Thursday 31 March 2011

(पुस्तक-चर्चा ) पढ़ कर आती है अभिमन्यु की याद




            हिन्दी साहित्य के विशाल संसार में   नवोदित कवि अरविन्द की पहली काव्य-पुस्तक 'माँ ने कहा था ' निर्मल भाव-पंक्तियों के रूप में चार-चार पंखुड़ियों वाले 273 फूलों की  एक ऐसी माला बन कर आयी है ,जिसके हर फूल में  हर इंसान  माँ की ममता और महिमा की खुशबू को मन ही मन महसूस कर सकता है.  पुस्तक में  अरविन्द  इस लघु खंड-काव्य की पृष्ठ-भूमि पर   महाभारत के अनुशासन-पर्व के एक श्लोक से  'अपनी बात ' शुरू करते हैं. उन्होंने इस श्लोक का   भावार्थ बताते हुए लिखा  है  -   ' मनुष्य जिस व्यवहार से पिता  को प्रसन्न करता है ,भगवान प्रजापति प्रसन्न होते हैं . जिस बर्ताव से वह माता को संतुष्ट करता है , उससे पृथ्वी देवी की भी पूजा हो जाती है .
           इस काव्य पुस्तक से   यह भी आसानी से अनुभव किया जा सकता है कि युवा कवि अरविन्द के जीवन पर उनकी ममतामयी माँ के व्यक्तित्व का गहरा प्रभाव है .उनका यह कहना भी वास्तव में महत्वपूर्ण है कि गर्भावस्था से ही इंसान का अपनी माँ से संवाद प्रारम्भ हो जाता है और जीवन-मृत्यु से परे ये संवाद महासागर की तरह अंतहीन होते हैं.  अरविन्द के  इन विचारों से  और उनकी इस काव्य मालिका के प्रथम पुष्प से  महाभारत के अभिमन्यु की याद  भी ताजा हो जाती है . आप भी महसूस कीजिए --

                                              
                                                      पहली बार सुना मै माँ को
                                                      था सोया जब माँ के अंदर ,
                                                     आज भी सुनता हूं मै स्वर को  ,
                                                     आज भी हूं मै माँ के अंदर !

    अरविन्द  'अपनी बात  'में यह भी  कहते हैं कि माँ की कही -अनकही बातों को गद्य अथवा पद्य रूप देना कठिन ही नहीं ,बल्कि असम्भव है . कवि के ही शब्दों में  --  'उस अंतहीन सागर को टुकड़ों में ही सही , समेटने का दुस्साहस कर रहा हूं . नारी जननी होती है और जननी की आराधना से बढ़ कर कोई धर्म नहीं होता . कवि अरविन्द ने अपने सृजन में  अपनी  माता से मन ही मन संवाद करते हुए  मानव-कल्याण की भावनाओं को भी स्वर दिया है . उनकी इस लंबी काव्य रचना की हर पंक्ति में व्यक्ति और समाज के लिए कोई न कोई प्रेरणा दायक सन्देश ज़रूर मिलता है .ज़रा इन पंक्तियों को देखें--
                                                          हर प्राणी में दया भाव हो
                                                          बहे प्रेम की निश्छल धारा ,
                                                           हो स्वतंत्र पशु और पक्षी भी
                                                           मानव धर्म करे जग सारा !
                                                                                             (134 )
                                                                   
                                                           जैसी है बाईबिल की मरियम                             
                                                           वैसी ही रामायण की सीता ,
                                                            गांधी बुद्ध वही कहते हैं
                                                           जैसा कहती कृष्ण की गीता !
                                                                                          (143)

     हमारी महान भारतीय संस्कृति में न सिर्फ जननी को, बल्कि जिस पवित्र भूमि पर हम जन्म लेते हैं , उसे भी 'माता' के रूप में सम्मान दिया जाता है. हमारे लिए भारत-भूमि 'भारत माता ' है. हमारे यहाँ तो 'जननी -जन्म भूमि'  को स्वर्ग से भी महान माना गया है . हम लोग अपनी पवित्र नदियों को और गायों  को भी उनके महान उपकारों के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए माता कह कर पुकारते हैं.  अपने इस लघु खंड काव्य में कवि ने माता के  महिमा गायन के साथ-साथ उसे धरती माता के रूप में भी देखा है . वह आज की दुनिया में हो रहे बेतरतीब और बेरहम औद्योगिक विकास की वज़ह से धरती  के बदलते-बिगड़ते  पर्यावरण  को लेकर भी  चिंतित है --

                                                              हरे-भरे  वृक्षों की हत्या  
                                                              उनकी लाशों पर महल बनाए ,
                                                              लालची होकर ,कर शिकार
                                                             अपने घरों में ज्योति जलाए !
                                                                                                 (117)

                                                               उद्योगों की झड़ी लगा दी
                                                               हुई हमारी जलवायु प्रदूषित ,
                                                               मैली हुई प्रकृति निर्मला
                                                               होते थे जिससे हम पोषित !
                                                                                            (118)

                                                               देखा मैंने माँ के मुख पर
                                                               बदल रही पृथ्वी की सूरत ,
                                                                सूख चुकी सरिता की धारा
                                                               विशालकाय सागर की मूरत !
                                                                                                (122 )               

मेरे ख़याल से अरविन्द की यह पहली कविता -पुस्तक  जहां मानव-जीवन के दार्शनिक-भावों को सहज-सरल शब्दों में पाठकों के सामने रखने का  एक  सार्थक  प्रयास है , वहीं माँ की महिमा के माध्यम से कवि ने   राज-धर्म, समाज-धर्म और मानव-धर्म के  मर्म को भी छूने की कोशिश की है . मैकेनिकल इंजीनियरिंग में तीन वर्षीय डिप्लोमा और स्नातक डिग्री धारक अरविन्द जी दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे ,बिलासपुर(छत्तीसगढ़ ) में भण्डार -नियंत्रक कार्यालय में डिपो वस्तु अधीक्षक के पद पर कार्यरत हैं.साहित्य में उनकी दिलचस्पी और इस काव्य-पुस्तक में उनकी लेखनी से निकले  मनोभावों  से लगता है कि एक मैकेनिकल इंजीनियर के रूप में मशीनों के साथ-साथ मानव-मन की बारीकियों को  भी उन्होंने बेहतर पहचाना  है . भाई अरविन्द कुमार झा ग्राम/पोस्ट -हरिपुर बख्शी टोला, जिला -मधुबनी (बिहार ) के स्थायी निवासी हैं . ब्लॉग-जगत  में भी वे सक्रिय हैं . उनका ब्लॉग है- krantidut.blogspot.com प्रथम पुस्तक के प्रकाशन पर उन्हें बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं .हिन्दी ब्लॉग-जगत के जाने-माने लेखक भाई ललित शर्मा को बहुत-बहुत धन्यवाद ,जिनके  सौजन्य से मुझे मानवीय संवेदनाओं  से  परिपूर्ण यह पुस्तक पढ़ने को मिली और कवि अरविन्द की काव्य-प्रतिभा से परिचय का अवसर मिला .
                                                                                                                       स्वराज्य करुण
                        

Wednesday 30 March 2011

(लघु-कथा ) वाह ! क्या आइडिया था !

