Tuesday 20 September 2011

(गीत ) मेरे गाँव का पनघट !

                                             
                                                            
                                                     तूफानों से तहस-नहस
                                                     गाँवों के देश में ,
                                                     रोटी के लिए दौड़ते
                                                     पांवों के देश में !
                                                         
                                                       मदमस्त मचलती विष-कन्याओं का जमघट ,                                                                                           ये देख के घबराया  मेरे गाँव का पनघट !
                                              
                                                  बाढ़ से बेघर , बेहाल 
                                                  किसानों  के देश में ,
                                                  चिथड़ों को तरसते
                                                  इंसानों के देश में !
                                                    
                                                        शौक से निर्वसन  औरतों की खिलखिलाहट ,
                                                        ये देख के घबराया  मेरे गाँव  का पनघट !

                                                रुपयों के खुले खेल में
                                                मांसल मुस्कान लिए
                                                उतरी हैं आसमान से
                                                देह की दुकान लिए !

                                                            दूर कहीं फेंक आयीं  रिश्तों का घूंघट ,
                                                            ये देख के घबराया मेरे गाँव का पनघट  !

                                               इन्हें नहीं  कुछ लेना-देना
                                               चट्टान तोड़ती राधा से ,
                                               दुधमुँहे  के  दूध के लिए
                                               हाथ जोड़ती राधा से !
                     
                                                       इन आँखों से कहाँ दिखेगी उसकी  घबराहट ,
                                                       ये देख के घबराया मेरे गाँव का पनघट !
                                                                                                --- स्वराज्य करुण  


(  सन्दर्भ -  बेंगलुरु में सन 1996 में आयोजित विश्व सुन्दरी प्रतियोगिता  )
  प्रतीक फोटो google से साभार

7 comments:

  1. विष-कन्याओं का जमघट , देख के घबराया गाँव का पनघट ..
    सही है . इन्हें नहीं कुछ लेना-देना
    चट्टान तोड़ती राधा से यह तो और भी सही है..

    ReplyDelete
  2. ये देख के घबराया मेरे गाँव का पनघट ....सच ही है. अब तो पनघट ही नहीं जाने क्या क्या घबराता होगा

    ReplyDelete
  3. अब तो मन वाकई घबरा जाता है कभी -कभी ..

    ReplyDelete
  4. बडा सटीक चित्रण किया है…………शानदार्।

    ReplyDelete
  5. अच्छी रचना .बधाई !

    ReplyDelete
  6. अच्छी कविता बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete