी बराबर भी नहीं हमारी हैसियत !

                                                              
                                                                                                             - स्वराज्य करुण
  
           देश में गली-मुहल्लों के दुःख-दर्द को लेकर आवाज़ उठाने वाला कोई 'चवन्नी  छाप '  अब  कहीं नजर नहीं आएगा . किसी भी पार्टी में कोई 'चवन्नी  सदस्य'  नहीं होगा . अब  किसी  चुनावी मौसम में लोग 'एक चवन्नी  तेल में - अमुक जी गए जेल में ' जैसा  दिलचस्प नारा सुनने को  भी  तरस जाएंगे . किसी भिखारी को दया  भावना से चवन्नी  देने पर वह लेने से साफ़ इनकार कर देगा ,हालांकि भिखारी अब तो अठन्नी भी नहीं लेना चाहते .फिर चवन्नी  भला क्यों लेने लगे ?
       अब कोई किसी को चवन्नी  छाप कहकर उसका मजाक नहीं उड़ा पाएगा . यहाँ तक तो करीब-करीब सब ठीक -ठाक रहेगा ,लेकिन उस वक्त क्या होगा ,जब हम अपने नन्हें बेटे-बेटियों को यह नहीं बता पाएंगे कि एक रूपए का चौथाई हिस्सा कितना होता है ? बाज़ार में पचहत्तर पैसे का कोई सामान नहीं खरीदा जा सकेगा . सीधे-सीधे या तो एक रूपए का नोट दीजिए, या नहीं तो आगे रस्ता नापिए!
                 इस तरह की बहुत सी बेतरतीब आशंकाओं के बादल  दिल के आकाश में उमड़ने -घुमड़ने लगे हैं,जब से भारतीय रिजर्व बैंक ने यह ऐलान किया है कि वह पच्चीस पैसे यानी चवन्नी  और उससे कम कीमत के सिक्कों को आगामी ३० जून २०११ से बंद करने जा रहा है. इस तारीख के बाद ये सिक्के कानूनी मुद्रा के रूप में मान्य नहीं होंगे . आर.बी आई. ने इस घोषणा के साथ ये भी ऐलान किया है कि आम जनता के पास अगर ऐसे सिक्के हैं ,तो वह छोटे सिक्के रखने वाली  बैंक-शाखाओं से २९ जून तक उनका विनिमय करवा ले .इस समय-सीमा में रिजर्व बैंक अपनी शाखाओं में भी इनका विनिमय करेगा.लेकिन उसके बाद क्या होगा ?नन्हें-मुन्नों की गुल्लकों  में संचित सिक्कों में अगर चवन्नी  और पांच-दस पैसे के सिक्के भी हों ,तो वे भी  बहुत ज़ल्द अजायब घर में रखने लायक हो जाएंगे .
       पहले एक नया पैसा भी हुआ करता था . वह गायब हो गया . फिर पांच पैसे , दस पैसे और  बीस पैसे के सिक्के गायब हुए और अब तो बाज़ार में चवन्नी  और अठन्नी तक विलुप्त होने लगे हैं. सरकार ने पांच रूपए और दस रूपए के सिक्के जारी किए ,लेकिन सिक्का गलाकर चांदी काटने के धंधे में लगे चोरों की बुरी निगाहें उन्हें भी गलाने लगीं .लिहाजा ये भी अब नजरों से ओझल होने लगे हैं. सिक्कों के गायब होने के कई और भी कारण होंगे ! सबसे बड़ा कारण तो बढ़ती महंगाई है.
   आज से दस-पन्द्रह साल पहले तक गुमटियों में अठन्नी यानी पचास पैसे में एक कप और चवन्नी मतलब पच्चीस पैसे में हाफ चाय आसान से मिल जाती थी . अब उन्हीं गुमटियों में बिकने वाली चाय  पाच रूपए कप से नीचे नहीं है. आखिर ये बेचारे गुमटी वाले करें भी तो क्या  ?  चायपत्ती और शक्कर की कीमत बढ़ गयी ,तो चाय बनाने की लागत बढ़ना भी स्वाभाविक है . शहरों की झुग्गी-बस्तियों में रहने वाले गरीब मजदूर हों, या गाँवों के खेतिहर श्रमिक और चरवाहे, समाज की अंतिम पंक्ति के लोग अपने मोहल्ले में  छोटी-सी दुकान   में चवन्नी की चायपत्ती और  चवन्नी की शक्कर लेने जाते ,तो दुकानदार खुशी-खुशी उन्हें पुडिया में बांधकर ये सामान दे देता था. इस दुकान में चवन्नी का सरसों तेल या फल्ली तेल भी आसानी से मिल जाता था. गरीबों की छोटी-छोटी ज़रूरतें चवन्नी, और पांच,दस या बीस पैसे के सिक्कों से भी पूरी हो जाती थी .  बढ़ती महंगाई ने उनसे यह भी छीन लिया .
                     महंगाई का एक प्रमुख कारण बेलगाम भ्रष्टाचार भी तो है. काला धन भ्रष्टाचार से पैदा होता है . काले धन के धंधे वालों की हैसियत किसी से छिपी नहीं है .   इस अथाह काले-अँधेरे  महासागर में चवन्नी और उससे कम कीमत के सिक्कों की भला क्या अहमियत  होगी ?  रिश्वतखोरी और कालेधन के अपराधियों से निबटने के लिए बाबा जी चिल्लाते रह गए कि पांच सौ और हज़ार-हजार के नोटों का चलन तत्काल बंद कर दिया जाए ,ताकि कोई भी  लेन-देन इन बड़े नोटों के बजाय अगर छोटे नोटों में हो,तो वह आसानी से सबकी नजरों में आ जाए . इससे भ्रष्टाचारी और रिश्वतबाज लोग आसानी से चिन्हांकित होकर पकड़े जा सकेंगे . सुझाव गलत नहीं था ,लेकिन देश के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे बड़े नोटों के बड़े खिलाड़ी ऐसा क्यों होने देंगे ?
       लिहाजा, उन्होंने हज़ार-पांच सौ के नोटों के प्रचलन  को बंद किए बिना पांच पैसे ,दस पैसे और पच्चीस पैसे के सिक्कों को ही बाज़ार से बाहर का रस्ता दिखा दिया है. यह कह कर कि एक जुलाई से इधर देखना भी मत ! वाकई अब इस देश के  हम  जैसे साधारण नागरिकों  की हैसियत चवन्नी जितनी भी नहीं रह गयी है !
                                                                                                          -   स्वराज्य करुण

