Saturday 30 April 2011

बेगानी शादी में अब्दुला दीवाना !

                                                                                                  -  स्वराज्य करुण
    इसे कहते हैं- बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना !  शादी तो ब्रिटेन के राजकुमार विलियम की हुई , लेकिन बिन बुलाए मेहमान की तरह बारात में सबसे आगे -आगे  बढ़ चढ़ कर नाचते-उछलते -कूदते नज़र आए दुनिया भर के मीडिया वाले ! टेलीविजन वालों ने  सीधा प्रसारण किया और प्रिंट मीडिया ने भी लीबिया में हो रहे कत्ले -आम  की ख़बरों को पीछे छोड़ते हुए साढ़े  चार हजार करोड़ रूपए की इस शाही शादी का  समाचार वर-वधु के चुम्बन दृश्यों के साथ पहले पन्ने पर छाप कर अपनी प्राथमिकता गिना दी. धन-पशुओं के वैभव-विलास के प्रतीक इस राजसी विवाह समारोह को दुनिया भर में प्रचारित करने में स्वयं ब्रिटेन के शाही परिवार ने भी गहरी दिलचस्पी दिखाई ,ताकि लोकतंत्र की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहे सभी देशों को यह सन्देश दिया जा सके कि इंग्लैंड का साम्राज्यवादी सूर्य अभी डूबा नहीं है ,बल्कि उसका राजशाही अंदाज़ कम से कम उसके अपने देश इंग्लैण्ड में तो आज भी कायम है !
         किसी के घर शादी-ब्याह का होना उसका पारिवारिक मामला होता है. किसी सामान्य परिवार के यहाँ होने वाली शादी का  तो इतना प्रचार  नहीं होता .  फिर इंग्लैंड के राजकुमार विलियम की शादी का इतना ज्यादा ढिंढोरा पीटने और ढोल-नंगाड़ा बजाने में ये मीडिया वाले आगे -आगे क्यों उछल रहे थे ?क्या उनकी अपनी शादी भी इतने राजसी  वैभव में हुई   थी  ?  क्या उन्हें नहीं मालूम कि आज की दुनिया लोकतंत्र के युग में आ चुकी है और अब राजशाही का टापू   सिर्फ इंग्लैंड और जापान जैसे कुछ ही देशों में सीमित रह गया है  ? दो दिनों में ऐसा लगा कि भारतीय मीडिया को भी ब्रिटेन के राज-परिवार की इस शाही शादी के बुखार ने जकड़ लिया है.    भारत के  अधिकतर  टेलीविजन चैनलों ने सात समंदर पार हुई इस शादी का सजीव प्रसारण किया और वर-वधु के चुम्बन की तस्वीरें बारम्बार दिखाकर अपनी असल मानसिकता भी उजागर कर दी . हमारे यहाँ के प्रिंट मीडिया वाले भला कैसे पीछे रहते !
              आज के ज्यादातर अखबारों ने सबसे ज्यादा कवरेज इस राजशाही विवाह को दिया .मानों यह खबर कॉमन-वेल्थ और टू-जी स्पेक्ट्रम घोटालों और स्विस बैंक में भारतीयों के काले धन के गुप्त खातों के बारे में हो रहे सनसनीखेज खुलासों से भी ज्यादा महत्वपूर्ण थी ! इन ख़बरों को देख और पढ़ कर कुछ समय पहले एक फ़िल्मी औरत के स्वयम्बर और फिर उसकी शादी और बारात के नाटक की याद आ रही है , जिसे इलेक्ट्रानिक और प्रिंट मीडिया ने ऐसा कवरेज दिया मानो यह इक्कीसवीं सदी की सबसे बड़ी घटना है . इंग्लैण्ड में राजतन्त्र है और महारानी आज भी वहाँ की राष्ट्राध्यक्ष होती है. हुआ करे ,अपनी बला से ! लेकिन हमारी पृथ्वी के उन तमाम देशों में जहां लोकतंत्र है, वहाँ के मीडिया को  क्या हो गया ,जिसके अंग-प्रत्यंग किसी राजतन्त्र में हुई राज परिवार के राजकुमार की शादी को इस फूहड़ तरीके से महिमा मंडित कर रहे हैं ? लगता है -अंग्रेजों के जाने के छह दशक से ज्यादा अरसा गुजर जाने के बाद भी देश की हवा में अंग्रेजियत का ज़हर  न सिर्फ कायम है ,बल्कि वह और भी ज्यादा गहराता जा रहा है !  यह सब देख कर सोचता हूँ कि अगर स्वामी विवेकान्द , महात्मा  गांधी , सुभाष चन्द्र बोस चंद्रशेखर आज़ाद और भगत सिंह जैसे आज़ादी के योद्धा हमारे बीच होते , तो उनके दिल पर क्या गुजरती ? आखिर हम कब तक बेगानी शादियों में अब्दुल्ला की तरह नाचते रहेंगे ?
                                                                                                             - स्वराज्य करुण

(कविता ) नाम-गुमनाम !

                                        जीवन के इस बेजान
                                        जंगल में खोज रहा हूँ -
                                        जाने-अनजाने जड़-विहीन
                                        दरख्तों  के
                                        चेहरों पर बचपन का वह
                                        प्यारा सा नाम ,
                                        माता -पिता की आँखों का
                                        तारा -सा नाम ,
                                        दोस्तों की दुनिया में
                                        सितारा -सा नाम  !
                                        है वही ज़मीन ,
                                        जिस पर गड़ी है दरख्तों की  नाल ,
                                        है वही आकाश ,जिसकी छाया में
                                        गुज़रे हैं कई साल-दर -साल !
                                

                                         फिर भी न जाने क्यों
                                         भूल गए सारे दरख्त
                                         अपने -अपने बचपन का नाम !
                                         पथरीले रास्ते पर
                                         मंजिल की
                                         तलाश में इस भागते-दौड़ते
                                         संसार में जो हो गया गुमनाम !
                                  
