Monday 28 February 2011

(ग़ज़ल ) मुज़रिमों की अदालत में !

                                                                                 स्वराज्य करुण

                                               दिन के उजाले की तरह  साफ़-साफ़ है,
                                               सारे सबूत आज  उनके ही   खिलाफ हैं  !


                                               है  कौन यहाँ कातिल  और कौन लुटेरा ,
                                              जान कर भी  उनके सब  गुनाह माफ हैं !


                                              चोरों को मिली चाबी हुकूमत-ए-वतन की ,
                                              मुजरिमों की  अदालत में कहाँ  इन्साफ है !


                                               रिश्वत की कमाई से है लॉकर भी  लबालब ,
                                               पकड़े गए तो आपस में हुआ हाफ-हाफ है !


                                               खेतों में चला बुलडोज़र ,जंगल  में तबाही ,
                                               विकास के नाम कितना घनघोर  पाप है !


                                                गाँवों की ओर चल पड़े शहरों से  माफिया ,  
                                                मासूम  किसानों पर  किसका अभिशाप है   !    
                                             
                                                                                                     -   स्वराज्य करुण                     

Sunday 27 February 2011

(ग़ज़ल ) रूपयों के भगवान !

                                                                                      स्वराज्य करुण
                                                   
                                                     तरन्नुम के तराने   क्यों बेजान हो गये
                                                    जान कर भी जान-ए-मन नादान हो गये !
                                           
                                                  
                                                    बातें तो बहुत करते  हैं  ईमान -धरम की
                                                    फिर भी न जाने क्यों वो बेईमान हो गये !
                                             
                                                    
                                                     समझ  नहीं आयी आज तक ये पहेली ,
                                                     इंसान बनते -बनते क्यों हैवान हो गये !
                                                      
                                                    
                                                    यहाँ  भीड़ मुखौटों की , हर कोई अकेला   
                                                    सैलाब में शहर के, सब  अनजान हो गये !

                                                    
                                                     खो गयी हर  दिशा , दिशाओं की भीड़ में ,
                                                     लक्ष्य  बहुत  दूर   आसमान हो गये !

                                                    
                                                      कल तक जो  यार थे, करते हमें प्यार थे ,
                                                      भूली -बिसरी यादों की  पहचान हो गये !

                                                  
                                                      अपनों को  अपनेपन से भी  नहीं मतलब     ,
                                                      सबके सब रूपयों के भगवान हो गये ! 

                  
                                                       हवेली में है मंदिर ,यहाँ झोपड़ी में पुजारी
                                                       क्या कहें   दो लफ्ज़ भी वीरान हो गये !


                                                                                           -   स्वराज्य करुण

Saturday 26 February 2011

(गीत ) मानवता के गाँव में !

                                                                                                  स्वराज्य करुण
                             

                                            नफरत की इस तेज धूप से चलो प्यार की छाँव में
                                            आओ मेरे हमसफर ,चलें हम मानवता के गाँव में !

                                                      
                                                          इक-दूजे से कटते -मरते 
                                                          जहां लोग न हों ,
                                                          खुदगर्जी और बेईमानी का
                                                          कोई रोग न हो !
                                                                   
                                     

                                         जहां न कोलाहल कठोर हो ,  भूख-प्यास  अभाव में 
                                         आओ  मेरे हमसफर, चलें  हम मानवता के गाँव में !


                                                       शोषण के नागों की
                                                       जहां  न हथकड़ियाँ हों,
                                                       हँसी-खुशी से जहां
                                                       जिंदगी की घड़ियाँ हों !

                
                                       गतिशीलता पाँव जमा ले   जन-जन के हर पाँव में ,
                                       आओ मेरे हमसफ़र , चलें हम मानवता के गाँव में !


                                                    ख्वाब किसी का लुट जाए,
                                                     ऐसी कोई बात न हो  ,
                                                    उमंगों की बौछार हो सदा ,
                                                    दर्दों की बरसात न हो !

           
                                    शान देश की   बढ़ती   जाए , लगे कभी न दांव में ,
                                    आओ मेरे हमसफ़र , चलें  हम  मानवता के गाँव में !

