Sunday 29 May 2011

(ग़ज़ल) जिंदगी की नदी में !

                                                                                            
                           हमने जिसे  अपने  खून-पसीने से खूब सींचा है ,
                           करीब  उसके जा भी  न सकें , ये कैसा बगीचा है   !

                            कालीन जो तुमने  बनायी, बिछी है  उनके पाँव में ,  
                            घर में तुम्हारे  यहाँ महज  काँटों का  गलीचा है !


                            वो  क्या समझेगा  हमारे दिल के लहू की कीमत ,             
                           जिसने अमन के नाम  दूसरों  का लहू उलीचा है !


                            जिंदगी की  नदी में  थकने लगी  नौका समय की
                            सफर का लम्बा  रास्ता कभी ऊंचा , कभी नीचा है !


                             मुखौटों की  महफ़िल में  असली -नकली कौन यहाँ
                             पहचान कर  न पहचाने कोई , फोटो किसी ने खींचा है !


                              है  किसे परवाह किसी की , इस बेरहम बाज़ार में ,
                              रोने से बताओ  दिल यहाँ कब किसका  पसीजा है !

                           
                                                                                             -- स्वराज्य करुण
                        

Friday 27 May 2011

(ग़ज़ल) केवल जलती सड़क है !



                                      
                                            कितनी तड़क-भड़क है ,देखो कितनी तड़क -भड़क  है ,
                                             देख-देख कर लगता है अब तो ,  शायद यही नरक है !


                                           आग उगलते मौसम में  हरियाली के दुश्मन खुश हैं ,
                                            दूर-दूर तक नहीं है छाया , केवल जलती सड़क है !

                                     
                                           कहते हैं जो दुनिया भर को पेड़ लगाओ-पेड़ लगाओ 
                                           देखो ध्यान से उनकी कथनी -करनी में क्या फरक है !


                                          बेच रहे हैं  खुले आम यहाँ कुदरत के पर्वत -जंगल को  ,
                                          देख के उनकी करतूत  धरा  का   सीना गया दरक है !


                                         उनके महलों के भीतर  कैद रह गयी आज हरीतिमा 
                                         ऐसा क्यों बूझो तो जाने   सबके अपने तरक हैं !

                                                                                            ---   स्वराज्य करुण                                                                

Thursday 26 May 2011

(ग़ज़ल ) अब कहाँ मिलेगी !

                                                                      -- स्वराज्य करुण

                               अब कहाँ मिलेगी   हरी  घास की  नर्म चादर
                               बिछ  रही हर  तरफ डामर की गर्म चादर !

                               अंगार के मौसम में  कहो श्रृंगार कहाँ पाओगे ,
                               न जाने कहाँ जा  बैठी   छोड़ कर शर्म चादर  !

                               देवों के नाम ओढ़ लो  , या चढाओ मज़ार पर  
                               रखती है ढांपकर  सबके कर्म और कुकर्म  चादर !

                               धर्मों  के बिछौने की बनती है शान जो हरदम  ,
                               छुपा लेती है आगोश में सबका  अधर्म चादर !
                              
                               माथे की सलवटें हों , या  बिस्तर की सलवटें ,
                               बेफिक्र  हर हाल  में यहाँ  हर पल  बेशर्म चादर !

                               अमीरों को दिलाती है जो हर वक्त रेशमी  छुअन                
                               काँटों से लहुलुहान है वो  गरीबों का मर्म चादर !

                                कट रही रोज हरियाली   पहाड़ों के जिस्म से  ,
                                कुदरत के बदन जख्मों से  लिपटी है  चर्म चादर !              
                                                                                         -  स्वराज्य करुण
                               

Sunday 22 May 2011

(ग़ज़ल ) कब समझेंगे दोरंगी चालों को ?

                                                                                स्वराज्य करुण

                                    क्या है तुम्हारी जाति ,बोलो क्या है धर्म तुम्हारा ,
                                    गिनती का फरमान है आया  , जो है फ़र्ज़ हमारा !
                            
                                    जाति-धर्म के नाम से   चलती उनकी खूब  तिजारत, 
                                    सिंहासनों के लिए भी इनसे मिलता  खूब सहारा !
                                  
                                     जाने कब समझेंगे  उनकी    दोरंगी चालों को
                                     जिनके दम पे फिरंगियों ने किया था ये बँटवारा !

                                     आसमान पे हिलमिल -झिलमिल करते हैं जो तारे
                                     पूछो उनसे ,किस मज़हब का है कौन सा तारा !     

                                     माटी अपनी किस जाति की, क्या कोई कह पाएगा  ,
                                     फिर क्यों माटी के मानव में जात का  ज़हर उतारा !
                                    
                                     प्यास बुझाने से भी ज्यादा  पानी का क्या  मज़हब
                                     फिर क्यों खून का प्यासा मानव  चमकाए तलवारा !

                                      ज्ञान-विज्ञान की सदी है फिर भी  सोच है सदियों पीछे ,
                                      पढ़े -लिखे भी  खूब लगाते जाति का जयकारा !

                                      आखिर  कब कहलाएंगे हम  एक हैं भारतवासी
                                      खुली  सड़क पर पड़ा है  घायल देश का भाईचारा !

                                      उस चेहरे के दर्द को समझो, कुछ तो खुद  महसूस करो,
                                      डिग्री लेकर भी जो हमेशा फिरता  मारा -मारा !

                                     जाति-धर्म को गिन-गिन कर तुम चमका लोगे  सियासत ,
                                     लेकिन तुमको माफ  न  करेगा  इतिहास का हरकारा !
                                                                                               स्वराज्य करुण

Friday 20 May 2011

निष्प्राण नदी को नया जीवन

                                                                                                         स्वराज्य करुण
शहर  से अपने गाँव जाने के लिए जब कभी सूखे मौसम में उस रास्ते से गुजरता ,   बिरकोनी और तुमगांव के बीच मुख्य सड़क पर  एक छोटे पुल के नीचे से निकलती वह नदी मुझे एकदम वीरान और बेजान नज़र आती . लगता  जैसे कितने युगों से वह बूँद-बूँद पानी के लिए तरसती कोई प्यासी आत्मा है .लेकिन उस  दिन जब उधर से निकला और पुल के आजू-बाजू  निगाहें घूमीं ,तो नज़ारा ही बदला हुआ नज़र आया ..उसके रेतीले आँचल में पानी लहरा रहा था. जल-राशि के दर्पण पर नीले आकाश में तैरते कपसीले बादलों के प्रतिबिम्ब आँखों के रास्ते दिल में एक खुशनुमा एहसास जगा रहे थे .
  छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से कोलकाता की ओर जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 53 पर पर्यटन मंडल के मोटल के पीछे ग्राम कांपा के नजदीक हाल के वर्षों तक यह स्थानीय नदी बारिश के चार महीने खत्म होते ही लगभग सूख जाती थी। गर्मियों में तो ऐसा लगता था मानो कोडार नाला के नाम से जानी पहचानी यह छोटी नदी चैत्र, 
794-1-190511

बैशाख और जेठ की  उमस भरी चिलचिलाती धूप में मुरझाकर निष्प्राण हो गयी हो। लेकिन अब मौसम   के इन्हीं बेहद गर्म दिनों में भी इसमें तन-मन को सुकून देने वाला भरपूर पानी है। ऐसा लगता है मानो एक मरती हुई नदी को किसी संजीवनी से नया जीवन मिल गया है। इसके किनारों पर आंखों को राहत पहुंचाने वाली  हरियाली का नजारा भी राहगीरों को खूब भाने लगा है।    यह कमाल कर दिखाया है इस नदी पर छत्तीसगढ़ सरकार के जल संसाधन विभाग द्वारा सिर्फ डेढ़ साल पहले बनवाए गए एक एनीकट ने, जिसका निर्माण कांपा में लगभग तीन करोड़ रूपए की लागत से किया गया है। यह एनीकट इस नदी के लिए संजीवनी बूटी की तरह जीवन देने वाला साबित हुआ है। नवम्बर 2007 में इसका निर्माण शुरू हुआ था, जो विगत दिसम्बर 2009 में पूर्ण कर लिया गया। 