                                         आँखों से ओझल है -हर तरफ
                                         यहाँ   फूलों की बस्तियां ,
                                         दूर तक गायब है चिड़ियों की और
                                         तितलियों की मस्तियाँ  !

                                         भीड़ तो है , कोई भाव नहीं है
                                         साथ-साथ हैं  पर  संवेदना नहीं है !
                                         पुकारते हैं लोग एक-दूसरे को
                                          बस यूं ही औपचारिक हो कर
                                          कुछ इस तरह  जैसे 
                                          कोई नाम था ही नहीं
                                         उनके बचपन का यहाँ -वहाँ कभी !
                                         
                                          मतलब-परस्तों की महफ़िल में
                                          फिर भी तुम  देखना  गौर से -                                             
                                          बचपन आज भी छुपा है
                                          हर इंसान के चेहरे की सलवटों में,
                                          जैसे उड़ती है पतंग कभी-कभार
                                          सीमेंट-कांक्रीट  की छतों में,
                                          जैसे छुपी होती हैं यादें
                                          पुरानी किताब  के पन्नों में
                                          सहेज कर रखे गए  पुराने खतों में !

                                                                                          स्वराज्य करुण
                                       

Friday 29 April 2011

अच्छा कौन- अनपढ़ इंसान या पढ़ा-लिखा हैवान ?

