Sunday 30 January 2011

(गजल ) गांधीजी के देश में !

                       
                       
                                                कैसे -कैसे मंजर आए  गांधी जी के देश में ,
                                                फूल नहीं अब खंजर आए  गांधीजी के देश में !

                                                चारों ओर खून-खराबा , जोर-ज़ुल्म ,अराजकता,
                                               गुलदस्तों  में   छुप कर आए गांधीजी के देश में !
                           
                                                सिर्फ सियासत के झगड़े में बेच रहे हैं  देश को ,
                                                 घूम के सात-समन्दर आए गांधीजी के देश में !
     
                                                 जिन हाथों से लगना है  इन ज़ख्मों को मरहम                         
                                                 वो भी लेकर पत्थर  आए गांधीजी के देश में !
                
                                                 दारू पीकर हंगामा,  काव्य-पाठ और गायन-वादन,
                                                  डबल-रोल में तन कर आए गांधीजी के देश में  !

                                                  वेश बदल कर बैठा है अब संसद में भी  हत्यारा ,
                                                  फिर वह कैसे  नज़र आए गांधीजी के देश में !
                                          
                                                   पता नहीं  कब जाएगा  बेशर्मी का  दौर यहाँ से ,
                                                   बार-बार जो अंदर आए गांधीजी के देश में !

                                                                                               -    स्वराज्य करुण  

Saturday 29 January 2011

(कविता) बिकाऊ जनता भला क्या कर पाएगी ?

                                     डीजल -पेट्रोल में
                                     मिलावट पकड़ने गया तो
                                     ज़िंदा जल गया /
                                     राजा नहीं दहला ,
                                     लेकिन देश दहल गया /
                                     चुप रह कर राजा ने दिया       
                                    जनता को दिया यह सन्देश -
                                     भ्रष्टाचार के खिलाफ जो भी
                                    आगे आएगा ,
                                    वह इसी तरह   से ज़िंदा
                                    जला दिया जाएगा /
                                    खामोश जनता आखिर
                                    कब तक सहेगी
                                    चौपट राजा का यह अंधेर ?
                                    अगर नहीं टूटेगी खामोशी
                                    तो हो जाएगी बहुत देर /
                                    अभी तो अघोषित रूप से
                                    चल रहा है राज मिलावटखोरों का /
                                    देश का धन लूट कर
                                    विदेशी बैंकों में जमा करने वाले चोरों का /
                                    कल अगर घोषित तौर पर वे
                                    बैठ जाएंगे दिल्ली के सिंहासन पर
                                    तब उनके हर भाषण पर ,
                                    बेचारी जनता !   ऊपर -ऊपर
                                    से रोज बजाएगी तालियाँ  
                                    लेकिन मन ही मन  देगी गालियाँ /
                                    इसके अलावा वह
                                    क्या कुछ कर  पाएगी   !
                                    वोट के बदले दारू, मुर्गा
                                    नोट , साड़ी और कम्बल
                                    से बिकने वाली जनता 
                                    इन चोरों से भला क्या  नज़रें मिलाएगी     ?

                                                                          -  स्वराज्य करुण




Wednesday 26 January 2011

(गीत ) आओ ह्रदय के देश में !

                                          
                                                   
                                                          उम्मीदों की मुरझाई
                                                          यह  धूप न हो जहां
                                                          थका-हारा मायूस
                                                          कोई रूप न हो जहां !

                                                         कोई किसी को मत रोके
                                                         राष्ट्र-ध्वज फहराने से ,
                                                        खेतों में लहराए फसल ज्यों
                                                         कहीं तिरंगा लहराने से !


                                                       फूल जहां हर पल सपनों के
                                                       खिलखिला कर हँसते हों ,
                                                       भौंरें भी सब झूम-झूम कर
                                                       फुलवारी में जा बसते हों !
                                           
                                                      आओ ह्रदय के देश में हम
                                                      ऐसा कोई उपवन रोपें ,
                                                      अंगारों में चन्दन रोपें,   
                                                      प्यार भरा कोई मधुवन रोपें !

                                                     अंधियारे की आग बुझाने
                                                     किरणों का गंगा -जल सींचेंगे ,
                                                     धरती माता के आंचल में
                                                     हरियाली का चित्र खींचेंगे !