                                                                                                      
                                                                                                                     
                                                                                                               -- स्वराज्य करुण
     
   शहर के कुछ जागरूक युवाओं ने महंगाई , मिलावट ,मुनाफाखोरी,  जमाखोरी  कल-कारखानों के प्रदूषण और सार्वजनिक जीवन में व्याप रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष के लिए प्रगतिशील युवा मंच का गठन किया था. काले कारोबारियों ,  उद्योगपतियों  और  अज़गर संस्कृति वाले भ्रष्ट अफसरों ने अपने कथित वी.आई .पी. क्लब में शराब की बहती नदी के बीच  इस समाचार को छोटे परदे के लाफ्टर -शो वाले जोकरों का कोई लतीफा मान कर चटखारों के साथ इसका खूब मज़ा लिया.
         एक दिन युवा मंच के कार्यकर्ताओं   ने सेठ धरमदास की दुकान पर मिर्च के पैकेट में लकड़ी के बुरादे की मिलावट पकड़ ली. दूसरे दिन इन्ही  कार्यकर्ताओं ने एक मशहूर मिठाई की दुकान' मधुर मिष्ठान्न'  में नकली खोवे का जखीरा बरामद किया . प्रमाण सहित दोनों मामलों की शिकायत स्थानीय खाद्य-निरीक्षक से की गयी. लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई . कलेक्टर को लिखा गया .  कोई ज़वाब नहीं आया .शिकायत ने और भी आला      -अफसरों के दफ्तरों तक दौड़ लगाई . फिर भी  कोई नतीजा नहीं निकला . सेठ धरमदास और  मिठाई दुकानदार  दोनों खूब हँस रहे थे ,लेकिन प्रगतिशील युवा मंच  ने जब नाराज़ हो कर शहर बंद का आव्हान किया ,तो दोनों चिंतित हो गए .
                           सेठ जी ने मोबाईल फोन पर आरा -मिल के मालिक सत्यव्रत  और मधुर-मिष्ठान्न के प्रोप्राइटर   हरिश्चन्द्र  को आपात बैठक के लिए बुलवाया . दरअसल जिस मामले को वे तीनों मामूली समझ रहे थे ,वह उतना ही गंभीर होता जा रहा था .  मिलावट से परेशान जनता इन युवाओं को समर्थन दे रही थी . सत्यव्रत जी का चिंतित होना भी स्वाभाविक था.क्योंकि सेठ धरमदास के 'देशभक्त ब्रांड ' मिर्च के लिए लकड़ी के बुरादे की पूर्ति उनके आरा-मिल से होती थी.  हरिश्चन्द्र जी  के माथे पर भी गहरी चिंता की लकीरें उभरने लगी थी .कारण यह कि नकली खोवे के राष्ट्रीय कारोबार में भी तीनों  साझेदार थे.
                        अब तक तीनों को मिलावट के इस काले कारोबार में करोड़ों का मुनाफ़ा हो चुका था और वे पिछले कई वर्षों से  ऐश-ओ-आराम की जिंदगी का मज़ा ले रहे थे .रहस्यों का पर्दाफ़ाश होने पर अब उन्हें यह फायदे का व्यापार डूबता दिखाई दे रहा था. तीनों साझेदारों की आपात बैठक सेठ धरमदास के महलनुमा  मकान में शुरू हुई . सेठ धरमदास ने धरम-करम का हवाला देते हुए कहा - जनता को बेवकूफ बना कर रूपए कमाने के दिन लगता है कि लद गए .  क्या करें ,समझ में नहीं आ रहा . सत्यव्रत जी ने उन्हें दिलासा देते हुए कहा- '' निराश नहीं होना चाहिए . तुम तो अभी से हिम्मत हार रहे हो.'' धरमदास ने मायूसी के साथ कहा -''अब उपाय ही क्या रह गया है सत्यव्रत भाई ? '' तभी सेठ धरमदास का पैंतीस वर्षीय सुपुत्र वसूलीचंद  ' 'उपाय है बाबूजी ,मै बताता हूं '' कहते हुए कमरे में आया . वह स्थानीय महाविद्यालय  में पिछले दस वषों से समाज-शास्त्र में एम.ए. का छात्र था और छात्र-संघ का अध्यक्ष भी. ''क्या उपाय है बेटे ? ''--तीनों साझेदारों ने बहुत व्यग्र होकर उसकी तरफ देखा . इस पर मुस्कुराते हुए 'धर्म-पुत्र ' ने उन्हें जो उपाय बताया , उसे सुनकर तीनों मित्रों की बांछे खिल उठीं . सत्यव्रत  जी ने धरमदास की पीठ ठोंकी -वाह ! क्या होनहार बेटा पाया है तुमने !
                                    'मिलावटखोरों के खिलाफ कल शहर बंद के आयोजन को सफल बनाएँ ' --प्रगतिशील युवा मंच  के कार्यकर्ता एक सायकल रिक्शे पर घूम-घूम कर लाऊड स्पीकर से नागरिकों के नाम अपील प्रसारित कर रहे थे . जनता में मिलावटखोरों के खिलाफ  काफी  गुस्सा था. लिहाजा ,वह इस बंद को कामयाब बनाने के लिए मानसिक रूप से तैयार थी . बंद के दिन रास्ते वीरान हो गए थे . मिलावटखोरों ने   भी डर के मारे अपनी दुकानें बंद रखी . नागरिकों का यह स्व-स्फूर्त  बंद शत-प्रतिशत सफल होने के  साफ़-साफ़  संकेत दे रहा था. सुबह के दस बजे ही थे .           
    तभी शहर की वीरान सडकों पर एक मोटर गाड़ी घूमने लगी , जिस पर लाऊड-स्पीकर से ऐलान किया जा रहा था ---  ' आज सवेरे नेहरु-स्टेडियम में  हमारे जिले और पड़ोसी जिले के  प्रसिद्ध क्लबों की मशहूर टीमों के बीच बीस-बीस ओवरों का क्रिकेट मैच होगा. इसका शुभारंभ महेंद्र सिंह धोनी के ड्राय -क्लीनर  सुरेन्द्र सिंह जी करेंगे . आप लोगों से निवेदन है कि मैच देख कर अपना मनोरंजन करें और खिलाड़ियों का भी हौसला बढाएं ! ''  फिर क्या था ? स्कूल-कॉलेज के विद्यार्थी अपने घरों से निकल कर परेड-मैदान की तरफ दौड़ने लगे ! मूंगफली . चाट-पकौड़े , टायलेट-क्लीनर (कोल्ड-ड्रिंक ), पान-गुटका और बीडी -सिगरेट बेचने के लिए खोमचे वाले और छोटे दुकानदार भी दौड़े ! शहर के रईसजादों की चमचमाती कारें भी मैदान की ओर दौड़ने लगी .मैदान खचाखच भर गया . विशेष अतिथियों के लिए आरक्षित सीटों पर बैठे सेठ धरमदास , सत्यव्रत  और हरिश्चन्द्र  काफी खुश नजर आ रहे थे . उन्होंने देखा - शहर के नागरिक मिलावट की समस्या को भूल कर क्रिकेट मैच देखने में मगन हैं   और नगर-बंद की अपील करने वाले प्रगतिशील युवा मंच  के कार्यकर्ता अपना सिर धुन रहे हैं !
        सत्यव्रत जी ने सेठ धरमदास को बधाई दी और कहा --- '' वाह ! क्या आइडिया दिया था तुम्हारे लाडले बेटे ने ! अब हम 'देशभक्त'  ब्रांड मिर्च पावडर का व्यापार खुलकर आसानी से कर सकेंगे !    मिर्च पावडर में बुरादे की मिलावट के लिए   मेरी   'जंगल-प्रेमी'  आरा मशीन  भी खूब चलेगी    !''   बधाई हो धरमदास !  मेरी नकली खोवे की मिठाइयां  भी खूब बिकेंगी !''--हरिश्चन्द्र ने चहकते हुए कहा . क्रिकेट मैच देखने के बाद तीनो साझेदार खुशी-खुशी एक  सितारा होटल के  बीयर-बार में गए,जहां  उन्होंने  जमकर जाम छलकाया .
                                                                                                                  -   स्वराज्य करुण


Monday 28 March 2011

कर्मचारी चयन आयोग की लापरवाही

                                   
           बेरोजगार  इंजीनियरों का भविष्य हुआ चौपट !