                                                                                                        -- स्वराज्य करुण
     कहते हैं -शिक्षा मनुष्य को दया ,करुणा , प्रेम और सदभावना जैसे सर्वश्रेठ मानवीय गुणों से सुसज्जित  एक सम्पूर्ण  मानव के रूप में विकसित करती है. दुनिया में मानव-सभ्यता की विकास -प्रक्रिया में कई ऐसी महान विभूतियों का आगमन हुआ ,जिन्होंने अपने समय के समाज को अपने जीवन और कार्यों के जरिये मानवता की शिक्षा देकर समाज के प्रत्येक व्यक्ति को सच्चा मानव बनने की प्रेरणा दी. भारत में गौतम बुद्ध , महावीर स्वामी , गुरु नानक देव , संत कबीर , गोस्वामी तुलसीदास, महात्मा गांधी और स्वामी विवेकानंद जैसी महान विभूतियों की एक लंबी श्रृंखला है, जो अपने-अपने युग में  इन मानवीय मूल्यों  की अनमोल धरोहर  के साथ दुनिया को इंसानियत का सन्देश देते रहे .
      भारतीय उपमहाद्वीप से बाहर देखें तो यीशु मसीह और हज़रत मोहम्मद ने भी समाज को नेकी के रास्ते पर चलने की सीख दी. दुनिया भर के स्कूल-कॉलेजों में  भावी पीढ़ी को  इन सभी महान आत्माओं के प्रेरक विचारों की शिक्षा भी अन्य विषयों के साथ दी जाती है ,ताकि विश्व में अमन -चैन का वातावरण बने , लोग इंसान होने के नाते इंसानियत की राह पर चलें.इनमें से अधिकाँश महान लोगों ने किसी स्कूल-कॉलेज की पढ़ाईं नहीं की .लेकिन उन्होंने अपने सम्पूर्ण जीवन को इंसान के लिए एक खुली किताब के रूप में समाज के सामने रख दिया . उन्होंने अपने जीवन से लोगों को शिक्षित करने की कोशिश की . इन महान शख्सियतों को यह विश्वास था कि हर आने वाला कल आज से बेहतर होगा , लेकिन आज के हालात को देख कर दिल में यह सवाल बार-बार उठता है कि   हमारी दुनिया क्या वाकई  अच्छे और सच्चे मानवीय गुणों पर आधारित  एक बेहतर भविष्य की ओर बढ़ रही है ?
     अगर हम 'मानव -सभ्यता'  जैसे शब्द-युग्म का इस्तेमाल करते हैं ,तो  आज के परिवेश को देख कर क्या ऐसा नहीं लगता कि सभ्यता शब्द का मानव जीवन से दूर -दूर तक कोई रिश्ता नहीं है ? यह मानव-सभ्यता नहीं,बल्कि मानव की असभ्यता है ,कहें तो गलत नहीं होगा .यह भी सच है कि जो वास्तव में मानव है ,वह असभ्य नहीं हो सकता .  सभ्यता तो इंसान को पारिवारिक ,सामाजिक और राष्ट्रीय जीवन की  तहजीब सीखाती है,लेकिन ये अजीब  बात है कि हजारों महान विभूतियों की हजारों-हजार कोशिशों के बावजूद आज का इंसान तहजीब नहीं सीख पाया .वह जैसे-जैसे साक्षर और डिग्रीधारी शिक्षित कहलाने लगा है, वैसे-वैसे उसमें सत्य के स्थान पर  असत्य , अहिंसा के बजाय हिंसा और सदाचार के स्थान पर भ्रष्टाचार जैसे दुर्गुण तेजी से बढ़ रहे हैं,जबकि साफ़ दिखता है कि  निरक्षर इंसान इन दुर्गुणों से कोसों दूर रहता है. मैंने तो आज तक किसी निरक्षर को न तो  घूस लेते  देखा और न ही सुना !
         नकली दवाई ,नकली मिठाई, नकली दूध , नकली खाद  और नकली बीज कौन बनाता और बेचता है ?  मिर्च-मसालों और  मिठाइयों में  जीवन के लिए घातक रसायनों की मिलावट कौन करता है ? बाज़ारों में ज़हरीले रंगों से रंगी सब्जियां कौन बिकवाता  है  ? हजारों -लाखों की फर्जी प्रसार संख्या और दर्शक संख्या बताकर अदृश्य अखबारों , कथित खबरिया चैनलों और फर्जी वेबसाईटों के नाम पर सरकारी और गैर-सरकारी संस्थाओं से विज्ञापन लेकर  करोड़ों रूपए की उगाही करने वाले बेशर्म  भी काफी शातिर किस्म के साक्षर लोग ही तो हैं .क्या कोई निरक्षर ऐसा अपराध कर सकता है ?   जमाखोरी ,मुनाफाखोरी और कालाबाजारी कर जनता   को महंगाई की आग में झोंकने वाले लोग भी न सिर्फ साक्षर होते हैं , बल्कि ऐसी निर्लज्ज गणितबाजी में काफी होशियार भी होते हैं ! समाज-सेवी संगठन बना कर कुछ  लोग देश में  हर साल कई करोड़ रूपए का  सरकारी अनुदान डकार जाते हैं . कोई  निरक्षर तो ऐसा नहीं करता !
         हाल ही में विभिन्न ताकतवर देशों के भ्रष्टाचार को उजागर कर चुके   'विकिलिक्स '     के संस्थापक और संचालक जूलियन असांजे ने एक भारतीय टेलीविजन समाचार चैनल को विशेष भेंटवार्ता में बताया कि विदेशी बैंकों में सबसे ज्यादा काला धन भारत से आ रहा है और स्विस-बैंक में सबसे अधिक गुप्त खाते भारतीयों के हैं . यह देख-सुन कर लगता है कि सौ साल से भी ज्यादा समय तक भारत को लूटने -खसोटने के बाद अंग्रेज तो चले गए ,लेकिन अब भारतीय नागरिक ही भारत को बुरी तरह लूट रहे हैं . ये लुटेरे भी अनपढ़ नहीं हैं और इनको  अपने ही देश की दौलत पर डाका डालने में ज़रा भी लाज-शरम या संकोच नहीं है  !
