Thursday 13 October 2011

असली भारत में नकली महाभारत !

                                        जैसे फिल्मों की शूटिंग के बाद
                                        हीरो ,हीरोइन और विलेन ,
                                        मिल बैठ कर  बेहद
                                        चैन से पीते हैं शैम्पेन ,
                                        उसी तरह राजनीति में
                                        चलता है पक्ष-विपक्ष का कैम्पेन !
                                      
                                        सदन में ,सभाओं में
                                        एक-दूजे को खूब गरियाते हैं और
                                        बाद में एक-दूजे के लिए
                                        बन जाते हैं जेन्टिलमैन !
                                    
                                        राजनीति भी जैसे आज
                                        किसी फिल्म की शूटिंग है ,
                                        हीरो और विलेन की एक-दूजे के लिए
                                        दिखावटी हूटिंग है !
                                      
                                        जनता है दर्शक ,दोनों के लिए
                                        बजाती है तालियाँ ,
                                        जीतने वाले का लगाती है जयकारा
                                        और हारने वाले को
                                        देती है शानदार गालियाँ !
                                        जीतने या हारने वाले को
                                        इससे कोई मतलब नहीं ,
                                        एक पक्ष बन जाता है दूल्हा
                                        दूसरा पक्ष जैसे दूल्हे की सालियाँ !
                                       
                                        देश बन गया  फ़ुटबॉल और
                                        सियासत उनके लिए
                                        कमाने-खाने का खेल है ,
                                        खेल के बाद पक्ष-विपक्ष में
                                        क्या  खूब ताल-मेल है  !

                                    
                                        कुछ इसी तरह से हो रहा है
                                        हमारे असली भारत में
                                        एक  नकली महाभारत ,
                                        असली जिंदगी के नकली पात्रों को
                                        हो गयी है इसकी आदत !
                                     
                                        नकली कौरव -नकली पांडव
                                        एक-दूजे पर कर रहे
                                        नकली अस्त्रों का प्रहार ,
                                        नकली युद्ध के बाद
                                        आपस में मिल बाँट कर
                                        खूब करेंगे  देश में
                                        कुर्सियों  का असली कारोबार !
                                     
                                        लोकतंत्र के रंगमंच पर 
                                        बरस-दर-बरस  चल रहा है
                                        एक जैसा नाटक ,
                                        देख-देख कर
                                        होने लगी  है  बोरियत ,
                                        जाने कब खुलेगा इस
                                        प्रेक्षागृह का फाटक !
                                                              - स्वराज्य करुण



                                                                      

4 comments:

  1. सटीक और सार्थक प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  2. desh ke vertman rajnitik paridrishya ke parde ke pichhe ki asaliyat kavita me ujagar hui .nakli bhesh-nakli charitra wale logo ke nakab khichane wali rachana ke liye badhai .
    shiva mohanti

    ReplyDelete