      केंद्र  सरकार के कुछ  नासमझ और लापरवाह अधिकारी देश के बेरोजगार युवाओं के भविष्य के साथ किस बेशर्मी और बेरहमी से खिलवाड़ कर रहे हैं ,  इसका ताजा उदाहरण कल 27  मार्च को  केन्द्रीय कर्मचारी चयन आयोग द्वारा  जूनियर इंजीनियर भर्ती  के लिए  दिल्ली , जयपुर , देहरादून , कोलकाता , मुम्बई , नागपुर, रायपुर और भोपाल सहित  भारत के 33  शहरों में आयोजित परीक्षा में देखा गया . 
          यह अखिल भारतीय खुली संयुक्त परीक्षा केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग , सैन्य अभियांत्रिकी सेवा आदि सरकारी एजेंसियों में सिविल और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरों की भर्ती के लिए थी .  इसमें भारत सरकार के मान्यता प्राप्त संस्थानों से सिविल अथवा इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा या सम- कक्ष उपाधि प्राप्त आवेदक शामिल हो सकते थे , जैसा कि आयोग द्वारा एक  जनवरी 2011 के साप्ताहिक 'रोजगार समाचार ' में प्रकाशित विज्ञापन में लिखा हुआ है .हालांकि इस  विरोधाभासी  विज्ञापन में यह भी लिखा  हुआ है कि दोनों    प्रश्न-पत्रों में सामान्य-अभियांत्रिकी के अंतर्गत इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल के सवाल भी पूछे जाएंगे , लेकिन वास्तव में ये दोनों ही विषय इंजीनियरिंग की अलग-अलग शाखाओं के हैं और दोनों में अलग-अलग डिग्री -डिप्लोमा का प्रावधान है.   दोनों के पाठ्यक्रम भी अलग-अलग स्वरुप के होते हैं. हैरत की बात है कि जब  कर्मचारी चयन आयोग द्वारा  केवल सिविल और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरों की भर्ती होनी थी तो उसके लिए आयोजित लिखित परीक्षा  में  मैकेनिकल इंजीनियरिंग के प्रश्न देने का क्या औचित्य था ? प्रश्न पत्र तैयार करने वाले की बुद्धि पर तरस आता है.  विज्ञापन तो सिर्फ सिविल और इलेक्ट्रिकल वालों के लिए जारी हुआ था .  लेकिन देश के हज़ारों बेरोजगार अभ्यर्थियों ने इस विज्ञापन के आधार पर  यह सोच कर आवेदन कर दिया  था कि शायद परीक्षा की तारीख आते तक आयोग वालों को अपनी गलती का एहसास हो जाएगा और वे इस विरोधाभासी प्रावधान को सुधार लेंगे .लेकिन जब परीक्षा हुई तो उसमें इलेक्ट्रिकल वालों को मैकेनिकल के सवाल हल करना भी अनिवार्य था .
       कुछ परीक्षार्थियों  ने बताया कि  यह तो वही बात हुई , जैसे  एलोपैथिक(एम.बी.बी. एस. ) डॉक्टरों की भर्ती परीक्षा में आयुर्वेदिक (बी. ए. एम. एस. ) या नहीं तो होम्योपैथिक (बी.एच. एम.एस. ) पाठ्यक्रम के प्रश्न दे दिए जाएँ , या फिर वनस्पति-विज्ञान की परीक्षा में गणित के  और संस्कृत भाषा के प्रश्न-पत्र में अंग्रेजी  भाषा के  सवाल पूछे जाएँ !  आयोग द्वारा इलेक्ट्रिकल इंजीनियरों की  संयुक्त भर्ती परीक्षा के प्रथम प्रश्न-पत्र में कुल दो  सौ  ऑब्जेक्टिव -टाईप के सवाल दिए गए थे . कुल अंक दो सौ थे . यानी प्रत्येक प्रश्न पर एक अंक. इनमे सामान्य बुद्धि और तर्क के  50  और सामान्य जानकारी के 50  प्रश्नों पर तो परीक्षार्थियों को आपत्ति नहीं हुई , लेकिन प्रश्न-पत्र के भाग-ख में  सामान्य इंजीनियरिंग के तहत इलेक्ट्रिकल और मेकेनिकल के कुल 100  प्रश्नों पर उन्होंने यह सवाल उठाया है कि आखिर इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बी.ई. डिग्री अथवा पॉलीटेक्निक डिप्लोमा किया हुआ आवेदक मैकेनिकल इंजीनियरिंग के सवाल कैसे हल कर पाएगा ?
     इसी तरह द्वितीय प्रश्न-पत्र केवल सामान्य-इंजीनियरिंग का दिया गया .इसमें कुल तीन सौ अंक थे और कुल एक दर्जन में से कोई  दस सवाल  हल करने थे. यह निबंधात्मक प्रश्न-पत्र था ,जिसमे अभ्यर्थियों को दो-दो उत्तर पुस्तिकाएं दी गयी. इनमें  से एक उत्तर-पुस्तिका में इलेक्ट्रिकल और दूसरी पुस्तिका में मैकेनिकल के प्रश्नों को हल करना अनिवार्य था.  मुश्किल यह हुई कि न तो इलेक्ट्रिकल वाले मैकेनिकल के सवाल हल कर पाए और न ही  मैकेनिकल वाले इलेक्ट्रिकल के  प्रश्नों को .  कहने का आशय यह कि इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग के अलग- अलग स्वरुप के पाठ्यक्रमों  में  डिग्री अथवा डिप्लोमा लेकर आए आवेदकों को इस चयन-परीक्षा  से काफी निराशा हुई .  इसमें उन्हें केलकुलेटर का इस्तेमाल भी नहीं करने दिया गया ,जबकि इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए होने वाली  GATE  की  परीक्षा में केलकुलेटर रखने की सुविधा दी जाती है.
      बहरहाल  कुछ अज्ञानी  अधिकारियों द्वारा  कर्मचारी चयन आयोग की जूनियर इंजीनियर चयन परीक्षा  में गलत तरीके से तैयार प्रश्न-पत्रों के कारण हज़ारों बेरोजगार  इंजीनियरों को रोजगार  के एक बेहतर अवसर से वंचित होना पड़ा .  उनका भविष्य चौपट हो गया . क्या इसके लिए कहीं कोई जिम्मेदारी तय होगी ? कुछ परीक्षार्थी इस अन्याय के खिलाफ अदालत की शरण लेने का मन बना रहे हैं.
                                                                                                             

Sunday 27 March 2011

(ग़ज़ल ) खूब चलता है बुलडोज़र !

                                                                                      
 
                                                                                               
                                                                                                   स्वराज्य करुण
                                         
                                             गरीबों की बस्तियों में खूब चलता है बुलडोज़र ,
                                             सीने पे झुग्गियों के  मूंग दलता  है बुलडोज़र  !

                                             दिखती नहीं कभी  उसे आलीशान  कोठियां
                                             दौलत की चमक वालों से दहलता है बुलडोज़र  !

                                              बेरहम को पता  नहीं  ये  हरेली है क्या बला ,                          
                                              तभी तो हरे  पेड़ों को  कुचलता है बुलडोज़र !

                                               विनाश के  तूफ़ान को कहता है वह विकास ,
                                              मानव को मायाजाल में  छलता है बुलडोज़र ! 

                                               चूल्हे की आंच से नहीं कुछ लेना-देना उसको ,
                                              मेहनतकशों के सपनों को निगलता है बुलडोज़र !
                                          
                                               सफेदपोश हाथों का वह  बन गया  है  खिलौना  ,
                                               उनकी ही मेहरबानी से  यहाँ पलता है बुलडोज़र !

                                                                                                    स्वराज्य करुण 

                                 
                                                                       

Friday 25 March 2011

उड़ीसा बन गया 'ओड़िशा' लेकिन 'इंडिया '?


              भगवान जगन्नाथ की पावन-भूमि ,  अपनी  मधुर संस्कृत- बांग्ला  निष्ठ भाषा और बहुरंगी कला-संस्कृति के   लिए  देश और दुनिया में प्रसिद्ध उड़ीसा  राज्य अब  भारत के मानचित्र में  'ओड़िशा  ' के नाम से पहचाना  जाएगा .वहाँ की भाषा उड़िया अब 'ओड़िया'  कहलाएगी . लोकसभा में पारित होने के लगभग पांच महीने के भीतर राज्य सभा ने भी कल  इस आशय के दो विधेयकों को पारित कर दिया . अब इस राज्य को इतिहास के पन्नों में सदियों पहले धूमिल हो चुकी अपनी पुरानी सांस्कृतिक पहचान  वापस मिल गयी है . निश्चित रूप से इस राज्य की जनता के लिए यह एक ऐतिहासिक अवसर है.
     उल्लेखनीय है कि यह  भारत का वही सागर तटवर्ती राज्य  है,  जो हमारे  इतिहास में 'कलिंग' के नाम से भी मशहूर था और जहां  कभी एक भयानक युद्ध में हज़ारों की संख्या में हुए मानव-संहार  और रक्त-पात देख पाटलिपुत्र के चक्रवर्ती सम्राट अशोक का ह्रदय परिवर्तन हुआ और उन्होंने सत्य, अहिंसा और मानवता के महान संदेशवाहक भगवान गौतम बुद्ध के आदर्शों की शरण में आकर उनके बताए शान्ति और जन-कल्याण के  मार्ग पर चलने का संकल्प लिया .उत्कल प्रदेश के नाम से परिचित  यह वही भूमि है , जहां पवित्र गंधमार्दन का पहाड़ है , जिस पर एक पुराण -कथा के अनुसार    'मूषक दैत्य ' के आतंक से जनता की रक्षा के लिए भगवान नृसिंहनाथ ने अवतार लिया था और जहां आज भी वे अपने ऐतिहासिक मंदिर में विराजमान हैं और प्रति दिन भारी संख्या में आने वाले भक्तों को अपना आशीर्वाद प्रदान कर रहे हैं .
       यह बात और है कि  हरे-भरे सैकड़ों साल पुराने वृक्षों ,   मूल्यवान वनौषधियों और  मनोरम प्राकृतिक झरनों से परिपूर्ण इस पहाड़ पर आधुनिक युग के एक औद्योगिक दानव की बुरी नज़र लग गयी है और वह गंधमार्दन के गर्वोन्नत सीने को चीर कर अपने एल्यूमीनियम कारखाने के लिए बाक्साईट का दोहन करना चाहता है , भले ही इस खनिज को निकालने के लिए उसे इस पवित्र तीर्थ की सुन्दरता और पावनता को तबाह क्यों न करना पड़े !     भगवान् जगन्नाथ और भगवान् नृसिंह नाथ  से प्रार्थना है कि  वे कुछ ऐसा चमत्कार करें ,जिससे सम्राट अशोक की तरह  इस औद्योगिक दस्यु का भी ह्रदय परिवर्तन हो जाए ,ताकि मंदिर की पवित्रता और इस पर्वत की नैसर्गिक सुंदरता कायम रह सके . मंदिर सुरक्षित रहेगा तो हमारी भारतीय संस्कृति सुरक्षित रहेगी .  जंगल और पहाड़ सुरक्षित रहेंगे, तो हमारा पर्यावरण भी सुरक्षित रहेगा .
     बहरहाल, हम बात कर रहे थे कि छत्तीसगढ़ , झारखंड , बंगाल और आंध्रप्रदेश के निकटतम पड़ोसी उड़ीसा राज्य का नया नाम अब 'ओड़िशा ' हो गया है. वैसे नया क्या , यह नाम तो पुराना ही था .सुदूर अतीत में यह इसी नाम से जाना -पहचाना जाता था . इसके भी बहुत पहले  यह  'कलिंग' था. यानी 'कलिंग' और  'ओड़िशा ' से होते हुए यह समय के हजारों-हजार उतार-चढ़ाव के बीच लोगों की जुबान पर  कब  'उड़ीसा' हो गया ,पता ही नहीं चला .वहाँ की भाषा 'ओड़िया' भी कब 'उड़िया  'कहलाने लगी , इसका भी किसी को आभास नहीं हुआ .  खैर, जब स्थानीय जनता को अपने अतीत गौरव का बोध  हुआ ,तो राज्य का नाम बदलने  की मांग हुई . उड़ीसा यानी ओडिशा सरकार ने २८ अगस्त २००८ को राज्य विधान सभा में प्रस्ताव पारित कर दिसम्बर २००८ में केन्द्र सरकार को भेजा . केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने 'उड़ीसा (वैकल्पिक नाम ) विधेयक २०१० और उड़िया भाषा का नाम बदलने के लिए ११३ वाँ संविधान संशोधन विधेयक संसद में प्रस्तुत किया . लोकसभा तो ये  दोनों  विधेयक  पिछले साल नवंबर में पारित कर चुकी थी .संसद के उच्च सदन राज्य सभा में इसे कल २४ मार्च को पारित कर दिया गया . अब उड़ीसा राज्य का नाम कानूनी रूप से 'ओड़िशा' और भाषा का नाम उड़िया से परिवर्तित होकर' ओड़िया ' हो गया है.
  वास्तव में   किसी भी गाँव, शहर , राज्य और देश के नामकरण की अपनी एक भूमिका होती है .इसके पीछे एक सांस्कृतिक इतिहास  भी होता है. हमारे प्यारे भारत देश के नामकरण की भी अपनी भूमिका और अपना   इतिहास है . हज़ारों वर्षों से हम लोग 'भारत-माता ' के रूप में अपनी इस धरती की वन्दना करते आ रहे हैं. इस बीच अंग्रेजों ने अपनी कुटिल व्यापारिक चालों से भारत माता को गुलाम बना कर इसका नाम 'इंडिया ' रखवा दिया. जनता ने कठिन संघर्षों से आज़ादी हासिल की और भारत माता को गुलामी के बन्धनों से आज़ाद कराया . देश में लोकतंत्र  कायम हुआ. तब से लेकर आज तक लोकतंत्र की भावना के अनुरूप जनता के लिए ,जनता के द्वारा जनता की निर्वाचित सरकारें केन्द्र और राज्यों में शासन -प्रशासन का संचालन करते हुए लोक-हित और देश-हित में काम कर रही हैं .
    लेकिन अंग्रेजों के जाने के बाद शासन-प्रशासन में बदलाव तो आया ,पर हमारे भारतीय समाज   की  मानसिकता पर  अंग्रेजियत का नशा आज तक काले साये की तरह छाया हुआ है. इसका  सबसे बड़ा उदाहरण यह है कि हम अब तक  अपने देश के अंग्रेजी नाम 'इंडिया ' को नहीं बदल सके . यह ज़रूर है कि इस बीच पिछले पच्चीस -तीस वर्षों में हम लोगों ने मद्रास का नामकरण चेन्नई , कलकत्ता का नाम कोलकाता और  बम्बई का नाम 'मुम्बई ' होते देखा है. मैसूर राज्य का नाम 'कर्नाटक' और राजधानी बेंगलोर का नाम 'बेंगलुरु ' हो गया. अभी-अभी उड़ीसा राज्य का नाम बदल कर 'ओड़िशा ' कर दिया गया है. हम अपने देश के राज्यों और शहरों के नाम  स्थानीय जन-भावनाओं के अनुरूप रख रहे हैं , यह अच्छी बात है और स्वागत योग्य भी है.  लेकिन अचरज की बात यह है कि आज़ादी के चौंसठ साल गुजर जाने के बावजूद हमें अब तक यह ख्याल नहीं आया कि इस आज़ाद मुल्क के अंग्रेजी नाम  'इंडिया 'को प्रचलन से बाहर कर दिया जाना चाहिए. अगर कोई अंग्रेजी में हमारे देश का नाम लिखना चाहे तो 'इंडिया ' न लिख कर 'भारत ' लिखे. सरकारी तौर पर भी 'इंडिया' शब्द के प्रचलन और उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया जाना चाहिए. वास्तव में मुझे तो 'भारत' लिखने में जितना गर्व महसूस होता है, 'इंडिया ' लिखने या 'इंडिया ' बोलने में उतने अपनेपन का एहसास नहीं होता .यह अंग्रेजी शब्द हमारी संस्कृति के अनुरूप भी नहीं है.
     सच तो यह है कि 'इंडिया ' शब्द गुलामी का प्रतीक है और आज भी हमें गुलामी के काले दिनों की याद दिलाता है. अंग्रेजी के  पांच अक्षरों का  शब्द 'इण्डिया ' भारत माता के माथे पर बिंदिया की तरह नहीं , बल्कि गुलामी के कलंक की तरह चिपका हुआ है. हमें अपनी मातृभूमि के मान-सम्मान की रक्षा के लिए उसके माथे से इस कलंक को  फ़ौरन मिटा देना चाहिए . जब हम आज़ादी के बाद मद्रास को चेन्नई , बम्बई को मुम्बई , कलकत्ता को कोलकाता , मैसूर को कर्नाटक.,बेंगलोर को बेंगलुरु और उड़ीसा को ओड़िशा  में तब्दील कर सकते हैं , तो 'इंडिया ' को 'भारत ' में क्यों नहीं बदल सकते ?   .                                        -- स्वराज्य करुण
                                                                                          

Thursday 24 March 2011

बैंक खातों पर भी लगाओ ' सूचना का अधिकार ' क़ानून !