794-2-190511 
यह एनीकट राजधानी रायपुर से लगभग पचपन किलोमीटर की दूरी पर है। इसमें आज गर्मियों में भी इतना पानी है कि महासमुंद जिले के ग्राम गोपालपुर, कांपा और मुस्की के सैकड़ों ग्रामीणों को इसमें निस्तार की अच्छी सुविधा मिल रही है। दिन भर की गर्मी से तपते शरीर को राहत पहुंचाने के लिए इन गांवों के लोग हर शाम इस एनीकट में नहाने आते हैं। जब से यह एनीकट बना है, यहां बच्चे और वयस्क सभी इसमें तैरने और डुबकियां लगाने का भरपूर आनंद लेने लगे हैं। पशुओं के पीने के लिए भी पर्याप्त पानी मिलने लगा है। एनीकट के आस-पास के इलाके में भू-जलस्तर बढ़ने लगा है। निकटवर्ती गांवों के अनेक किसान इसका लाभ उठाकर गर्मियों में रबी मौसम की फसल लेने लगे हैं। कांपा निवासी श्री दौलत सोनी एक महाविद्यालय में बी.एस-सी. (पूर्व) के छात्र हैं। गर्मी की छुट्टियों में गांव आए थे। वे भी शाम को इस एनीकट में नहाने पहुंचे। उन्होंने कहा कि इस एनीकट के बन जाने से अब यहां गर्मियों की शाम लोगों की चहल-पहल बढ़ जाती है। उल्लेखनीय है कि महासमुंद जिले में गोपालपुर (कांपा) के अलावा ग्राम गाड़ाघाट में भी एक एनीकट का निर्माण लगभग ढाई करोड़ रूपए की लगात से करीब दो वर्ष पहले 30 मार्च 2009 को पूर्ण कर लिया गया है। इसके बन जाने से तुमगांव, कौंदकेरा और बनसिवनी के ग्रामीणों के कुंओं में जल स्तर बढ़ गया है और तपते मौसम में भी उनमें पर्याप्त पानी रहने लगा है। निस्तारी की पर्याप्त सुविधा भी ग्रामीणों को मिल रही है।  794-3-190511लोग रबी फसलों की खेती में भी दिलचस्पी लेने लगे हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग 53 के किनारे ग्राम अछोली के पास एक तालाब भी बनवाया गया है। इसमें भी आज की स्थिति में काफी पानी है। इसके फलस्वरूप आस-पास की जमीन पर इस सूखे मौसम में भी इतनी हरियाली आ गयी है कि ग्रामीणों के पशुओं को भरपूर हरा चारा भी मिल रहा है.
    ज्ञातव्य है कि नदी-नालों में बारिश के पानी को व्यर्थ बह जाने से रोकने और उसका उपयोग निस्तारी सुविधा, सिंचाई और भू-जल संवर्धन के लिए करने के नेक इरादे से छत्तीसगढ़ में नदी-नालों पर एनीकटों के निर्माण की एक विशेष कार्ययोजना बनायी गयी है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के निर्देश पर सात वर्षों के लिए तैयार इस कार्य योजना के तहत प्रदेश में दो हजार 137 करोड़ रूपए की लागत से वर्ष 2012 तक 595 एनीकटों के निर्माण का प्रस्ताव है। इसके अन्तर्गत अब तक 197 करोड़ रूपए की लागत से 110 एनीकटों का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है, जबकि 115 एनीकट अभी निर्माणाधीन है, जिन पर लगभग 690 करोड़ रूपए की लागत आएगी। दरअसल बड़े बांधों की तुलना में एनीकटों के निर्माण में लागत बहुत कम आती है। इनमें पानी जमा होने के बाद अतिरिक्त पानी ओवर फ्लो होकर नदी अथवा नाले में आगे निकल जाता है और दूर तक लोगों को इसका लाभ मिलता है। अब तक बन चुके 110 एनीकटों में से सर्वाधिक 24 एनीकट दुर्ग जिले में बनवाए गए हैं। राजनांदगांव जिले में 13, कबीरधाम (कवर्धा) जिले में आठ, महासमुंद और रायपुर जिलों में सात-सात एनीकट तैया हो चुके हैं। सरगुजा और कोरिया जिलों में छह-छह, बिलासपुर जिले में पांच, जांजगीर-चांपा, कोरबा और रायगढ़ जिले में तीन-तीन, उत्तर बस्तर (कांकेर) जिले में दो और धमतरी जिले में एक एनीकट का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है। जहां कहीं भी एनीकट बनाए गए हैं, वहां के नदी-नालों में जल धाराओं के साथ नये जीवन की चहल-पहल लौट आयी है। ये एनीकट छत्तीसगढ़ के सूखते, मुरझाते नदी-नालों के लिए वास्तव में संजीवनी साबित हो रहे हैं।
हम  भारतवासी नदी-नालों के देश के निवासी हैं . गंगा ,यमुना ,गोदावरी , महानदी ,इन्द्रावती ,नर्मदा ,कृष्णा कावेरी जैसी राष्ट्रीय नदियों के साथ-साथ उनकी सहायिकाओं के रूप में अनेकानेक आंचलिक नदियाँ भारत-भूमि को सदियों से तृप्त करती आ रही हैं , इन सहायक नदियों को जल-आपूर्ति के लिए कई बरसाती नाले भी हमारे गाँवों और शहरों के आस-पास प्रवाहित होते रहे हैं . इन सभी नदी-नालों के किनारे सैकड़ों वर्षों से हमारी संस्कृति और सभ्यता फलती-फूलती चली आ रही है. इनके किनारे तीर्थों और धार्मिक मेलों की अपनी परम्परा है. प्यासों को पानी पिलाना पुण्य का कार्य है . लाखों-करोड़ों इंसानों और पशु-पक्षियों की प्यास बुझाकर ये नदी-नाले सैकड़ों-हजारों वर्षों से यह पुण्य करते आ रहे हैं ,जैसे कोई पेड़ अपने फल खुद नहीं खाता ,ठीक उसी तरह नदी-नाले भी अपना पानी खुद नहीं पीते ,बल्कि अपने पानी से वे सम्पूर्ण प्राणी जगत की प्यास बुझाते हैं .लेकिन आधुनिक युग में तेजी से हो रहे शहरीकरण और मायाजाल की तरह फ़ैल रही भौतिक लालसाओं के वशीभूत होकर  इंसान परोपकारी तो अब रहा नहीं , वह नदी-नालों की हिफाजत करना भी भूलता जा रहा है. वह भूल गया है कि कुदरत का वरदान हैं ये नदी-नाले . इंसान सब कुछ बना लेगा ,लेकिन कुदरत के हाथों निर्मित किसी नदी-नाले का निर्माण वह अपने हाथों और मशीनों से कभी नहीं कर सकता . इसके बाद भी वह उन्हें मरणासन्न छोड़ देना चाहता है ,लेकिन छत्तीसगढ़ ने  अपने नदी-नालों के मुरझाते जीवन में रौनक लौटाने और उनकी बेहतर देख -भाल का दायित्व लेकर ऐसे खुदगर्ज़ इंसानों को अपनी मानसिकता बदलने की प्रेरणा दी है और एक नया रास्ता भी दिखाया है.अब देखें, आगे क्या होता है !
                                                                                                                  स्वराज्य करुण
                      

Wednesday 18 May 2011

(ग़ज़ल ) मुज़रिम के सौ गुनाह माफ !

                                     
                                           सब कुछ तो है   साफ़- साफ़ आज-कल ,
                                           अब   कौन किसे दे रहा इन्साफ आज-कल  !
                                
                                    
                                            उजड़ा है घर किसी का  किसी के गुनाह से,
                                            मुज़रिम के सौ गुनाह भी हैं माफ आज कल  !
    
                                      
                                             कातिलों के शहर में नज़र आए कहाँ सुबूत ,
                                             ओढ़ कर  मस्त सो रहे लिहाफ आज-कल !

                                         
                                              खरबों में बनी इमारत है न्याय का मंदिर ,
                                              होता है जहां रूपयों का ही जाप आज-कल !