                                                                                             -   स्वराज्य करुण 

Wednesday 23 February 2011

(ग़ज़ल ) खामोश हैं ज़ज्बात !

                                                                                                स्वराज्य करुण

                                                इन दरख्तों में परिंदों के   कदम नहीं है
                                                पांवों में हवाओं के  छम-छम नहीं है !
                          
                                               न जाने कब से बंद है भौंरों का गीत गाना,
                                               खामोश हैं ज़ज्बात  कोई सरगम नहीं है !
                                              
                                               संग्राम में सच के लिए  वो हो गया घायल ,
                                               मन का दर्द मिटाए  कोई  मरहम नहीं है ,
                            
                                               पतझर के झरे पत्ते कह रहे हैं चीख कर
                                               मधुवन में  मधुमास का मौसम नहीं है !
                                       
                                               है कौन कहो मुजरिम  इस मंज़र के वास्ते ,
                                                कह देंगे सभी शान से कि हम नहीं है  !
                                                
                                                सियासत के बाज़ार में क्या खूब तमाशा ,
                                                ग्राहक भी यहाँ किसी से कोई कम नहीं हैं !

                                                लुट जाए अगर  सामने   वतन की आबरू
                                                फिर भी किसी को आज कोई गम नहीं है !
                                             
                                                बताओ ज़रा  आज  हमें  ऐसी कोई दुनिया
                                                इंसान पर जहां  ज़ुल्म-ओ -सितम नहीं है !
                                                
                                                 सब देख के भी जाने क्यों रोता नहीं है दिल ,
                                                 क्यों तेरी-मेरी आँखें   भी  पुरनम नहीं   हैं !

                                                 इतिहास वक्त का यहाँ  लिखे भी  कहो कौन ,
                                                अब  किसी की लेखनी में कोई दम नहीं  है. !
                                             
                                                                                                       स्वराज्य करुण
                                                                               

Tuesday 22 February 2011

(ग़ज़ल ) इशारों को देखिए !

                                                                                    स्वराज्य करुण

                                         महलों को देखिए , मीनारों को देखिए ,
                                         सपनों  में मगन-मस्त सितारों को देखिए !

                                          कहते हैं वतन सबका इक प्यारा सा घर है,
                                          आंगन में रोज बनती दीवारों को देखिए !

                                          बूंदों के लिए तरस रही ये   वक्त की नदी ,
                                          लहरों से हुए  दूर   किनारों को देखिए !

                                          दौलत के दलालों की हर पल  यहाँ   दहशत ,
                                          इरादे भी खौफनाक ,  इशारों को देखिए  !
                                 
                                           गाँवों को मिटा कर वो बनाने लगे शहर ,
                                           कटते हुए  जंगल-पहाड़ों को देखिए !
                             
                                           कुर्सियां भी  उन्हें झुक -झुक सलाम करे है ,
                                           देखिए अब  ऐसे  नजारों को देखिए !

                                           कहते हैं लोकतंत्र  पर  लगता तो नहीं है ,
                                           चुनावों में वोटरों के बाज़ारों को देखिए !

                                           बिकने को खड़े  सब हैं हर एक कदम पर ,
                                           दस-बीस नहीं , कई  हज़ारों को देखिए   !
                                   
                                          बन  जाए  जिंदगी शायद  उनकी इबादत में ,
                                          मासूम  ख्वाब लिए  बेचारों को देखिए !

                                          भगवान के लिए  नहीं जयकार कभी  इतना , 
                                          मदहोश,मटरगश्त लगे  नारों को देखिए !
                                       
                                          होना है जो भी ,वह तो होकर ही रहेगा ,
                                          बेबसी में आज  कैद बहारों को देखिए !
                                                                                      
                                                                                       -  स्वराज्य करुण
                                       

Monday 21 February 2011

(कविता ) दिन भर :जिंदगी भर

                                                                         
                                                                                                              स्वराज्य करुण
                                                 दिन भर तोड़ते रहे पत्थर
                                                 जिंदगी भर तोड़ते रहे पहाड़ !
                                                 फिर भी न बन सकी राह ,
                                                 फिर भी न आ सकी बहार !