                                                                                            स्वराज्य करुण

              नयी  दिल्ली में कॉमन-वेल्थ खेल घोटाला और टू-जी स्पेक्ट्रम घोटाला , मुम्बई में आदर्श सोसायटी घोटाला,पुणे के एक तथा कथित कबाड़ी और  घोड़ा व्यापारी हसन अली पर पचास हज़ार करोड रूपयों की टैक्स चोरी का इलज़ाम और  स्विस बैंक में अरबों रुपयों का काला-धन छुपा कर रखने की खबर , उड़ीसा में एक सरकारी कंपनी के सबसे बड़े अफसर के घर से करोड़ों रुपयों के सोने के बिस्कुट बरामद होने का मामला- यह सूची और भी लंबी हो सकती है .  पिछले   एक साल से भी कम समय में देश में आर्थिक-अपराधों के कितने  ही सनसनीखेज मामले सामने आए और कुछ दिनों तक मीडिया में सुर्खियाँ बन कर छाए रहने के बाद या तो ओझल हो गए ,या फिर जन-मानस में  धीरे-धीरे उनकी चर्चा फीकी होने लगी.
        वैसे भी जनता की सामूहिक याददाश्त यानी  पब्लिक-मेमोरी ज्यादा लंबे समय तक कायम नहीं रह पाती .शायद यही कारण है कि ऐसे जन-विरोधी अपराधों के खिलाफ कोई सामूहिक प्रतिरोध हो नहीं पाता और अगर कहीं होता भी है तो उसका असर दूध में आए उबाल से ज्यादा टिकाऊ नहीं होता.  आए दिनों विकास खंड , तहसील और जिला स्तर से लेकर राज्य स्तर के भी कई अधिकारियों के घरों में आयकर और आर्थिक अपराध जांच ब्यूरो के छापों की ख़बरें मीडिया में आती रहती हैं . कई बड़े व्यापारियों, उद्योगपतियों, फ़िल्मी पुरुषों और   फ़िल्मी महिलाओं  के घरों और प्रतिष्ठानों पर  भी ऐसे छापे पड़ते रहते हैं .कहीं बेशुमार और बेहिसाब नकद राशि बरामद होने की चर्चा होती है ,तो कहीं भारी -भरकम चल-अचल संपत्ति का खुलासा होने का दावा किया जाता है.  पटवारियों,  फॉरेस्ट गार्डों, आर. टी. ओ. सिपाहियों और दूसरे कई विभागों के सामान्य कर्मचारियों तक की जीवन शैली उनके मासिक वेतन से कई गुना ज्यादा रौनकदार होती है.  इनकम-टैक्स, सेल्स टैक्स और खाद्य अफसरों की तनख्वाह  से ज्यादा चमकदार जीवन शैली का तो कहना ही क्या ? मेहनत और ईमानदारी की कमाई से केवल रोटी ,कपड़ा और एक सामान्य मकान की ज़रूरत पूरी हो सकती है और एक औसत जीवन जिया जा सकता है ,लेकिन ऐश-ओ-आराम के साथ गुलछर्रे नहीं उड़ाए जा सकते . मंहगाई ने औसत जीवन जीने वालों का जीना दूभर कर दिया है. कहीं न कहीं महंगाई का एक बड़ा कारण काला धन भी है.
     सब देख रहे हैं कि   समाज-सेवा के नाम पर सामाजिक और राजनीतिक संस्थाओं से ताल्लुक रखने वालों की जीवन -शैली कैसे  रातोंरात एकदम से बदल जाती है. ऐसी जादुई समृद्धि आखिर आती कहाँ से है ,जिसे देख कर जनता भौचक रह जाती है ?     कई सरकारी अफसरों और कर्मचारियों के तो कई शहरों में कई-कई आलीशान मकान होने की चर्चा स्थानीय समाज में होती रहती है . रिश्वत एक गंभीर राष्ट्रीय और सामाजिक अपराध है, लेकिन इसे  'ऊपर की कमाई '  का  नाम देकर इस अपराध में नफरत नहीं ,बल्कि अपराधियों के लिए प्रलोभन और आकर्षण पैदा कर दिया गया है.  इनकम टैक्स के छापों में भी ,जिसके यहाँ छापा पड़ता है , वह अगर अनुपात से ज्यादा राशि 'सरेंडर ' कर दे , तो मामला आगे नहीं बढ़ता . उसकी इस अनुपातहीन अधिक राशि के स्रोत का कोई खुलासा नहीं होता.देश भर में  बड़े शहरों के आस-पास सैकड़ों की संख्या में बन रही बड़ी-बड़ी रिहायशी कॉलोनियों ,  बड़े-बड़े शॉपिंग-मॉलों और महंगी-गाड़ियों के शो-रूमों  की चका-चौंध देख कर काले धन के चमकीले , भड़कीले और भयानक जादू  का असर साफ़ देखा जा सकता है. पूरे देश में भू-माफिया अब प्रापर्टी-डीलर के नाम  से  पहचाने जाते हैं .
       एक प्रमुख  साप्ताहिक 'इंडिया टुडे ' के 2 फरवरी 2011  के अंक में छपी आवरण-कथा में बताया गया है कि आज़ादी के बाद से अब तक ,  करीब 64   वर्षों में भारत से कोई पांच सौ अरब डॉलर यानी लगभग साढ़े बाईस लाख करोड रूपए अवैध रूप से ले जाकर विदेशी बैंकों में जमा किए गए हैं . इस खबर में यह भी कहा गया है कि भारत की भूमिगत अर्थ-व्यवस्था छह सौ चालीस अरब डॉलर होने का अनुमान है. देश की जनता का खजाना लूट कर विदेशों में छुपाने वाले देश-द्रोहियों के नामों का खुलासा करने में भी देश के ठेकेदारों को संकोच हो रहा है क्योंकि चोर की दाढी में तिनके वाली कहावत सच साबित हो सकती है , तो कम से कम देश के भीतर भूमिगत अर्थ-व्यवस्था के सूत्रधारों के बारे में तो बता दीजिए !  इनसे वह भी नहीं हो सकता .शायद इसलिए कि चोरी और लूट-खसोट की इस बेशुमार दौलत के डाकुओं में  उनका भी तो नाम शुमार है. भला कोई  बीच चौराहे पर  सरे-आम अपने ही कपड़े कैसे उतार दे ? लोकतंत्र के हमारे पहरेदार  तो  देश की सबसे बड़ी पंचायत  में कालेधन और विकीलिक्स के खुलासे पर गंभीर चर्चा के बजाय शेर-ओ-शायरी भरी कव्वाली का मंचन करते नज़र आते हैं .भ्रष्टाचार और कालेधन के काले कारोबार में कुछ लोग तो मालामाल हो रहे हैं ,लेकिन  दुनिया का सबसे महान लोकतंत्र कहलाने वाला यह  देश भीतर से खोखला होता जा रहा है . अगर जल्द ही इस गंभीर बीमारी का कोई इलाज नहीं खोजा गया तो भारत का भविष्य अंधकारमय हो जाएगा . इसलिए राष्ट्र -हित में इस पर चिंतन बहुत ज़रूरी है.
                             जनता के वर्षों से बढ़ते दबाव की वज़ह से देश में सरकारी काम-काज और हिसाब-किताब में पारदर्शिता के लिए सूचना का अधिकार क़ानून लागू  हो चुका है और इसके ज़रिये भी कई देशभक्त नागरिकों ने आर्थिक अपराधों के अनेक गंभीर मामलों को उजागर भी किया है . इसके बावजूद मुझे लगता है कि इस क़ानून का दायरा अभी और बढ़ाने की ज़रूरत है .कई सफेदपोश डाकू बैंकों में बेनामी खाते खुलवाकर भी अपना काला धन जमा करते हैं.    देश के सभी बैंकों के जमा खातों और लॉकरों पर भी इसे लागू कर दिया जाना चाहिए. ऐसा प्रावधान होना चाहिए कि कोई भी नागरिक किसी भी सरकारी या प्रायवेट बैंक में सूचना के अधिकार के तहत आवेदन दे कर किसी भी खातेधारक के प्रचलित खाते की  और किसी के भी लॉकर की  जानकारी हासिल कर सके .इसके लिए बैंकों को अपने खातेधारकों की सूची उनके एकाउंट नम्बरों के साथ सूचना पटल पर प्रदर्शित करना अनिवार्य कर दिया जाना चाहिए . आज-कल सूचना प्रौद्योगिकी का  ज़माना है . अधिकाँश बैंकों में ई-बैंकिंग प्रणाली शुरू हो गयी है,पर इसमें केवल खातेधारक इंटरनेट के ज़रिये अपना व्यक्तिगत  लेन-देन कर सकते हैं और स्वयं के खाते का हिसाब देख सकते हैं . मेरा सुझाव है कि इस तकनीकी सुविधा का दायरा बढ़ा कर बैंक-प्रबंधन द्वारा अपने सभी खातेदारों के एकाउंट नंबरों के साथ उनके खातों का दिन-प्रतिदिन का हिसाब वेब-साईट पर भी प्रदर्शित किया जाना चाहिए .  उसमें ऐसी सुविधा दी जा सकती है कि कोई भी नागरिक किसी के भी एकाउंट की ताज़ा जानकारी स्वयं डाउन -लोड कर सके . इसमें जो मेहनतकश ईमानदार खातेधारक होंगे , उन्हें कोई संकोच नहीं होगा ,जबकि भ्रष्टाचार और बेईमानी से धन अर्जित करने वालों को निश्चित रूप से मानसिक कष्ट होगा .,लेकिन देश के लिए और देशवासियों के लिए यह फायदे की बात होगी ,क्योंकि इतनी व्यापक पारदर्शिता होने पर बेनामी धन बैंकों में जमा नहीं हो पाएगा . सफेदपोश टैक्स  चोर और डाकू अपनी काली कमाई बैंकों में फर्जी नामों से नहीं रख पाएंगे .
      काले धन को उजागर करने का एक सरल उपाय बाब रामदेव ने भी बताया है कि हज़ार -पांच सौ के बड़े नोटों का प्रचलन बंद कर दिया जाए ,ताकि  ऐसे चोर और लुटेरे  अपने काले धन को बिस्तर के नीचे , तकिये और दीवान के भीतर , बाथरूम आदि में छुपाकर न रख सकें. जब बड़े नोटों का चलन बंद हो जाएगा और  हज़ार-पांच सौ के नोटों की कोई उपयोगिता नहीं रह जाएगी   तो ये नोट मजबूरन बाहर निकालने पड़ेंगे .अभी तो कोई भी व्यक्ति हज़ार-हज़ार के दस नोट  अपनी जेब में रख कर दस हज़ार रूपए आसानी से कहीं भी ले जा सकता है ,लेकिन जब एक रूपए और दो रूपए के नोटों में दस हज़ार रूपए लेकर आना-जाना हो, तब   काफी मुश्किल आएगी और अगर वह  काले धन का हिस्सा हो ,तो अपने आप उजागर हो जाएगा . लेकिन सच तो यह है कि जिन लोगों को ये उपाय लागू करने हैं , वे भला ऐसा क्यों करेंगे ? उनका भीतरी चेहरा तो कालिख से रंगा हुआ है.                                                                                     -  स्वराज्य करुण


