Sunday 20 November 2011

(गीत) हिल मिल सब करते हैं झिलमिल !

                                       

                                                          
                                            उन्हें लड़ाने की कोशिश में  शैतान भी  हिम्मत हारे ,
                                            हिल मिल सब करते हैं झिलमिल दूर गगन के तारे !
                                                           
                                                         रोज धरा पर आकर सूरज
                                                          देता सबको उजियारा ,
                                                          और चाँद भी कर देता है
                                                          जगमग -जगमग जग सारा !

                                             अम्बर की बगिया में खिलते फूल हैं कितने प्यारे,
                                            हिल मिल सब करते हैं झिलमिल दूर गगन के  तारे !
                                                         
                                                           सोचो तो कुदरत का कैसा
                                                           प्यारा यह अनुशासन है ,
                                                           अंतरिक्ष के आँगन सबके
                                                           अपने-अपने आसन हैं !
                         
                                             कभी न होती छीना-झपटी ,न ही नफरत के नारे,                  
                                             हिल मिल सब करते हैं झिलमिल दूर गगन के तारे !
                                                       
                                                            धरती अपनी होगी सुंदर  ,
                                                            कब होगी ऐसी दुनिया ,
                                                            दंगे न होंगे ,घर न जलेंगे
                                                            बेघर न होगी मुनिया !

                                           आओ मिटाएं हम-तुम सब   आपस के झगड़े सारे,
                                           हिल मिल सब करते हैं झिलमिल दूर गगन के तारे !

                                                                                            --  स्वराज्य करुण

(छाया चित्र google से साभार )

7 comments:

  1. कविता के माध्यम से शुभ सन्देश .धन्यवाद !

    ReplyDelete
  2. प्रकृति कितनी सुंदरता से नियम पालन करती है... प्रेरणा ग्रहण कर सामंजस्य मानव समाज भी स्थापित करे, तो क्या बात हो!
    सुंदर कविता!

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर और सार्थक सन्देश ..

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब, निर्मल और शीतल.

    ReplyDelete
  5. प्रकृति की हर बात हमको कुछ न कुछ सिखाती है मगर शायद हम ही उस बात को कभी समझ नहीं पाते बहुत सुंदर रचना !! बधाई समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete