Saturday 17 September 2011

पेट्रोल बम का धमाका !

                                     दाम बढाकर पहले ही
                                     छीन लिया है दम ,         
                                     आज फिर से फोड़ दिया                                       
                                     उसने पेट्रोल बम /
                                     पूछो  तो सही कौन है वो
                                     चीख रही है  जनता
                                     और मौन है वो ?
                                 
                                     रोज-रोज के धमाके
                                     और ये सितम
                                     लोग मरें या डरें,
                                     उनको नहीं गम  /
                                     जनता की जेब
                                     हो रही खाली  ठंडी
                                      पर उनकी तिजोरी
                                      दिनों-दिन गरम /

                                      जनतन्त्र  के मैदान में 
                                      जोड़ कर हाथ ,
                                      जीत कर लड़ाई  
                                      जनता   से करे  घात /
                                      पूछो तो सही कौन है वो ,
                                      चीख रही जनता
                                      और मौन है वो /


                                      कहाँ गया सौ दिन में
                                      कीमत कम करने  का वादा,
                                      अब तो है केवल
                                      लूट-खसोट का इरादा /
                                      नेता और अफसर का 
                                      गोपनीय समझौता  ,
                                      बाँट लेंगे आपस में
                                      आधा -आधा  /
                                      देखते ही देखते
                                      हो गए  दोनों  करोड़पति
                                      साधू के वेश में
                                      न  जाने किसको साधा /


                                     न्याय और अन्याय के 
                                     महाभारत में
                                     खामोश हैं जो मजबूरी में ,
                                     शायद  आचार्य द्रोण  हैं वो /  
                                     चीख रही जनता 
                                     और  मौन हैं वो  /

                                                               -   स्वराज्य करुण

2 comments:

  1. सार्थक लेखन ..अच्छी और सत्य को कहती रचना

    ReplyDelete
  2. सही है ....सिर्फ जनता पिसती जा रही है

    ReplyDelete