               बेईमानी के इस युग में  हमारे महान देश के हर सरकारी दफ्तर में सेवा भावना से  काम करने वाले मेहनती कर्मचारियों और अधिकारियों संख्या हालांकि बहुत कम है ,लेकिन उन कर्त्तव्य परायण लोगों को पीछे धकियाकर निकम्मे और भ्रष्ट लोग ही पदोन्नति की दौड़ में सबसे आगे होकर कामयाब हो जाते हैं.   ये बेईमान अफसर -कर्मचारी भी अनपढ़ नहीं होते .   एक दैनिक की सुर्ख़ियों में छपा है कि भारतीय नागरिक-विमानन मंत्रालय    के एक आला अफसर की बेटी ने देश के एक बड़े शहर के विमानतल में संचालित एक फर्जी   उड़ान प्रशिक्षण केन्द्र से विमान पायलट का फर्जी प्रशिक्षण प्रमाण-पत्र हासिल कर लिया ! इसके कुछ दिनों पहले भी अनेक फर्जी प्रमाण-पत्र धारक विमान पायलटों के फर्जीवाड़े का सनसनीखेज खुलासा हो चुका है ! यह सोच कर ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं कि ऐसे फर्जी पायलट अगर हवाई जहाज उडाएं तो आसमान में कभी भी कितने भयानक विमान हादसे हो सकते हैं !   ज़ाहिर है - इस प्रकार के समाज-विरोधी अपराध किसी निरक्षर के द्वारा नहीं हो  रहे है !
    स्कूल-कॉलेजों में अध्यापन -कार्य के अपने दायित्व को छोड़ कर बच्चों को ट्यूशन और कोचिंग कक्षाओं में जाने को मजबूर करने वाले शिक्षक और प्रोफ़ेसर क्या निरक्षर होते हैं ? भू-माफिया , शराब माफिया ,ड्रग-माफिया ,तेल-माफिया ,खेल-माफिया , जंगल-माफिया और कोल-माफिया की तरह शिक्षा -माफिया भी समाज में बड़ी शान से फल-फूल रहे हैं . ये माफिया गिरोह भी तो अनपढ़ नहीं होते. उत्तर-दक्षिण ,पूरब-पश्चिम ,हर तरफ निजी क्षेत्र में  शॉपिंग -मॉलों  की तरह शिक्षा की दुकानें ऊपरी चमक-दमक के साथ जनता को भ्रमित कर रही हैं . शिक्षा के दुकानदार क्या कभी  निरक्षर माने जाएंगे ? बमों और बंदूकों से समाज में ह्त्या और हिंसा के ज़रिये दहशत फैलाने वाले हर तरह के आतंकी भी अनपढ़ नहीं होते . उनमें से कई तो काफी उच्च डिग्री धारक भी होते हैं ,लेकिन निर्दोष इंसानों के खून से रंगे उनके हाथों को देख कर उनके शिक्षित होने पर संदेह उत्पन्न होता है ! नकली  नोटों के चालबाज सौदागरों को क्या निरक्षर माना जाएगा ?बड़े परदे और छोटे परदे  में  फूहड़ नाच-गानों के  घटिया दृश्यों  और बेहूदे सम्वादों के माध्यम से समाज  को नैतिक पतन के नर्क में ढकेल रहे फिल्म वालों को क्या हम निरक्षर मानेंगे ? गाँवों और  पेड़ों को उजाड़ कर अपनी फैक्टरियों के धुंए से हवा में जानलेवा प्रदूषण फैलाने और पर्यावरण को नष्ट करने वाले लोगों  को भला कौन मानेगा कि अनपढ़ है ?
           देश और दुनिया में   धर्म और जाति के नाम पर तमाम तरह के झगडे-फसाद निरक्षरों के द्वारा नहीं किए जा रहे हैं. क़ानून बनाकर उसे तोड़ने वाले व्यक्ति भी निरक्षर नहीं होते , बल्कि शातिर किस्म के तानाशाह अपने -अपने अवैध  कब्ज़े वाले मुल्कों में अपनी सुविधा के हिसाब से क़ानून बनाते या बनवाते हैं . ये तानाशाह भी  बहुत पढ़े-लिखे होते हैं  लोकतंत्र के इस दौर में जनता को बहला-फुसलाकर हुकूमत  हासिल करने और सार्वजनिक खजाने को लूटकर अपना घर भरने वाले लोग भी  उच्च शिक्षा प्राप्त  होते हैं. लोकशाही के इस  लूटतंत्र में नौकरशाही की अहम भूमिका होती है. सभी जानते हैं कि नौकरशाही में तमाम बड़े -बड़े अफसर उच्च शिक्षा प्राप्त लोग होते हैं . लायसेंस परमिट , ठेका जैसे मामलों में इन पढ़े-लिखे साहबों का क्या और कैसा रोल होता है , इसे भी हम और आप देख रहे हैं. अदालतों में गुनहगारों  को बेगुनाह और बेगुनाहों को गुनहगार साबित करने की कोशिश में सच और झूठ की सौदेबाजी करते काले कोट वाले भी कोई अनपढ़ या अंगूठा छाप नहीं होते , बल्कि इनसे तो अच्छा वो अंगूठा छाप है , जो   ऐसी घटिया हरकत  कभी नहीं करता .
       अस्पतालों में इलाज के नाम पर मरीजों  की जिंदगी का मोल-भाव करने और ऑपरेशन टेबल पर किसी गंभीर मरीज के प्राणों का सौदा करने वाले भी चिकित्सा-विज्ञान की उच्च डिग्रियों से सुसज्जित लोग ही तो होते हैं. क्या किसी  अनपढ़ को ऐसा अमानवीय कृत्य करते देखा है किसी ने ? सरकारी अस्पतालों में ऊंची तनख्वाहों में तैनात डॉक्टर मरीजों का इलाज वहाँ नहीं करते ,बल्कि उन्हें अपने घर बुलाकर या नहीं तो अपने अवैध  रूप से अनुबंधित निजी अस्पतालों में भेजकर मनमाने ढंग से उगाही करते हैं और उनकी मजबूरी का फायदा उठाते हैं ! ऐसे धन-पिशाच डॉक्टर भी क्या कभी  निरक्षर हुआ करते हैं ?  देश-विदेश में हो रहे बड़े-बड़े घोटाले और भयानक आर्थिक अपराध साक्षर और कथित रूप से शिक्षित लोगों के द्वारा ही किए जा रहे हैं  ! फिर उनके पढ़े-लिखे होने का भला क्या मतलब रह जाता है ?  कई पढ़े-लिखे शासक ही तो हैं ,जिनकी मानवीय संवेदनाएं खत्म हो चुकी होती हैं और जो एक-दूसरे के देशों पर युद्ध थोपने की फिराक में रहते हैं और ऐसा कोई मौक़ा छोड़ना भी नहीं चाहते .फिर भले ही उसमें लाखों बेगुनाहों को बेमौत क्यों न मरना पड़े ! 