Wednesday 23 March 2011

(ग़ज़ल ) समझाओ दिल-ए-नादान को !

                                                                                          स्वराज्य करुण

                                           युद्ध की आग में जलाओ मत इंसान को ,
                                           धरती को , सागर को और आसमान को !

                                           मरने वाला भी तुम्हारे जैसा कोई इंसान था ,
                                           क्यों मिटाने लगे  इंसानियत के निशान को !
                                       
                                           सबको  है  जीने का  अधिकार सुनो दुनिया में ,
                                           हर किसी को  प्यार दो,  छोड़ कर अभिमान को !

                                           दिल में रखो प्यार के ज़ज्बात सभी के  लिए
                                           भगाओ हमेशा के लिए  भीतर  के शैतान को !
                                      
                                           क्यों खींचते रहे नफरत की लकीर नक्शों पर
                                           भूल कर अमन-चैन , प्रेम की पहचान को !
                          
                                           मिटाओ मत गाँव ,शहर और अपने देश को
                                           छोड़ दो आज ही  तुम अपने इस गुमान को  !

                                           दूसरों की मेहनत से  घर अपना भरते रहे ,
                                           याद कब  करोगे मजदूर और किसान को !

                                           बंद करो बन्दूक - बारूद और धुंए  के कारखाने ,
                                           संवार लो ज़मीन पर खेत और खलिहान को !

                                           महज़ रूपयों से पेट भरता नहीं इंसान का ,
                                           समझाओ अपने दिल से  दिल -ए-नादान को !

                                            प्यार की हवा बहे ,  बनाओ ऐसी बस्तियां
                                            पैगाम सुनाओ दोस्ती का , जंग के मैदान को    !    
                                                                                       
                                                                                         स्वराज्य  करुण
     

                                                                               

Tuesday 22 March 2011

पानी और प्राणी !

                                        
                                                    (आज है विश्व पानी दिवस )

          जापान में अभी कोई दस एक रोज पहले और दक्षिण भारत के तमिलनाडु में कोई छह साल पहले 26 दिसम्बर 2004 को आयी सुनामी की विनाशकारी लहरों से जय-प्रलय की भयानक तस्वीर बनने के बावजूद दुनिया में प्राणी-जगत के लिए पानी का महत्व कभी कम नहीं होगा . मुझे लगता है कि पानी और प्राणी ,दोनों एक दूसरे के पूरक हैं .दोनों में काफी ध्वनि-समानता भी है.  इनमे से  एक के बिना दूसरे का अस्तित्व कायम रह पाना मुश्किल है. प्राणी-जगत के प्रत्येक जीव-जंतु  के ज़िंदा रहने के लिए  लिए पानी ज़रूरी है. मानव तो इस प्राणी-जगत का सबसे बड़ा जंतु है .यह जंतु ही जनता के रूप में  भौतिक  दुनिया को संचालित कर रहा है. हर जंतु की तरह मानव का प्राण-तत्व भी पानी में बसा हुआ है. दुनिया में नील नदी घाटी से सिंधु-घाटी और गंगा , गोदावरी , महानदी से लेकर नर्मदा घाटी तक हर कहीं मानव-जीवन , मानव सभ्यता और मानव-संस्कृति का विकास पानी की ज़रूरत को ध्यान में रख कर नदियों के ही किनारे-किनारे हुआ है. पानी के इसी महत्व को देखकर सैकड़ों साल पहले रहीम कवि  कह गए हैं--
                                             रहिमन पानी राखिये , बिन पानी सब सून ,
                                              पानी गए न ऊबरे मोती,मानुष   चून !