                                                    उस जीवन का रूप बदलेंगे ,
                                                    जिसमे रोना ही रोना हो ,
                                                    उस घर को रौशन कर देंगे ,
                                                     काला जिसका हर कोना हो !
                                              
                                                     मेहनतकश ये हाथ हमारे
                                                     सच मानो पारस जैसे हैं,
                                                     फिर क्यों न जाए इनके छूते
                                                      ही माटी यह सोना हो ?

                                                     वसुंधरा की इस माटी में
                                                     आओ शत-शत वंदन रोपें ,
                                                     अंगारों में चन्दन रोपें,
                                                      प्यार भरा कोई मधुवन रोपें !
                        
                                                                            -  स्वराज्य करुण


                  

Tuesday 25 January 2011

मत छापो नोटों पर महात्मा की तस्वीर !

                                                                                        -   स्वराज्य करुण
                    
                                                      
                                                        रिश्वत-खोरों,टैक्स-चोरों ,
                                                        और हत्यारों की
                                                        तिजोरियों से,
                                                        रसोई घरों और बाथरूमों में 
                                                        छुपा कर रखी गयी बोरियों से ,
                                                        शयन-कक्ष के बिस्तरों  से ,
                                                        बैंक-लॉकरों से ,
                                                       लुटेरों और तस्करों से
                                                       लगातार निकलते करोड़ों -अरबों
                                                       रूपयों के हरे-गुलाबी नोटों में
                                                       छपी अपनी तस्वीर देख कर
                                                       आज अगर होते इस खुदगर्ज़
                                                       दुनिया में -
                                                       सच्चाई और अहिंसा के   पुजारी
                                                       महात्मा गांधी,
                                                       तो  क्या गुजरती उनके दिल पर 
                                                       तब शायद ज़रूरत नहीं होती किसी
                                                       किसी हत्यारे  की ,
                                                       महात्मा स्वयं कर लेते आत्म-ह्त्या !
                                                       शराब की लबालब नदियों से शर्मसार है
                                                       गंगा -यमुना की धारा ,
                                                       इसलिए हे मेरे देश के कर्णधारों !
                                                       मत लगाओ बापू का जयकारा /
                                                       अब मत छापो अपने नोटों पर
                                                       राष्ट्र-पिता की हँसती-मुस्कुराती कोई तस्वीर,
                                                       वे जहां भी होंगे इस वक्त
                                                       रो रहे होंगे चुपचाप
                                                       देख कर देश की ऐसी बदरंग तकदीर  ,
                                                       जहां खेत-खलिहानों में ,
                                                       सड़कों ,खदानों और कारखानों में ,    
                                                       गरीब परेशान और बदहाल है
                                                       और उसे  लूटकर कुछ लोग
                                                        मालामाल हैं /
                                                        मिलावट और ठगी के खुले बाज़ार में  ,
                                                        जमाखोरी और मुनाफे के
                                                        और कुर्सियों के  काले कारोबार में ,
                                                        डाकुओं के आपसी लेन-देन
                                                       और व्यवहार में,
                                                       आखिर कब तक  नापाक
                                                       हाथों में रखे नोटों में
                                                        कैद रहेंगे महात्मा ?
                                                       सब कुछ देख कर बेचैन है उनकी आत्मा /
                                                       दिल ही दिल में
                                                        कह रही है  अंतरात्मा -
                                                       अच्छा हुआ जो मुझे  मार दी गयी गोली ,
                                                       वरना लोकतंत्र के स्वघोषित ठेकेदार
                                                       मेरे ही खून से खेला करते होली /
                                                       आज भी तो मै
                                                       हर रोज बार -बार मरता हूँ/
                                                       आज़ादी की लंबी लड़ाई में विदेशियों से
                                                       कभी नहीं डरा ,
                                                       लेकिन आज  कुछ  अपने ही
                                                       देशवासियों से  डरता हूँ,
                                                       जिन्हें मुझसे नहीं बस
                                                       मेरी तस्वीरों वाले कड़क  नोटों से प्यार है ,
                                                       जिनके लिए लोकतंत्र सेवा नहीं ,व्यापार है /
                                                                                                            - स्वराज्य करुण
                                                                                           

Monday 24 January 2011

(गीत) नीर भरे इस नील गगन के पार चलें !