                                                 दिन भर बहाते रहे पसीना ,
                                                 जिंदगी भर पीते रहे आँसू ,
                                                 फिर भी न आ सकी रौशनी -
                                                 तंग और अँधेरे सीलन भरे कमरों में !

                                                  दिन भर करते रहे फ़िक्र ,
                                                  उम्र भर किया इंतज़ार ,
                                                  एक दिन जल उठेगा
                                                  यातनाओं का  यह शहर ,
                                                  एक दिन खिल उठेगा सपनों का गाँव !

                                                 दिन भर सोचता रहा -
                                                 एक पूरी जिंदगी के बारे में ,
                                                 जिंदगी भर सोचता रहा -
                                                 एक पूरे दिन के बारे में !           
                                           
                                                सुबह से बिन बुलाए
                                                मेहमान की तरह घर में
                                                घुसती गरीबी .
                                                क़र्ज़ की बीमारी और
                                                बीमारियों का क़र्ज़ !

                                                आखिर क्यों दिन भर
                                                एक पूरी जिंदगी की फ़िक्र
                                                करने के बावजूद  -एक पूरी जिंदगी
                                                दिन भर की फ़िक्र नहीं कर पाती ?
                            
                                                                                        स्वराज्य करुण


Sunday 20 February 2011

(गीत) फागुन की आहट !



                          
                                                                                          
                                                                                            -  स्वराज्य करुण
                                              
                                                 आंगन  की दीवार पर काला  कौआ,
                                                 दे गया मीत ,मेरे मन को  बुलौआ  !
                                                 जंगल में सपनों के हिरणों की आज
                                                 निकलेगी खूब धूम-धाम से बारात !

                                                 खेतों के आंगन से वन-उपवनों तक ,
                                                 पर्वतों के शिखरों से झूमते झरनों तक ,
                                                 लोक-गीतों  की मधुर तान की तरह ,
                                                 छा गया दिल में आज  नया प्रभात !

                                                  पेड़ों में खिलने लगे हरे-भरे पत्ते ,
                                                  खुशियों से हिलने लगे भंवरों के छत्ते !
                                                  फागुन के पांवों की आने लगी आहट,
                                                  माघ ने  भी  हिलाए बिदाई के हाथ !

                                                 पंछियों  की आँखों में एक नयी चमक है ,
                                                 प्यार की रोटी में चुटकी भर नमक है !
                                                 सोनमुखी किरणों की धरती पर मानो ,
                                                 होगी,  आज फिर जमकर   बरसात !

                                                 वन-फूलों से सजी हवाओं  की गाड़ी ,
                                                  चल पड़ी  देखो अब उनकी सवारी !
                                                  कुदरत की दुल्हन से जल्द  होने को है,
                                                  मौसम के दूल्हे की आज मुलाक़ात !
                                                                        
                                                                               -   स्वराज्य करुण

Friday 18 February 2011

(ग़ज़ल) बेजुबान बस्तियां : खामोश रास्ते

                                                                               स्वराज्य करुण

                                              कहाँ है, कैसा है ,  क्या हाल-चाल है ,
                                              अब कौन किसे पूछता ये सवाल है !

                                             सड़कों पे  रोज हो रही  नीलाम जिंदगी,
                                             ग्राहकों से कहीं ज़्यादा, लगते दलाल हैं !

                                             बज रहा है गाना  अब  उनकी  पसंद का ,
                                             जिसमें न कोई लय ,न कोई सुर-ताल है !
                                     
                                              घायल परिंदों से सजे  हुए है   पिंजरे ,
                                              दर्द के व्यापार में   कई मालामाल है   !

                                              बेजुबान बस्तियां हैं , खामोश रास्ते,
                                              हमसफ़र भी डरे -सहमे, ये किसकी चाल है !
                                           
                                              इक बार बढ़ी तो फिर बढ़ती चली गयी                      
                                              है कौन उसे रोके ,किसकी मजाल है !
                                       
                                              हर वक्त  चल रहा है महंगाई का मौसम ,
                                              अमीरों की मौज है, यहाँ  बाकी बेहाल हैं !
                              