  मानव-जीवन में पानी की महिमा अपरम्पार है. प्रकृति हमे मानसून की बारिश के रूप में हर साल भरपूर पानी मुफ्त में देती है  .जो चीज मुफ्त मिले , देखा गया है कि इंसान उसकी कोई कदर नहीं  करता . यही कारण है कि आज का मानव बेरहमी से पानी बर्बाद कर रहा है  और जल-संसाधनों को बचाने में उसकी कोई खास  दिलचस्पी नज़र नहीं आ रही है.सब कुछ सरकार और सरकारी दफ्तरों के भरोसे छोड़ दिया है .अपने  आस-पास देखें तो इसका सबूत अपने आप मिल जाएगा .हम ज्यादा से ज्यादा संख्या में नल-कूप खोद कर धरती के गर्भ से हर दिन लाखों-करोड़ों लीटर पानी खींच लेना चाहते हैं ,लेकिन भूमिगत जल-स्तर कैसे कायम रहे और कैसे बढे , इस बारे में व्यक्तिगत रूप से सोचने वालों की संख्या हमारे बीच  कितनी है , यह आप स्वयं देख लीजिए .
    पानी की बर्बादी रोकने , साफ़ और स्वास्थय वर्धक , गुणवत्ता पूर्ण पानी की उपलब्धता पक्की करने इस दिशा में जन-जागरण के लिए संयुक्त-राष्ट्र संघ की महासभा के पारित प्रस्ताव के अनुसार दुनिया में 22 मार्च 1993 से हर साल 22 मार्च  को विश्व-पानी दिवस मनाया जा रहा है.  संयुक्त राष्ट्र संघ के सभी सदस्य देश अपने यहाँ इस दिन भू-जल और सतही जल की रक्षा और उसकी सफाई और गुणवत्ता कायम रखने के विभिन्न उपायों पर जनता के बीच चर्चा -परिचर्चा सहित कई आयोजन करते हैं. पिछले साल का यह दिवस 'स्वस्थ विश्व के लिए स्वच्छ पानी 'विषय पर केन्द्रित था . इस बार इसे शहरी जल-आपूर्ति से जुड़ी चुनौतियों पर केन्द्रित किया गया है.   पर्याप्त पानी के लिए अच्छे मानसून की ज़रूरत होती और अच्छा मानसून तभी आएगा ,जब बादलों को अपनी तरफ आकर्षित करने वाले हरे-भरे सघन जंगल धरती पर होंगे . इसलिए पृथ्वी पर मौजूद पेड़-पौधों की   रक्षा करते हुए पर्याप्त संख्या में नया वृक्षारोपण भी होना चाहिए .विशेषज्ञों के अनुसार वृक्षों की जड़े भूमिगत पानी के लेबल को बनाए रखने में सहायक होती हैं . भू-जल स्तर बढ़ाने और कायम रखने में तालाबों और कुओं का भी बड़ा योगदान होता है. हमें इन परम्परागत जल-स्रोतों को बचाने और अधिक से अधिक संख्या में इनका निर्माण कराने की ज़रूरत है . छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य में  पिछले साल गर्मियों में इसके लिए जनता के सहयोग से एक बड़ा अभियान चला कर काफी उल्लेखनीय कार्य किए गए. हजारों की संख्या में लोगों ने आगे आकर तालाबों और नदियों के गहरीकरण और उनकी साफ़-सफाई के लिए स्वप्रेरणा से श्रमदान किया. डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश में  सघन  वृक्षारोपण के लिए जन-भागीदारी से 'हरियर छत्तीसगढ़' अभियान भी चलाया. ऐसी पहल देश के अन्य राज्यों में भी होनी चाहिए.   मानव होने के नाते पानी की बर्बादी रोकना हम सबकी व्यक्तिगत और सामूहिक जिम्मेदारी है . कहते सब हैं लेकिन मानता कौन है ? हमारे यहाँ तो सरकार या नगर-पालिकाएं सार्वजनिक नलों में टोटियां लगवाती हैं और अगले ही दिन मुहल्ले के ही कुछ बदमाश किस्म के लोग रातों-रात उन्हें निकाल कर रख लेते हैं ,या नहीं तो बाज़ार में , या फिर कबाड़ी के यहाँ बेच कर मिले पैसों से शराब पी जाते हैं .वे यह नहीं सोचते कि सार्वजनिक नलों का पूरा इंतजाम आखिर जनता के ही  दिए गए टैक्स के पैसों से किया जाता है . मोहल्ले के लोग जान कर भी चुप रहते हैं ,कौन बैठे-ठाले किसी बदमाश से पंगा ले और अपनी इज्जत के साथ-साथ समय भी बर्बाद करे . इस चक्कर में अनमोल पानी  टोंटी विहीन नलों से  व्यर्थ बहता रहता है .
     घटते भू-जल को बढाने के लिए घरों और  सरकारी भवनों की छतों  पर बारिश के पानी को रोककर  रेन वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली के ज़रिये उसे जमीन के भीतर पहुंचाने का अच्छा  एक उपाय किया जा सकता है. यह तकनीक ज्यादा खर्चीली भी नहीं है. कई राज्य सरकारों ने नगरीय निकायों के ज़रिये इसके लिए नियम भी लागू करवाया है, लेकिन नागरिकों की उदासीनता और नियम का पालन करवाने वाले सरकारी अफसरों और कर्मचारियों की लापरवाही से इस अच्छी योजना का कोई असर होता नज़र नहीं आ रहा है. अब सरकार और नगर-पालिका बेचारी अकेली करे भी तो क्या ?  नालियों का गंदा पानी  और फैक्टरियों का प्रदूषित जल  तालाबों और नदियों में नहीं जाना चाहिए,ताकि जल-स्रोत साफ़ रहें और उनका इस्तेमाल करने वाले बीमार न हों , यह सैद्धांतिक बात है. व्यवहार में क्या होता है, सब जानते हैं .शहरों से गाँवों तक देश भर में ऐसे कई उदाहरण हैं.  पवित्र गंगा का पानी भी आज प्रदूषित हो रहा है. कौन नहीं जानता कि उसे साफ़ करने के लिए प्रोजेक्ट बना कर बड़े-बड़े भक्त (बगुला भगत ) करोड़ों-अरबों रूपयों पर हाथ साफ़ कर गए .
   इंसान आधुनिक युग में पढ़-लिख कर ,विद्वान बन कर अंतरिक्ष में भी पहुँच गया , लेकिन मानव-बसाहटों में साफ़ और गुणवत्तापूर्ण पानी की व्यवस्था आज भी अनेक देशों के लिए एक बड़ी और कड़ी चुनौती है, जिनमे हमारा भारत भी शामिल है . बहरहाल आज विश्व पानी दिवस या जल दिवस पर ईश्वर इस मानव समाज को पानी के महत्व के बारे में सोचने-समझने की शक्ति दे, यही प्रार्थना है  ! आमीन !
                                                                                                                      स्वराज्य करुण                  
                                                              

Sunday 20 March 2011

दलित महिलाओं को अपमानित करती एक कविता !

                                                                                                       स्वराज्य करुण


    मानव-जीवन के अनेकानेक रंगों में हँसी-मजाक और हास्य-व्यंग्य के रंगों का होना भी ज़रूरी है,नहीं तो हमारा जीवन नीरस हो जाएगा . लेकिन हँसी-मजाक भी ऐसा होना चाहिए , जिससे किसी समाज या वर्ग विशेष के  मान - सम्मान को आघात न लगे . अगर हँसी-मजाक का पात्र समाज के किसी ऐसे कमज़ोर तबके को बनाया जाए , जो दिन-प्रतिदिन के जीवन-संघर्ष में कड़ी मेहनत कर अपने बाल-बच्चों के लिए और अपने लिए दो वक्त के भोजन का जुगाड़ करता हो , तो क्या यह उसके जीवन-संघर्ष का अपमान नहीं  होगा ?
      दुर्भाग्य की बात है कि ऐसा हुआ है और वह भी आज होली के दिन . मैंने हिन्दी दैनिक 'भास्कर ' रायपुर के  बारहवें पृष्ठ पर  'होली -स्पेशल ' में    किसी सुरेन्द्र दुबे की  एक कविता पढ़ी , जिसमें  काम वाली बाइयों पर हास्य-व्यंग्य के नाम पर भारत के दलित-शोषित समाज की लाखों-करोड़ों घरेलू नौकरानियों के चरित्र का बेहूदा मजाक बना कर उन्हें अपमानित किया गया है. इस कविता के साथ सुरेन्द्र दुबे की एक हँसती हुई तस्वीर भी है,जिसमें  उनका परिचय एक 'सोशल नेट-वर्किंग  फ्रेंडली कवि' के रूप में दिया गया है .कवि का परिचय अपनी जगह है ,लेकिन 'साहेब मेरे फेसबुक फ्रेंड हैं' शीर्षक से छपी उनकी  लतीफा छाप कविता में काम वाली बाई को घर की मालकिन से  यह कहते बताया गया है कि 'साहब ' की तरह वह भी फेसबुक का उपयोग करती है और 'साहब' उसके फेसबुक फ्रेंड हैं और उसके प्रत्येक अपडेट पर बिंदास कमेन्ट लिखते हैं .  कमेन्ट लिखने की बात से कवि का आशय क्या है ,यह आसानी से समझने की बात है .लेकिन आगे देखिये , यह लतीफेबाज कवि अपने द्विअर्थी शब्दों से किस तरह घरेलू नौकरानियों के चरित्र का मजाक उड़ा रहा है  --