          दुनिया के हजारों-लाखों बरस के इतिहास में  समय के हिसाब से सोचें ,तो पचास-साठ या सौ साल भला क्या मायने रखते हैं ? अगर इस दौरान भी इंसान सत्य और अहिंसा जैसी कुछ अनमोल तहजीबें  सीख चुका होता ,तो शायद बीते  एक सौ बरस के छोटे से काल-खंड में दो-दो विश्व-युद्ध नहीं हुए होते ,कुवैत , अफगानिस्तान , इराक , श्रीलंका और लीबिया में क़त्ल-ए -आम नहीं हुआ होता , हाइड्रोजन बम, अणु बम ,परमाणु बम और रासायनिक बम का आविष्कार नहीं हुआ होता . हिरोशिमा और नागासाकी में अणु-बम नहीं गिराए जाते . आधुनिक मानव के असभ्य होने का इससे बड़ा सबूत और क्या हो सकता है कि युद्ध के उन्माद में उसने ऐसी घटिया हरकतों से  लाखों-लाख निरपराधों  को   मौत के घाट उतार दिया .  . अगर महान विभूतियों के विचारों और धर्म-ग्रंथों की शिक्षाओं से इंसान सबक लेता , तो शायद दुनिया में जर्मनी के हिटलर जैसे  युद्धखोर और युगांडा के इदी अमीन जैसे  आदमखोर शासक पैदा ही नहीं हुए होते !  यह सिलसिला तो दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में किसी न किसी रूप में आज भी चल रहा है .
      इस बारे में आगे ज्यादा कुछ न कहते हुए मैं यहाँ कुछ  ऐसे ह्रदय-विदारक समाचारों का उल्लेख  कर रहा हूँ ,जिन्हें देख-पढ़ कर शायद आपका दिल भी सिहर उठे और यह सोचने के लिए मजबूर हो जाए कि पढ़े-लिखे लोग कितने ज़ालिम ,कितने बेरहम और कितने बेशर्म होते हैं कि वे अपने जैसे इंसानों पर इस तरह का शर्मनाक ज़ुल्म ढाते हैं ! इन समाचारों से लगता है कि आज के इंसानों की इन काली करतूतों से  इंसानियत शर्मिन्दा है और हैवानियत उनके सर चढ़ कर नाच रही है !
    पहली खबर वाशिंगटन से है, जहां विकीलिक्स ने गोपनीय दस्तावेजों से यह रहस्य उजागर किया है कि अमेरिका ने बिना किसी ठोस प्रमाण के .कई बरसों तक गुआंतानामो की जेल में सैकड़ों बेगुनाहों को कैद कर रखा है. उन पर जेल में हो रहे अत्याचारों के फोटो भी इस खबर के साथ अखबारों में छपे हैं, जिनमे एक कैदी को नंगा करके उस पर खूंखार शिकारी कुत्ते को हमले के लिए उकसाया जा रहा है और कैदी डर के मारे काँप रहा है.   दूसरे चित्र में एक अन्य कैदी को बेल्ट या जंजीर से बाँध कर फर्श पर किसी मरे हुए जानवर की तरह घसीटा जा रहा है !  दूसरा समाचार संयुक्त राष्ट्र संघ की एक रिपोर्ट के हवाले से छपा  है,जिसमे बताया गया है कि श्रीलंका में साल २००९ में तमिल विद्रोही संगठन लिट्टे और श्रीलंका सरकार के बीच हुए संघर्ष में भारी संख्या में निर्दोष नागरिक मारे गए .अस्पतालों पर भी बमबारी की गयी . इस खबर के साथ बेगुनाह नागरिकों की लाशों की तस्वीर भी प्रकाशित की गयी है ,जिसे देखकर मन विचलित हो जाता है.
        हमारे अपने देश भारत की एक खबर पढ़ कर भी दिल दहल उठता है,जहां केरल राज्य के कोलम जिले के एक सरकारी अस्पताल में १६ अप्रैल से १९ अप्रैल के बीच सिर्फ चार दिन में सोलह गर्भवती महिलाओं के समय से पहले प्रसव के लिए ज़बरदस्ती सिजेरियन ऑपरेशन इसलिए कर दिए गए ,क्योंकि अस्पताल की निश्चेतना विशेषज्ञ को दस दिनों की छुट्टी पर जाना था. इस घटना से कुछ ही दिनों पहले केरल के ही चेरथला के सरकारी अस्पताल में स्त्री-रोग विशेषज्ञ ने  ईस्टर की छुट्टी पर जाने की  ज़ल्दबाजी में केवल दो दिन में इक्कीस गर्भवती महिलाओं का ज़बरन सिजेरियन कर डाला . दोनों घटनाओं में पीड़ित महिलाओं की इन अस्पतालों में  जो दुर्गति हुई, उसकी एक अलग शर्मनाक कहानी है. देश के एक नए राज्य में  दवाई दुकानों को लायसेंस जारी करने और उनके निरीक्षण की जिम्मेदारी जिस अधिकारी को सौंपी गयी थी .वह  डिप्टी ड्रग-कंट्रोलर ही गद्दार निकला ,उसके घर से करीब-करीब साढ़े तीन करोड़ रूपए की अनुपातहीन संपत्ति सरकारी जांच में बरामद की गयी , जो उसने मेडिकल स्टोरों से घूस और अन्य अवैध तरीकों से हासिल की थी . जाहिर है कि ऐसे समाज विरोधी और देशद्रोही अधिकारियों की वजह से ही आज देश भर में नकली दवाओं का कारोबार आसानी से फल-फूल रहा है. ऐसे बेईमान अफसर क्या कभी निरक्षर पाए गए हैं ?भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ जन-जागरण के लिए सत्याग्रह अभियान चला रहे सहज-सरल समाज-सेवक अन्ना हजारे और योग गुरु रामदेव  के खिलाफ देश के तमाम पढ़े-लिखे भ्रष्टाचारी धन-पशु किस बेशर्मी से कीचड उछाल रहे हैं , यह तो हम और आप हैरान हो कर देख  ही रहे है ! ये उच्च शिक्षित हैवान अब अपनी बेशर्म हैवानियत की सारी हदें पार करने लगे हैं !
                     देश-दुनिया और समाज को  बेरहमी से लूटते ये  सारे सफेदपोश अपराधी निश्चित रूप से साक्षर और कथित रूप से काफी उच्च शिक्षित लोग हैं,  जिन्होने मानवता को कलंकित करने का कोई मौक़ा नहीं छोड़ा है ! अब आप ही अपने दिल की गहराइयों से महसूस करें और  फैसला दें कि आज की दुनिया में सीधे-सादे अनपढ़ इंसान  अच्छे हैं ,या पढ़े-लिखे हैवान ?   वैसे मै तो आज के हालात को देखकर कभी-कभी मजबूर होकर यह सोचने लगता हूँ   कि देश और दुनिया में ज्ञान का मंदिर कहे जाने वाले  स्कूल-कॉलेजों को अगले कुछ दशकों के लिए बंद कर देना चाहिए ,ताकि  साक्षर और शिक्षित बेईमानों की संख्या कम हो और सीधे सच्चे अनपढों की संख्या में इजाफा !  शायद तभी समाज में सुख-शान्ति का वातावरण बनेगा !                                                                                                                                 -  स्वराज्य करुण