Monday 20 June 2011

डाक घर बचत योजनाएं : ब्याज पर भी टैक्स की गाज !

                                                                                                   
                                                                                                                   - स्वराज्य करुण
                 आज की बचत ,कल की सुरक्षा  कह कर आम जनता को डाक घर बचत योजनाओं में रूपया जमा करने के लिए आकर्षित  करने वाले अब किस मुंह से लोगों को सुरक्षित भविष्य के वास्ते उनमे निवेश की नसीहत देंगे,यह देखने वाली बात होगी .खबर आयी है कि केन्द्र सरकार ने पोस्ट-ऑफिस बचत खातों पर जमाकर्ताओं को मिलने वाले ब्याज पर भी आय-कर लगाने का निर्णय लिया है और लागू भी कर दिया है.
                 इस महीने की पन्द्रह तारीख को अखबारों में छपे समाचारों के  अनुसार अगर में आपके व्यक्तिगत बचत-खाते में   जमा-राशि पर आपको  मिलने वाले ब्याज की राशि साढ़े तीन हजार रूपए से ज्यादा है ,तो आपको अधिक ब्याज की राशि पर इनकम-टैक्स भरना होगा   इसी तरह अगर संयुक्त खाते में जमा राशि पर आपको देय ब्याज की रकम सात हजार रूपए से अधिक हो रही है, तो ब्याज की इस अधिक रकम पर भी आपको इनकम-टैक्स लगेगा . यानी हमारे  ब्याज के अधिकार पर आय-कर विभाग  की  गाज  !
              इस प्रकार का निर्णय लेने वालों को यह सोचना चाहिए था कि भारतीय डाक-घर बचत योजनाओं में कोई सफेदपोश डाकू  अपना काला -धन जमा नहीं करता. वह तो स्विस -बैंक से नीचे की  सोचता भी नहीं ! हमारे देश के डाक घरों में अधिकाँश सामान्य तबकों के लोग बचत खाते खुलवाते हैं . आज से कुछ साल पहले तक  छोटे जमा कर्ताओं के लिए डाक-घर बचत-योजनाएं  बहुत आकर्षक हुआ करती थीं. निम्न मध्यम वर्गीय परिवार और सरकारी कर्मचारी वास्तव में डाक-घरों में ही खाते खुलवाया करते थे.  इन बचत-खातों पर कम से कम बारह प्रतिशत वार्षिक ब्याज मिलता था ,लेकिन देश में हो रहे तथाकथित आर्थिक सुधारों के  चलते पिछले  एक दशक में इसमें लगातार कमी की होती  रही है  इससे खातेधारकों में ब्याज दरों का आकर्षण जाता रहा .
   हालांकि आज राष्ट्रीयकृत और अन्य वाणिज्यिक बैंको में भी जमा राशियों पर ब्याज दरें कोई खास लुभावनी नहीं है ,लेकिन भारतीय डाक-विभाग को तो कम से कम अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों के तहत इस पर ध्यान देना चाहिए .क्योंकि बैंकों के मुकाबले उनकी शाखाएं दूर-दराज गाँवों तक विस्तारित हैं और आम जनता की त्वरित पहुँच में हैं . जमाकर्ताओं के जमा धन से आप कितने ही प्रकार के ज़रूरी काम निकालते रहते हैं, लेकिन उन्हें जमा राशि पर आखिर कितना फायदा दे रहे  हैं  ?
    आज की स्थिति में डाक-घर के सेविंग एकाऊंट में सालाना केवल साढ़े तीन प्रतिशत ब्याज मिल रहा है. अगर आपने पांच वर्ष का  रिकरिंग खाता खुलवाया है ,तो उस पर साढ़े सात प्रतिशत और सावधि बचत योजनाओं में एक वर्ष के लिए सवा छह प्रतिशत ,दो साल के लिए साढ़े छह प्रतिशत ,तीन साल के लिए सवा सात प्रतिशत और पांच साल के लिए साढ़े सात प्रतिशत सालाना ब्याज मिल रहा है. राष्ट्रीय बचत पत्र योजना और पन्द्रह वर्षीय लोक-भविष्य निधि यानी पी.पी. एफ. पर जमा करता को आठ प्रतिशत ब्याज दिया जा रहा है. याद कीजिए दस-पन्द्रह साल पहले इन बचत योजनाओं में आपको कितना ब्याज मिलता था ?
       ज़ाहिर है कि  किसी भी जमाकर्ता के लिए ब्याज की ये वर्तमान दरें आकर्षक तो बिलकुल ही नहीं है. फिर भी उसे  मिलने वाले  नाम मात्र के  इस ब्याज पर भी अगर इनकम -टैक्स वालों की निगाहें लगी होंगी तो भला कौन साधारण निवेशक  अपनी मेहनत की कमाई  उसमे जमा करना चाहेगा ?   डाक-घर के बचत  खातों में कोई काला धन जमा नहीं होता .आम जनता की छोटी-छोटी बचत जमा होती हैं