                                       
                                              पुण्य की गठरी तो उधर कोने में पड़ी  है ,
                                              आँगन में उनके हँस रहा है पाप आज-कल !
                                        
                                       
                                               रग-रग में समाया  है  रिश्वत का ज़हर इतना ,
                                                डरने लगे हैं उनसे   कई सांप आज-कल !
                                      
                                       
                                                बेरहमी से ले रहे  हैं गरीबों के दिल की हाय ,
                                                बेअसर है अमीरों पर अभिशाप आज-कल !
                                           
                                         
                                                                                            -  स्वराज्य करुण
                  
                                     

Sunday 15 May 2011

झिलमिल सितारों से जगमग छत्तीसगढ़

                                                                                                         स्वराज्य करुण

      भारतीय आकाश पर सिर्फ दस साल पहले   उदित हुआ छत्तीसगढ़ एक ऐसा सितारा है, जिसके आभा मंडल में भी कई झिलमिलाते और जगमगाते सितारे हैं,जो अपनी चमक से देश और दुनिया को लगातार रौशन करते  रहे हैं. प्राचीन इतिहास में दक्षिण कोशल के नाम से प्रसिद्ध छत्तीसगढ़  मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की माता कौशिल्या के मायके के रूप में भी जाना-पहचाना जाता है. इस नाते भगवान रामचन्द्र जी से छत्तीसगढ़ वालों का मामा-भांजे का रिश्ता जुडता है . छत्तीसगढ़ में  अपने भांजे को भगवान राम की तरह पूज्य मानकर उनके चरण स्पर्श करने की प्रथा आज भी प्रचलित है. महानदी ,पैरी और सोंढूर नदियों के पवित्र संगम पर पावन तीर्थ राजिम में भगवान श्रीराम का  'राजीवलोचन मंदिर' हर साल माघ पूर्णिमा के वार्षिक मेले में लाखों भक्तों को अनायास आकर्षित करता है. ऐसे महान पुत्र की माता कौशिल्या ने अपने बेटे को ऐसे महान संस्कार दिए  , जिनके बल पर श्री राम का महान व्यक्तित्व मर्यादा पुरुषोत्तम के रूप में विकसित हुआ . इसलिए छत्तीसगढ़ के चमकदार सितारों में माता कौशिल्या की गिनती भी गर्व के साथ होती है.
                     देश  के इस नये राज्य में  अतीत से आज तक अनेक ऐसे प्रकाशवान सितारों का उदय हुआ है  , जिनके ज्ञान और कर्म के आलोक से मानव समाज  ने बहुत कुछ पाया है. छत्तीसगढ़ के ऐसे  मूल्यवान सितारों के महत्व और उनकी महिमा पर केंद्रित एक पुस्तक अभी-अभी छपकर आयी है . पुस्तक का शीर्षक है -'सितारों का छत्तीसगढ़ ' और इसके लेखक हैं वरिष्ठ साहित्यकार डॉ.परदेशीराम वर्मा,जिनके अब तक पांच हिन्दी कहानी संग्रहऔर दो हिन्दी उपन्यास प्रकाशित हो चुके हैं    एक छत्तीसगढ़ी उपन्यास और एक छत्तीसगढ़ी कहानी संग्रह  भी उनकी प्रकाशित पुस्तकों की सूची में शामिल है. वह  विगत चालीस वर्षों से साहित्य जगत में सक्रिय हैं,  जिन्हें पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर  ने वर्ष २००३ में डी.लिट. की मानद उपाधि से सम्मानित किया है.


     डॉ.वर्मा ने छत्तीसगढ़ के जन-जीवन में रचे-बसे छत्तीस जाने-माने लोगों के व्यक्तित्व और कृतित्व पर  अपनी मंजी हुई लेखनी से छत्तीस बेहतरीन शब्द-चित्र तैयार किए और उन्हें एक रंगीन गुलदस्ते का आकार देकर किताब की शक्ल में पेश किया है. इन सितारों में समाज-सेवक , स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और साहित्यकार भी हैं और कलाकार  भी , कहने का आशय यह कि सामाजिक-सांस्कृतिक और साहित्यिक पृष्ठ -भूमि के साथ-साथ जीवन के   लगभग  हर क्षेत्र से उन्होंने इन सितारों को संकलित कर उनकी रौशनी को २४६ पन्नों की अपनी किताब में संजोया है. लेखक ने कहा है कि यह तो छत्तीसगढ़ की चमकदार शख्सियतों पर केंद्रित उनके धारावाहिक आलेखों का पहला भाग है . वह  इसका दूसरा भाग भी बहुत जल्द प्रस्तुत करेंगे .
                बहरहाल , सितारों के परिचय की  इस पहली प्रस्तुति में किताब की शुरुआत   नये राज्य का नेतृत्व कर रहे मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के प्रेरक व्यक्तित्व से की गयी है ,जिन्हें लेखक ने 'ज़मीनी सच्चाई से सरोकार रखने वाले यशस्वी जन-नायक ' शीर्षक से नवाजा है.  सितारों की इस लम्बी श्रृंखला में  पद्मश्री और पद्म-भूषण सम्मान प्राप्त लोकप्रिय पंडवानी गायिका श्रीमती तीजन बाई , पंथी नर्तक स्वर्गीय श्री देवदास बंजारे ,संत कवि और पूर्व सांसद श्री पवन दीवान , तत्कालीन बस्तर रियासत के लोकप्रिय राजा स्वर्गीय श्री प्रवीर चन्द्र भंजदेव, प्रसिद्ध नाट्य  लेखक और निदेशक स्वर्गीय श्री हबीब तनवीर , शब्दभेदी बाण चलाने की विलुप्तप्राय विधा के वयोवृद्ध कुशल निशानेबाज श्री कोदूराम वर्मा और गोवा मुक्ति आंदोलन के सत्याग्रही साहित्यकार स्वर्गीय श्री हरि ठाकुर की जीवन गाथा भी  है.
                  इनके अलावा राज्य के आदिवासी अंचल सरगुजा में शराब बंदी , भूदान आंदोलन ,महिला शिक्षा के अपने रचनात्मक अभियानों के लिए मार्च १९८९ में पद्मश्री सम्मान प्राप्त स्वर्गीय श्रीमती राजमोहिनी देवी ,  राज्य के  प्रथम श्रमिक नेता , सहकारिता आंदोलन के प्रमुख आधार स्तम्भ , स्वतंत्रता सेनानी और पत्रकार स्वर्गीय ठाकुर प्यारेलाल सिंह और वनवासी बहुल बस्तर के लोक-जीवन में तल्लीनता से साहित्य साधना में लगे वयोवृद्ध कवि  लाला जगदलपुरी के यशस्वी जीवन के विविध पहलुओं पर  प्रेरणादायक आलेखों से भी किताब की रौनक और ज्यादा बढ़ गयी है.  
     छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण आंदोलन के अग्रणी नेता,  स्वर्गीय डॉ. खूबचंद बघेल और श्री चन्दूलाल चन्द्राकर ,  सन १९५२ में निर्वाचित यहाँ की प्रथम महिला सांसद स्वर्गीय मिनी माता , अठारहवीं सदी के महान समाज सुधारक संत गुरु घासीदास , वर्तमान युग के   वनवासी संत स्वर्गीय गहिरा गुरु , स्वतंत्रता सेनानी पंडित सुन्दरलाल शर्मा , बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल , वर्ष १९५६ में गठित मध्यप्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री स्वर्गीय पंडित रविशंकर शुक्ल , हिन्दी की पहली कहानी 'टोकरी भर मिट्टी ' के रचयिता महान लेखक माधवराव सप्रे , वर्ष १८९० में प्रथम छत्तीसगढ़ी व्याकरण के रचनाकार हीरालाल काव्योपाध्याय , प्रख्यात कहानीकार और निबन्धकार डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी , रायपुर में रामकृष्ण मिशन-विवेकानंद आश्रम के संस्थापक  स्वामी आत्मानंद  तथा छत्तीसगढ़ी रंगमंच के तपस्वी निदेशक स्वर्गीय डॉ. रामचन्द्र देशमुख और उपन्यासकार तथा कवि स्वर्गीय डॉ. नरेन्द्रदेव वर्मा जैसे  अनमोल सितारों की चमक से भी यह किताब आलोकित हो रही है.
          डॉ. परदेशीराम वर्मा ने भारतीय संस्कृति में पुष्टिमार्ग के संस्थापक महाप्रभु वल्लभाचार्य पर भी अपना एक आलेख इसमें शामिल किया है, जिनका जन्म संवत १५३५ में छत्तीसगढ़ में राजिम के नजदीक चम्पारण्य में हुआ माना जाता है. संत कबीर हालांकि इधर कभी नहीं आए,लेकिन उनके प्रमुख शिष्य धनी धर्मदास ने छत्तीसगढ़ आकर कबीर की अनमोल वाणी को  जन-जन तक पहुंचाने का भगीरथ प्रयत्न किया ,जिसका असर आज भी यहाँ के जन-जीवन पर देखा जा सकता है. इसलिए 'समरसता की धरती छत्तीसगढ़ में कबीर' शीर्षक एक महत्वपूर्ण आलेख भी किताब में शामिल  है .किताब में एक आलेख  हिन्दी के सुपरिचित कथाकार और अपने समय की मशहूर साहित्यिक पत्रिका 'सारिका ' सम्पादक रह चुके स्वर्गीय श्री कमलेश्वर पर लिखा गया है छत्तीसगढ़ उनकी जन्म भूमि और कर्मभूमि नहीं होने के बावजूद उन्होंने यहाँ के साहित्यकारों को भरपूर स्नेह और प्रोत्साहन दिया . लेखक के  मुताबिक़ कमलेश्वर 'छत्तीसगढ़ की विलक्षणता और रचनाशीलता के मुग्ध प्रशंसक ' थे. विभिन्न साहित्यिक आयोजनों में उनके छत्तीसगढ़ प्रवास के कुछ यादगार प्रसंगों को भी लेखक ने इसमें जोड़ा है.
           पुस्तक का  अंतिम  आलेख  डॉ.वर्मा ने 'छत्तीसगढ़ की बेटी , भगवान श्रीराम की माता कौसल्या ' को समर्पित किया है. लेखक के अनुसार छत्तीसगढ़ को दक्षिण कोशल भी कहा जाता है. राजा भानुमंत यहाँ के राजा थे. उन्हीं की सुपुत्री थी कौशिल्या  जी. छत्तीसगढ़ के गाँव चंदखुरी और आरंग में कौशिल्या  मंदिर है. पुस्तक की भूमिका में डॉ. परदेशीराम वर्मा  की इन पंक्तियों से भला कौन इंकार कर पाएगा-  ''शांत प्रकृति के परोपकारी विलक्षण लोगों का छत्तीसगढ़ी आसमान सदा से ही महान सितारों से जगमगाता रहा है .....ऐसे सितारों को आने वाली पीढ़ी भी करीब से जाने , यह ज़रूरी है. ज़रूरी यह भी है कि देश और दुनिया के लोग भी हमारे महापुरुषों, सपूतों, और त्यागी पुरखों को समझें ''   डॉ .वर्मा ने आगे ऐलान किया  है- ''सितारों का छत्तीसगढ़  सिलसिले का यह पहला खंड है. शीघ्र ही अन्य खंडों का प्रकाशन होगा .''
           उम्मीद की जानी चाहिए कि डॉ. परदेशीराम वर्मा की लेखनी से छत्तीसगढ़ के और भी अनेक नामी और गुमनाम सितारों की रौशनी हमें मिलेगी जो  किसी भी निराशा के गहन अँधेरे में समाज को राह दिखाएगी. 
                                                                                                           स्वराज्य करुण