Sunday 24 April 2011

(कविता ) बहुत बड़ा सवाल !

                                                  

                                                     माँ की गोद में ,
                                                     मासूम मीठी नींद में ,
                                                     कितना सुख महसूस करता है
                                                     एक नन्हा बच्चा !
                                                     पिता की उंगलियां पकड़
                                                     पगडंडियों और राजपथों पर
                                                     अपने नन्हें नाज़ुक पांवों से
                                                      दूरियां नापता दीन-दुनिया से
                                                      बेखबर ,बेफिक्र,
                                                      एक खुशनुमा एहसास में कितना
                                                      सुरक्षित है आज यह  बच्चा !
                                                     
                                                     माँ की गोद है -
                                                     नदी का किनारा
                                                    और पिता की उंगलियां
                                                    उसकी नन्हीं दुनिया का सहारा !
                                                    लेकिन कल जब अपनी
                                                    इस छोटी -सी दुनिया से
                                                    निकलकर बहुत बड़े संसार की 
                                                    पथरीली दहलीज  पर रखेगा अपने कदम ,
                                                    सपनों के असीम विस्तार में
                                                    तूफानी हवाओं के बीच
                                                    फैलाएगा  अपने पंख ,
                                                    क्या तब भी उसे मिलेगा  
                                                     नदी का वह सुखद  किनारा
                                                    क्या तब भी उसके साथ होंगी 
                                                    स्वप्निल -लहरें और
                                                    लोरियाँ  सुनाती हवाएं ?