         कीमतें बढ़ रही हैं,  महंगाई आसमान छू रही है ,लेकिन अपना पेट काट कर भविष्य की ज़रूरतों के लिए बचत-योजनाओं में राशि जमा करने वालों के जमा धन पर ब्याज दर में कोई इजाफा नहीं हो रहा है .कर्ज़दार को  बैंक-ऋणों पर जितना अधिक  ब्याज  भरना होता है, उसकी तुलना में उसे अपने खाते में जमा राशि पर न्यूनतम ब्याज मिल रहा  है .  भारतीय रिजर्व बैंक हर कुछ महीनों के अंतराल में अपनी मुद्रा-नीति में  संशोधन  करते हुए रेपो-रेट और रिवर्स रेपो रेट बढा कर व्यावसायिक बैंकों में आवास ऋणों पर ब्याज-दर बढाता जा रहा है , मकान बनाने के लिए कर्ज लेना कठिन होता जा रहा है.
           ऐसे मुश्किल  समय में  डाक घर बचत योजनाओं में अगर जमाकर्ताओं को सरकार जमा राशि पर कुछ बेहतर ब्याज दे और वह ब्याज आयकर से मुक्त रहे ,तो छोटे निवेशकों को काफी राहत मिलेगी.इससे इन बचत योजनाओं को अपनी  खोयी हुई लोकप्रियता भी वापस मिल सकेगी  . 
                                                                                                          -स्वराज्य करुण

Saturday 18 June 2011

(गीत) मेघों का परिधान पहन कर

                             
                                                                                                    - स्वराज्य करुण
                                         
                                            मेघों का परिधान पहन कर आया है इस बार भी पानी ,
                                            भीग रहा है सबका  आंगन ,भीग रही है सबकी छानी !

                                                          नदियों के इठलाने का भी
                                                          आज नया कुछ ढंग हुआ है,
                                                          गर्मी के कवियों का सम्मेलन
                                                          अभी-अभी ही भंग हुआ है !

                                             फ़ैल रही है इधर-उधर अब शीतलता की बौछारें ,
                                             धरती पर खूब उछल-कूद कर बूँदें करती मनमानी  !
                                                 
                                                           दिन में सूरज की सब किरणें
                                                           बादल के घर खेलती हैं ,
                                                           और हवा भी नई बहू-सी
                                                           बारिश की रोटी बेलती है !
                                                                                                                                            
1                                          पग-पग पर हैं रानी -कीड़े  , रेशम-सी मुस्कान बिखेरें ,                              
                                            नटखट  गुड़िया -सी बिजली  करती है खूब मनमानी !

                                                         ढोल-मृदंग अब कौन बजाए
                                                         गलियों में,चौपालों में ,
                                                         अम्बर से संगीत झर  रहा ,
                                                         झीलों, नदियों ,तालों में !

                                          उमंगों के हैं फूल खिल रहे हरियाली के आंगन में ,
                                          नयी तरंगों के झूले में झूलकर खिल गयी  धरती रानी !

