Sunday 4 December 2011

नहीं किसी को लाज-शरम !

                                      
                                         नहीं किसी को लाज-शरम,नहीं किसी को भय ,
                                         सारे टी. व्ही . चैनल  लगते  आज मदिरालय !
                                      
                                         खुल कर नंगा नाचने की आज़ादी तेरी जय ,
                                         तेरी कृपा से छोटा परदा बन गया वेश्यालय !
                                      
                                         सीरियलों के नाम लगती देह-व्यापार  की मंडी,  
                                         बिग बॉस के घर से बहती गाली गंदी-गंदी !
                                      
                                         मजाक उड़ाए गरीबों का , विज्ञापन की भाषा
                                         सुबह- शाम ,दिन-रात देखो जोकर का तमाशा !
                                      
                                         भू-माफिया ,कोल-माफिया सबने खोले चैनल ,
                                         लूट रहे   धन  सरकारी , खुला खजाने का नल !
                                      
                                         यही हाल है रंग-बिरंगे पोस्टर जैसे अखबारों का ,                                     
                                         सुनते  हैं कि इनमें  लगता पैसा ठेकेदारों का  !
                                           
                                         दो नम्बर के धंधे  वाले भी हैं इनकी शरण में ,
                                         नेता-अफसर सभी बैठते केवल इनके चरण में !

                                         नहीं किसी को चिन्ता कोई बेरोजगार जवानों की ,
                                         नहीं किसी को फिकर यहाँ गरीबों के अरमानों की !

                                          देश बेचने को तत्पर  जब  अपने  देश की संसद ,
                                          विदेशी धन से कहाँ बचेगी कहो देश की सरहद !

                                                                                              -- स्वराज्य करुण
                          
                            
 

8 comments:

  1. देश बेचने को तत्पर है जब अपने देश की संसद ,
    विदेशी धन से कहाँ बचेगी कहो देश की सरहद !

    नइ बांचय, जम्मो ला बेच डारही।

    ReplyDelete
  2. हम, हमसे समाज और समाज की थोड़ी सच्‍ची-झूठी सी अभिव्‍यक्तियां.

    ReplyDelete
  3. दुनिया का कोई भी मीडिया समूह हो कारपोरेट जगत ने सभी को निगल लिया है। कुछ मामलो मे क्षद्म देश भक्ती के नाम पर किसी मे धर्मनिरपेक्षता की आड़ मे के नाम पर कही कुछ और। इससे अच्छा तो चीन की मीडिया है कम से कम जनता को पता तो है कि यह किस की भाषा बोल रही है।

    ReplyDelete
  4. सुंदर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  5. वाह जी वाह, सब कुछ कह डाला

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ReplyDelete