                     

                               दर्द भरी इस दुनिया को  आओ हम बिसार चलें.,
                               चलो चलें अब नीर भरे इस नील गगन के पार चलें !
                                     
                                            ऐसा कोई आँगन ढूँढें  एक  नया संसार जहाँ  हो ,
                                           सब हों मानव कोई न दानव ,इक-दूजे से प्यार जहां हो !

                              छल-कपट के आवरण को चेहरे से उतार चलें ,
                              चलो चलें अब नीर भरे इस नील-गगन के पार चलें !

                                           नहीं किसी का दिल  टूटे ,सच हो सबका सपना ,
                                            प्रेम-भाव के मेले में जहां  हर कोई हो  अपना  !

                                ख़्वाबों की अपनी  दुनिया का करके हम श्रृंगार चलें ,
                                चलो चलें अब नीर भरे इस नील-गगन के पार चलें !

                                            हरे-भरे हों खेत जहां और मन-भावन बाग-बगीचे ,
                                            जग की सुंदर इस  फुलवारी को सब मिल खूब सींचे !

                               दिल में नयी उम्मीदों के संग नूतन लेकर प्यार चलें
                               चलो चलें अब नीर भरे इस नील-गगन के पार चलें !

                                                                                                  -  स्वराज्य करुण

Sunday 23 January 2011

गाँव की याद !

                                                                                                            स्वराज्य करुण
                                                                   
                                  नीला  पर्वत ,निर्मल नदिया और यह  तालाब
                                  लगता जैसे दिन में  भी  कोई सुंदर ख्वाब !
                                  सौ -सौ जनम इस धरती पर रहे सदा आबाद
                                  एक अनोखा सुख देती है  हमको इसकी याद !

                                                            सबके सिर पर हाथ फेरती अमराई की छाँव
                                                            राहगीर की थकी राह पर यह शीतल ठहराव !
                                                            खेतों से बहती हवा में जीवन का सन्देश
                                                             भारत मेरा रहे हमेशा गाँवों का ही देश    !                           
                                                                      
                                 तुझसे तो बिछुड़कर रहना बहुत मुश्किल है
                                  बिछुडन का दर्द भी सहना बहुत मुश्किल है !
                                  मिल जाए चाहे मुझे  कितनी भी यातना
                                  आह तक होठों से कहना बहुत मुश्किल है !

                                                        मेरे गाँव ! मै तुझसे न दूर रह पाऊंगा
                                                       माटी यह मुझे खींच लाती है बार-बार !
                                                       जाने किस युग  का नाता  है तेरी गलियों से ,
                                                       जिनसे अलग होने से मन करता है इनकार !

                                  जब भी मैं  तुझसे दूर कहीं जाता हूँ
                                   तेरी ये धूल भरी राह मुझे पुकारती है ,
                                   फसलों को चूमकर जब लौटती  हवा
                                    ममता की बांहों में  बच्चों सा दुलारती है !

                                                           तेरे ही आँचल के बरगद की छांह में,
                                                          झूलने को मन कितना आतुर हो जाता है ,
                                                          मैं पूछता हूँ जिंदगी के निर्माता से
                                                           बचपन क्यों पल भर में दूर हो जाता है !

                                       राह चलती बैलगाडियों में जा बैठना ,
                                       पोखरों में भीतर और भीतर तक पैठना !
                                       कभी झूमना  आम से लदी डालियों में ,
                                       कभी घूमना  सरसों की सोन -बालियों में   !
                                                            
                                                                 दूर तुझसे रह कर जीना बहुत कठिन है
                                                                 शहर का  जीवन  सच  बोझिल प्रतिदिन है  ,
                                                                 नीरस ,अशांत ,किसी मशीन की तरह ,
                                                                 बेस्वाद , बेमजा  नमकीन की तरह !

                                      गाँव तेरे आँगन  में  भरता जो  बाज़ार है,
                                      उससे भी जाने किस जनम का मुझे प्यार है!
                                     मेरे प्राणों के पंछी का घर है तेरे पेड़ पर ,
                                     तेरी ही  बांहों मुझे मर जाना स्वीकार है !