                                                                                                           -  स्वराज्य करुण
                                                                   



छाया चित्र  google से साभार
रानी  कीड़े -मानसून की पहली बौछार के बाद धरती पर निकलने वाले
लाल सुर्ख मुलायम  रेशमी त्वचा वाले कीड़े ,जिन्हें छत्तीसगढ़ में रानी-कीड़े के नाम से
जाना जाता  है, जो लगातार बिगड़ते पर्यावरण के बीच अब लगभग विलुप्त हो गए हैं .

Friday 17 June 2011

(कविता ) सवालों की बौछार लिए आ गया आषाढ़ !

                                                                               -  स्वराज्य करुण
                                               बच गए जो
                                               हैवानों की बुरी  नज़रों से 
                                               झूम उठे वो रहे-सहे जंगल ,
                                               गूँज उठे वो बचे-खुचे पहाड़ !
                                               आशाओं के घने बादलों के साथ 
                                               सवालों की बौछार  लिए  
                                               इस बार भी आ गया  आषाढ़  !

                                               होते अगर आज 
                                               कलि-युग में कालीदास ,
                                               उनका 'मेघदूत' पूछता ज़रूर उनसे-
                                               महाकवि ! अब मै क्या देखूं -
                                               किसान को अपनी धरती पर 
                                               विवशता की कहानी लिखते देखूं ?
                                               भू-माफिया के हाथों उसके  खेतों को
                                               यूं ही  बिकते देखूं ? 

                                                बारिश में उजड़ते परिदों को देखूं ,
                                                या उन पर बरसते दरिंदों को देखूं  ?
                                                अस्पताल के द्वार पर
                                                लावारिस मुर्दों को देखूं ,
                                                या  मुर्दों में तब्दील होते
                                                लाचार-गरीब जिन्दों को देखूं  ?
                                                 
                                                अपनी आँखों के आगे 
                                                रहस्य भरी ये पहेली देखूं
                                                रिश्वतबाज  -आदमखोरों  की
                                                कैसे बनी  हवेली देखूं  ? 
                                                काले धन के काले बादल 
                                                जहां बरसते हर मौसम में ,
                                                वहाँ क्या  कुदरत के
                                                आषाढ़-सावन को देखूं ,
                                                या सोने की  सल्तनत के रावण को देखूं  ?
                              
                                             
                                                 घिर जाते अगर  महाकवि 
                                                 मेघदूत के सवालों से  ,
                                                 सचमुच बेज़वाब हो जाते ,
                                                 उम्मीदों  में  आए सपने ,
                                                 सबके सब फिर ख्वाब हो जाते  !
                                                                        
                                                                                         -  स्वराज्य करुण


                                                                                                            