                                                    क्या तब भी उसे
                                                    मिलेंगी उंगलियां 
                                                    एक सुरक्षित जीवन यात्रा 
                                                    के लिए ?
                                                    सच मानो - तब  नहीं रह जाएगा
                                                    वह बच्चा कोई नन्हा बच्चा ,
                                                    बन  जाएगा एक बहुत बड़ा सवाल
                                                    जितना भी पंख हिलाएगी चिड़िया 
                                                    मुक्त होने के लिए
                                                    उतना ही उलझता जाएगा जाल !
                                                                                        -  स्वराज्य करुण

Saturday 23 April 2011

डकैती और डंके की चोट पर लठैती !

     लगता है  सफेदपोश डकैतों ने अपने-अपने बचाव के लिए अपने-अपने देशों में ऐसा पक्का इंतजाम  करवा लिया है कि उनकी डकैती और लठैती आराम से चलती रहे ! इनमे से एक देश है मेरा भारत महान और दूसरा  है टैक्स-चोर डाकुओं का स्वर्ग स्विटजरलैंड ! जर्मनी भी इसमें भागीदार है. मेरे महान भारत के महान चोर और डाकू अपने ही देश की जनता के खजाने को अदृश्य हाथों से बेरहमी और बेशर्मी से लूटते हैं और उसे स्विस और जर्मन बैंकों के अपने गुप्त खातों में जमा करने के बाद निश्चिन्त होकर दोबारा लूटपाट में लग जाते हैं. बताया जाता है कि चार वर्ष पहले भारत में स्विस बैंक -यूं. बी.एस.  की शाखा खुलने के बाद यहाँ के आर्थिक अपराधियों के नापाक मंसूबों को मानों खुले आकाश में उड़ने के लिए पंख मिल गए हैं. इसके अलावा भी ये देशद्रोही कई अन्य  विदेशी बैंकों में देश की दौलत लूटकर जमा कर रहे हैं, लेकिन पिछले कई वर्षों से स्विस बैंकों की चर्चा ज्यादा होती आ रही है.
        अखबारों में ऐसा छपा है कि  भारत में प्रचलित सूचना का अधिकार क़ानून के तहत एक आवेदक ने केन्द्र सरकार से स्विस बैंकों में जमा भारत के टैक्स चोरों  का ब्यौरा  माँगा ,तो उसे बताने से यह कह कर इनकार कर दिया गया कि भारत और स्विट्ज़रलैंड के बीच दोहरा कराधान बचाव समझौता यानी डबल टैक्सेशन एवाइडेंस एग्रीमेंट (डी .टी .ए.ए .)प्रचलन में है. भारत सरकार समय-समय पर स्विस परिसंघ में भारतीयों के बैंक-खातों का ब्यौरा मांगने का प्रयास करती है , लेकिन स्विस परिसंघ का टैक्स-प्रशासन इस बारे में सूचना देने में अपनी असमर्थता ज़ाहिर करता है. आवेदक ने भारत के वित्त मंत्रालय से उन लोगों और कंपनियों के नाम पूछे थे , जिन्होंने स्विस-बैंकों में काला धन जमा किया है . मंत्रालय ने साफ़ तौर पर कह दिया कि इस बारे में उसके पास कोई प्रामाणिक जानकारी नहीं है. मंत्रालय ने यह भी कहा कि उसे कुछ सूचनाएं ज़रूर मिली हैं ,पर इन्हें सार्वजनिक करने से जांच-प्रक्रिया में बाधा उत्पन्न होगी ! उसने यह भी कहा कि इन बैंकों में कितना काला धन जमा है, इसके भी कोई प्रामाणिक आंकड़े सरकार के पास नहीं है ! मंत्रालय ने कहा कि स्विस बैंकों के अपने वैध खाते और विशेष नियम हैं . यह तो हुई कल शाम की खबर . अब याद करें सिर्फ करीब ढाई माह पहले इस वर्ष सात फरवरी के अखबारों में छपे एक समाचार को, जिसके अनुसार स्विट्ज़रलैंड और जर्मनी ने उनके यहाँ जमा काले धन का पता लगाने के लिए भारत को पूर्ण सहयोग का भरोसा दिलाया है ,लेकिन दोनों देश चाहते हैं कि  उनके गोपनीयता क़ानून का भारत सरकार कड़ाई से पालन करे , जिसके तहत जमाकर्ताओं के नामों को सार्वजनिक नहीं किया जा सकता !समाचारों के मुताबिक़ जर्मन सरकार के अफसरों ने पिछले साल लिंकटेनस्टाइन स्थित एल.जी.टी. बैंक के गोपनीय खातेधारकों के नाम भारत सरकार को बताए थे. ,लेकिन इस तरह की जानकारी को सार्वजनिक करने की मनाही है, इस जानकारी का इस्तेमाल केवल सम्बन्धित अफसरों के शासकीय कार्य के लिए हो सकता है. कुछ इसी तरह की बात स्विस अफसरों ने भी कही .स्विस वित्त मंत्रालय के प्रवक्ता का कहना था कि जर्मनी और स्विट्ज़रलैंड में संशोधित टैक्स संधि लागू होने के बाद ऐसी सूचनाएं भारत को दी जा सकेंगी ,लेकिन ये सूचनाएं भी केवल कार्यालयों और अदालतों के उपयोग के लिए होंगी . इसका मतलब साफ़ है कि  कोई संशोधित टैक्स-संधि लागू करने का विचार तो है ,पर इसके लागू होने के बाद भी टैक्स-चोरों के नाम सार्वजनिक नहीं किए जा सकेंगे !  पाक्षिक 'इंडिया टुडे ' के २ फरवरी २०११ के अंक में प्रकाशित विवरण के अनुसार आज़ादी के बाद से अब तक कोई पांच सौ अरब डालर अर्थात बाईस लाख पचास हजार करोड़ रूपए भारत से बाहर ले जाए गए हैं . भारत में काले धन की भूमिगत अर्थ व्यवस्था ६४० अरब डालर की होने का अनुमान है.केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के अध्यक्ष के हवाले से इस खबर में यह भी कहा गया है कि बाईस देशों के साथ सूचना आदान-प्रदान समझौते की बात चल रही है ,तीन देशों के साथ इस दिशा में बात काफी आगे पहुँच गयी है और सबकी आँखों का केन्द्र बने स्विट्ज़रलैंड के साथ यह प्रक्रिया में है. यानी विदेशों में जमा काला धन वापस लाने के लिए भारत ने एक भी कर सूचना विनिमय समझौता नहीं किया है. ! अगर ऐसा कोई समझौता नहीं है तो फिर कल शाम यह खबर क्यों आयी कि भारत सरकार स्विट्जरलैंड के साथ दोहरा कराधान बचाव समझौता लागू होने के कारण स्विस-बैंक के भारतीय खातेधारकों की जानकारी नहीं दे सकती ? ख़बरें काफी गोल-मोल आ रही हैं . केन्द्र के स्तर पर जनता को कुछ भी साफ़-साफ़ नहीं बताया जा रहा है.
    ऐसे में अगर मीडिया में आ रही ख़बरों के आधार पर यह मान लिया जाए कि  भारत ,जर्मनी और स्विट्ज़रलैंड की  सरकारों ने सारी कवायद  बड़े-बड़े  टैक्स-चोरों अर्थात सफेदपोश डकैतों  को बचाने के लिए की  है, तो शायद गलत नहीं होगा ! ये टैक्स चोर  बड़ी चतुराई से भारत की भोलीभाली जनता की जेबों पर लगभग हर दिन किसी न किसी रूप में डाका डाल रहे हैं ,कभी मंहगाई के रूप में ,तो कभी अस्सी हजार करोड रूपए के कॉमन-वेल्थ खेल घोटाले   और एक लाख ७६ हजार करोड रूपए के टू-जी स्पेक्ट्रम घोटाले के रूप में  ! चाहे हसन अली नामक कथित घोड़ा व्यापारी के पचास  हजार करोड की इनकम टैक्स-चोरी  का मामला ही क्यों न हो !आखिर लगातार हो रहे घोटालों और डकैतियों के ज़रिये  जनता के ही खून-पसीने के टैक्स  की राशि उड़ा कर   क्या चोरी छिपे स्विस-बैंकों  और अन्य विदेशी बैंकों में जमा नही किया जा रहा  हैं  ?.   अगर ऐसा नही है तो पारदर्शिता का गाना गाने वाली हमारी बेहद ईमानदार भारत सरकार को इन टैक्स चोरों का नाम-पता बताने में इतना पसीना क्यों आ रहा है ? क्या उस लिस्ट में सत्यवादी राजा हरिश्चंद्रों के नाम हैं ? चाहे किसी का  भी नाम क्यों न हो, अगर उसने देश को लूटा है , तो क्या देशवासियों को उस लुटेरे के बारे में जानने का अधिकार नही है ? क्या नाम बताने से इसलिए मना किया जा रहा है कि उस अज्ञात काली सूची में बताने वालों के भी नाम शामिल हैं ? यह कैसा क़ानून है , जिसके हाथ अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक अपराधियों पर कार्रवाई करने के नाम पर बंध जाते हैं ?यह कैसा समझौता है कि हम अपने देश के मुजरिमों के बारे में दूसरे देश की सरकार या वहाँ की बैंकों से कोई जानकारी हासिल नहीं कर सकते ?
      बताया गया है कि स्विस-बैंकों सहित विदेशी बैंकों में टैक्स-चोर भारतीयों का लगभग दस खरब डालर जमा हैं ! एक डालर  करीब पचास रूपए का होता है. ऐसे में देखा जाए तो भारत की भोली जनता के साथ छल-कपट और गद्दारी करने वालों ने देश का करीब पांच सौ खरब रुपया विदेशी बैंकों में छुपा रखा है. अगर यह काला धन वापस आ जाए और  १२१ करोड तक पहुँच  चुकी भारतीय जनसंख्या में प्रत्येक व्यक्ति को एक अरब रूपए ही दे दिए जाएँ ,तो हर हर भारतीय अरबपति तो हो ही जाएगा !सरकार यह काला धन वापस लाकर जनता में बाँटे या न बाँटे ,  अगर वह इतनी  विशाल धन-राशि का इस्तेमाल जनता के लिए  शिक्षा ,स्वास्थय , बिजली , पानी  सड़क ,सिंचाई और आवास जैसी विभिन्न विकास परियोजनाओं में करे ,तो देश का काया -कल्प हो जाए , अगले कई वर्षों तक भारत  के नागरिकों को किसी प्रकार का टैक्स न देना पड़े और देश में गरीबी और बेरोजगारी का नाम-ओ-निशान भी न रहे  !  लेकिन  ऐसे मामलों में सारे कायदे-क़ानून  अगर डकैतों के बचाव में सीना तान कर खड़े हों , तो इसे ''चोरी और सीनाजोरी ' के साथ-साथ 'डकैती और डंके की चोट पर लठैती ' के सिवाय और क्या कहा जा सकता है ?
                                                                                                                    -  स्वराज्य करुण                                

