Thursday 10 November 2011

(गीत ) इन्द्रधनुष के टुकड़े

                                       
                                                         

                                                   चाहे सौ टुकड़े कर डालो तुम इन्द्रधनुष के ,
                                                   मिट न सकेगा इन्द्रधनुषी प्यार हमारा !
                                            
                                                     हर टुकड़े पर  होगी  आंसुओं की निशानी ,
                                                     हर टुकड़े की होगी अपनी करुण कहानी !
                                                     हर टुकड़े के अधरों पर   इक दर्द की भाषा
                                                     थिरक उठेगी शब्दों में  हृदय  की वाणी !

                                                 दिल का  दर्पण चाहे बँट जाए हजार टुकड़ों में,
                                                 मिट न सकेगा  उसमे झलकता श्रृंगार हमारा !

                                                     हृदय से हृदय   का चिर  अनुबंध प्यार है
                                                     जलप्रपात के यौवन सा स्वच्छंद प्यार है  !
                                                     युग-युग से  है शिलालेख की तरह अमिट
                                                     जीवन के इस महाकाव्य का छन्द प्यार है !

                                                   हृदय से हृदय का बंधन  तोड़ नहीं पाओगे ,
                                                   इस बंधन में जीने का है अधिकार हमारा  !
  
                                                                                                -  स्वराज्य करुण




छाया चित्र :  google से  साभार                                                                                  

4 comments:

  1. कार्तिक पूर्णिमा एवं प्रकाश उत्सव की आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  2. हृदय से हृदय का चिर अनुबंध प्यार है
    जलप्रपात के यौवन सा स्वच्छंद प्यार है !
    युग-युग से है शिलालेख की तरह अमिट
    जीवन के इस महाकाव्य का छन्द प्यार है !
    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ! लाजवाब रचना लिखा है आपने ! बेहतरीन प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. खुबसूरत चित्रों के साथ ही सुन्दर पंक्तियाँ

    ReplyDelete