Wednesday 15 June 2011

दागी चेहरे ओझल होंगे सत्याग्रहों के सैलाब में

                  
         बाबा ने नौ दिनों से जारी अपना अनशन जूस पी कर  तोड़ दिया  अन्ना भाऊ ने  जन लोकपाल विधेयक तैयार करने के लिए १५ अगस्त तक का वक्त देते हुए  राजघाट पर बापू की समाधि पर अपना एक दिन का अनशन यह कह कर तोड़ा है कि अगर १५ अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस तक इस क़ानून की स्पष्ट घोषणा नहीं होगी तो वे अगले दिन १६ तारीख से फिर अनशन शुरू कर देंगे . बाबा का आमरण अनशन काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ था, उन्होंने अनशन तोड़ते हुए यह घोषणा भी की है कि राष्ट्र-हित के इन मुद्दों पर उनका आंदोलन जारी रहेगा ,लेकिन फिलहाल तो उन्होंने एक विराम लिया है ,जो स्वाभाविक है. आगे वे कब दोबारा ऐसी कोई शुरुआत करेंगे ,इस बारे में अभी उनकी तरफ से कुछ भी नहीं कहा गया है . अन्ना साहब ने भ्रष्टाचार पर लगाम कसने के लिए जन-लोकपाल क़ानून बनाने दो माह का वक्त दिया .है.
      काला धन बटोरने वाले और भ्रष्टाचार करने वाले खुश हैं कि चलो कुछ दिनों के लिए ही सही ,बला तो टली . ऐसे लोग राहत की सांस ले रहे हैं . वे बहुत प्रसन्न हैं कि जनता की याददाश्त बहुत कमजोर होती है . लेकिन मेरा दिल कहता है किआज की दुनिया में यह उनकी भारी गलतफहमी  है . बाबा  और अन्ना के आंदोलनों का स्वरुप चाहे जैसा भी रहा हो,  दोनों इस मायने में कामयाब कहे जा सकते हैं कि इन सत्याग्रहों के जरिये देश के हर गाँव और हर शहर के प्रत्येक घर-परिवार तक इनका सन्देश तो पहुँच ही गया.. देशवासी समझने  लगे हैं कि देश की दौलत को लूट कर देश-विदेश में अपने गुप्त बैंक-खातों को लबालब करने वाले देशद्रोही आखिर कौन हैं . सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद भले ही उनका नाम बताने से परहेज़ किया जा रहा हो, लेकिन जनता को यह संकेत तो मिल ही गया है कि ये सफेदपोश डाकू आखिर हैं कौन ? पहले की तुलना में आज शिक्षा और साक्षरता काफी बढ़ गयी है .इससे जनता में समझदारी  भी  काफी विकसित हो चुकी है. इसलिए सफेदपोश डाकुओं को भी यह समझ लेना चाहिए कि उनके सर से बला अभी टली नहीं है,बल्कि वह तो इन डाकुओं के  लिए शामत बनकर  अभी आने वाली है.
                       दुनिया में जहां अच्छाई और सच्चाई का साथ देने वालों की संख्या बहुत विशाल है, वहीं कुछ ऐसे भी लोग हैं , जो किसी भी अच्छे और सच्चे मकसद से किए जाने वाले कार्यों का मजाक उड़ाने से नही चूकते भले ही उनकी संख्या मुट्ठी भर क्यों न हो, पर उन्हें हर नेक इरादे में खोट नज़र आता है. क्या बाबा रामदेव और अन्ना साहब अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए सत्याग्रह कर रहे थे ? क्या देशवासियों की मेहनत की कमाई को मुट्ठी भर लुटेरों के हाथों में जाने से रोकने और काले धन की वापसी की बाबा रामदेव की मांग अनुचित है ? क्या काले धन को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करने की उनकी मांग  राष्ट्र-हित में नहीं है ? क्या अन्ना साहब जन-लोकपाल विधेयक में देश के शीर्ष पदों को भी इस प्रस्तावित क़ानून के दायरे में लाने की मांग करके कोई गुनाह कर रहे हैं ? क्या शीर्ष  पदों को सुशोभित करने वाले लोग ऐसे आसमानी  फ़रिश्ते हैं ,जो इस धरती पर कभी कुछ गलत कर ही नहीं सकते ? अगर वे इतने पाक-साफ़ हैं तो जन-लोकपाल के दायरे में आने में संकोच क्यों कर रहे हैं ? जब देश की १२१ करोड़ जनता संविधान के अनुरूप हर प्रकार के क़ानून के दायरे में  है,  तो इन ऊंचे पदों पर काबिज इक्का-दुक्का लोग स्वयम को जनता से अलग क्यों मानते हैं ? फिर वे जनता के मतों से जीतकर शीर्ष पदों को धारण करने से पहले उस संविधान की शपथ क्यों लेते हैं, जिसकी नज़रों में राजा हो , या रंक, लोकतंत्र में क़ानून सबके लिए एक बराबर है !
       बहरहाल योग ऋषि स्वामी रामदेव और समाजसेवी अन्ना हजारे साहब का सत्याग्रह आंदोलन भले ही अलग-अलग समय में हुआ, कुछ वैचारिक मतभेद भी उभरे , लेकिन मेरा दिल कहता है कि .दोनों के लक्ष्य और दोनों की भावनाएं लगभग एक हैं. दोनों इस महान देश को भ्रष्टाचार और कालेधन की काली छाया से मुक्त करवाना चाहते हैं . अपने इस लक्ष्य तक दोनों अकेले नहीं,बल्कि आम जनता के साथ आगे बढ़ रहे हैं . भले ही अभी उन्होंने थोड़ा विराम लिया है. लेकिन बहुत जल्द उनकी  सत्याग्रह यात्रा फिर शुरू होगी. मेरा दिल कहता है कि बाबा और अन्ना अगर एक साथ कदम से कदम मिलाकर और सबको साथ लेकर आगे बढ़ें ,तो उनके इस सात्विक सत्याग्रह को और भी ज्यादा ताकत मिलेगी
       कौरवों की भरी सभाओं  में कई बार पांडवों का मजाक बनाया गया था .  ठीक उसी तर्ज पर आज भले ही कुछ लोग बाबा और अन्ना के  अहिंसक आंदोलनों  का मजाक उड़ा रहे हैं ,  लेकिन दुनिया देख रही है कि उन्हें और उनके सत्याग्रह  को उपहास का विषय बनाने वालों के चाल.चरित्र और चेहरे बेनकाब  हो चुके हैं .जनता ऐसे दागदार चेहरों को नफरत से देख रही है. इन बदनुमा चेहरों  को राष्ट्रीय परिदृश्य से अब खुद-ब-खुद ओझल हो जाना चाहिए .नहीं तो अच्छाई और सच्चाई पर आधारित सत्याग्रहों का सैलाब उन्हें दृश्य-पटल से स्वयम ओझल कर देगा .                                                                 स्वराज्य करुण