                                               खेतों में खड़े हो गये लोहे के कारखाने ,
                                               थालियों से रोज घट रही रोटी-दाल है !

                                               कुछ भी समझ न आए मुल्क के अवाम को,
                                              सियासत के जादूगरों  का ये मायाजाल है !
                                         
                                               किसानों का दर्द भूल के रम गये क्रिकेट में,
                                               उनके लिए  तो  जनता भी  महज फ़ुटबाल है !
                                                                                                           स्वराज्य करुण               
                         
                                             

Thursday 17 February 2011

(गीत) दिशा-दिशा हर फुलवारी में !

                                                                          
                                                                                    
                                                                                               - स्वराज्य करुण
                                            
                                                देखो धरती के आंचल में लहराया आज वसंत  
                                                दिशा-दिशा हर फुलवारी में छाया आज वसंत !

                                                            खेतों और खलिहानों में ,
                                                            सजे-धजे परिधानों में ,
                                                           जंगल-जंगल झूमे  मौसम
                                                           बस्ती-बस्ती घूमे मौसम !
                                        
                                               लिए प्यार की एक पाती आया आज वसंत ,
                                              दिशा-दिशा हर फुलवारी में  छाया आज वसंत !    

                                                         इन्द्रधनुषी रंगों वाला
                                                        आज यहाँ का  हर उपवन है ,
                                                        वासन्ती घूंघट में शर्मीली
                                                         देखो सरसों की दुल्हन है !

                                            हर घर के हर आंगन में समाया  आज वसंत
                                           दिशा-दिशा हर फुलवारी में छाया आज वसंत !

                                                        अमराई में कोयल भी अब
                                                        लगी बजाने बांसुरी ,
                                                        कहती सबको रहो प्रेम से
                                                        छोड़ो  आदत आसुरी !

                                            माटी के कण-कण में हमने पाया आज वसंत ,
                                            दिशा-दिशा हर फुलवारी में छाया आज वसंत !
                                                         
                                                        लाल-लाल अंगारों जैसा
                                                        खिले पलाश के फूल ,  
                                                        घर के चूल्हे की आंच -सा
                                                        मिले पलाश के फूल !
                                            
                                              मन के मन-भावन भावों को भाया आज वसंत ,
                                              दिशा-दिशा हर फुलवारी में छाया आज वसंत !
                                                                                      --  स्वराज्य करुण

Wednesday 16 February 2011

(गीत ) नये ज़माने के डाकू !

                                                                                   -  स्वराज्य करुण
                            
                                     नये  ज़माने के डाकू खुलकर डाल  रहे हैं   डाका ,
                                     कोई नहीं कर  पाया  उनका ज़रा भी बाल बांका !

                                       दोनों हाथों लूट देश को ,भेजे माल विदेश
                                      अपने देश की अदालतों में चल न पाए केस !
                                 
                                     गोपनीय बही-खाते उनके, स्विस-बैंक है आका ,
                                     नये ज़माने के डाकू खुल कर  डाल रहे हैं  डाका !

                                      है जिनको मालूम , वे भी नाम नहीं बतलाते ,
                                      खुद को कैसे करें उजागर , इसीलिए शरमाते  !
                                     
                                      फिर भी करते कमीशनखोरी, मामा हो या काका ,
                                      नये  ज़माने के डाकू खुल कर डाल रहे हैं डाका !
                                      
                                      बेकारी की आँधी हो , या महंगाई की आग ,
                                      उनके घर-आँगन में तो हर मौसम में फाग !

                                     सिर्फ दिखावे का झगड़ा ,फिर जमकर हँसी-ठहाका ,
                                     नये जमाने के डाकू खुलकर डाल रहे हैं डाका !

                                      जनता समझ न पाए  इनका जादू-माया जाल 
                                      कहीं सितारा होटल चलता , कहीं पे शॉपिंग-मॉल !

                                     देश के मालिक बन खींचते हैं विकास का खाका
                                     नये जमाने  के डाकू खुलकर डाल रहे हैं डाका  !

                                                                                            - स्वराज्य करुण


                                    

Tuesday 15 February 2011

(गीत ) अभावों की छाया में !