                                                     " अचानक दोबारा फोन करके
                                                       पत्नी ने काम वाली बाई से पूछा
                                                       घबराए-घबराए ,                                   
                                                       तेरे पास गोवा जाने के लिए
                                                       पैसे कहाँ से आए ?
                                                       वह बोली- सक्सेना जी के साथ 
                                                        एलटीसी पर आयी हूँ ,
                                                       पिछले साल वर्मा जी के साथ
                                                       उनकी काम वाली बाई गयी थी ,                  
                                                       तब मै नयी-नयी थी ,
                                                       जब मैंने रोते हुए उन्हें
                                                       अपनी जलन का कारण बताया
                                                      तब उन्होंने ही समझाया
                                                      कि वर्माजी की काम वाली बाई  के
                                                      भाग्य से बिल्कुल मत जलना .
                                                     अगले साल दिसम्बर में
                                                     मैडम जब मायके जाएगी ,
                                                      तब तू मेरे साथ चलना "

अपनी इन पंक्तियों में यह कवि देश की काम वाली बाइयों के व्यक्तित्व को जिस  रूप में  प्रस्तुत कर रहा है ,वह वाकई हमारे समाज के इस मेहनतकश वर्ग के लिए घोर आपत्तिजनक  है.यह कविता फेसबुक पर आने-जाने वाले लोगों के चरित्र पर भी काल्पनिक सवाल उठाती है और उसके माध्यम से आगे की पंक्तियाँ तो  गरीब तबके की महिलाओं की अस्मिता पर और उनके स्वाभिमान पर और भी ज्यादा बेशर्मी से प्रहार करती है.आप भी पढ़ लीजिए --
                                                 "  हर कोई फेस बुक में बिजी है
                                                   आदमी कम्यूटर के सामने
                                                   रात-रात भर जागता है ,
                                                   बिंदास बातें करने के लिए
                                                   पराई औरतों के पीछे भागता है ,
                                                   लेकिन इस प्रकरण से
                                                   मेरी समझ में यह बात आयी है
                                                   कि जिसे वह बिंदास मॉडल
                                                   समझ रहा है ,
                                                   वह तो किसी की काम वाली बाई है ,
                                                   जिसने कन्फ्यूज करने के लिए
                                                    किसी जवान सुंदर लड़की की
                                                    फोटो लगाई है "

  दोस्तों !  एक सामान्य पाठक और आम नागरिक की हैसियत से मेरा सवाल यह है कि  क्या फेसबुक पर  हर आदमी केवल औरतों से तथा कथित बिंदास बातें करने के लिए ही कम्प्यूटर का इस्तेमाल करता  है ?  क्या फेसबुक सामाजिक-सांस्कृतिक विषयों और गरीबी, बेरोजगारी ,भ्रष्टाचार , हिंसा और आतंकवाद जैसी गंभीर  राष्ट्रीय समस्याओं पर  नागरिकों के बीच परस्पर संवाद और विचार-विमर्श का मंच नहीं हैं ? इस कवि ने तो हर आदमी को एक ही पलड़े में तौल दिया है .इसलिए यह आदमियों का भी अपमान तो है ही ,   कविता में यह कहना कि  काम वाली बाई द्वारा  ( आदमी को ) भ्रमित करने के लिए    (फेस बुक  पर ) किसी जवान सुंदर लड़की की फोटो लगाई गयी है , घरेलू नौकरानियों के चरित्र पर लांछन लगाना और उन्हें अपमानित करना नहीं ,तो और क्या है ?
     क्या ऐसा नहीं लगता कि इस प्रकार की भद्दी कविता   लिखने वाले  की नज़रों में इस आधुनिक युग में भी घरेलू नौकरानियों की औकात गुलाम युग की दासियों से कुछ अधिक नहीं है  ? कवि ने हास्य पैदा करने के चक्कर में यह नहीं सोचा कि चाहे अमीर हो ,या गरीब , बहू-बेटियाँ तो हर किसी के घर-परिवार में होती हैं .हमें सबके सम्मान का ध्यान रखना चाहिए . आर्थिक मजबूरियों के कारण आजीविका के लिए  दूसरों के घरों में चौका -चूल्हा और झाडू-पोंछा कर महंगाई के इस कठिन दौर में किसी तरह अपने घर की गाड़ी खींच रही   ये 'काम वाली बाईयां ' अधिकाँश दलित तबके की होती हैं, ऐसे में यह कविता देश के करोड़ों दलित परिवारों और उनकी मेहनतकश बहू-बेटियों को निश्चित रूप से अपमानित करती है .इसलिए यह कविता निंदनीय है . क्या इसके लिए लतीफेबाज कवि  , उनकी इस बेहूदी कविता का चयन करने वाले संपादक  और उसे जनता के सामने लाने वाले प्रकाशक इस अपमान के लिए काम वाली बाइयों  से  याने कि देश की करोड़ों दलित महिलाओं से माफी मांगने की  नैतिकता दिखाएंगे ?
                                                                                                                   स्वराज्य करुण
                                                                                                                        

(गीत) प्यार भरा अबीर

                                                                 
                                             स्वराज्य करुण
                                          
                                              राम हो, बलराम हो , तुलसी , रहीम , कबीर
                                              सबके माथे खूब  लगाओ प्यार भरा अबीर !

                                                     भेदभाव के भरम से निकलो,   
                                                     सबको समझो अपना ,     
                                                     सबके जीवन में खुशियाँ  हो ,
                                                     सच हो सबका सपना !
                           
                                           रंगों में मिल एक हो जाएँ -राजा, रंक, फ़कीर ,  
                                           सबके माथे खूब  लगाओ प्यार भरा अबीर  !

                                                   दूर करो सब अपने मन से
                                                   नफरत और निराशा ,
                                                   दिल में हो  प्रेम की वाणी ,
                                                   हर जुबां प्रेम की भाषा !
                            
                                      आज मिटा दें सदा के लिए छोटी-बड़ी लकीर
                                       सबके माथे खूब लगाओ प्यार भरा अबीर !

                                               रंगों के  मौसम का स्वागत
                                               हर आँगन ,हर बस्ती में , 
                                               झूम रहे हैं बच्चे-बूढ़े ,
                                               अपनी धुन में, मस्ती में !
                                             
                                    कुदरत अपनी तूलिका से बना रही तस्वीर
                                    सबके माथे खूब लगाओ प्यार भरा अबीर !

                                               राहों में हों पेड़ घने और
                                               फल हों मीठे-मीठे ,
                                               हँसते -गाते चले सफर
                                               हर पल ऐसा बीते !

                                  कोयल गाए राग-फागुनी , संगत में रघुबीर ,
                                  सबके माथे खूब लगाओ प्यार भरा अबीर !              
                                                                                -   स्वराज्य करुण

                                           

Saturday 19 March 2011

(गीत) कहाँ मिलेंगे ?

                                                                              -  स्वराज्य करुण

                                         कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव
                                         कहाँ मिलेंगे प्यार भरी शहनाई वाले गाँव !

                                                     दलबन्दी में उलझे इतना ,
                                                     चौपालों को भूल गए ,
                                                     झील ,पहाड़ जंगल भूले ,
                                                      नदी-नालों को भूल गए !
                                              
                                         कहाँ मिलेंगे बरगद की  परछाई  वाले गाँव  ,    
                                         कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !

                                                    रिश्ते-नाते भूल रही है 
                                                    नए दौर की पीढियां ,
                                                   सिर्फ मतलब की है अब  
                                                   दुआ-सलाम की सीढियां !

                                         कहाँ मिलेंगे खुले दिलों की गहराई वाले गाँव ,
                                         कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !

                                                 खेतों में श्रम-गीत नहीं 
                                                 होठों पर मुस्कान कहाँ , 
                                                 सब कुछ यंत्रों  के हवाले ,
                                                 वो आबाद खलिहान कहाँ !

                                      अब तो केवल और केवल तन्हाई वाले गाँव ,
                                       कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !

                                                पास-दूर के शहरों का 
                                                मायावी  आकर्षण है ,
                                                मृग-तृष्णा के पीछे पागल ,   
                                                सब में यह सम्मोहन है   !

                                     कहाँ मिलेंगे तालाबों की तरुणाई वाले गाँव ,   
                                      कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !
                                               
                                                 दवा नहीं बीमार के लिए
                                                 बहती दारू की नदियाँ ,
                                                  जाने क्या कहेंगी हमको
                                                  आने वाली कई सदियाँ !

                                   माटी के आँगन से गायब धरती माँ  के पाँव , 
                                   कहाँ मिलेंगे फागुन की अमराई वाले गाँव !

                                                                                 - स्वराज्य करुण