                                                                एक अनजाना रिश्ता है तुझसे मेरा ,
                                                                एक अंतहीन तुझमें आकर्षण है ,
                                                                हर जनम तेरी  ही गोद मुझको मिले,
                                                                जैसा इस जनम में पाया यह जीवन है ! 

                                                                                                -स्वराज्य करुण                         
            

Saturday 22 January 2011

(कविता ) सूरज उगेगा परदे के पीछे !

                     
                                                         दरख्तों पर
                                                         अब नहीं
                                                         गाएगी कोई चिड़िया ,
                                                         इस वीरान पेड़ पर
                                                         बैठना मना है,
                                                         गाने का तो सवाल ही नहीं उठता /
                                                         पहाड़ की बांहों से
                                                         अंकुरित होकर
                                                         बेहद खामोशी से
                                                         बहने लगेगा झरना ,
                                                         तरंगित नहीं होंगी  नदियाँ ,
                                                         इस जंगल में संगीत प्रतिबंधित है /
                                                         भौंरे नहीं गुनगुनाएंगे और
                                                         तितलियाँ नहीं कर पाएंगी
                                                         फूलों से मासूम  मुलाक़ात,
                                                          इस फुलवारी में  प्रवेश वर्जित है /
                                                          सूरज उगेगा ज़रूर ,
                                                          लेकिन परदे के पीछे ,
                                                          क्योंकि रौशनी के नाम है वारंट और
                                                          उसे ढूंढ रहे हैं -अँधेरे के सिपाही /
                                                          हम कैसे जान सकेंगे
                                                          कि हो गयी है सुबह ,
                                                          जबकि चिड़ियों ने चहकना और
                                                          फूलों ने महकना बंद कर दिया है /
                                                          कौन हमें बताएगा कि
                                                          हो गया है सवेरा  ?
                                                           सामने तो सिवाय
                                                           एक अपरिचित सन्नाटे  के
                                                           और कोई भी नहीं है !
                                                                                           -  स्वराज्य करुण               

Friday 21 January 2011

(कविता ) इस जटिल और कुटिल दुनिया में !


                                       पचास रूपए की हो
                                       या हज़ार रूपए की , चोरी तो चोरी है ,
                                        महज़ एक सौ रूपए की हो
                                        या एक करोड की, रिश्वत तो रिश्वत  है  /
                                        फिर क्यों ऐसा होता है कि
                                        सौ-पचास की
                                        रिश्वत  के आरोपी
                                        धरा जाते हैं रंगे हाथ और
                                         पहुंचा दिए जाते हैं जेल  ,
                                         लेकिन हज़ारों-हज़ार करोड़ की
                                         चोरी और रिश्वत के अपराधी
                                         हमेशा खेलते  रहते हैं -
                                         जनता के खजाने को लूटने का  खेल  /
                                          उनके हर झूठ को
                                         सच साबित करने तैयार रहती है-
                                         काले कोट वालों की फौज ,
                                          न्याय के मन-मंदिर में
                                         सब मिल कर मनाते हैं मौज /
                                         बस स्टैंड और रेलवे  स्टेशन   पर
                                          पकड़े गए जेबकतरे पर
                                          बरसती है  मुसाफिरों की बेरहम लात
                                          जबकि  देश की जेब काटने वाले
                                          सफेदपोश शातिरों  पर
                                          होती है फूलों की बरसात !
                                          वे सोते हैं नोटों के नरम बिछौने पर ,
                                          उन्हें भला क्या लेना-देना किसी गरीब के रोने पर ?
                                          प्रजा को ऐसे डाकुओं की  काली कमाई का
                                          हिसाब देने से इनकार करता है
                                          प्रजा का ही चुना हुआ राजा  ,
                                          इन  लुटेरों के साथ
                                          हर मौके पर दिखता है वह तरोताजा ,
                                          समझ में नहीं आता कि
                                          बेचारी प्रजा कब मिलकर बजाएगी
                                          इस  बेईमान  राजा का बाजा ? 
                                         अस्पताल के दरवाज़े पर
                                         तड़फ रहा है  एक लावारिस मरीज़
                                         और वहीं पर  डॉक्टरों की महफ़िल है /
                                          इस  जटिल और कुटिल दुनिया के
                                          दांव-पेंच को समझ पाना बहुत मुश्किल है /
                                     
                                                                            -  स्वराज्य करुण
                                 


Thursday 20 January 2011

(गज़ल ) कहाँ गयी वह खुली किताब !