Sunday 12 June 2011

पत्थरों से टकराने नुकीले पत्थरों की ज़रूरत

                        
             देहरादून के हिमालयन अस्पताल में दाखिल कराने के बावजूद  बाबा रामदेव का आमरण अनशन आज नवमें दिन भी जारी है. काले धन को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करने ,विदेशी बैंकों में जमा भारतीयों के काले धन को वापस लाने, उनका नाम उजागर करने ,देश के बच्चों को स्वदेशी भाषा में शिक्षा दिलाने जैसी उनकी मांगों पर भला किसी को क्यों कोई ऐतराज होना चाहिए  ?
   ये सभी मांगें राष्ट्र-हित और जन-हित से सम्बन्धित हैं.इसलिए आम-जनता को तो इन पर कोई आपत्ति नहीं है,लेकिन जिन लोगों के हाथों में  इन मांगों को पूरा करने की ताकत है, वे ज़रूर ' किन्तु-परन्तु' करते हुए इन्हें नज़रअंदाज़ कर रहे हैं ,क्योंकि अगर ये मांगें पूरी कर दी गयी ,तो उन्हें जनता के सामने बेनकाब होना पड़ेगा  .फिर जनता  उनका क्या हाल करेगी ,यह सोच कर ही उनकी रूह काँप रही होगी . शायद इसीलिए वे योग-गुरु रामदेव के आमरण-अनशन और उनकी हालत चिंताजनक होने के बावजूद बेशर्मों और बेरहमों की तरह  चुप्पी साधे हुए हैं. राष्ट्रीय स्तर के एक अर्ध-विक्षिप्त व्यक्ति  द्वारा अपने पागलपन का नमूना पेश करते हुए आज भी यह कहा गया कि अनशनरत बाबा को मनाने कोई नहीं नहीं जाएगा ,जबकि पूरी  दुनिया देख रही है कि बाबा के गिरते सेहत की फ़िक्र करने वालों ने ही उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया है  और बाबा से मिलने प्रसिद्ध संत श्रीश्री रविशंकर महाराज कल ११ जून से वहाँ मौजूद हैं .आज एक और लोकप्रिय संत मोरारी बापू के देहरादून जाने की खबर है. देश भर से कई राष्ट्रीय नेता और लाखों लोग उनसे आमरण-अनशन तोड़ने की अपील कर रहे हैं .निश्चित रूप से राष्ट्र-हित के मुद्दों को लेकर बाबा के सत्याग्रह से देश में भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ जन-जागरण की एक नयी लहर पैदा हुई है, जो आगे चल कर धन-पशुओं के खिलाफ एक भयानक सुनामी में बदल सकती है.इस संभावित जन- सुनामी का नेतृत्व भी बाबा और उनके सहयोगियों को करना होगा .
        इसलिए मेरा दिल भी यह कहता है कि बाबा को अब अपना आमरण अनशन तोड़ देना चाहिए .जिन लोगों से अपनी सार्वजनिक मांगों को मनवाने के लिए वे अनशन कर रहे हैं ,ऐसे तमाम लोग बेहद पत्थर दिल हैवान हैं. बाबा को इन हैवानों से इंसानियत की उम्मीद नहीं करनी  चाहिए .इन पत्थर-दिल पत्थरों से टकराने के लिए अपने हाथों में नुकीले पत्थर लेकर आगे आना होगा .अगर आप आमरण अनशन पर यूं ही बैठे रहे , तो यह कैसे हो पाएगा ? देश के लिए और देशवासियों के लिए आपका जीवन बहुत कीमती है . इसे व्यर्थ न जाने दें .
                                                                                                            -  स्वराज्य करुण

Friday 10 June 2011

अन्ना का अनशन और भ्रष्ट अधिकारी के ठिकानों पर छापा !

