Wednesday 28 September 2011

(बाल-गीत ) फेरी वाला !

                                           



                                                  कहो तो  खोल दूँ  मैं  बिन चाबी का ताला
                                                 फेरी वाला ,फेरी वाला , मै हूँ  फेरी वाला !
                                                           
                                                          दूर गाँव और शहर मैं  जाता ,
                                                          सुबह-शाम दोपहर मैं  जाता ,
                                                          घूमा करता बस्ती-बस्ती ,
                                                          चीजें ले लो सस्ती-सस्ती !

                                                  मेरा हर सामान देखो  सुंदर  और निराला  !
                                                  फेरी वाला ,फेरी वाला ,मै हूँ फेरी वाला !!

                                                         रखता हूँ रंगों की पुड़िया,
                                                         प्यारा गुड्डा ,प्यारी गुड़िया ,
                                                         बिंदिया  रंग-बिरंगी रखता ,
                                                         चूनर भी सतरंगी रखता !
                                    
                                                पास मेरे है मोतियों की इन्द्रधनुषी माला  !
                                                 फेरी वाला  , फेरी वाला ,मै हूँ फेरी वाला !!

                                                         तीरथ हो या   मेले में,
                                                         लिए खिलौने ठेले में ,
                                                         तुम सबको मै रोज बुलाता ,
                                                         रोतों को भी सदा हँसाता !
                                           
                                                कोई खरीदे नथनी और कोई कान का बाला !      
                                                फेरी वाला  , फेरी वाला ,मैं  हूँ फेरी वाला !!                                                  
                                                       मैं संकट में कभी न रोता  ,                 
                                                       भारी-भरकम बोझ ढोता,
                                                       मै हूँ एक ऐसा इंसान ,
                                                      जिसे कभी न लगे थकान !

                                             अंधियारे में जग वालों को देता मैं उजियाला !
                                             फेरी वाला, फेरी वाला , मैं  हूँ फेरी वाला !!
                                                                                          -  स्वराज्य करुण
                                                            

13 comments:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति|
    नवरात्रि की शुभकामनाएं|

    ReplyDelete
  2. खुबसूरत और सार्थक प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  3. बढ़िया पोस्ट .
    नवरात्रि की हार्दिक बधाई .

    ReplyDelete
  4. अच्‍छी अभिव्‍यक्ति....

    जीवन चलने का नाम.....

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन रचना..
    आपको सपरिवार नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. कल 30/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. इन्द्रधनुषी माला ....

    नवरात्रि पर्व की आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  8. इन्द्रधनुषी माला

    ReplyDelete