Thursday 21 April 2011

(कविता अन्ना और गन्ना !

                                                                 स्वराज्य करुण

                                                  देश को चूस रहे जो 
                                                  समझ कर गन्ना ,
                                                  उनके लिए अब 
                                                 खतरनाक  हो गए अन्ना  !
                                        
                                                बरसों बाद कोई तो आया
                                                जिसने दिखाया 
                                                कुर्सी के   दलालों को आइना ,
                                               गायब हो गया जोश ,
                                                देख कर अपना असली चेहरा
                                                सब खो बैठे होश !
                                              
                                               हो गए बदहवास ,
                                               करने लगे बकवास-
                                               करना नहीं था 
                                               अन्ना को उपवास !
                                               सीधे -सच्चे इंसान पर
                                               उछालने लगे वो कीचड़,
                                               ये है भ्रष्टाचार का बीहड़ !


                                               सिंहासन होने लगा
                                               जब डावांडोल ,
                                               खुलने लगी जब उनकी पोल ,
                                               जिनके हाथों में लगी है
                                               दलाली की कालिख ,
                                               आज वही दे रहे हैं  अन्ना को
                                               तरह -तरह की सीख !
                                              

                                                ईमानदारी की बात
                                                करोगे तो क्या फायदा ,
                                                भ्रष्टाचार आज  बन गया है
                                                समाज का क़ानून -कायदा !
                                                जिसकी शान में हमेशा
                                                रंगा जाता है 
                                                अखबार का हर पन्ना  !
                                            
                                                 बताओ कहो कहाँ नहीं 
                                                 चलती है रिश्वत ,
                                                 जिसे देख कर दिमाग
                                                 कभी चकराता है तो 
                                                 कभी जाता है भन्ना !
                                                   
                                                  हर दफ्तर में हैं छोटे-बड़े
                                                  कई लालू , राजा ,
                                                  कलमाड़ी और खन्ना !
                                                  भ्रष्टाचार मिटाने चाहिए
                                                  आज हर गाँव-शहर में 
                                                  हजारे की तरह
                                                  हजारों -हजार  अन्ना !

                                                  अन्ना से घबरा रहा है 
                                                  तो घबराने दो उसे,
                                                  काली कमाई से जो 
                                                  बन बैठा  है सेठ धन्ना  !
                                                                         - स्वराज्य करुण 

Wednesday 20 April 2011

( कविता ) अन्ना और गन्ना !

                                            देश को चूस रहे जो 
                                            समझ कर गन्ना ,
                                            उनके लिए अब 
                                            खतरनाक  हो गए अन्ना  !
                                        
                                             बरसों बाद कोई तो आया
                                             जिसने दिखाया 
                                             कुर्सी के   दलालों को आइना ,
                                             गायब हो गया जोश ,
                                             देख कर अपना असली चेहरा
                                             सब खो बैठे होश !
                                              
                                             हो गए बदहवास ,
                                             करने लगे बकवास-
                                             करना नहीं था 
                                             अन्ना को उपवास !
                                              सीधे -सच्चे इंसान पर
                                              उछालने लगे वो कीचड़,
                                              ये है भ्रष्टाचार का बीहड़ !


                                              सिंहासन होने लगा
                                              जब डावांडोल ,
                                              खुलने लगी जब उनकी पोल ,
                                              जिनके हाथों में लगी है
                                              दलाली की कालिख ,
                                             आज वही दे रहे हैं  अन्ना को
                                              तरह -तरह की सीख !
                                              

                                                ईमानदारी की बात
                                                करोगे तो क्या फायदा ,
                                                भ्रष्टाचार आज  बन गया है
                                                समाज का क़ानून -कायदा !
                                                जिसकी शान में हमेशा
                                                रंगा जाता है 
                                                अखबार का हर पन्ना  !
                                            
                                                 बताओ कहो कहाँ नहीं 
                                                 चलती है रिश्वत ,
                                                 जिसे देख कर दिमाग
                                                 कभी चकराता है तो 
                                                 कभी जाता है भन्ना !
                                                   
                                                  हर दफ्तर में हैं छोटे-बड़े
                                                  कई लालू , राजा ,
                                                  कलमाड़ी और खन्ना !
                                                  भ्रष्टाचार मिटाने चाहिए
                                                  आज हर गाँव-शहर में 
                                                  हजारे की तरह
                                                  हजारों -हजार  अन्ना !

                                                  अन्ना से घबरा रहा है 
                                                  तो घबराने दो उसे,
                                                  काली कमाई से जो 
                                                  बन बैठा  है सेठ धन्ना  !
                                                                         - स्वराज्य करुण 
                                         

Tuesday 19 April 2011

(कविता) भारत ,भय और भ्रष्टाचार !

                                       क्या एक ही सिक्के के
                                        अलग-अलग पहलू हैं --
                                        भारत ,भय और भ्रष्टाचार ?
                                        फिर क्यों कर रहे है
                                        देश को बदनाम 
                                        भारत-माता के जो
                                        बने हुए हैं  पहरेदार ?
                                        और देश के खजाने को
                                         हर तरह से लूट कर
                                         भर रहे हैं अपना घर-द्वार !
                                 
                                         कल तक जो थे तंगहाल
                                         कुर्सियों  को  जीत कर
                                         कैसे हुए मालामाल !
                                         करते थे झुक-झुक कर
                                         जनता को प्रणाम
                                         अब कैसे बदल गयी
                                          एकाएक उनकी चाल  !
                                          किसी भेडिये से कम नहीं
                                          उनका आतंक ,
                                          लेकिन पहनते है हमेशा
                                          भेड़ की खाल !


                                           हे भगवान !  हो अगर तुम कहीं ,
                                           तो नज़र  आते क्यों नहीं ?
                                           हर ऐरा-गिरा दिख जाता है
                                           आजकल
                                           टेलीविजन के रंगीन परदे पर ,
                                           तुम तो फिर भगवान हो ,
                                           तुम भी आकर
                                           झलक अपनी दिखाते  क्यों नहीं ?
                                         
                                            आओ जल्द से जल्द  आओ 
                                             और इतना तो
                                             बतला जाओ -
                                             देश की सबसे बड़ी पंचायत में 
                                             कब तक बैठेंगे
                                             नामी-गिरामी चोर-डाकू ,
                                             भ्रष्टाचार की काली कमाई से
                                              कब तक चलाते रहेंगे
                                             जनता की गर्दन पर चाकू ?

                                              भारत माता के आंचल से
                                              कब तक मिटेगा
                                              भ्रष्टाचार का कलंक
                                              जनता के चुने हुए
                                              नौकर जो बन बैठे राजा
                                              उन्हें  आखिर
                                              कब नज़र आएगा
                                              गरीबी ,बेरोजगारी
                                              और महंगाई के जाल में  फँसा हुआ रंक ?

                                                                              -   स्वराज्य करुण