        यह वाकई एक अनोखा संयोग नहीं तो और क्या है कि   जिस दिन काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर दिल्ली के राजघाट में समाजसेवी अन्ना हजारे साहब का एक दिवसीय सत्याग्रह और अनशन चल रहा था,ठीक उसी दिन  यानी आठ जून को छत्तीसगढ़ सरकार  भष्टाचार के विरुद्ध अपने छापामार अभियान को तेज करते हुए राज्य के एक सहायक आबकारी अफसर के महासमुंद, रायपुर, भिलाई नगर और   राजनांदगांव समेत   कुनकुरी (जिला_जशपुर ) स्थित उसके ठिकानों पर दबिश देकर लगभग तीन करोड़ १८ लाख रूपए की अनुपातहीन संपत्ति का मामला उजागर कर रही थी. निश्चित रूप से मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की सरकार इसके लिए जनता की ओर से सराहना और धन्यवाद की पात्र है . कि वह राज्य में भ्रष्ट अफसरों की काली कमाई को उजागर करने के लिए लगातार छापे डलवा रही है. इससे सरकार की सदाशयता भी उजागर होती है कि वह शासकीय सेवाओं में शुचिता की हिमायती है.
      स्थानीय अखबारों के अनुसार   भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो यानी ए.सी.बी .के छापामार दल ने इस अधिकारी की पत्नी के नाम पर भिलाई नगर के एक बैंक में रखा लॉकर खुलवाया तो सब उस वक्त भौचक रह गए जब इस लॉकर से करीब दस फीट लंबी सोने की चैन मिली ,जिसकी कीमत साढ़े आठ लाख रूपए होने का अनुमान लगाया जा रहा है.इस लॉकर से सोने के दो बिस्किट भी मिले हैं .  मामूली मासिक वेतन वाले द्वितीय श्रेणी के  अधिकारी के यहाँ छापे की कार्रवाई में मिली चल-अचल संपत्ति पर ज़रा एक नज़र आप भी डालिए तो सही-
     मैत्री कुञ्ज भिलाई नगर में नौ हजार वर्ग फीट ज़मीन पर एक करोड़ तीस लाख रूपए का एक मकान,  राजनांदगांव के बन सांकरा में सोलह एकड़ के रकबे में एक विशाल फ़ार्म हाऊस और दोमंजिला मकान , जशपुर जिले के कुनकुरी में १८ हजार वर्ग फीट भूमि पर चालीस लाख रूपए का मकान, ग्राम खल्लारी के पास तेलीबांधा में १५ लाख रूपए की छह एकड़ ज़मीन, तीन मोटर कारें , लगभग तेरह लाख ६१ हजार रूपए मूल्य के सोने-चांदी के आभूषण ,और भी न जाने क्या-क्या !
                         भ्रष्ट अधिकारी पर यह कार्रवाई एक ऐसे मौके पर चल रही थी ,जब भारत स्वाभिमान मंच ने काले धन और भ्रष्टाचार के विरोध में बाबा रामदेव के सत्याग्रह और उनके  हजारों सत्याग्रहियों पर दिल्ली में चार जून को हुए अत्याचार के खिलाफ छत्तीसगढ़ बंद का आव्हान किया था ,जो काफी शांत और सफल रहा .  एक  भ्रष्ट अधिकारी की काली कमाई का यह सरकारी खुलासा  और उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई मेरे ख़याल से अन्ना साहब के सत्याग्रह और बाबा रामदेव के आंदोलन की भावनाओं के अनुरूप  है.  अधिकारी पर भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम १९८८ के प्रावधानों के अनुसार जुर्म दर्ज कर लिया गया है.   देश के सभी राज्यों में आर्थिक अपराध और भ्रष्टाचार  निरोधक ब्यूरो हैं .अगर वे भी छत्तीसगढ़ सरकार की तरह ठान लें कि भ्रष्ट लोगों की करतूतों को उजागर करना है,और उन्हें क़ानून के हवाले करना है, तो  प्रशासन  में भ्रष्टाचार काफी हद तक कम हो सकता है.      
                                                                                                                          स्वराज्य करुण

Wednesday 8 June 2011

(गीत) किस दुनिया के जन्तु ?

                               
                                   काले धन के धंधे वाले किस दुनिया के जन्तु ,
                                   नाम बताने में शर्माते ,कहते किन्तु-परन्तु  !

                                               देश की दौलत लूट -लूट कर  
                                               भरते अपनी तिजोरी ,
                                               गुप्त-बैंक शाखाओं में   
                                               करते  हिसाब चोरी-चोरी !

                                     हवाई जहाज़  में  रोज  घूमते ये डकैत घुमन्तू   ,       
                                     काले धन के धंधे वाले किस दुनिया के जन्तु !

                                               हिसाब मांगने पर चलवाते  ,
                                               आधी रात को लाठी ,
                                               अगली बार करेंगे छलनी 
                                               जन-गण-मन की छाती !

                                       ये रावण हैं,इनका वध करने चल  राम बन तू ,
                                       काले धन के धंधे वाले किस दुनिया के जन्तु  !
                                     
                                                खून-पसीने से जनता 
                                                देती है  इनको टैक्स ,
                                                उसी रकम से मौज -मजा कर
                                                ये होते रिलैक्स !
                                            
                                      माया जाल है इनका ऐसा दिखे न कोई तन्तु,
                                      काले धन के धंधे वाले किस दुनिया के जन्तु !
                                                   
                                               भ्रष्ट आचरण से  है खूब
                                               याराना  जिनका ,
                                               उन चोरों के चेहरों पर 
                                               नजर आ रहा तिनका !      
                                     
                                      इनकी बातों में न बहकना मेरे भोले मन तू ,
                                      काले धन के धंधे वाले किस दुनिया के जन्तु !      

                                                                                            --- स्वराज्य करुण                       

Monday 6 June 2011

(ग़ज़ल ) चालबाज की चालाकी !

                              
                              
                                    जिनके कपड़े जितने उजले ,जितना उजला तन है ,
                                    उनके उतने ही भीतर  कोई  स्याह  फरेबी  मन है  !

                                    जिनके जितने ऊंचे महल और विशाल आँगन हैं,
                                    उनकी तिजोरियों में उतना  लूट-मार का धन है !