                                                                                     -  स्वराज्य करुण
                               
                                            कहते थे जो अपने जीवन को खुली किताब,
                                            कुर्सियों पर बैठ कर  सब हो गए  बेजवाब  !

                                            हर किसी का  बार-बार अब  उनसे यही सवाल,
                                            देश की दौलत  लूटने वाले  क्या  होंगे बेनकाब !

                                             इन्साफ  के मंदिर से  उनको हुआ है यह आदेश,
                                             जनता के दरबार में  जाकर  रख दो हर  हिसाब !
                            
                                              नाम चोरों का  बतलाने में  क्यों  इतना   संकोच ,
                                              शायद उनकी सूची में हैं उन जैसे कई नवाब !

                                               मर जाए यहाँ भूख से कोई या फिर  बेइलाज ,
                                               उनको तो हर शाम चाहिए  उम्दा  नयी शराब  !
                              
                                                जिनके जूतों से   कुचलकर मर गयी मानवता ,
                                                उनसे कुछ उम्मीद भी  करना है इक झूठा ख्वाब !

                                                 आज़ादी की इस नदिया में नहीं बूँद भर पानी ,
                                                 ऐसे में यहाँ आए कैसे  कोई जन-सैलाब !

                                                  पत्थर  लेकर दौड़ाएंगे जब उनको हम लोग ,
                                                  शायद उस दिन आ पाएगा कोई इन्कलाब  !

                                                                                           - स्वराज्य करुण            

Tuesday 18 January 2011

(आरती ) श्री नेता-महिमा

                         
                                  तुम नेता हो  कलि-युग के तुम हो भाग्य विधाता
                                  बिना तुम्हारे धरा-गगन का मिलन नहीं हो पाता !

                                             जब से तुमने लिया थोक में  
                                             लोकतंत्र का ठेका ,
                                             मान लिया जनता ने तुमको
                                             अपनी किस्मत का लेखा !

                                   स्वार्थ-प्रलोभन पिता तुम्हारे,  धमकी-चमकी माता ,
                                    तुम नेता हो  कलि-युग के  तुम हो भाग्य विधाता !

                                              तुम ही जग  के  भू-माफिया,
                                              तीन लोक के स्वामी
                                              मित्र तुम्हारे मृत्यु-लोक के
                                              सारे कुटिल -खल, कामी !

                                  चोर-डकैतों के तुम  रक्षक , तुम ही  उनके भ्राता,
                                   तुम नेता हो  कलि-युग के  तुम हो भाग्य-विधाता !

                                                 घपलों-घोटालों के प्रणेता
                                                 ठग विद्या ज्ञानी ,
                                                 तेरी   ज्ञान -गर्जना 
                                                आगे मौन सबकी वाणी !

                                किसे जिताना ,किसे हराना , तुमको सब कुछ आता ,
                                तुम नेता हो  कलि-युग के तुम हो भाग्य-विधाता !

                                                 लूट मार की  काली कमाई ,
                                                  पल में होती   सफेद
                                                  पता  नही चलता  कभी 
                                                  किसी को इसका भेद !

                                झूठ-फरेब का  जादू तुमको सबसे बेहतर आता ,
                                तुम नेता हो  कलि-युग के  तुम हो भाग्य-विधाता !
                                           
                                                  धन-पशुओं के संरक्षक
                                                   तुम हत्यारों के साथी,
                                                   धन्य हो गयी तुमको पाकर
                                                   यह धरती ,यह माटी !
                       
                                 विदेशी   बैंकों में भी  तुम्हारा लबालब है खाता ,
                                 तुम नेता हो  कलि-युग के तुम हो भाग्य-विधाता !

                                          .        कहीं तेल हो या खेल हो
                                                   या हो पशु-चारा ,
                                                   सब में अपना ही शेयर
                                                    तुमको सबसे प्यारा !
                           
                                सिंहासन -सुन्दरी से तुम्हारा जनम-जनम  का नाता
                                तुम नेता हो  कलि-युग के तुम हो भाग्य विधाता ! 

                                                                                    -   स्वराज्य करुण