Tuesday 10 May 2011

कृषि संस्कृति के ऋषि तुल्य साहित्यकार

                            साहित्य साधना एक ऐसी खेती के समान है, जो इंसान के दिल की ज़मीन पर कहीं  भी हो सकती है . इसके लिए सिर्फ भावनाओं के बीज और संवेदनाओं के खाद-पानी की ज़रूरत होती है. सच्चा साहित्य साधक उस कर्मठ किसान के जैसा होता है ,जो गर्मी के मौसम में तेज धूप की मार , चौमासे में बारिश की बौछार और जाड़े के दिनों में कड़ाके की ठण्ड के प्रहार सहकर भी सम्पूर्ण  मनोयोग से अपने कार्य को तपस्या मान कर उसमे लगा रहता है. किसान की मेहनत से उगने वाले अनाज से न सिर्फ उसके परिवार का पेट भरता है,बल्कि देश और दुनिया की  भी भूख मिटती है. साहित्य साधक अगर वाकई किसान हो ,तो  वह अपनी दोनों भूमिकाओं में एक मौन तपस्वी की तरह मानवता की भलाई के लिए काम कर सकता है- खेतों में हल और कागज पर कलम चला कर वह दोनों तरीकों से समाज की सेवा कर सकता है .यह सौभाग्य भी वाकई बड़े भाग्य से मिल पाता है .
        यह हमारा  भी सौभाग्य है कि आचार्य डॉ.दशरथ लाल निषाद'विद्रोही ' को  ऐसा सौभाग्य मिला है , जिसके हर एक पल को मूल्यवान मान कर वह  एक किसान और एक साहित्यकार के रूप में समाज के प्रति अपने कर्त्तव्यों  का निर्वहन करते जा रहे हैं और उनकी पारखी कलम से छत्तीसगढ़  की तमाम  ज्ञात-अज्ञात और अल्प-ज्ञात खूबियाँ  हमारे सामने आ रही हैं. जैसे किसान को कभी अपनी मेहनत और अपनी फसल के प्रचार की ज़रूरत नहीं होती , जंगल के फूलों को अपना विज्ञापन करवाने की कोई फ़िक्र नहीं होती , ठीक उसी तरह आचार्य 'विद्रोही जी भी आत्म-प्रचार के मोह से हमेशा दूर -दूर रहते आए हैं . कृषि-संस्कृति और ऋषि -संस्कृति वाले भारत के कृषि-प्रधान राज्य छत्तीसगढ़ में  खेती के ज़रिये धरती माता और साहित्य सृजन   के माध्यम से राष्ट्र की सेवा में लगे आचार्य डॉ. दशरथ लाल  निषाद  की अब तक बीस किताबें छप चुकी है. ,जबकि उनकी चौबीस किताबें प्रकाशन के इंतज़ार में हैं.   वह हिन्दी और छत्तीसगढ़ी , दोनों ही भाषाओं में  समान रूप से साहित्य सेवा में लगे हैं .  उन्होंने कहानी ,कविता , निबन्ध यानी साहित्य की हर विधा में खूब लिखा है . पिछले करीब पचास वर्षों से लगातार लिख रहे हैं. वह सचमुच यहाँ की कृषि-संस्कृति के   ऋषि -तुल्य साहित्यकार हैं.
      महानदी और पैरी नदी के मध्य भाग में  ग्राम मगरलोड उनकी कर्म-भूमि है . यह धमतरी जिले का कस्बानुमा गाँव है ,जिसे अब नगर पंचायत का दर्जा मिल गया है, लेकिन ग्राम्य-जीवन के अपनत्व भरे सहज-आत्मीय संस्कार वहाँ आज भी कायम हैं. इसी गाँव के नज़दीक ग्राम तेंदूभाँठा में २० नवंबर १९३८ को उनका जन्म हुआ . जीवन के उतार-चढ़ाव से भरे कठिन सफर में अपनी राह बनाते हुए उन्होंने जहां हिन्दी साहित्य रत्न की परीक्षा पास कर 'आचार्य' की मानद उपाधि हासिल की ,वहीं आयुर्वेद विशारद की परीक्षा में भी सफल हुए .उन्हें आंचलिक साहित्यकार और एक अनुभवी  आयुर्वेद चिकित्सक के रूप में अच्छी पहचान मिली .