                                    धन-धान्य से पुण्य धरा थी , क्या से क्या कर डाला ,
                                    उनकी  करतूतों  से घायल देश का  हर एक  जन है   !

                                     चारों ओर  खूब चल रही लीपा-पोती , हेरा-फेरी
                                     सफेदपोश हाथों में कैद अब भारत का ये चमन है !

                                     चालबाज ने चालाकी से बेची  वतन की अस्मत
                                      जन्म-भूमि के कण-कण में बस अब केवल क्रन्दन  है  !

                                      रिश्वत के ही  दम पे जिनकी मनती रोज  दीवाली  ,
                                      बेशर्मों  की  बस्ती में  आज उन्हीं का अभिनन्दन है !

                                      गाँव रौंद कर शहर बसाते कदम-कदम पर माफिया ,
                                      मानव-जिस्मों की नींव पर बनते जिनके भवन हैं !

                                       लोकतंत्र के नाम चल रही  ये  कैसी धींगा-मस्ती,
                                        न्याय की लेकर आस अदालत में कटता जीवन है  !
                     
                                       संविधान की कसमें खा कर बैठ गए जो कुर्सी पर
                                       उनसे पूछो कहाँ खो गए उनके जो 'मधुर 'वचन हैं  !

                                       बेईमानों से उम्मीद  करे क्यों  कोई किसी ईमान की  ,
                                       जिनके लिए वतन का मतलब केवल एक  'सिंहासन' है  !

                                                                                             --  स्वराज्य करुण

Sunday 5 June 2011

अंतिम विजय 'राम' की होगी !

                                 
                                                                             --  स्वराज्य करुण

                                    राम तो हर युग में
                                    शाश्वत और अजर-अमर हैं
                                    लेकिन रावण का पुनर्जन्म
                                    लगता है इस घोर
                                    कलियुग का असर है /
                             
                                    भारत माता के धन-वैभव की
                                    सीता का अपहरण कर
                                    स्विस -बैंकों के सोने की लंका में
                                    कैद कर लिया जिसने
                                     देश की संसद में
                                    अट्टहास करता है
                                    आज का वह रावण ,
                                    तभी तो अब हर दिन आँसू
                                    बहाती है मेरे देश की धरती पावन /

                                    बर्दाश्त नहीं हुई जब
                                    जननी -जन्म -भूमि की वेदना
                                    राम के साथ जाग उठी लाखों -लाख
                                    भारतवासियों की संवेदना /
                                    सहा नहीं गया जब
                                    स्विस-बैंक में बंधक
                                    सीता का क्रन्दन
                                    राम की सेना में शामिल हुआ
                                     देश का जन-जन /
                
                                    आज का रावण चूंकि लंका में नहीं
                                    दिल्ली में राज करता है ,
                                    इसलिए उसके खिलाफ राम-भक्तों का
                                    गुस्सा वहाँ की सड़कों पर
                                    हुंकार भरता है /
                              
                          
                                   रामलीला के मैदान में
                                   उस दिन भी यह कोई
                                   नाटक नहीं था ,सच्चाई थी
                                   रावणों से देश को बचाओ ,
                                   सीता को स्विस-बैंक  की
                                   जंजीरों से छुड़ाओ ,
                                   आवाज़ यह देश के
                                    कोने-कोने से आयी थी /
                                   राम और रावण के बीच
                                   यह एक और बड़ी लड़ाई थी /
                             
                                  राम की निहत्थी सेना
                                  सत्य ,अहिंसा और नैतिकता के
                                  हथियारों से सुसज्जित थी ,
                                  जबकि रावण की सेना के
                                   कायरता पूर्ण हमलों से
                                   मानवता लज्जित थी /

                                   रामदेव को और राम के देवों को
                                   रावण और रावण के दानवों ने
                                   कर लिया गिरफ्तार रातों-रात ,
                                   देश की इज्जत पर किया
                                   बेरहमी से बार-बार आघात /
                                  
                                    दिल्ली के सिंहासन का
                                    सुख भोग रहे रावण
                                    सत्ता के नशे में शायद
                                    यह भूल गए कि यह राम का देश है /
                                    सीता मैय्या की मुक्ति के लिए
                                    प्राण देने को तत्पर
                                    यहाँ राम की सेना अनंत और अशेष है /
                                  
                                     कलियुग के रावणों !
                                     याद नहीं त्रेता युग का 
                                     अपना इतिहास
                                     तो पढ़ लो ध्यान से फिर एक बार /
                                     चाहे जितना भी कर लो जोर-ज़ुल्म  ,
                                      तुम हारोगे बार-बार  /
                                      फिर तुम्हारी यह सोने की लंका
                                      किस काम की होगी  ?
                                      अंतिम विजय तो राम की होगी  !
                                                                         स्वराज्य करुण
                                                            

                                                  (तस्वीर google से साभार )