                                                                             --  स्वराज्य करुण
                               
                                    अभावों की छाया में जीवन यह बीत रहा
                                    खामोशी फ़ैल रही , हर्ष-कलश रीत रहा  ! 

                                        मन बहलाने को नागफनी उद्यान है ,
                                        प्यास बहलाने को मृग-जल मैदान है !
                                        हर तरफ  मतलब के पंछियों की भीड़  ,
                                        शोर-गुल में सुने कौन किसकी पीर  !

                                     आदर्शों को जिसने भी कच्चा ही  चबा लिया
                                     पेट की लड़ाई  में   सिर्फ    वही जीत रहा    !

                                          कहो अब किसे यहाँ देश की चिन्ता है,
                                          मिलते ही मौक़ा वह  नोट नए गिनता है !
                                          डाकुओं की तरह लूट कर आम जनता को,
                                          संसद  में जाते ही महापुरुष बनता है !

                                       वर्तमान यह जबकि भंवर में था फँसने लगा ,
                                        दूर खड़ा तमाशा तब देखता अतीत रहा   !

                                             जाने कब  कैसे ये गीत पुराने हुए ,
                                             समय काटने के  कुछ  नए बहाने हुए !
                                             धरती के आंचल को  चीरने लगे  ,
                                             सब के सब दौलत के दीवाने हुए  !

                                        देश-प्रेम की मधुर आवाज़ मंद पड़  गयी ,
                                        अब न किसी ह्रदय में स्नेह -संगीत रहा !
                                                                                         -  स्वराज्य करुण

Monday 14 February 2011

(गीत) हर दिन हो प्रेम-दिवस !

                                                                                                    
                                                                                           - स्वराज्य करुण 
                                           
                                              आंसुओं का ज़हर पीने  क्यों कोई हो विवश ,
                                               हर दिन हो प्रेम-दिवस,  हर दिन हो प्रेम दिवस !

                                                          धरती से अम्बर का ,
                                                          नदियों से सागर का ,
                                                          झीलों से झरनों का ,
                                                          पनघट से गागर  का !
                               
                                            प्यार ही प्यार हो बस,   कोई न करे बहस   !
                                            हर दिन हो प्रेम-दिवस , हर दिन हो प्रेम-दिवस !

                                                       गरीब का अमीर से,
                                                       अमीर का फ़कीर से,
                                                       हर बड़ी लकीर का
                                                       हर  छोटी लकीर से !

                                         रिश्ता हो प्यार भरा ,  सरल , सहज और सरस 
                                          हर दिन हो प्रेम-दिवस, हर दिन हो प्रेम-दिवस !

                                                     भूल कर नफरत की 
                                                     बारूदी गंध को ,
                                                     याद करो मौसम के 
                                                     प्रेम-रस छंद को !
                              
                                     साथ तुम्हारे  होंगे पल, महीने  और बरस ,
                                     हर दिन हो प्रेम-दिवस , हर दिन हो प्रेम-दिवस !
                                           
                                                   पूजा के आँगन ज्यों
                                                   भक्त का भगवान से ,
                                                   प्रेम हर इंसान का
                                                   रहे  हर इंसान से !
                                    
                                      प्रेम के पानी से भरो आज मंदिरों के    कलश ,
                                      हर दिन हो प्रेम-दिवस , हर दिन हो प्रेम-दिवस !

                                                   प्यार  के लिए  क्यों 
                                                   हो कोई दिन विशेष
                                                   खोजने जाएँ क्यों
                                                   कोई इसे दूर-देश !
                                                     
                                     माटी के कण-कण में,  हो   प्रेम का ही मधु-रस  ,    
                                     हर दिन हो प्रेम-दिवस, हर दिन हो प्रेम-दिवस !
                                              

                                                    प्रेम घर-परिवार में
                                                    देश और समाज में ,
                                                    प्रार्थना के गीतों में, 
                                                    साज़ और आवाज़ में  !

                                      मिले  इतनी ताकत  ,  हर दर्द हो तहस-नहस ,
                                     हर दिन हो प्रेम-दिवस , हर दिन हो प्रेम-दिवस !

                                                                                                          स्वराज्य करुण