    साहित्य वह, जिसमे सबके हित की बात हो. . स्वान्तः सुखाय हो कर भी साहित्य का झुकाव और जुड़ाव कहीं न कहीं अपने समय और समाज के हित में ज़रूर होता है. डॉ.दशरथ लाल निषाद 'विद्रोही की रचनाओं में भी एक समर्पित साहित्य साहित्य साधक का सामाजिक सरोकार बहुत साफ़ नज़र आता है. वर्ष १९७५ में आपात काल का विरोध करते हुए लोकतंत्र की रक्षा के लिए उन्होंने गिरफ्तार होना और जेल जाना सहर्ष स्वीकार किया और जेल में ७२० घंटे तक मौन धारण कर अपने फौलादी व्यक्तित्व से सबको चकित भी कर दिया .आपातकाल के कुख्यात क़ानून 'मीसा ' में उन्हें बंदी बनाया गया था. उन्हीं दिनों उन्होंने 'मीसा के मीसरी 'शीर्षक कविता लिखी और  इसी शीर्षक से वर्ष २००८ में उनका एक काव्य संग्रह भी प्रकाशित हुआ ,जिसमे  देशभक्तिपूर्ण तीस कविताएँ  शामिल हैं .वह छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण आंदोलन में भी सक्रिय रहे. साहित्य सृजन और समाज सेवा के लिए उन्हें विभिन्न संस्थाओं से अब तक ५२ पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं .
                       छत्तीसगढ़ के माटी पुत्र होने के नाते डॉ. निषाद को यहाँ के जन-जीवन , खान-पान, रहन-सहन , रीति-रिवाज , जंगल-पहाड़ और पेड़-पौधों के साथ-साथ इस माटी की  कला-संस्कृति की भी गहरी जानकारी है. वर्ष २००३ में प्रकाशित उनकी ४८ पृष्ठों की छत्तीसगढ़ी कविता-पुस्तिका में राज्य की धरती पर उगने वाली उन्हत्तर किस्म की भाजियों का और उनके आयुर्वेदिक महत्व का दिलचस्प वर्णन है .     उनका एक  संग्रह'छत्तीसगढ़ के कांदा ' शीर्षक से प्रकाशित हुआ है . इसमें उन्होंने छत्तीसगढ़ की उपजाऊ भूमि पर मिलने वाले ४१ प्रकार के कंद-मूलों  का उल्लेख करते हुए सेहत के लिए उनके फायदे भी गिनाए हैं . पिज्जा और बर्गर वाली शहरी संस्कृति में पलती-बढ़ती हमारी आज की पीढ़ी को शायद इन भाजियों और कंद-मूलों के नाम भी ठीक-ठीक याद नहीं होंगें,उनकी पहचान कर पाना तो बहुत दूर की बात है. क्या कोई बता सकता है -गूमी भाजी, कोलियारी भाजी , मकोइया भाजी .भेंगरा भाजी ,सेम्भर भाजी कैसी  होती है   ? इनका स्वाद कैसा होता है ? क्या कोई बता पाएगा -जिमी कांदा, कलिहारी कांदा , गुलाल कांदा , केंवट कांदा ,ढुलेना कांदा, डांग कांदा , करू कांदा ,जग मंडल कांदा , बनराकस  कांदा ,बरकान्दा और केशरुआ कांदा कैसे होते हैं और मानव-स्वास्थ्य के लिहाज से उनका क्या गुण-धर्म है ? डॉ.निषाद की दोनों पुस्तिकाओं में इन सब जिज्ञासाओं का समाधान हमें मिल जाएगा.सजना -संवरने की आदत हर इंसान में होती है. महिलाओं में यह नैसर्गिक स्वभाव होता है. श्रृंगार तो नारी की पहचान है. छत्तीसगढ़ में श्रृंगार की परम्परा और उसके पारम्परिक तौर-तरीकों पर डॉ. निषाद ने  अपनी किताब 'छत्तीसगढ़ के सिंगार' में प्रकाश डाला है. वे कहते हैं-"'आम तौर पर सोलह श्रृंगार की चर्चा होती है ,लेकिन छत्तीसगढ़ में सोलह तो क्या , बत्तीस और चौंसठ तक श्रृंगार गिनाए जा सकते हैं. ये अलग बात है कि आधुनिकता और पाश्चात्य फैशन के इस दौर में अनेक मूल, प्राचीन और पारम्परिक श्रृंगार अब लुप्त होने लगे हैं."    उन्होंने अपनी इस कृति में छत्तीसगढ़ की 'गोदना 'प्रथा का उल्लेख करते हुए इसे एक्यूपंचर  चिकित्सा पद्धति की तरह स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी उपयोगी बताया है. उनका कहना है कि सुहागन के प्रतीक 'गोदना' को मृत्यु के बाद भी देह के साथ रहने वाला अमिट और श्रेष्ठ श्रृंगार माना गया है.
      छत्तीसगढ़ के लोक-जीवन में 'बासी' खाने की परिपाटी यहाँ के निवासियों को एक अलग पहचान दिलाती है.  रात के  पके हुए चांवल को मांड और पानी मिला कर अगले दिन सवेरे और दोपहर तक भी खाया जा सकता है. भोजन के बाद रात्रि भोजन के बाद शेष रह गए भात से  भी 'बासी' तैयार हो सकती है. विधिपूर्वक खाएं तो यह बासी भात काफी स्वादिष्ट और पौष्टिक होता है. खास तौर पर मेहनतकश किसानों और मजदूरों का यह प्रिय भोजन है. डॉ. निषाद ने अपनी पुस्तक 'छत्तीसगढ़ के बासी ' में अमरित बासी, चटनी बासी , बोरे बासी , दही बासी , कोदो बासी और  पेज बासी जैसे बासी भात के कई प्रकारों का वर्णन करते हुए उनकी विशेषताओं का भी उल्लेख किया है. उन्होंने अपनी एक अन्य पुस्तक 'छत्तीसगढ़ के मितानी  ' में यहाँ के जन-जीवन में मानव-मानव के बीच प्रचलित सामाजिक रिश्तों की दोस्ताना परम्पराओं  का विवरण दिया  है . एक दूसरे के साथ महाप्रसाद , भोजली, गंगाजल ,जैसे आत्मीय रिश्तों में बंधने की रीति और विधि के साथ-साथ मितानी  अर्थात दोस्ती की   आजीवन चलने वाली यह परम्परा आधुनिकता के तूफ़ान में डाल से अलग हुए पत्तों की तरह विलुप्त होने लगी  है ,जिसे  सुरक्षित रखने की हर कोशिश देश और प्रदेश की सामाजिक समरसता के लिए बहुत ज़रूरी है.  
                ग्रामीण जीवन में रचे-बसे   सहज-सरल व्यक्तित्व ,लेकिन धीर-गंभीर कृतित्व के धनी डॉ. निषाद को देख कर   पूर्व प्रधान मंत्री लालबहादुर शास्त्री की याद अनायास आ जाती है.  उन्हीं की तरह के छोटे कद ,लेकिन देश-हित और समाज-हित की बड़ी सोच वाले  डॉ, निषाद की अनेक पुस्तकों का प्रकाशन मगरलोड के साहित्यकारों की संस्था 'संगम साहित्य एवं सांस्कृतिक समिति ने किया है. इसी कड़ी में समिति द्वारा  अक्टूबर २०१० में उनके समग्र व्यक्तित्व और कृतित्व पर एक अभिनन्दन ग्रन्थ का प्रकाशन विशेष रूप से उल्लेखनीय है. . ग्रन्थ का संपादन साहित्यकार श्री पुनूराम साहू 'राज' ने किया है. इसमें डॉ. निषाद की रचनाधर्मिता पर उनके  पारिवारिक सदस्यों , मित्रों, शुभचिंतकों और प्रशंसकों सहित  अनेक साहित्यकारों के आलेख शामिल हैं .अभिनन्दन ग्रन्थ में संत कवि पवन दीवान ने अपने संक्षिप्त शुभकामना सन्देश में बिल्कुल ठीक लिखा है-  ''दशरथ लाल जी निषाद एक संघर्षशील साहित्यकार हैं. वे छत्तीसगढ़ की पहचान हैं. उनके साहित्य का अध्ययन किए बिना कोई छत्तीसगढ़ का दर्शन नहीं पा सकता."
                                      मुझे भी लगता है कि छत्तीसगढ़ की आत्मा को जानने- पहचानने और समझने के लिए सबसे पहले हमें डॉ. दशरथ लाल निषाद 'विद्रोही'  जैसे  धरती-पुत्रों के व्यापक अनुभव संसार को और उनकी भावनाओं को दिल की गहराई से महसूस करना होगा .        ---  स्वराज्य करुण

Monday 9 May 2011

हरिश्चन्द्रों को इतना संकोच क्यों ?

                               दुखीराम के टपरे  में गर्मागर्म पकौड़े तले जा रहे थे . यह टपरा  कस्बे के चिलम छाप  प्रबुद्ध जनों  में काफी लोकप्रिय है. कारखाने की थका देने वाली कमर तोड़ मेहनत से अगली सुबह तक के लिए मुक्त होकर कुछ लोग दुखी भईया के  इस झोपड़ीनुमा रेस्टोरेंट  में  चाय की चुस्कियों के साथ पकौड़े का मजा लेते हुए शाम के अखबार की ख़बरों पर भी अपने-अपने अंदाज में टिप्पणी करते जा रहे थे .
           
     द्वारिका ने शंकर से कहा - पढ़ा तुमने यह समाचार ? फिर वह खुद ही पढ़ कर बताने लगा -देश की सबसे बड़ी पंचायत के   उच्च सदन  के सदस्यों की जायदाद और  का ब्यौरा सार्वजनिक नहीं किया जा सकता. वेबसाईट में इसे जारी करने की ज़रूरत नहीं है. ऐसा उच्च सदन की एक उच्च स्तरीय समिति ने किसी आवेदक को 'सूचना का अधिकार'   क़ानून के तहत माँगी गयी एक जानकारी के सन्दर्भ में कहा है. हालांकि समिति का यह भी कहना है कि कोई भी व्यक्ति हमारे इन माननीयों    की संपत्ति की जानकारी  सभापति की लिखित अनुमति से प्राप्त कर सकता है ,  शंकर ने कहा -चलो ,कम से कम  सभापति को इस बारे में जानकारी देने का अधिकार तो है !
    
                   द्वारिका  कहने लगा  -  लेकिन भईया ! ये तो बताओ , देश के किस आम नागरिक की सीधी पहुँच वहाँ  सभापति तक होगी ? वेबसाईट पर जानकारी प्रदर्शित कर दी जाए ,तो कोई भी  नागरिक स्वयं का कम्यूटर और इंटरनेट नहीं होने के बावजूद किसी भी यार-दोस्त के पास या फिर सायबर कैफे में जाकर इसे आसानी से देख सकता है ! माननीयों की धन-दौलत का ब्यौरा सार्वजनिक करने में इतना संकोच क्यों ? जब हमारे सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों की संपत्ति की जानकारी सार्वजनिक हो सकती है और उसे वेबसाईट पर भी डाला जा रहा है, तब इन हरिश्चन्द्रों   को इसमें इतना शर्माने और सकुचाने की भला क्या ज़रूरत ?   भला कौन मूर्ख डाकू इन बेचारे गरीबों के घर डाका डालेगा और अपना कीमती समय  बर्बाद होने देगा ?
                      
        तभी दोनों की बातों के बीच श्यामू पहुँच गया . उसने कहा -वो लोग अगर अपनी जायदाद को सार्वजनिक नहीं करना चाहते ,तो न सही ! चलो , आज हम लोग तो अपनी संपत्ति का ब्यौरा जनता के बीच रख सकते हैं ! वैसे भी हम तीनों के पास किराए के तीन छोटे -छोटे    दड़बेनुमा  मकान हैं, मकान मालिक को नोटिस आ गयी है कि इन मकानों को तत्काल खाली कराओ , क्योंकि ये अवैध कब्जे की  ज़मीन पर बनवाए गए हैं . संपत्ति के नाम पर हम तीनों के पास टूटे-फूटे बर्तनों के अलावा और  कुछ  भी तो नहीं हैं, कुछ फटे-पुराने कपड़ों के साथ एकाध लोहे की पुरानी  पेटी और पिताजी की दी हुई सायकल !...और सबसे बड़ी संपत्ति तो हमारे ये दोनों हाथ और दोनों पैर हैं, जिनके बल पर हम रोज अपने घर -परिवार के लिए दाल-रोटी का जुगाड़  करते हैं.  यही तो है अपनी संपत्ति . इसे सार्वजनिक करने में हमे कुछ भी संकोच नही है !
    
          चाय की एक घूँट लेने के बाद  द्वारिका ने कहा--   लेकिन हमारे माननीयों को इसमें इतना शर्माने की क्या ज़रूरत है ? जब हम जैसे मेहनतकश मजदूर तक अपनी संपत्ति सार्वजनिक करने का साहस दिखा सकते है ,तो ऐसा वो क्यों नहीं कर सकते ? वो हमसे तो  बहुत गरीब हैं ,   ऐसा उन्हें अपने भाषणों में कहते हुए हमने देखा भी है और सुना भी है .वो तो ये भी कहते हैं कि सार्वजनिक  जीवन में काम करने वालों का व्यक्तिगत जीवन भी पारदर्शी होना चाहिए .   फिर वो इतनी ऊंची-ऊंची दीवारों के बीच रहते क्यों हैं  ?                 
                 
               मजदूरों के बीच चर्चा चल ही रही थी कि तभी तेज अंधड का एक झोंका आया और दुखीराम का टपरा उड़ते-उड़ते बाल-बाल बचा !  मजदूर अपने घरों की तरफ चल पड़े और हमारे माननीय ,प्रातः स्मरणीय लोग गर्मी से बचने के लिए स्विट्ज़र लैंड की बर्फीली वादियों की ओर  ! लगे हाथ वो अपना खाता भी वहाँ चेक करवा लेंगे , जिसके बारे हमारे इन बेचारे  हरिश्चंद्रों को देश की जनता अब तक न जाने कितना भला-बुरा कह चुकी है !
                                                                                                                       - स्वराज्य करुण

Sunday 8 May 2011

संगोष्ठी : नये मीडिया में नयी संभावनाएं

     



अपनी भावनाओं को प्रकट करने की शैली को ही हम अभिव्यक्ति कहते हैं , जो मानव जीवन के लिए प्राण-वायु की तरह बहुत ज़रूरी है. इंसान बोल कर और  लिख कर ,चिल्ला कर और चीख कर ,रो कर और हँस कर ,  गा कर  और नाच कर  , कई तरह से स्वयम को अभिव्यक्त करता है. साहित्य ,कला , संस्कृति पर आधारित हर तरह का सृजन  मानव-अभिव्यक्ति का ही दूसरा रूप हैं . मुद्रण तकनीक के आविष्कार से पुस्तकों और पत्र-पत्रिकाओं के प्रकाशन की शुरुआत हुई .प्रिंट-मीडिया मानव-जीवन में अभिव्यक्ति का  एक महत्वपूर्ण ज़रिया  बना . संचार क्रान्ति ने रेडियो और टेलीविजन को भी मनुष्य के लिए अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम बना दिया . अब इसकी अगली कड़ी में इंटरनेट और वेबसाईट के बाद उनके नए अवतार फेसबुक, ट्विटर , ऑर्कुट और ब्लॉग के नाम से प्रकट हुए  हैं . इन्हें नये मीडिया के नाम से तेजी से पहचान मिल रही है. दुनिया की लगभग हर भाषा में ब्लॉग लेखन लोकप्रिय होता जा रहा है. भारत में भी हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी में आम नागरिकों की अभिव्यक्ति के एक नए मंच  के रूप में यह  अपना स्थान बना रहा है. इंटरनेट उपयोगकर्ताओं में ब्लॉगिंग अपने विचारों के  सहज-सरल प्रस्तुतिकरण की एक नयी शैली के रूप में विकसित हो रही है. इसमें व्यापक संभावनाएं भी हैं और चुनौतियां भी . वैसे देखा जाए तो किसी भी नए कार्य में चुनौती तो आती ही है . उसका मुकाबला करते हुए धैर्य से आगे बढ़ते चलें ,तभी मुकाम हासिल होगा . बहरहाल हिन्दी ब्लॉगिंग को अब एक नया मीडिया मान कर उसमे संभावनाएं और चुनौतियां भी तलाशी जाने लगी है.  देवभूमि हिमाचल से आया एक समाचार तो हमें यही संकेत दे रहा है. आप भी देख लीजिए ----
                    

 
इंटरनेट ने इंसान को 'लोकल' से 'ग्लोबल' बना दिया---ललित शर्मा
 

   हिमाचल प्रदेश विश्व विद्यालय के क्षेत्रीय अध्ययन केन्द्र  धर्मशाला में इस महीने की चार तारीख को ' हिंदी भाषा और नवीन मीडिया: संभावनाएं एवं चुनौतियाँ" विषय पर एक दिवसीय संगोष्ठी  का आयोजन किया गया,  हिंदी एवं पत्रकारिता विभाग के विद्यार्थियों ने विशेष रूप से आयोजन का  लाभ उठाया. संगोष्ठी में छत्तीसगढ़ के जाने-माने ब्लॉगर श्री  ललित शर्मा, क्षेत्रीय अध्ययन केंद्र  के  निदेशक श्री कुलदीप चंद अग्निहोत्री, हिंदी विभाग केश्री  केवल राम, पत्रकारिता विभाग के श्री जय प्रकाशऔर श्री जय सिंह सहित अध्ययन केन्द्र के अन्य विभागों के अनेक प्राध्यापक भी उपस्थित थे. .
  संगोष्ठी का शुभारम्भ करते हुएश्री  कुलदीप चंद अग्निहोत्री ने हिंदी भाषा और नवीन मीडिया की प्रासंगिकता और उपयोगिता पर प्रकाश डाला. उन्होंने कहा कि नये मीडिया ने आम जनता के लिए अभिव्यक्ति के रास्ते खोल दिये है, अखबारों  और  पत्रिकाओं को अभिव्यक्ति का माध्यम बनाने के लिए लाखों रुपयों  की जरुरत होती है. ब्लॉग जैसे माध्यम आने से मात्र कुछ ही खर्च में हम अपनी बात लोगों तक पंहुचा सकते है.
श्री ललित शर्मा ने अपने व्याख्यान में कहा कि ब्लॉग जैसे नये मीडिया ने जनता को अभिव्यक्ति का वैकल्पिक साधन उपलब्ध कराया है. इंटरनेट ने आम नेट धारक के साथ-साथ आम इंसान को भी 'लोकल 'से 'ग्लोबल' बना दिया है, अख़बारों में स्पेस की कमी के कारण आम नागरिकों  के विचारों के प्रकाशन के लिए पर्याप्त स्थान नहीं है, इसलिए सूचना तकनीक के इस युग में इंटरनेट के सशक्त माध्यम ब्लॉग के द्वारा हम अपने विचार रख सकते है. ब्लॉग के प्रभाव का तेजी  से विस्तार हो रहा है. आज ब्लॉगर को अपनी बात प्रकाशित करने के लिए किसी संपादक की स्वीकृति नहीं लेनी पड़ती. वह स्वयं सम्पादक, प्रकाशक एवं मुद्रक है. नेट फेसबुक, ऑरकुट,ट्विटरऔर यू -ट्यूब जैसे अन्य साधन भी हैं. इन मंचो से भी अपने विचार लोगों तक पहुचाये जा सकते है. यह नया  मीडिया भले ही अभी शैशव काल में है, लेकिन इसने अपने  प्रभाव से दुनिया  को परिचित करवा दिया है. मिस्त्र  और  ट्यूनीशिया में प्रबल जन-आंदोलन से हुआ  सत्ता परिवर्तन इसका ताजा उदाहरण है.. ट्यूनीशिया में १४ बार जेल जाने वाले ब्लॉगर श्री सलीम को अंतरिम सरकार में खेल एवं युवा मामलों का मंत्री बनाया गया है. इनके ब्लॉग ने वहाँ जन आन्दोलन खड़ा करने में एक महती भूमिका निभाई थी.  
       श्री शर्मा ने कहा कि भारत में भ्रष्टाचार के खिलाफ जन-लोकपाल क़ानून की मांग को लेकर श्री अन्ना हजारे के जन-आंदोलन को मिले व्यापक जन-समर्थन  में इस नये मीडिया की भूमिका को खारिज नहीं किया  जा सकता.  देश के किसी भी कोने में बैठा व्यक्ति मात्र एक कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से विश्व-व्यापी सूचनाओं के महा तंत्र से जुड़ जाता है. आज से लगभग दस  वर्ष पहले नेट पर हिंदी उपलब्ध नहीं थी. यूनिकोड फॉण्ट आने के बाद ब्लॉगर्स  के द्वारा हिंदी का प्रचार-प्रसार निस्वार्थ रूप से किया जा रहा है . इसके  फलस्वरूप हम नेट पर सर्च इंजन से हिंदी पाते हैं. वर्त्तमान में लोक तन्त्र का चौथा स्तम्भ कहलाने  वाले इलेक्ट्रानिक एवं प्रिंट मीडिया में प्रभु ,  राडिया एवं बरखा दत्त के  भ्रष्ट्र कारनामे सामने आने   पर  अब इनकी  विश्वसनीयता पर सवाल उठने लगे  हैं. ऐसी स्थिति में यह नवीन  मीडिया अपनी सार्थक भूमिका निभाने के लिए कमर कस कर तैयार है.
   आभार प्रदर्शन करते हुए हिंदी विभाग के केवल राम ने कहा कि इंटर नेट पर हिंदी की उपलब्धता ब्लॉग के कारण ही है. उन्होंने  हिंदी भाषा और साहित्य से सम्बन्धित  विभिन्न साईट्स और  ब्लॉग लेखन और उसके तकनीकी पहलुओं की जाकारी दी और  विद्यार्थियों को ब्लॉग लेखन के लिए प्रेरित किया .. कार्यक्रम का संचालन पत्रकारिता विभाग के श्री जय प्रकाश ने किया. आयोजन में श्री केवल राम के साथ हिंदी विभाग के मनीष मांडला, प्रवीण कुमार , सुदेश, बिट्टू राम  तथा ,ज्योति और मनुप्रिया ने विशेष सहयोग दिया
.





    

Saturday 7 May 2011

प्रेमचंद : कर्म-भूमि के पन्नों में

                                               
             हिन्दी के महान कथा -शिल्पी , उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद  वास्तव में साहित्य के माध्यम से समाज में वैचारिक बदलाव लाने के पक्षधर थे. गोदान ,रंगभूमि और कर्म भूमि जैसे उनके कालजयी महान उपन्यासों में समाज के दबे-कुचले लोगों का दर्द अपने ही अंदाज़  में उभरता और बहता हुआ लगता है . उन्होंने तत्कालीन समय के  सामाजिक-आर्थिक माहौल का बहुत बारीकी से अध्ययन -मनन किया था .समाज के  ह्रदय-परिवर्तन का प्रयास उनके साहित्य का लक्ष्य था.
         कहानियों  और उपन्यासों में उनकी लेखनी से  देश-काल और परिवेश वर्णन और  पात्रों के माध्यम से व्यक्त भावनाओं में इसकी साफ़ झलक मिलती है.देश और समाज की जैसी हालत आज है, उसे देख कर प्रेमचंद जी कहीं भी और कभी भी याद आ जाते हैं . इसलिए  बिना किसी खास प्रसंग के , मैं यहाँ उनके प्रसिद्ध  उपन्यास  'कर्म-भूमि ' के विभिन्न पृष्ठों से संकलित उन पंक्तियों को अलग-अलग शीर्षकों में पेश कर रहा हूँ , जो आज भी दिल को छू जाती हैं --
                                                                 फर्क
                             गली में बड़ी दुर्गन्ध थी . गंदे पानी के नाले दोनों तरफ बह रहे थे . घर प्रायः सभी कच्चे थे . गरीबों का मोहल्ला था . शहरों के बाज़ारों और गलियों में कितना अंतर है ! एक फूल है -सुंदर, स्वच्छ ,और सुगंधमय .दूसरी जड़ है- कीचड़ और दुर्गन्ध से भरी , टेढी-मेढ़ी ! लेकिन क्या फूल को मालूम है -उसकी हस्ती जड़ से है ?                          
                                                     स्वार्थ-बुद्धि  और  न्याय -बुद्धि
               तुम कहोगे -हमने बुद्धि बल से धन कमाया है,क्यों न उसका उपभोग करें ? लेकिन... इस बुद्धि  का नाम स्वार्थ -बुद्धि है. और जब समाज का संचालन स्वार्थ-बुद्धि के हाथ में आ जाता है,  न्याय-बुद्धि गद्दी से उतार दी जाती है, तो समझ लो कि समाज में कोई विप्लव होने वाला है. गर्मी बढ़ रही हो , तो तुरंत आँधी आती है. मानवता हमेशा कुचली नहीं जा सकती . समता जीवन का तत्व है. यही एक दशा है, जो समाज को स्थिर रख सकती है. थोड़े से धनवानों  को हरगिज़ यह अधिकार नहीं है कि वे जनता को ईश्वर प्रदत्त वायु और प्रकाश का अपहरण कर लें !

                                                                स्वार्थ
           जिसके पास जितनी बड़ी डिग्री है, उसका स्वार्थ भी उतना ही बढ़ा हुआ है. मानो  , लोभ और स्वार्थ ही विद्वता का लक्षण है ! गरीबों को रोटियां मयस्सर न हो , कपड़ों को तरसते हों , पर हमारे शिक्षित भाईयों को मोटर चाहिए , बंगला चाहिए , नौकरों की एक पलटन चाहिए ! इस संसार को अगर मनुष्य ने रचा है ,तो वह अन्यायी है,    ईश्वर ने रचा है ,तो उसे क्या कहें ?
                                                  
                                                            औचित्य

 इतनी अदालतों की ज़रूरत क्यों ? ये बड़े-बड़े महकमे किसलिए ?   ऐसा मालूम होता है-गरीबों की लाश नोचने
वाले गिद्धों का समूह हैं !   
                                                                   संकेत

         अगर धनवानों की आँखें अब भी नहीं खुलती , तो उन्हें पछताना पड़ेगा . यह जागृति का युग है. जागृति अन्याय को सहन नहीं कर सकती . जागे हुए आदमी के घर में चोर और डाकू की गति नहीं .. !
                                                             -----------
                                                      

Wednesday 4 May 2011

(कविता ) लादेन से भी बड़े हत्यारे !

                                                                             -- स्वराज्य करुण
                                      अरे भई  ! अब तो
                                      बस भी करो !
                                      हमने मान लिया
                                      ओसामा के बिना ओबामा 
                                      था लंबे अरसे से बेचैन ,
                                      लेकिन तुम लोग और
                                      कितने दिनों तक
                                      दिखाते रहोगे
                                      कब,कहाँ और कैसे मरा  लादेन ?
                                 
                                      क्या और कोई  खबर नही है
                                      इस दोतरफा हुए
                                      खून-खराबे के सिवा,
                                      बेकार में हो रहे
                                      शोर-शराबे के सिवा  ?
                                      क्या हो गया है
                                      तुम्हारे कैमरों की आँखों में ,
                                      जो देख नहीं पा रही
                                      सच्चाई को नज़रबंदी की सलाखों में  ?
                                 
                                       अच्छा हुआ,  जो  मारा गया
                                       लाखों बेगुनाहों का एक हत्यारा ,
                                       लेकिन देश और दुनिया में
                                       हैं  उससे भी बड़े कई खौफनाक हत्यारे 
                                       जो बड़े आराम से देख रहे हैं 
                                       इस खूनी लड़ाई के भयानक नज़ारे  !
                                     
                                       कातिलों की खुली महफ़िल में 
                                       ठहाके लगा  रही है -
                                       महंगाई और बेरोजगारी ,
                                       दानवों की तरह अट्टहास
                                       कर रहा है भ्रष्टाचार ,
                                       एक हत्यारे के क़त्ल का
                                       सजीव प्रसारण देखने और दिखाने
                                       में  व्यस्त  हो गयी है दुनिया ,
                                       इधर खूब फल-फूल रहा है
                                       हर तरह का काला कारोबार  !

                                       आखिर कब
                                       मरेगा - महंगाई ,बेकारी और
                                       भ्रष्टाचार का लादेन ,
                                       वो तो खूब मजे में है
                                       जो है इन आदमखोरों की देन !

                                                                       --  स्वराज्य करुण

Monday 2 May 2011

हिन्दी ब्लॉगरों का सम्मान

                    साहित्य सृजन से मजबूत होता है सामाजिक सरोकार : डॉ. निःशंक
          अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन में छत्तीसगढ़ के पांच  ब्लॉग-लेखक सम्मानित

ललित शर्मा को प्रशस्ति-पत्र भेंट करते हुए डॉ.निःशंक
      सूचना-प्रौद्योगिकी के  तीव्र   विकास के इस दौर में इंटरनेट आधारित नागरिक-अभिव्यक्ति के नए माध्यम ब्लॉगिंग के ज़रिये भी देश का नया राज्य छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय क्षितिज पर बड़ी तेजी से अपनी पहचान बना रहा है. नयी दिल्ली के हिन्दी भवन में शनिवार को आयोजित अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन में देश-विदेश से आए अनेक ब्लॉग-रचनाकारों सहित छत्तीसगढ़ के पांच जाने-माने ब्लॉग -लेखकों को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल 'निःशंक ' ने 'सारस्वत -सम्मान ' से विभूषित किया .डॉ.पोखरियाल ने कहा साहित्य सृजन हमारे सामाजिक सरोकारों को मजबूती देता है. 
                    मुख्यमंत्री के हाथों इस मौके पर सम्मानित छत्तीसगढ़ के  ब्लॉगरों  में रायपुर जिले के अभनपुर निवासी  श्री ललित शर्मा , भिलाई नगर के श्री बी .एस .पाबला , दुर्ग के श्री संजीव तिवारी , और रायपुर के श्री जी.के अवधिया और सुश्री अल्पना देशपांडे शामिल हैं , जिन्हें मुख्य अतिथि डॉ.पोखरियाल ने प्रशस्ति -पत्र  और स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया. उल्लेखनीय है कि श्री ललित शर्मा   ब्लॉग जगत में 'ललित डॉट कॉम, ' चलती का नाम गाड़ी ' और 'चर्चा पान की दुकान पर ' जैसे हिन्दी के लोकप्रिय ब्लॉगों के लिए खास तौर पर पहचाने जाते हैं. श्री बी.एस.पाबला भी अपने ब्लॉग 'जिंदगी के मेले ' के ज़रिये जन-जीवन के विभिन्न पहलुओं पर नियमित रूप से लिख रहे हैं .श्री संजीव तिवारी का ब्लॉग 'आरम्भ' , श्री जी.के .अवधिया का ब्लॉग 'धान के देश में ' और सुश्री अल्पना देशपांडे का ब्लॉग 'आर्ट गैलरी ' भी ब्लॉग-पाठकों के बीच काफी लोकप्रिय हो रहा है. इनके ब्लॉग-लेखन से छत्तीसगढ़ को साहित्य ,कला , संस्कृति , और सामाजिक जीवन के सभी क्षेत्रों में अच्छी पहचान मिल रही है. सम्मेलन का आयोजन हिन्दी साहित्य निकेतन ,बिजनौर द्वारा अपनी स्वर्ण जयन्ती के अवसर पर परिकल्पन समूह और नुक्कड़ डॉट कॉम के सहयोग से किया गया .

                                                  संजीव तिवारी भी हुए सम्मानित
        मुख्य-अतिथि डॉ.पोखरियाल ने सम्मेलन में सम्मानित  देश-विदेश के सभी हिन्दी ब्लॉगरों को बधाई और शुभकामनाएं दी .  उन्होंने कहा कि आधुनिक सूचना -विज्ञान की इस महत्वपूर्ण तकनीक से जहां दुनिया के सभी देशों के नागरिकों को विचार-अभिव्यक्ति का एक नया औजार मिला है, वहीं इसके जरिये लोग अपने-अपने राष्ट्रों के सामाजिक -सांस्कृतिक विषयों और  उनकी विशेषताओं से भी एक-दूसरे को परिचित करा रहे हैं .
            लोकप्रिय ब्लॉग 'नुक्कड़ ' में प्रकाशित एक खबर के अनुसार  मुख्यमंत्री डॉ. पोखरियाल ने कहा कि हिंदी साहित्य निकेतन, परिकल्पन डॉट कॉम और नुक्कड़ डॉट कॉम की इस गंगोत्री में आया हूं। एक ओर 50 बरसों की सुखद विकास यात्रा को तय करने वाला देश का विशिष्ट प्रकाशन संस्थान है तो दूसरी तरफ हिन्दी ब्लॉगिंग में सिरमौर रवीन्द्र प्रभात और अविनाश वाचस्पति का सामूहिक श्रम। हिंदी भाषा जब चहुं ओर से तमाम थपेड़े खा रही हो, अपने ही घर में अपमानित हो रही हो और हिंदी में सृजन करने वाला अपने आप को उपेक्षित महसूस कर रहा हो, ऐसे में इस प्रकार के कार्यक्रम की प्रासंगिकता और बढ़ जाती है। कहा गया है कि कल्पना स्वर्ग की तरंगों का अहसास कराती है, वहीं सृजन हमारे सामाजिक सरोकार को मजबूती देता है। आप सभी देश के विभिन्न हिस्सों से आए हैं और अभिव्यक्ति के नए माध्यम ब्लॉगिंग को नई तेज धार देने में जुटे हुए हैं। आप सभी का देवभूमि उत्तराखंड में स्वागत है। आप को मेरे सहयोग की जैसी भी आवश्यकता हो, हम सदैव तत्पर रहेंगे क्यों कि देश की संस्कृति का केन्द्र है उत्तराखंड और मैं चाहूंगा कि आप सबके सहयोग से वह विश्व पटल पर हिन्दी का एक सशक्त केन्द्र भी हो जाए।

Sunday 1 May 2011

नादान झोपड़ी है !

                                           
                                             आज  विश्व श्रमिक दिवस पर एक ग़ज़ल




                                                 इमारतों के आधार की पहचान  झोपड़ी है
                                                 जान कर भी मजबूर , अनजान झोपड़ी है  !

                                                 मेहनतकशों को कैसे रौंदा गया हमेशा,
                                                 दलितों के दर्द का ये प्रमाण झोपड़ी है !

                                                बेक़सूर  फिर भी है छल-कपट का  शिकार,
                                                चालाक ये  महल और नादान झोपड़ी है  !

                                                पकती है फसल जिसके पसीने की महक से ,
                                                फैक्टरी की हलचलों का  प्राण झोपड़ी है !

                                                हर शाम लौटता है उम्मीदों के दीप लेकर,
                                                मिलती  अंधेरों में  सुनसान झोपड़ी है !
                                    
                                               दिखने में लगे हैवान सी हर एक हवेली ,
                                               हैवानियत के इस दौर में इंसान झोपड़ी है !
                                   
                                              ज़माना  है जालिमों का ,जीने भी नहीं देंगे ,
                                              हर पल है यहाँ खतरा ,हैरान झोपड़ी है !

                                             है चाँद  अगर महबूब की सूरत ,हुआ करे,
                                             रोटी की रौशनी के  लिए  परेशान झोपड़ी है !

                                                                                      --  स्वराज्य करुण